आज की बात आपके साथ - विजय निगम

       ॐ गम गम गणपतये नमः।।
     ।ॐ यमाय यमाय धर्मराजाय,
       श्री चित्रगुप्ताय नमो नमः।  
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 29 अगस्त  2020 शनिवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
A कुछ रोचक समाचार
B.आज के दिन जन्मे.प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ एव कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री रामकृष्ण हेगडे का जीवन.परिचय  लेख
C आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
    (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
💐(A/1)चीन के सर्वे में मोदी सरकार के बारे में क्या कहा गया💐
💐(A/2)राममंदिर निर्माण: 250 साल पुरानी सीतारसोई पर चली जेसीबी गिराए
जाएंगे एक दर्जन मंदिर💐
💐(A/3)NEET-JEE पर बोले शिक्षा मंत्री:24 घंटों में 18 लाख एडमिट कार्ड डाउनलोड हो चुके हैं, इससे पता चलता है कि स्टूडेंट्स किसी भी कीमत पर परीक्षा देना चाहते हैं💐
💐(A/4)सुशांत सिंह राजपूत प्रकरण: क्या गिरफ्तारहोंगीरिया चक्रवर्ती,पूछताछ
जारी💐
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻 (A)कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)
💐(A/1)चीन के सर्वे में मोदी सरकार के बारे में क्या कहा गया💐
(स्त्रोत:टीम बीबीसी;-)चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने एक सर्वे कराया है. सर्वे में भारत-चीन के रिश्तों पर वहाँ के लोगों की रायशुमारी की गई है. इसमें चीन के दस बड़े शहरों के तक़रीबन 2000 लोगों ने हिस्सा लिया.
सर्वे में भारत की छवि, हाल के दिनों में सीमा पर तनाव, भारत में चीनी सामान के बहिष्कार से लेकर दोनों देशों के रिश्तों में अमरीका के हस्तक्षेप पर सवाल पूछे गए.
सर्वे में दिए गए जवाब का विश्लेषण ग्लोबल टाइम ने अपने पन्ने पर भी छापा है.
ये सर्वे ग्लोबल टाइम्स ने चाइना इंस्टीट्यूट ऑफ़ कंटेम्पर्री इंटरनेश्नल रिलेश्नस ( सीआईसीआईआर) के साथ मिल कर किया है.
17 से 20 अगस्त तक किए गए इस सर्वे में चीन के दस बड़े शहरों की जनता ने हिस्सा लिया जिसमें बीजिंग, वुहान और शांघाई शामिल है.
गलवान घाटी पर भारत-चीन सीमा विवाद से जुड़े अहम सवाल का जवाब
चीन के ख़िलाफ़ भारत के पास सैन्य विकल्प मौजूद हैं: जनरल बिपिन रावत
      💐ग्लोबल टाइम्स का सर्वे💐
इसमें पाया गया कि 51 प्रतिशत लोग मोदी सरकार को पसंद करते हैं, जबकि 90 फ़ीसद लोग भारत विरुद्ध सैन्य कार्रवाई को सही ठहराते हैं.
गुरुवार दोपहर तक मोदी सरकार को पंसद करने वाली ख़बर ग्लोबल टाइम्स के पन्ने पर थी. लेकिन दोपहर बाद वो हिस्सा हटा लिया गया था. हालाँकि ग्लोबल टाइम्स ने जो सर्वे का हिस्सा ट्वीट किया है उसमें अब भी मोदी सरकार को पंसद करने वाली बात है.
इतना ही नहीं सर्वे में ये भी पता चला है कि 70 फ़ीसद लोग मानते हैं कि भारत चीन के प्रति ज्यादा शत्रुतापूर्ण व्यवहार रखता है और पिछले दिनों चीन की सरकार ने भारत के ख़िलाफ़ जो क़दम उठाए हैं, उसका समर्थन करते हैं.
अगर भारत भविष्य में भी चीन को उकसाता है और सीमा पर तनाव बढ़ते हैं, तो सर्वे में हिस्सा लेने वाले 90 फ़ीसद लोग मानते हैं कि चीन की तरफ़ से जवाबी कार्रवाई सही है. लेकिन तक़रीबन 26 फ़ीसद लोग भारत को अच्छे पड़ोसी के तौर पर देखते हैं. ये लोग भारत को चीन के 'मोस्ट फ़ेवरेवल नेशन' में चौथे नंबर पर देखते हैं. पहले तीन पर रूस, पाकिस्तान और जापान को जगह देते हैं.
हालाँकि अच्छे पड़ोसियों की लिस्ट में चीन के लोगों ने भारत को दक्षिण कोरिया से ऊपर रखा.
