'‘दो बूंद हर बार, पोलियो पर जीत रहे बरकरार” पल्स पोलियो अभियान 31 जनवरी, 1 व 2 फरवरी को

उज्जैन। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.महावीर खंडेलवाल ने बताया कि भारत वर्ष में अंतिम पोलियो केस 9 वर्ष पूर्व जनवरी 2011 में था। वर्तमान में आस-पडौस के राष्ट्रों में पोलियो वायरस विद्यमान है। पोलियो का खतरा एवं वैक्सीन डिनाईट पोलियो वायरस को दृष्टिगत रखते हुये जन-समुदाय की पोलियो के विरूद्ध प्रतिरोध शक्ति बनाये रखना अतिआवश्यक है। 

वर्ष 2021 में राष्ट्रीय पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान कर मात्र एक चरण 31 जनवरी, एक व 2 फरवरी तक प्रदेश के अन्य जिलों के साथ-साथ उज्जैन जिले में भी बी.ओ.पी.व्ही. वैक्सीन के साथ आयोजित किया जायेगा। इसमें 0 से 5 वर्ष उम्र तक के बच्चों लक्षित किया गया है, जिनको दो बून्द पोलियो की दवा पिलाई जायेगी। विभाग द्वारा इस हेतु सम्पूर्ण जिले में पोलियो बूथ स्थापित किये जायेंगे। प्रथम दिवस 31 जनवरी को बूथ पर पोलियो की दवा पिलाई जायेगी व इस दिन पल्स पोलियो की दवाई वंचित रहे बच्चों को दूसरे व तीसरे दिन एक व 2 फरवरी को घर-घर जाकर टीम द्वारा दवा पिलाई जायेगी। पल्स पोलियो अभियान के दौरान ईंट-भट्टे निर्माण स्थल, झुग्गी-झोपड़ियां एवं घुम्मकड़ आबाद स्थल पर विशेष ध्यान देकर लक्ष्य का शत-प्रतिशत पूर्ति का प्रयास किया जायेगा।