अपनी अगली विदेश यात्रा की योजना बनाने से पहले यात्रा बीमा को समझें

सरकार द्वारा 27 मार्च, 2022 से भारत से और यहां के लिए वाणिज्यिक अंतर्राष्‍ट्रीय यात्री सेवाओं की बहाली की जा रही है, ऐसे में यह आपके लिये अगले विदेशी गंतव्‍य की यात्रा करने की योजना बनाने का बिलकुल सही समय हो सकता है।


आप व्‍यवसाय के लिये यात्रा की योजना बनाएं या छुट्टियां मनाने के लिए विदेश जाना चाहते हों, एक व्‍यापक यात्रा बीमा योजना सुरक्षित रहने में आपकी मदद करती है और अनिश्चितता के मौजूदा माहौल में यह बहुत जरूरी है। खासकर आज ज्‍यादा लोग यात्रा बीमा के महत्‍व पर जागरूक हैं, क्‍योंकि उन्‍होंने निरस्‍त यात्रा के अपने पिछले अनुभवों से सीखा है या महामारी के दौरान अपने दोस्‍तों या परिवार को ऐसी स्थिति में देखा है।

यात्रा बीमा की जरूरत पर बात करते हुए, एसबीआई जनरल इंश्‍योरेन्‍स में रिइंश्‍योरेन्‍स और प्रोडक्‍ट डेवलपमेंट के हेड श्री सुब्रमण्‍यम ब्रह्मजोसियूला ने कहा, “यात्रियों के लिये खुद को आ‍कस्मिक स्थितियों के लिये सुरक्षित करना बहुत जरूरी हो गया है, यह पहले के किसी भी समय की तुलना में अभी ज्‍यादा जरूरी हो गया है। अंतर्राष्‍ट्रीय यात्रा बीमा लेने से यात्री परेशानी या बाधा के बिना यात्रा का आनंद ले सकते हैं और इसके कई फायदे हैं, जैसे यात्रा के दौरान अस्‍पताल में भर्ती होने पर खर्च के कारण हुए आर्थिक नुकसान से सुरक्षा, सामान खोने, उड़ान विलंबित या निरस्‍त होने, आदि में सुरक्षा। व्‍यवसाय या आराम के लिये विदेश यात्रा की योजना बना रहे यात्रियों का पर्याप्‍त सुरक्षा वाली यात्रा बीमा योजना लेना निश्चित रूप से ऐसा निवेश है, जो किसी भी तरह के आपातकाल में उन्‍हें आर्थिक रूप से सुरक्षित रख सकता है।”

महामारी के बाद से ज्‍यादातर यात्रा बीमा योजनाएं कोविड-19 के कारण अस्‍पताल में भर्ती होने का खर्च शामिल कर रही हैं। अपनी आवश्‍यकताओं के आधार पर आप ज्‍यादा सुरक्षा वाली यात्रा बीमा योजना का एक उन्‍नत संस्‍करण ले सकते हैं।

अंत में, विभिन्‍न योजनाओं का सावधानी से मूल्‍यांकन करना, पूरी समझदारी से निर्णय लेना और उन फायदों/कवरेज को समझना महत्‍वपूर्ण है, जो आखिरकार यात्रा का सुगम और परेशानी से मुक्त अनुभव लेने में आपकी मदद कर सकते हैं।

Comments
Popular posts
अवंतिकानाथ राजाधिराज भगवान महाकाल राजसी ठाट-बाट के साथ नगर भ्रमण पर निकले; भगवान महाकाल ने भक्तों को चारों रूप में दिये दर्शन
Image
मोक्षदायिनी माँ क्षिप्रा....जानें, कैसे प्रसिद्ध हुआ मोक्षदायिनी नदी का नाम क्षिप्रा ?
Image
वार्षिक विवरणी ऑनलाइन दाखिल करने के लिए पंजीकरण अनिवार्य
Image
कुक्कू ओटीटी ऐप ने अपने एस्टीम्ड सब्सक्राइबर्स के लिए नए साल में एंटरटेनिंग वेब सीरीज की कतार लगाई
Image
श्री महाकालेश्वर मंदिर में संध्या आरती पश्चात होलिका का दहन हुआ संपन्‍न
Image