इस सर्वे में पाया गया है कि 56 फ़ीसद लोग चीन में भारत के बारे में अच्छी जानकारी रखते हैं.
सर्वे के इस नतीजे ने सीआईसीआईआर के साउथ एशिया स्टडी के डायरेक्टर को भी हैरान कर दिया है. नतीजों के बारे में बात करते हुए उन्होंने ग्लोबल टाइम्स को बताया कि ये इसलिए भी मुमकिन है क्योंकि दोनों देशों में 'पीपल टू पीपल कॉन्टैक्ट' अच्छे हैं.
गलवान पर चीन के बयान में ऐसा क्या है, जिससे मोदी सरकार पर उठ रहे हैं सवाल
सर्वे करने वालों को लगता है कि इसका मतलब है कि दोनों देशों की सरकारों के बीच जो कुछ चल रहा है, जनता उससे बहुत ज़्यादा प्रभावित नहीं होती और अपने स्तर पर भी रिश्तों का आंकलन करती है.साथ ही ये भी पता चला की चीन के लोग अमरीका और यूरोप के देशों के बारे में भारत की अपेक्षा ज्यादा जानकारी रखते हैं. भारत के बारे में भी ये बात उतनी ही सच है.इस सर्वे में लोगों से ये सवाल भी पूछा गया कि भारत के बारे में एक छवि जो उनके ज़ेहन में सबसे पहले उभरती है - तक़रीबन 31 फ़ीसद लोगों का जवाब था, 'भारतीय समाज में महिलाओं का निम्न समाजिक स्तर'. 28 फ़ीसद लोगों को जवाब था, "जनसंख्या में भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है." तक़रीबन 22 फ़ीसद लोगों को भारत के बारे में सुनते ही सबसे पहले 'भारतीय योग' का ख्याल आता है.
       💐भारत-चीन संबंध💐
इस साल मई महीने से ही भारत-चीन के बीच लद्दाख सीमा पर तनाव की स्थिति बनी हुई है. 15-16 जून को लद्दाख की गलवानघाटी में एलएसी पर हुईइस झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल समेत 20 सैनिकों की मौत हुई थी. इसके बाद से ही दोनों देशों के रिश्ते तनावपूर्ण बने हुए हैं. सीमा पर तनाव कम करने के लिए दोनों देशों के बीच सैन्य स्तर की बातचीत चल रही है लेकिन अभी तक बेनतीजा ही रही है.इस तनाव के बीच ये सर्वे कराया गया और नतीजे दोनों देशों के रिश्तों के बारे में काफ़ी कुछ बयान करते हैं. तनाव के बीच भारत सरकार ने 50 से ज्यादा चीनी एप्स पर पाबंदी लगा दीऔर कई सरकारी ठेकों में विदेशी कंपनियों के हिस्सा लेने के लिए नियम सख्त कर दिए।भारत सरकार के दोनों क़दमों को दोनों देशों के रिश्तों पर क़रीबसे नज़र रखने वालों ने चीन के साथ बिगड़ते रिश्तों से जोड़ कर हीदेखा.अगस्त महीने में हुए इस सर्वे में हिस्सालेने वाले तक़रीबन 25 फ़ीसद लोग मानते हैं कि भविष्य में दोनों देशों के बीच रिश्तेबेहतर होंगे.पर 57 फ़ीसद लोगोंको लगता है कि भारत सैन्य शक्ति चीन के लिए किसी प्रकार का कोई ख़तरा है.इतिहास कीबात
करें तो, दोनों देशों के बीच 1962 में एक बार जंग हो चुकी है जिसमें चीन की जीत हुईऔर भारत की हार. इसके बाद 1965 और1975 में भी दोनों देशों केबीचहिंसक
झड़पें हुई हैं. जून में चौथा मौक़ा था, जब दोनों देशों की सेनाओं के बीच बात ख़ूनी संघर्ष तक पहुँच गई.
