फिर हम सब...? -डॉ एम डी सिंह

वे सब अड़े थे

दिल्ली की सीमा पर खड़े थे 
भीतर जाने को बढ़े थे
लाल किले पर चढ़े थे
मैं पूछता हूं मेरे भाई
वे किसके चक्कर में पड़े थे ?

उनके , जो निशदिन 
मालपुए चांपते हैं ?
जिनके डर से
मजदूरों के हाड़ कांपते हैं ?
या उन सबके
जो हर पांच साल बाद
संसद जाने के लिए
घर -घर की दहलीजें नापते हैं ?

आँख तापते लोगों की 
छाती ठंडी हुई
चाहे राष्ट्र की इज्जत में 
भरपूर मंदी हुई 

किसके कहने पर कबूतर 
इतने नंगे हुए
राजधानी की सड़कों पर 
दिनदहाड़े दंगे हुए ?

आज तंत्र हिला है
फूंका बांधा मंत्र हिला है
फिर भी सारे गण दुखी नहीं हैं
चिकने चुपड़े शब्दों का एक किला
मालती के फूल की तरह खिला है

किस गणतंत्र की बात कर रहे 
वह जो राज पथ पर चला
या वह जो लाल किले पर ढला ?
वे सब दुखी हैं 
जो सब कुछ कर चुके
वे सब चुप हैं 
जो कुछ न कर सके

फिर हम सब -------------?


डॉ एम डी सिंह
Popular posts
श्रमजीवी पत्रकार संघ उज्जैन सम्भाग मिडिया प्रभारी बने भरत शर्मा
Image
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
पियाजियो व्ही।कल्सऔ ने जयपुर में राजस्था न के अपनी तरह के पहले इलेक्ट्रिक व्हीजकल (ईवी) एक्सेपीरियेंस सेंटर का उद्घघाटन किया
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image