अदाणी एग्री फ्रेश ने किसानों से 2,500 टन सेब खरीदा

अदाणी एग्री फ्रेश ने इस साल खरीद (प्रोक्योरमेंट) सीजन के पहले तीन दिनों के भीतर ही किसानों से लगभग 2,500 टन सेब खरीदा है।

किसानों की ओर से कंपनी को जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली, क्योंकि अदाणी एग्री फ्रेश ने मंडियों की तुलना में अधिक कीमतों का ऑफर दिया था।
 
अदाणी एग्री फ्रेश शिमला जिले में 'कंट्रोल्ड एटमॉस्फीयर फैसिलिटीज' के जरिये सेब खरीदती है और 'फार्म-पिक' ब्रांड नाम से इसका प्रसार करती है।

सेब खरीद सीजन पिछले सप्ताह शुरू हुआ था और यह अक्टूबर के अंत तक जारी रहेगा।

हिमाचल प्रदेश में अदाणी एग्री फ्रेश के अधिकारी ने बताया कि खरीद सीजन के पहले ही दिन उन्हें लगभग 1,000 टन सेब प्राप्त हुए, जबकि पिछले वर्षों के दौरान लगभग 300 टन सेब ही मिले थे।

अधिकारी ने अपना नाम न छापने का अनुरोध करते हुए कहा कि "अदाणी एग्री फ्रेश सेब की खरीद प्रति किलोग्राम के आधार पर करता है, जबकि उसे मंडियों में प्रति बॉक्स बेचना पड़ता है। बॉक्स के आकार के बजाय सेब के हर ग्राम के लिए रिटर्न पाकर किसान खुश हैं।" 

लेकिन जब कुछ मीडिया हाउस ने रिपोर्ट दी कि अदाणी एग्री फ्रेश ने इस सीजन में सेब की खरीद कीमतों को संशोधित कर दिया है तो अदाणी एग्री फ्रेश राजनेताओं के एक वर्ग के निशाने पर आ गया। 

कंपनी के अधिकारी ने दावा किया कि मंडियां अपनी सेब खरीद कीमतों को बढ़ाने के लिए मजबूर हैं क्योंकि कंपनी किसानों को बेहतर सौदे दे रही है। उन्होंने कहा कि "अदाणी एग्री फ्रेश ने बाजार और किसानों के हितों के अनुरूप खरीद मूल्य निर्धारित किया है।"

सीजन के लिए अदाणी एग्री फ्रेश की खरीद कीमतों पर मीडिया के एक वर्ग द्वारा की गई रिपोर्ट और राजनेताओं की आलोचना का खंडन करते हुए, ऊपरोक्त अधिकारी ने कहा कि "सेबों के व्यापार में सैकड़ों व्यापारी, कमीशन एजेंट और अन्य बिचौलिए काम करते हैं और यह किसानों की पसंद है कि वे किसे अपनी उपज बेचना चाहते हैं। हालांकि, उन्होंने अदाणी एग्री फ्रेश को आपूर्ति करना जारी रखा है जो सेब की कीमतें गिरने के बावजूद, मंडियों की तुलना में अधिक कीमतें दे रहे हैं। प्रति किलोग्राम भुगतान करने के अलावा, हमने मूल्य निर्धारण के लिए प्रामाणिक सॉर्टिंग और ग्रेडिंग का भी ऑफर दिया है, जिससे किसानों को काफी फायदा पहुंच रहा है।"
उन्होंने कहा कि अदाणी एग्री फ्रेश ने किसानों और एंड-यूजर्स दोनों के हित में सेब की पैकेजिंग और लॉजिस्टिक्स में बेहतर कृषि पद्धतियों और अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन किया है।

अदाणी एग्री फ्रेश ने लगभग 15 वर्ष पहले हिमाचल प्रदेश में सेब के व्यापार में प्रवेश किया था और आज यह शिमला, किन्नौर और कुल्लू घाटियों के 700 गांवों में फैले 17,000 से अधिक किसानों से सौदे करती है।

कंपनी अपनी फील्ड टीम के जरिये किसान को फसल कटाई से पहले और बाद में परामर्श सुविधा मुहैया कराती है, ताकि उन्नत गुणवत्ता के साथ उत्पादन बढ़ाया जा सके।
Comments
Popular posts
काश! मैं भी बॉस होता के सपने को साकार करता है पीआर 24x7
Image
पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का चमकौर साहिब से न्यूज़18 इंडिया के मैनेजिंग एडिटर किशोर अजवानी के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत
Image
ज़ी बॉलीवुड पर होगा जश्न का धमाल क्योंकि 24 जनवरी को शानदार फिल्म ‘विश्वात्मा’ पूरे कर रही है 30 साल
Image
इंतजार की घड़ियाँ खत्म; भूषण कुमार का 'वफा ना रास आई' हुआ रिलीज, जुबिन नौटियाल द्वारा गाए गए इस सॉन्ग में हिमांश कोहली और आरुषि निशंक ने किया है अभिनय
Image
'द क्यू' चैनल कर रहा है अनोखे कॉन्टेस्ट- 'द क्यू देखो, सोना जीतो' का आगाज़
Image