  💐चीनी सामान का बहिष्कार💐
भारत में विपक्षी दलों ने सरकार को चीन के साथ हुएइस संघर्षपर ख़ूब घेरा,लेकिन
चीन से इस तरह की कोई भी ख़बर बाहर नहींआई.हाल ही में कोरोना के दौर मेंजब प्रधानमंत्री मोदी ने लोकल के लिए वोकल का नारा दिया तो उसे भी चीनी सामान के बहिष्कार से जोड़ कर देखा गया.भारत में चीनी सामान बॉयकॉट करने को लेकरभी जगह-जगह मुहिम चलाई गई.इस सर्वे में चीन-भारत व्यापार और इससे जुड़े भी सवाल जवाब पूछे गए. 35 फ़ीसद लोग चीन में इस बात से ख़फ़ा हैं और मानते हैं किचीनकोभीभारत के साथ वैसाही बर्ताव
करना चाहिए. 50 फ़ीसद लोगों कोलगता
है किभारत आर्थिक रूपसे चीन परनिर्भर 
है.चीन की जनसंख्या के हिसाब से सर्वे में हिस्सा लेने वालों की तादाद बहुत कम है, लेकिनभारतचीन सीमाविवाद के मद्देनज़र
अहम भी है। 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/2)राममंदिर निर्माण: 250 साल पुरानी सीतारसोई पर चली जेसीबी गिराए
जाएंगे एक दर्जन मंदिर💐
अयोध्या;- राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या पहुंचीं एलएनटी की बड़ी-बड़ी मशीनें
राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या पहुंचीं एलएनटी की बड़ी-बड़ी मशीनें  : 
राममंदिर निर्माण के लिए रामजन्मभूमि परिसर में काम की गति तेज हो गई है। ऐसे में राममंदिर के मार्ग पर पड़े रहेजर्जर
 भवनों व मंदिरों के ध्वस्तीकरण की भी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। रामजन्मभूमि परिसर स्थित करीब250 वर्ष पुराने सीता रसोईमंदिर को ध्वस्त करनेका कामप्रारंभ 
करदिया गया है। 
एलएंडटी की टीमें जेसीबी व अन्य मशीनों के जरिए सबसे पहले सीता रसोई मंदिर को ध्वस्त करने में जुटी हुई हैं। श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने पहले ही बता दिया था कि राममंदिर परिसर में मौजूद करीब एक दर्जन ऐसे प्राचीन मंदिरों को ध्वस्त किया जाएगा। 
जिनमें करीब तीन दशक से पूजा-अर्चना बंद है। इसी क्रम में गुरुवार दोपहर से प्राचीन सीता रसोई मंदिर को ध्वस्त करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। माना जा रहा है कि देर शाम तक मंदिर को ध्वस्त कर दिया जाएगा।
ट्रस्टके महासचिव चंपत राय पहले ही बताचुके हैं इन मंदिरों को ध्वस्त किया जाएगा लेकिन इनमें विराजमान गर्भगृह को मंदिर परिसर में ही सुरक्षित रखा जाएगा। जब राममंदिर का निर्माण हो जाएगा तो इन सभी मंदिरों के गर्भगृह को उचितस्थान पर स्थापित कर इनकी पूजा
-अर्चना का क्रम प्रारंभ किया जाएगा।
श्रीरामजन्मभूमि के पुजारी आचार्य सत्येंद्र ने बताया कि रामजन्मभूमि परिसर में सीतारसोई, कोहबर भवन, आनंद भवन, साक्षी गोपाल सहित करीब एक दर्जन मंदिर हैं जिन्हें ट्रस्ट ने गिराने का निर्णय लिया है। इसी क्रम में गुरुवार को सीता रसोई के अंदर के हिस्से को गिराने का कामशुरू कर दिया हैश्रीरामजन्मभूमि
परिसरपहुंचनेलगीं एलएंडटी कीबड़ी-बड़ी 
मशीनेंराममंदिर निर्माण की प्रक्रिया अब तेज हो चली है। एलएंडटी की बड़ी-बड़ी मशीनेंभी श्रीरामजन्मभूमि परिसर पहुंचने लगी हैं। ट्रस्ट ने तय किया गया कि तीन से साढ़े तीन साल के भीतर राममंदिर का निर्माण कार्य पूरा कर लेना है। इसके लिए एलएंडटी ने तैयारी पूरी कर ली है,इंतजार सिर्फनींव खोदाई का है।इससे पूर्व निर्माण कार्यमें प्रयुक्तहोने वाली एलएंडटीकी बड़ी
