....तो राम तुम
मन शिवधनुष की प्रत्यंचा है 

अभिमान है 

अहंकार है 

तोड़ सको तो राम तुम 

 

परसुराम 

ज्वाला धधक रहे क्रोध की 

सहज समित कर 

सुदिश 

मोड़ सको तो राम तुम 

 

सीता अभिलाषा है 

आशा है 

प्यार की परिभाषा है 

मोहित कर मोहित हो 

हृदय से 

जोड़ सको तो राम तुम 

 

राजभवन राजगद्दी राजवैभव 

भूख हैं तृष्णा हैं 

माया हैं

जाल हैं 

छोड़ सको तो राम तुम 

 

जंगल है जीवन 

जीने की आपाधापी है 

कठिनाइयों की किताब 

संघर्षों की कापी है 

बन्दर भालू शेर निशाचर 

संग घुल-मिल 

होड़ सको तो राम तुम 

 

चिन्ताएं सागर हैं 

इच्छाएं युद्ध 

स्वाभिमान शक्ति है 

पार कर लड़ सको 

निचोड़ सको तो राम तुम 

 

रावण पीड़ा है 

घृणा है 

पाप का घड़ा है 

फोड़ सको तो राम तुम ।

 

 -डॉ एम डी सिंह,

पीरनगर,गाजीपुर (यू.पी.) में  पिछले पचास सालों से ग्रामीण क्षेत्रों में होमियोपैथी की चिकत्सा कर रहे हैं  

Popular posts
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
पियाजियो व्ही।कल्सऔ ने जयपुर में राजस्था न के अपनी तरह के पहले इलेक्ट्रिक व्हीजकल (ईवी) एक्सेपीरियेंस सेंटर का उद्घघाटन किया
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image
‘‘एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता’’, यह कहना है एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ की तन्वी डोगरा का
Image