डॉ. नागेश पांडेय 'संजय' देवपुत्र गौरव सम्मान से सम्मानित


इन्दौर।
9 फरवरी देश के प्रख्यात बाल साहित्यकार डॉ. नागेश पांडेय 'संजय' शाहजहाँपुर उ.प्र. प्रसिद्ध बाल पत्रिका मासिक देवपुत्र द्वारा प्रतिष्ठित देवपुत्र गौरव सम्मान से सम्मानित किए गए। समारोह की अध्यक्षता प्रदेश के स्कूली शिक्षा मंत्री मा. इंदरसिंह जी परमार ने की। कार्यक्रम के विशेष अतिथि और मुख्य वक्ता विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान नईदिल्ली के राष्ट्रीय मंत्री डॉ. किशनवीर सिंह जी शाक्य, नोएडा थे।

स्थानीय देवपुत्र सभागार में आयोजित इस गरिमामय आयोजन में इस वर्ष का बाल साहित्य जगत का प्रतिष्ठित देवपुत्र गौरव सम्मान नगर एवं बाहर के वरिष्ठ साहित्यकारों एवं प्रतिष्ठित नागरिकों की उपस्थिति में प्रदान किया गया। सम्मान स्वरूप डॉ. नागेश पांडेय 'संजय' को 35 हजार रूपये की सम्मान निधि, मानपत्र एवं शाल श्रीफल प्रदान किए गए। समारोह के आरंभ में प्रधान संपादक श्री कृष्णकुमार जी अष्ठाना ने प्रास्ताविकी एवं स्वागत भाषण देते हुए देवपुत्र के उद्देश्य एवं विस्तार पर प्रकाश डाला। आपने बताया कि देवपुत्र गौरव सम्मान सम्पूर्ण देश में बाल साहित्य में विशेष अवदान के लिए प्रतिवर्ष किसी एक वरिष्ठ बाल साहित्यकार को प्रदान किया जाता है यह बाल साहित्य का निजी क्षेत्र का सबसे बड़ा सम्मान है। पत्रिका के संचालक सरस्वती बाल कल्याण न्यास के अध्यक्ष डॉ. कमलकिशोर जी चितलांग्या ने समारोह में अपने उदगार और देवपुत्र की कार्ययोजना प्रस्तुत की।

कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत प्रबंध न्यासी सीए. राकेश भावसार, कोषाध्यक्ष श्री मोहनलाल जी गुप्ता प्रबंध संपादक श्री शशिकांत जी फडके, प्रांत संगठन मंत्री श्री अखिलेश जी मिश्रा, एवं श्री अम्बिकादत्त कुंडल ने किया स्मृति चिन्ह विद्या भारती के नगरीय शिक्षा प्रांत प्रमुख श्री पंकज जी एवं प्रादेशिक सचिव श्री प्रकाश जी धनगर तथा मध्य भारत प्रांत के नगरीय शिक्षा प्रांत प्रमुख श्री राम भावसार ने किया। आरंभ में सरस्वती वंदना श्रीमती नीता भामोतकर एवं उनकी शिष्याओं ने प्रस्तुत की। आभार प्रदर्शन प्रबंध न्यासी सीए राकेश भावसार ने किया। संचालन कार्यकारी संपादक गोपाल माहेश्वरी ने किया।

Comments
Popular posts
अवंतिकानाथ राजाधिराज भगवान महाकाल राजसी ठाट-बाट के साथ नगर भ्रमण पर निकले; भगवान महाकाल ने भक्तों को चारों रूप में दिये दर्शन
Image
मोक्षदायिनी माँ क्षिप्रा....जानें, कैसे प्रसिद्ध हुआ मोक्षदायिनी नदी का नाम क्षिप्रा ?
Image
वार्षिक विवरणी ऑनलाइन दाखिल करने के लिए पंजीकरण अनिवार्य
Image
कुक्कू ओटीटी ऐप ने अपने एस्टीम्ड सब्सक्राइबर्स के लिए नए साल में एंटरटेनिंग वेब सीरीज की कतार लगाई
Image
श्री महाकालेश्वर मंदिर में संध्या आरती पश्चात होलिका का दहन हुआ संपन्‍न
Image