कविता - चलिए ढूंढ लाएं...
 

शहद की चासनी सी वो बातें कहाँ गईं

सुलाए सोती नहीं थीं जो रातें कहां गईं 

 

लगा कर पीठ से पीठ बैठी हुईं कहानियां 

भरी गीतों से डोलियां बारातें कहां गईं

 

हवाओं के भी बचाकर कान फुसफुसातीं वे

सुनसान जगहें, अनहद मुलाकातें कहां गईं 

 

किधर बैठी हैं जा कर जरा देखो तो दोस्तों 

हंसी की दिखती ना कहीं सौगातें कहां गईं

 

दिन भर घूमा करती थीं जो संग-साथ हमारे

उछल कूद से भरी वे खुराफातें कहां गईं

 

-डॉ एम डी सिंह, पीरनगर

Popular posts
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
“कॉमेडी मेरे लिए एक नया क्षेत्र है” : मनोज बाजपेयी
Image
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image
‘‘एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता’’, यह कहना है एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ की तन्वी डोगरा का
Image