-बड़ी मशीनें भी श्रीरामजन्मभूमि परिसर पहुंचने लगी है। पोकलैंड, होम कंटेनर के बाद गुरूवार को फ्यूल टैंक व मिक्सर मशीन भी श्रीरामजन्मभूमि परिसर पहुंच गयी है। बताया जा रहा है कि बहुत जल्द ही एलएंडटी के करीब सौ मजदूर भी अयोध्या पहुंचने वाले है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/3)NEET-JEE पर बोले शिक्षा मंत्री:24 घंटों में 18 लाख एडमिट कार्ड डाउनलोड हो चुके हैं, इससे पता चलता है कि स्टूडेंट्स किसी भी कीमत पर परीक्षा देना चाहते हैं💐
NEET के 10 लाख और JEE के 7.5 लाख कैंडिडेट्स ने एडमिट कार्ड डाउनलोड किए
सोशल डिस्टेंसिंग को देखते हुए NEET के 90 और JEE के लिए 1296 परीक्षा केंद्र बढ़ाए गए हैं
अगले महीने होने जा रही JEE - NEET परीक्षाओं को जहां एक तरफ पोस्टपोन करने की मांग तेज हो रही है। वहीं दूसरी तरफ केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक का कहना है कि स्टूडेंट्स किसी भी कीमत पर परीक्षा देना चाहते हैं।
💐24 घंटों में डाउनलोड हो गए 18 लाख एडमिट कार्ड💐
जेईई परीक्षा के लिए जहां अब तक कुल 8.58 लाख में से 7.5 लाख कैंडिडेट्स अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर चुके हैं। वहीं नीट के लिए 15.97 लाख में से 10 लाख ने एडमिट कार्ड डाउनलोड कर लिया है।यानी दोनों परीक्षाओं केमिलाकर
 पिछले 24 घंटों में लगभग 18 लाख एडमिट कार्ड डाउनलोड हो चुके हैं। शिक्षा मंत्री ने कहा  इससे स्पष्ट होता है कि छात्र किसीभीकीमत पर परीक्षा चाहतेहैंपरीक्षा
केंद्रों की संख्या बढ़ी,कैंडिडेट कोमनचाहा
सेंटर भी मिलेगा
रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि परिस्थितियों को देखते हुए NEET और JEE के परीक्षा केंद्रों की संख्या भी बढ़ाई गई है। पहले जहां जेईई की परीक्षा 570 सेंटरों पर होनी थी। अब यह संख्या बढ़ाकर 660 कर दी गई है। वहीं नीट की बात करें तो इसके परीक्षा सेंटरों की संख्या 2546 से बढ़ाकर 3842 कर दी गई है। इसके अलावा दोनों परीक्षाओं में स्टूडेंट्स को वही सेंटर अलॉट किया जा रहा है जो उन्होंने चुना है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/4)सुशांत सिंह राजपूत प्रकरण: क्या गिरफ्तारहोंगीरिया चक्रवर्ती,पूछताछ
जारी💐
सुशांत सिंह केस में सीबीआई की जांच का आज 8वां दिन है. इस केस में तमाम आरोपियों से पूछताछ लगातार पूछताछ कर रही है.सीबीआई की टीम पहले फेज में रिया चक्रवर्ती से पूछताछ करेगी फिर दूसरे फेज में टीम उनसे क्रॉस क्वेश्चन करेगी.तीसरे फेज में गवाहों के बयान मिलाए जाएंगे. सीबीआई अधिकारी नुपुर प्रसाद औरअनिल यादव रिया से पूछताछ
 कर रहे हैं.
पिछले सप्ताह सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपे जाने का रास्ता साफ कर दिया था. सुशांत राजपूत के पिता ने पटना में रिया और अन्य पर अभिनेता को आत्महत्या के लिए उकसाने और धन की हेराफेरी करने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई थी. 34 वर्षीय सुशांत का शव 14 जून को बांद्रा में उनकेफ्लैट में मिला था.सीबीआई
इस मामले में अब तक अभिनेता के साथ फ्लैट में रहने वाले उनके दोस्त सिद्धार्थ पिठानी,खाना बनाने वाले नीरजसिंह और घरेलू सहायक दीपेश सावंत और अन्य से पूछताछ कर चुकी है.सीबीआई की टीम अभिनेता की मौत के मामले की जांच के लिए शहर में है. बृहस्पतिवार को एजेंसी ने चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती का बयान दर्ज किया था. एजेंसी ने शौविक से आठ घंटे से ज्यादा समय तक पूछताछ कर के उनका बयान दर्ज किया.यहपहला
मौका है जब अभिनेता की मौत के मामले में सीबीआई 28 वर्षीय रिया चक्रवर्ती से पूछताछकर रही है.रिया को शुक्रवारसुबह
साढ़े दस बजे जांच टीम के सामने पेश होने के लिए एजेंसी ने तलब किया था.
