गुडी पडवा (नव संवत्) से हिन्‍दू नववर्ष की पूर्व संध्‍या पर 1 अप्रैल को श्री महाकालेश्‍वर मंदिर प्रबंध समिति की ओर नगर गौरव यात्रा

उज्जैन। गुड़ी पड़वा 2 अप्रैल को उज्जैन का गौरव दिवस मनाया जायेगा। नव वर्ष प्रतिपदा पर उज्जैन का गौरव दिवस मनाकर प्रदेश के विभिन्न शहरों के गौरव दिवस मनाने की शुरूआत उज्जैन से होगी। श्री महाकालेश्‍वर मंदिर प्रबंध समिति द्वारा गुडी पडवा (नव संवत्) से हिन्‍दू नववर्ष की पूर्व संध्‍या पर 1 अप्रैल को नगर गौरव यात्रा निकाली जा रही हैं।

श्री महाकालेश्‍वर मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक श्री गणेश कुमार धाकड नें बताया कि, जिस प्रकार पूरे मध्‍यप्रदेश में गौरव दिवस की तैयारियॉ चल रही हैं, उसी प्रकार श्री महाकालेश्‍वर मंदिर प्रबंध समिति द्वारा मंदिर प्रबंध समिति के अध्‍यक्ष एवं कलेक्टर श्री आशीष सिंह के मार्गदर्शन व दिशा-निर्देशों में गुडी पडवा की पूर्व संध्‍या पर उज्‍जैन के गौरवास्‍पद् विभूतियों की शोभा यात्रा निकालने का निर्णय लिया गया हैं।

जिसमें महाराज विक्रमादित्‍य एवं उनके नवरत्‍नों की झॉकी, भतृहरि के कृतित्‍व एवं व्‍यक्तित्‍व पर आधारित झॉकी, श्री महाकालेश्‍वर मंदिर की भव्‍य झॉकी, ढोल, नगाडा, झांझ, मंजीरा, बैडपार्टी, हाथी, बैलगाडी आदि समाहित करते हुए श्री महाकालेश्‍वर मंदिर से भव्‍य चल समारोह के माध्‍यम से शोभा यात्रा निकाली जाना है।

जिसमें श्री महाकालेश्‍वर भगवान का चॉदी का ध्‍वज शोभायात्रा का प्रतिनिधित्‍व करते हुए आगे-आगे चलेगा। मुम्‍बई के आराध्‍या ढोलक दल द्वारा ढोल, इन्‍दौर के राजकमल बैण्‍ड, मादुस्‍कर मित्र मण्‍डल उज्‍जैन द्वारा झॉझ- मंजीरा-डमरू की प्रस्‍तुति देते हुए उज्‍जैन गौरव यात्रा में सम्मिलित होंगे। इन्‍दौर के श्री अजय मलम्‍बकर एवं उज्‍जैन के रंगोत्‍सव समिति व उनके सहयोगियों द्वारा निर्मित झॉकियॉ भी आ‍कर्षण का केन्‍द्र र‍‍हेगी। साथ ही बैलगाडी पर भी झॉकियॉ निकाली जावेगी।

नगर गौरव यात्रा सायं 04 बजे श्री महाकालेश्‍वर मंदिर से प्रारंभ होकर महाकाल चौराहा, तोपखाना, दौलतगंज, मालीपुरा, देवासगेट, चामुण्‍डा माता से फ्रीगंज पुल से टावर चौक फ्रीगंज पर सायं 07 बजे यात्रा का समापन होगा।

 श्री धाकड ने भी गौरव दिवस के आयोजन में बढ़-चढ़कर भागीदारी करने के लिये उज्जैन शहर के उज्जैन शहर के निवासियों से गौरव दिवस में शामिल होने एवं घर-घर रंगोली, दीपक जलाकर उज्जैन के गौरव को महसूस कर गौरव दिवस मनाने की अपील की है।

Comments
Popular posts
अवंतिकानाथ राजाधिराज भगवान महाकाल राजसी ठाट-बाट के साथ नगर भ्रमण पर निकले; भगवान महाकाल ने भक्तों को चारों रूप में दिये दर्शन
Image
मोक्षदायिनी माँ क्षिप्रा....जानें, कैसे प्रसिद्ध हुआ मोक्षदायिनी नदी का नाम क्षिप्रा ?
Image
आदित्य अनमोल ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर पर लिखी किताब और कहा उनका जीवन युवाओं के लिए मार्गदर्शक हो सकता है
Image
राजाधिराज भगवान श्री महाकाल महाराज निकले राजसी ठाठ बाट से; देखें शाही सवारी लाइव
Image
सोयाबीन प्लांट उज्जैन के कर्मचारियों का प्रतिनिधि मंडल मुख्यमंत्री से मिला
Image