आध्यात्मिक गुरु सद्गुरु ने Koo (कू)पर 10 लाख का आंकड़ा पार किया
  • सद्गुरु Koo (कू)पर 1.2 मिलियन फॉलो अर्स जुटाने वाले पहले आध्यात्मिक गुरु बने

भोपाल।
COVID-19 महामारी के बीच मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बातचीत प्रबल होने के कारण, भारत में बने बहुभाषी माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू के यूज़र्स ने भी बेहतर मानसिक स्वास्थ्य के लिए मार्गदर्शन और सुझावों के लिए आध्यात्मिक गुरुओं की ओर रुख कर लिया है। मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित प्रश्नों के हालिया उछाल में, श्री जग्गी वासु देव, जो सद्गुरु के नाम से प्रसिद्ध है, के खाते ने कूपर 1 मिलियन अनुयायियों का आंकड़ा पार कर लिया है, जो निरंतर मार्ग दर्शन की बढ़ती आवश्यकता को प्रदर्शित करता है।
1.2 मिलियन फॉलोर्स के साथ, @SadhguruJV अपने फॉलोअर्स से अंग्रेजी (@SadhguruJV), हिंदी, (sadhguruhindi), कन्नड़, (sadhgurukannada), तमिल (@sadhgurutamil) और तेलुगु (@sadhgurutelugu) में जुड़ते है। वह नियमित रूप से यूज़र्स के साथ ध्यान, प्रेम, मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य जैसे विषयों पर विचार साझा करते रहे हैं। एक गैर-लाभकारी आध्यात्मिक संगठन, ईशा फाउंडेशन के संस्थापक ने हाल ही में, गुरु पूर्णिमा पर, आदि योगी की महानता की सराहना करते हुए और भौतिक प्रकृति से परे उठने की मानवीय क्षमता के सार का जश्न मनाते हुए एक पोस्ट साझा किया। पोस्ट को तुरंत एक हजार के करीब लाइक और 300 री-कूज़ मिले।
इस उपलब्धि पर सद्गुरु को बधाई देते हुए, कू के संस्थापक और सीईओ, अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा, “हमें यह देखकर अत्यंत प्रसन्नता हो रही है कि विभिन्न भारतीय भाषाएं बोलने वाले लोग अब कू परसद्गुरु के साथ चर्चा में भाग लेकर उनके ज्ञान से लाभान्वित हो रहे हैं। हमें उम्मीद है कि उनका अनुसरण इसी प्रकार और तीव्रता से बढ़ेगा। ”
कू के सह-संस्थापक मयंक बिद्वात का ने कहा, “कूपर लोगों को एक साथ लाने के लिए सद्गुरु को बधाई। दुनिया और आध्यात्मिक जीवन के बारे में उनका अनूठा दृष्टि कोण हम में से कई लोगों के लिए एक मार्ग दर्शक है।"

कू के बारे में:
कू की स्थापना मार्च 2020 में भारतीय भाषाओं में एक माइक्रो-ब्लॉगिंग मंच के रूप में की गई थी। कई भारतीय भाषाओं में उपलब्ध, भारत के विभिन्न क्षेत्रों के लोग अपनी मातृ भाषा में खुद को व्यक्त कर सकते हैं। एक ऐसे देश में जहां भारत का सिर्फ 10% हिस्सा अंग्रेजी बोलता है, वहां एक ऐसे सोशल मीडिया मंच की काफ़ी ज़रूरत है जो भारतीय यूज़र्स को व्यापक भाषा अनुभव प्रदान कर सके और उन्हें जुड़ने में मदद कर सके। कू उन भारतीयों की आवाज़ को एक मंच प्रदान करता है जो भारतीय भाषाओं को पसंद करते हैं।
Comments
Popular posts
जल्दी करें; वॉइस ऑफ सीनियर्स के रजिस्ट्रेशन्स की लिंक कल तक ही खुली है
Image
कैटरीना कैफ ने के ब्यूटी की पहली किस प्रूफ मैट लिक्विड लिपस्टिक लॉन्च की
Image
परिवहन विभाग एवं भारतीय वन सेवा के अधिकारियों के थोकबंद तबादले
Image
नायका द्वारा पेश है जेंटलमैन्स क्रू हाई क्वालिटी वाले ग्रूमिंग और पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स की हॉलिस्टिक रेंज
Image
अदाणी पोर्ट्स ने 2,800 करोड़ रुपये में विश्वसमुद्र होल्डिंग्स की 25% हिस्सेदारी के अधिग्रहण से कृष्णापत्तनम पोर्ट में अपना स्वामित्व 75% से बढ़ाकर 100% किया
Image