जानकारी के मुताबिक रिया चक्रवर्ती से पूछताछ लंबी चलेगी. सीबीआई रिया से हर पहलू पर सवाल जवाब कर रही है. पूछताछ के बाद ही आगे की स्थिति का पता चल पाएगा.पिछले एक महीने से भी ज्यादा वक्त से लगातार सुशांत की मौत के आरोप झेल रही उनकी गर्लफ्रेंड रिया ने पहली बार एक निजी टीवी चैनल के इंटरव्यू में अपना पक्ष रखा. इस दौरान उन्होंने न सिर्फ खुद पर लगे आरोपों को गलत बताया, बल्कि सुशांत के परिवार पर भी कई आरोप लगाए.सीबीआई रिया
 चक्रवर्ती सहित मामले में आरोप झेल रहे लोगों के खिलाफ लगातार एफआईआर दर्ज कर जांच कर रही है.19 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को मामले में जांच करने की मंजूरी दी थी.इसकेअलावा
मामले में प्रवर्तन निदेशालयऔर नारकोटि
क्स कंट्रोल ब्यूरोभीजांच कर रहा है.CBI
रियाचक्रवर्ती सहित मामले में आरोप झेल रहे लोगों के खिलाफ लगातार FIR दर्ज करजांच कर रही है।19अगस्त को सुप्रीम कोर्टने सीबीआई को मामले में जांच करने की मंजूरी दी थी. इसके अलावा मामले में प्रवर्तननिदेशालयऔरनारकोटिक्स कंट्रोल
ब्यूरो भी जांच कर रहा है.CBI की टीम
पहले फेज में रिया चक्रवर्ती से पूछताछ करेगी फिर दूसरे पेज में टीम उनसे क्रास क्वेशचनिंग करेगी. तीसरे पेज में गवाहों के बयान भी मिलाए जाएंगे. सीबीआई अधिकारी नुपुर प्रसाद और अनिल यादव रिया से पूछताछ कर रहे हैं.
रिया चक्रवर्ती अपने भाई शौविक के साथ डीआरडीओ ऑफिस पहुंच चुकी हैं. दोनों को अलग अलग कमरे में भेजा गया है. पहले दोनों से अलग अलग पूछताछ की जाएगीफिरदोनों को साथबैठाकरपूछताछ 
होगी.सीबीआई जांच का एक हफ्ता बीत चुका है. आज आठवां दिन है. सीबीआई लगातारसुशांत के करीबी लोगों तक पहुंच रही है. मुंबई में जबरदस्त हलचल है. ईडी के साथ-साथ नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने भी जांच शुरू कर दी है.सुशांत सिंह केस मेंसीबीआई की जांच में शामिल होने केलिएअभिनेत्रीरिया चक्रवर्तीडीआरडीओ
के गेस्ट हाउस में पहुंच चुकी हैं.गेस्टहाउस
के बाहर मीडिया का भारी जमावड़ा देखा जा रहा है.गेस्टहाउस मेंपहलेसेही सिद्धार्थ पिठानी, कुक नीरज और सैमुअल मिरांडा मौजूद हैं.सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है रियाचक्रवर्तीडीआरडीओ के गेस्टहाउस
नहींजारही है.इसवजह सेकाफीमहत्वपूर्ण
 हो जाता है कि रिया की ये मूवमेंट किस वजह से हुई है. ऐसा बताया जा रहा है कि मीडियो से बचाने की वजह से रिया की किसी दूसरी जगह पर पूछताछ हो सकती है.
कुछ देर में रिया चक्रवर्ती, डीआरडीओ गेस्ट हाउस तक पहुंच जाएंगी. इस केस में सीबीआई की जांच का आज 8वां दिन है.अब तक सीबीआई ने तमाम आरोपियों
से पूछताछ की है.आज एक बार फिर डीआरडीओ गेस्ट हाउस मेंसिद्धार्थपिठानी
भी पहुंच चुके हैं. लगातार आज पांचवीं बार सिद्धार्थ से सीबीआई पूछताछकरेगी.
सुशांत सिंह राजपूत केस में सीबीआई की पूछताछ में सहयोग करने लिए रिया चक्रवर्ती अपने घर से निकल चुकी हैं. रिया डीआरडीओ गेस्ट हाउस में पूछताछ के लिए पहुंचेंगी. रिया को सीबीआई ने पूछताछ के लिए समन किया था.रिया चक्रवर्तीको सीबीआई ने पूछताछ के लिए बुलाया है।रिया से ये पूछताछ डीआर
डीओ के गेस्ट हाउस में होगी.बॉलीवुड
अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में चलरही जांच को लेकरभारतीय
जनतापार्टी के राष्ट्रीय महासचिव पीमुरली
धर राव ने कहा है कि मामले की जांच एनआईए (राष्ट्रीय जांच एजेंसी) को सौंप दी जानी चाहिए.
