फिर हम सब...? -डॉ एम डी सिंह

वे सब अड़े थे

दिल्ली की सीमा पर खड़े थे 
भीतर जाने को बढ़े थे
लाल किले पर चढ़े थे
मैं पूछता हूं मेरे भाई
वे किसके चक्कर में पड़े थे ?

उनके , जो निशदिन 
मालपुए चांपते हैं ?
जिनके डर से
मजदूरों के हाड़ कांपते हैं ?
या उन सबके
जो हर पांच साल बाद
संसद जाने के लिए
घर -घर की दहलीजें नापते हैं ?

आँख तापते लोगों की 
छाती ठंडी हुई
चाहे राष्ट्र की इज्जत में 
भरपूर मंदी हुई 

किसके कहने पर कबूतर 
इतने नंगे हुए
राजधानी की सड़कों पर 
दिनदहाड़े दंगे हुए ?

आज तंत्र हिला है
फूंका बांधा मंत्र हिला है
फिर भी सारे गण दुखी नहीं हैं
चिकने चुपड़े शब्दों का एक किला
मालती के फूल की तरह खिला है

किस गणतंत्र की बात कर रहे 
वह जो राज पथ पर चला
या वह जो लाल किले पर ढला ?
वे सब दुखी हैं 
जो सब कुछ कर चुके
वे सब चुप हैं 
जो कुछ न कर सके

फिर हम सब -------------?


डॉ एम डी सिंह
Comments
Popular posts
मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी, सोशल मीडिया पर लोग दे रहे श्रद्धांजलि
Image
पार्षद प्रत्याशियों की अधिकृत सूची जारी, सूची में देखें किस वार्ड से कौन है भाजपा का प्रत्याशी
Image
लोगों की बुनियादी समस्याएं हमारी प्राथमिकता - अपना दल (एस) समर्थित निर्दलीय महापौर प्रत्यासी कैलाश गावंडे
Image
महापौर एवं पार्षद पद उम्मीदवारों की सूची; देखें कौन–कौन उम्मीदवार है, जिन्होंने नामांकन वापिस नहीं लिया
Image
सेंट-गोबेन इंडिया ने रायपुर में अपने एक्‍सक्‍लूसिव ‘माय होम’ स्‍टोर का अनावरण किया
Image