विपक्ष के 10 लाख नौकरी के वादे पर बोले नीतीश कुमार - 15 साल में 95 हजार नौकरी देने वाले हम पर कर रहे हमला!


बिहार विधानसभा के दूसरे चरण के मतदान से पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने न्यूज18 इंडिया से एक्सक्लूसिव बातचीत की. इस इंटरव्यू में नीतीश कुमार ने बिहार से जुड़े विभिन्न मुद्दों से जुड़े सवालों पर खुलकर जवाब दिए. आरजेडी (RJD) के 10 लाख नौकरियों के वादे को लेकर नीतीश कुमार ने कहा कि लोगों को मालूम है कि कोई ऐसी बात करते रहो जिसका कोई तुक नहीं है. नीतीश कुमार ने निशाना साधते हुए कहा है कि जो ये लोग बोल रहे हैं इस बारे में किसी ने कुछ सोचा नहीं है.
नीतीश कुमार ने कहा कि अपने 15 साल में इन्होंने 95 हजार नौकरियां दी थी जिसमें कुछ टीचर्स की और कुछ अन्य थीं. हमने अपने कार्यकाल में 6 लाख लोगों को विभिन्न क्षेत्रों में नौकरियां दी हैं. कुछ नौकरियों की भर्ती और परीक्षाएं जारी हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि जितनी नौकरी ये लोग बोल रहे हैं उनके लिए न्यूनतम वेतन के आधार पर एक साल में 1 लाख 44 हजार करोड़ रुपये चाहिए होंगे.
जनता में भ्रम पैदा करने की कोशिश में विपक्ष
नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में जब इन्होंने 15 साल राज किया जब 24 हजार करोड़ से भी कम का बजट था. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा 2 लाख 11 हजार करोड़ का बजट है. उन्होंने कहा कि ये लोग जनता में भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं. कुछ लोग भ्रमित होंगे, हर कोई भ्रमित भी नहीं होगा.
भर्ती के तरीके को लेकर नीतीश कुमार ने कहा कि हर चीज का एक कमीशन बना हुआ है उसके आधार पर भर्ती की जाती है. हर विभाग की तय योजना होती है, भर्ती आती है उसके आधार पर नौकरी दी जाती है. इन लोगों की बातें सिर्फ लोगों के बीच भ्रम पैदा करने वाली हैं.
तेजस्वी और चिराग पर साधा निशाना
परिवारवाद को लेकर तेजस्वी यादव और चिराग पासवान पर हमला बोलते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि इन्‍हें कोई जानकारी नहीं है. इनमें से कोई क्रिकेट से आया है तो कोई सिनेमा से आया है. इनका कोई वजूद नहीं है. ये सिर्फ परिवार के दम पर चमके हैं.
बिहार में 15 साल पहले रही राजद सरकार पर हमला बोलते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार के 'जंगलराज' को हमने खत्‍म किया है. अगर सरकार बदल गई तो फिर से पुराना दौर लौट आएगा. हमने हर किसी को आजादी से रहने का माहौल दिया है.
बिहार में कोई एंटी इनकंबेंसी नहीं, अतिउत्‍साह में विपक्ष कर रहा गलत विश्‍लेषण
नीतीश कुमार ने एंटी इनकंबेंसी पर कहा कि 2005, 2010 विधानसभा चुनावों में लालू यादव की रैलियों में भीड़ को देख लीजिए. इन सबका कोई मतलब नहीं है. अगर इससे कोई मतलब होता तो जो लोग इसका एनालिसिस करते हैं उन्हें ठीक से सोचना चाहिए. एंटी इनकंबेंसी पर नीतीश कुमार ने कहा, सिर्फ चुनाव प्रचार के लिए इन बातों का जिक्र करने का कोई मतलब नहीं हैं. अति उत्साह के कारण विपक्ष लगातार गलत विश्लेषण कर रहा है.
नीतीश कुमार ने कहा कि लोग नहीं जानते हैं कि 15 साल में क्या क्या काम हुआ? उसके पहले के 15 साल में क्या हुआ था. लोग डर-डर कर भाग रहे थे. यह सब लोगों को पता नहीं है. जिनका पहले का ऐसा काम था, उन्‍हीं के परिवार के लोग अब आरोप लगा रहे हैं। हम लोगों ने संघर्ष किया है तब जनता ने काम को महत्‍व दिया है। एनडीए को बहुत अच्छे से बहुमत मिलेगा, हमारी सरकार बनेगी और अगर कुछ इधर उधर हुआ तो 15 साल पुराना सरकार मिलेगा।!