राव ने एक के बाद एक कई ट्वीट करके यह बात कही.ट्विट में कहा है कि आत्म
हत्या के लिए उकसाने और अप्राकृतिक मौत की जांच सीबीआई कर रही है. ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रही है. एनसीबी (नारकोटिक्स कंट्रेल ब्यूरो) ड्रग यूज को लेकर जांच कर रही हैएनआईएको इसकी जांच मेंशामिल 
होना पड़ सकता है.सुशांत सिंह राजपूत केस में सीबीआई की जांच का आज आठवां दिन हैइसकेअलावा मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की प्रेमिका रियाचक्रवर्ती के खिलाफ मामला दर्जकिए
जाने के बाद, एजेंसी अब आने वाले दिनों में 20 लोगों से पूछताछ करने की तैयारी में है.जांच से जुड़े एनसीबी के वरिष्ठ सूत्रों के अनुसार,एजेंसी ने ड्रग्स सप्लाई मामले में 20 संदिग्ध लोगों की सूची तैयार की है,जिनमें गौरव आर्य,स्वेद लोहिया, क्वान एंटरटेनमेंट पार्टनर जया साहा, पूर्व बिग बॉस प्रतियोगी एजाज खान, फारूख बटाटा और बकुल चंदानी सहित अन्य लोग शामिल हैं.इससे एक दिन पहले ही एनसीबी ने रिया चक्रवर्ती,उनकेभाई शोविक, साहा, सुशांत की सह-प्रबंधक श्रुति मोदी और आर्य के खिलाफ मादक पदार्थएवं साइकोट्रॉपिकपदार्थ अधिनियम कीधारा 20 (बी) 28, 29 केतहत मामला दर्ज कियाथासूत्र ने बताया किआर्यअक्षित
शेट्टी के साथ फरार है.उन्होंने यह भी कहा कि 16 अगस्त को गोवा में एक रेव पार्टी पर छापा मारा गया था, जिसमें आर्य ड्रग्स की सप्लाई करने में शामिल था.एनसीबी के सूत्रों के अनुसार, खान को नवी मुंबई पुलिसने अक्टूबर,2018 में ड्रग्सकेमामले
में गिरफ्तारकिया था,जबकि मुंबई केखार
में सर्वोदय वीडियो लाइब्रेरी के मालिक चंदानी को दिसंबर 2018 में मुंबई पुलिस के एंटी नारकोटिक्स सेल ने कोकीन और एलएसडी के साथ गिरफ्तार किया था.
ड्रग पेडलर्स के साथ रिया की सांठगांठ सार्वजनिक हो जाने के बाद, ईडी के अनु
रोध पर एनसीबी भी मामले की छानबीन में जुटचुकी है.इससे पहले दिन में, प्रवर्तन
निदेशालय (ईडी) ने रिया के जब्त किए गएदो मोबाइल फोनसे कुछ सनसनीखेज
 निष्कर्ष निकाले. ईडी के दस्तावेजों में रिया के कथित बैंक धोखाधड़ी और ड्रग पेडलर्स के साथ संदिग्ध सांठगांठ का पता भी चलता है.सूत्रों ने बताया कि रिया ने सुशांत के डेबिट कार्ड के पासवर्ड को चुरा लिया था और इसके लिए उसने दिवंगत अभिनेता के घर के मैनेजर सैमुअल मिरांडा की मदद ली.34 वर्षीय अभिनेता को 14 जून को मुंबई में बांद्रा के अपने फ्लैट में रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाया गया था. इसके बाद सुशांत के पिता के.के. सिंह द्वारा 25 जुलाई को पटना पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया गया, जिसमें उन्होंने रिया और उनके परिवार पर कई गंभीर आरोप लगाए है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐 💐(B)आज के दिन जन्मे.रामकृष्ण हेगडे का जीवन..परिचय  लेख..........
