सोनी सब लेकर आया है ‘वागले की दुनिया- नई पीढ़ी, नये किस्से’

इस शो में दिखाई जाएगी आज के दौर में आम आदमी के जीवन की एक नई झलक 


मुंबई।
भारतीय टेलीविजन के इतिहास में कई ऐसे शोज़ रहे हैं जिन्हों ने दर्शकों का मनोरंजन किया है। हालांकि, उनमें से कुछ ही शोज़ ऐसे हैं जिन्हों ने ऐतिहासिक मुकाम हासिल किया हो और लोग उन्हें  आज भी याद करते हों। ऐसा ही एक शो है ‘वागले की दुनिया’। इस शो की वास्त विक सी लगने वाली कहानी और बड़ी ही खूबसूरती से गढ़े गये किरदारों के साथ एक आम इंसान की कहानी ने पूरे देश को अपना दीवाना बना दिया था। आर के लक्ष्मनण की रचना को अब एक नया जीवन मिल गया है, क्योंककि सोनी सब लेकर आया है ‘वागले की दुनिया- नई पीढ़ी, नये किस्से’। यह शो 8 फरवरी से शुरू हो रहा है और इसका प्रसारण रात 9 बजे किया जायेगा। 

इस सीरीज की अच्छा इयों और खूबसूरत यादों को ताजा करते हुए, सोनी सब एक बार फिर उस पसंदीदा वागले जोड़ी को वापस लेकर आया है। श्रीनिवास वागले बने अंजन श्रीवास्तषव और राधिका वागले के रूप में भारती आचरेकर पुरानी पीढ़ी की भूमिका में है। इस कहानी में लीप लेते हुए आज के दौर में वागले और उसके परिवार की नई पीढ़ी की पृष्ठीभूमि पर इसे बनाया गया है। ‘वागले की दुनिया’ के इस नये दौर में सुमीत राघवन, श्रीनिवास के बेटे राजेश वागले की भूमिका में हैं और परिवा प्रणति उनकी पत्नी  वंदना वागले के किरदार में हैं। हर दिन को यादगार बनाते हुए, ‘वागले की दुनिया’ में अलग-अलग मुद्दों और घटनाओं को राजेश वागले के नजरिये से दिखाया गया है। यही चीज इसे आज के दौर के दर्शकों के लिये प्रासंगिक बना रहा है। 

जे.डी. मजेठिया के ‘हैट्स ऑफ प्रोडक्शलन’ द्वारा प्रोड्यूस ‘वागले की दुनिया- नई पीढ़ी, नये किस्सेव’ में जीवन के सार की एक खुशनुमा कहानी है। यह कहानी राजेश वाघले के इर्द-गिर्द घूमती है। वह एक सीधा-सादा, परिवार से प्याुर करने वाला व्यमक्ति है, जो अपने और अपने परिवार के लिये एक अच्छीए जिंदगी चाहता है। लेकिन फिर भी जोखिम लेने और समय का फायदा उठाने से डरता है। इस शो में नई पीढ़ी के मूल्यों  और आज के दौर में मध्य मवर्गीय परिवार की सरल परवरिश, उनके रोजमर्रा के जीवन और उससे जुड़े मुद्दों को दर्शाया गया है। पीढ़ियां बदलने से समस्यािओं का रूप भी बदल गया है, आज के दौर का मध्य मवर्ग समय के साथ आगे बढ़ गया है और उनमें बदलाव आ गया है, लेकिन साथ ही पहले की तुलना में उन्हें  नयी तरह की दुविधाएं भी मिली हैं। 

‘वागले की दुनिया- नई पीढ़ी, नये किस्सें‘, ‘खुशियों वाली फीलिंग’ के संदेश को फैलाने का सोनी सब का एक और प्रयास है। यह शो पहले से ही मौजूद उन एक से बढ़कर एक शोज़ में एक संयोजन ही है, जिनका लक्ष्यव दर्शकों के बीच सकारात्मोकता, उम्मी द और खुशियां फैलाना है। 

टिप्पतणी: 

नीरज व्या स, बिजनेस हेड- सोनी सब 

‘’ऐसी कहानियों जिनमें मूल्यम गहराई से जुड़े हों और आज के दौर के लिये बेहद प्रासंगिक हों, के साथ सोनी सब लगातार ऐसे शोज़ लेकर आता रहा है जोकि पूरे परिवार के लिये लिविंग रूम में टेलीविजन देखने का सही आनंद उठा पायें। हमें गर्व है कि हम एक ऐसा शो लेकर आ रहे हैं जिन्हेंम हर उम्र के लोगों ने पसंद किया और आज भी उसे देखते हैं। ‘वागले की दुनिया- नई पीढ़ी, नये किस्से ’ के माध्यमम से हमारा लक्ष्यक वही प्रभाव छोड़ना है। हम आज की पीढ़ी के आम आदमी की बेहतरीन कहानियों के कलेक्शईन के साथ तैयार हैं,जोकि हर दिन की परेशानियों से समझदारी, ह्यूमर और सकारात्म़कता के साथ लड़ता है। वागले की यह दुनिया अस्सीि के दशक की दुनिया से नाटकीय रूप से अलग है और यह आज की पीढ़ी के अनुरूप होगी।‘’ 

जे.डी. मजेठिया, प्रोड्यूसर, ‘हैट्स ऑफ प्रोडक्शंस 

‘’वागले की दुनिया- नई पीढ़ी, नये किस्से ‘ के साथ महान कार्टूनिस्ट  आरके लक्ष्मकण को उनके शताब्दीक वर्ष में हमारी तरफ से श्रद्धांजलि भी है। इस दौर में एक नयी सोच के साथ उनके क्लाजसिक शोज़ में से एक को प्रस्तुरत करना हमारे लिये सम्मा।न की बात है। हमने उस शो की विरासत और अंजन श्रीवास्तंव तथा भारती आचरेकर द्वारा निभाये गये इसके मुख्यइ किरदार श्रीनिवास और राधिका वागले को उसी तरह रखा है। हालांकि, कहानी अब आगे बढ़ गयी है और अब इसे वागले के बेटे राजेश वागले के नजरिये से दिखाया जायेगा। इस किरदार को सुमीत राघवन ने निभाया है। ये कहानियां दर्शकों पर वैसा ही प्रभाव डालेंगी और उनके चेहरे पर मुस्कामन लेकर आयेगी। आतिश कपाड़िया और मैं सोनी सब पर इस शो को लॉन्चग करने के लिये बेहद उत्साुहित हैं, क्योंककि इस ऐतिहासिक शो को पेश करने के लिये इससे बेहतर प्ले।टफॉर्म नहीं हो सकता।‘’ 

देखिये, ‘वागले की दुनिया- नई पीढ़ी, नये किस्सेे’, शुरू हो रहा है 8 फरवरी से, रात 9 बजे केवल सोनी सब पर।