समस्त कार्यालयों में लम्बित पेंशन प्रकरणों का निराकरण 15 दिनों में करें, कलेक्टर ने टीएल बैठक में दिये निर्देश


उज्जैन। कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने सोमवार को सिंहस्थ मेला कार्यालय के सभाकक्ष में समयावधि-पत्रों की समीक्षा बैठक की। कलेक्टर ने बैठक में निर्देश दिये कि सभी कार्यालयों में जितने भी पेंशन के प्रकरण लम्बित हैं, उनका निराकरण अगले 15 दिनों में किया जाये। पेंशन प्रकरणों का निराकरण कर शीघ्रतापूर्वक संभागीय पेंशन कार्यालय में प्रेषित किये जायें। साथ ही कलेक्टर ने कहा कि समस्त विभागों में ग्रेड-3 के पद यदि रिक्त हों तो उनकी जानकारी जल्द से जल्द कलेक्टर कार्यालय प्रेषित की जाये।


कलेक्टर ने सीईओ दुग्ध संघ से बैठक में कहा कि आने वाले दिनों में महाकालेश्वर मन्दिर के परिसर में स्थित कियोस्क के माध्यम से भगवान महाकालेश्वर के अभिषेक हेतु पंचामृत उपलब्ध कराये जाने पर विचार किया जा रहा है। इस हेतु उज्जैन सहकारी दुग्ध संघ के द्वारा बिना पाश्चुरीकृत किये गये दुग्ध पदार्थ उपलब्ध कराये जाने की व्यवस्था की जाये। इसके अलावा सांची के शहर में और अधिक पार्लर खोले जायें। सीईओ दुग्ध संघ द्वारा जानकारी दी गई कि वर्तमान में पूरे शहर में लगभग 62 अधिकृत पार्लर है। कलेक्टर ने इनकी संख्या और बढ़ाये जाने तथा ग्रामीण क्षेत्रों में भी सांची पार्लर खोले जाने के लिये जिला पंचायत से समन्वय स्थापित करने के लिये कहा।


कलेक्टर ने बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिये कि समयावधि में लम्बित सभी प्रकरणों के बारे में पूरी जानकारी और तैयारी के साथ ही बैठक में उपस्थित हों। सामाजिक न्याय विभाग को दिव्यांगजनों के पेंशन प्रकरण का निराकरण शीघ्र-अतिशीघ्र करने के निर्देश दिये गये। सीएमएचओ को विनोद मिल की जमीन पर जाकर मौका निरीक्षण करने के निर्देश दिये गये। उल्लेखनीय है कि वहां पर आने वाले दिनों में कैंसर युनिट बनाये जाने की योजना है।


सीएम हेल्पलाइन के लम्बित प्रकरणों की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने कहा कि किसी भी विभाग में ‘नॉट अटेंडेट’ शिकायतें नहीं होनी चाहिये। अगली टीएल बैठक से जिस लेवल पर नॉट अटेंडेट शिकायतें पाई गईं तो सम्बन्धित विभाग के अधिकारी के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी।


बैठक में एडीएम श्रीमती बिदिशा मुखर्जी, नगर निगम आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल, सीईओ जिला पंचायत श्री अंकित अस्थाना, अपर कलेक्टर श्री अवि प्रसाद एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।