          जीवन परिचय   
रामकृष्ण हेगडे (29 अगस्त 1926 - 12 जनवरी 2004) भारत के राजनेता थे जो तीन बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री भी रहे। वे भारत के वाणिज्य एवं उद्योग के केन्द्रीय मंत्री भी रहे।
         💐मुख्यमंत्री के रूप में 💐
जब1983 के राज्य चुनावोंमें जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर सत्ता में आई, तो वहशक्तिशाली लिंगायत और वोक्कालिगा लॉबीके बीचएकसर्वसम्मत ब्राह्मण उम्मीद
वार के रूप में उभरे। इस प्रक्रिया में, वह कर्नाटक के पहले गैर-कांग्रेसी मुख्यमंत्री बने। एक चतुर रणनीतिकार, उन्होंने अन्य दलों से बाहर समर्थन की व्यवस्था करके अपनी सरकार के लिए दो-तिहाई बहुमत हासिल किया। उनकी सरकार ने भारतीय जनता पार्टी(भाजपा),वाम दलों और16 निर्दलीय उम्मीदवारों का बाहरी समर्थन हासिलकिया।हेगड़ेनेव्यक्तिगतलोकप्रियता
काआनंद लियाऔरउन्हें एक कुशल प्रशा
सक केरूप में स्वीकार किया गयाहालांकि
,जैसे-जैसे दिन बीतते गए, उनके शासन में कई घोटाले हुए, जिसमें उनकेअपने परिवारकीओरसे कथित भ्रष्टाचार शामिल
था।उनके बेटे पर मेडिकल सीट के लिए 
पैसे लेने का आरोप था।
NGEF कंपनीद्वाराशेयरों के हस्तांतरण से जुड़े एक मामले में कांग्रेस (I) द्वारा उन पर आरोप लगाए गए थे। 
1984केलोकसभा चुनावों में जनता पार्टी केखराब प्रदर्शन के बाद(यह कर्नाटक की 
28सीटों में से केवल4 सीटें हीजीत पाई), हेगड़े ने इस आधार पर इस्तीफा दे दिया किउनकीपार्टी ने अपना जनादेश खोदिया
हैऔरअपनी सरकार के लिए नए जनादेश कीमाँग की है।1985 के चुनावों मेंजनता 
पार्टी बहुमत के साथ सत्ता में आई। 1983 और 1985 के बीच और 1985 और 1988 के बीच मुख्यमंत्री के रूप में, वे एक संघीय सेट-अप के भीतर राज्य के अधिकारों के एकसक्रिय मतदाता बनगए, लेकिनएक जिसने क्षेत्रीय या भाषाई रूढ़ि
वादकोकोई रियायतनहीं दी।दूसरे, उन्होंने राज्यकेभीतर संघीय सिद्धांत का विस्तार करनेके लिएअभिनव पहल की,मुख्य रूप सेस्थानीयनिकायों केलिए शक्ति विकसित
करने के क्षेत्र मेंऔर जवाबदेही को लागू 
करने की कोशिश में।अपनेमुख्यमंत्रित्व काल के दौरान, कर्नाटक ने पंचायत राज परकानून का नेतृत्व किया,जिसनेस्थानीय
सरकार की तीन-स्तरीय संरचना के लिए वित्तीय और प्रशासनिक शक्तियों का एक बड़ा हिस्सा तैयार किया। उन्होंने ग्रामीण विकास और पंचायत राज मंत्रीअब्दुल नजीरसाबकेअथककार्यों कासमर्थनकिया
।राज्यमें ग्राम पंचायतों को शक्ति विकास
कोबढ़ाव देने के लिए,और कर्नाटक कार्या
न्वयन शेष भारत के लिए एक आदर्श बन गया।1984 मेंउन्होंने लोकायुक्तकी संस्था के माध्यम से आधिकारिक और प्रशास
निक भ्रष्टाचार से निपटने के लिए कानून पेश किया।इसके अलावा,उन्होंने प्रशासन 
में कन्नड़ के कार्यान्वयन की देखरेख के लिए 'कन्नड़ प्रहरीपैनल' शुरू किया।।उन्हें राज्यविधानसभा में तेरह वित्त बजट पेश करने का दुर्लभ गौरव प्राप्त है। उन्होंने 13 फरवरी 1986 को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया जब कर्नाटक हाईकोर्ट ने अपनी सरकार को जिस तरह से क्रैक बॉटलिंग कॉन्ट्रैक्ट्स के लिए संभाला,उसे ठीककरलिया,लेकिन 16 फरवरी को तीन दिनोंके बाद उन्होंने अपना इस्तीफावापस
लेलिया।हेगड़े ने व्यक्तिगतलोकप्रियताका
आनंदलिया औरउन्हें एक कुशलप्रशासक
के रूप में स्वीकार किया गया।  हालांकि, जैसे-जैसे दिन बीतते गए, उनके शासन में कईघोटाले हुए,जिसमें उनकेअपनेपरिवार
