100 दिवस में ग्रामीण शालाओं एवं आंगनवाड़ियों में नल कनेक्शन दिये जायेंगे, कलेक्टर ने जलजीवन मिशन की बैठक में दिये निर्देश

उज्जैन। जलजीवन मिशन अभियान के तहत आगामी 100 दिवस में ग्रामीण शालाओं एवं आंगनवाड़ियों में नल कनेक्शन दिये जायेंगे। उक्त सभी संस्थाओं में जल प्रदाय योजना के लिये नरेगा, 15वा वित्त आयोग, खनिज निधि आदि योजनाओं से अभिसरण किया जायेगा। कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने इस सिलसिले में आज लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग तथा शिक्षा विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर योजना तैयार करने के लिये दिशा-निर्देश दिये। 


कलेक्टर ने निर्देश दिये हैं कि :-
• जिले के 1700 प्राथमिक, माध्यमिक एवं हाईस्कूल तथा 2127 आंगनवाड़ी केन्द्रों में आगामी 100 दिवसों में नल के माध्यम से पानी प्रदाय करने की योजना तैयार की जाये। इस हेतु आवश्यक आंकड़ों का एकत्रीकरण 25 नवम्बर तक अनिवार्य रूप से कर लिया जाये।
• कलेक्टर ने प्राथमिकता के आधार पर ऐसे स्कूल एवं आंगनवाड़ी केन्द्र का काम पहले हाथ में लेने को कहा है, जहां पर क्रमश: क्रियाशील एवं अक्रियाशील नल कनेक्शन हों तथा ग्राम जलापूर्ति योजना उपलब्ध हो। इन संस्थानों में पेयजल के लिये, शौचालय एवं वाश बेसिन के लिये पृथक-पृथक नल कनेक्शन की व्यवस्था करने को कहा गया है।
• नल जल कनेक्शन देने के साथ-साथ सभी संस्थाओं में रिचार्ज पिट (रेन वाटर हार्वेस्टिंग) तैयार करने, सोख्ता गड्ढा तैयार करने एवं पानी के लिये सोर्स विकसित करने के निर्देश दिये गये हैं।
• स्कूल एवं आंगनवाड़ी में नल जल कनेक्शन प्रदान करने के बाद द्वितीय चरण में आश्रम शाला, स्वास्थ्य केन्द्र, कल्याण केन्द्र, पंचायत भवन, सामुदायिक भवन एवं सामुदायिक शौचालयों में नल कनेक्शन का अभियान चलाया जायेगा।
• कलेक्टर ने इस सौ दिवसीय अभियान के बारे में विस्तार से जानकारी देने के लिये 19 नवम्बर को जिले के सभी महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारी, सुपरवाईजर, पर्यवेक्षक एवं शिक्षा विभाग के संकुल प्रभारियों का प्रशिक्षण झूम पर आयोजित करने के निर्देश दिये हैं।


      बैठक में पीएचई के कार्यपालन यंत्री श्री एसके धारीवाल, महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना समन्वयक श्री गौतम अधिकारी, शिक्षा विभाग के श्री गिरीश तिवारी सहित विभिन्न विभागीय अधिकारी मौजूद थे।