की ओर से कथित भ्रष्टाचार शामिल था। उनके बेटे पर मेडिकल सीट के लिए पैसे लेने का आरोप था। NGEFएन जी ई एफ कंपनी द्वारा शेयरों के हस्तांतरण से जुड़े एकमामले में कांग्रेस (Iआई) द्वारा उन पर आरोप लगाए गए थे। राज्य में प्रमुख राजनेताओं और व्यापारियों के फोन टैपिंग के आरोपों के बाद उन्होंने 1988 में इस्तीफा दे दिया और पद छोड़ दिया।  हेगड़ेनेइसके बाद 1989-90 और 1990  में सुब्रमण्यम स्वामी के खिलाफ मामला दर्ज कराया, जब स्वामी ने उन्हें टैप करने का आरोप लगाया।  ▼
▲ उन्होंने 13 फरवरी 1986 को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया जब कर्नाटक हाईकोर्ट ने अपनी सरकार को जिस तरह से क्रैक बॉटलिंग कॉन्ट्रैक्ट्स के लिए संभाला, उसे ठीक कर लिया, लेकिन 16 फरवरी को तीन दिनों के बाद उन्होंने अपना इस्तीफा वापस ले लिया।  वी.पी.सिंहके कार्यकाल के दौरान वेभारत
के योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी थे।1996 में प्रधान मंत्री एच। डी। देवेगौड़ा के निर्देशों के अनुसार, उन्हें इसके अध्यक्ष लालू प्रसादयादव ने जनता दलसे निष्का-
-सित कर दिया था। अपने निष्कासन के बाद, हेगड़े ने राष्ट्रीय नव निर्माण वेदिक एक सामाजिक संगठन और फिर अपनी राजनीतिक पार्टी 'लोक शक्ति' का गठन किया। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन किया और गठबंधन ने 1998 के आम चुनावों में कर्नाटक से लोकसभा की अधिकांश सीटें जीतीं। वह 1998मेंभाजपा की अगुवाई वाली राजग
सरकार में वाणिज्य मंत्री बने। 1999 के जनता दल के विभाजन के बाद,उनकेसम
र्थक, मुख्यमंत्री जे एच पटेल, और लोक शक्ति के नेतृत्व वाले गुट ने जनता दल (यूनाइटेड) का गठन कियाऔरभाजपा के साथ गठबंधन किया। हालांकि, गठबंधन को 1999 के आम चुनावों में एक झटका लगा, क्योंकि पटेल सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधीझुकाव के कारण औरकांग्रेस
पार्टी कर्नाटक में विजयी हुई। ▼
▲ राज्य में प्रमुख राजनेताओं और व्यापारियों के फोन टैपिंग के आरोपों के बाद उन्होंने1988 मेंइस्तीफा दे दिया और पद छोड़ दिया।हेगड़े ने इसके बाद 1989 
और1990 मेंसुब्रमण्यम स्वामीकेखिलाफ 
मामला दर्ज कराया, जब स्वामी ने उन्हें टैप करने का आरोप लगाया।
▲ वी। पी। सिंह के कार्यकाल के दौरान वे भारत के योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी थे। 1996 में प्रधान मंत्री एच।एच डी।डी देवेगौड़ा के निर्देशों के अनुसार, उन्हें इसकेजनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने जनता दल से निष्कासित कर दिया था।अपने निष्कासन के बाद, हेगड़े नेराष्ट्रीयनव निर्माण वेदिकएक सामाजिक संगठन और फिरअपनी राजनीतिक पार्टी 
'लोक शक्ति' का गठन किया। उन्होंने भार
तीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन किया औरगठबंधन ने 1998 के आम चुनावों में कर्नाटक से लोकसभा की अधिकांश सीटें जीतीं। वह 1998 में भाजपा की अगुवाई वालीराजग सरकार में वाणिज्य मंत्री बने।1999 के जनता दल के विभाजन के बाद, उनके समर्थक, मुख्यमंत्री जे एच पटेल, और लोक शक्ति के नेतृत्व वाले गुट ने जनता दल (यूनाइटेड) का गठन किया और भाजपा के साथ गठबंधन किया। हालांकि, गठबंधन को 1999 के आम चुनावों में एक झटका लगा, क्योंकि पटेल सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधी झुकाव के कारण और कांग्रेस पार्टी कर्नाटक में विजयी हुई।
         💐व्यक्तिगत जीवन 💐
अपने जीवन में देर से,हेगड़े,प्रतिभाप्रह्लाद
 के साथ अपने आखिरी, सबसे लंबे और सबसे गंभीर संबंध में रहे, वो एक नर्तकी थीजो उनसे छत्तीस साल से अधिक छोटी थी।प्रतिभा काजन्म 1963 मेंएक शिक्षित और संपन्न कन्नड़ ब्राह्मण परिवार में हुआ था,ववेसीएनआर राव(प्रसिद्ध वैज्ञानिक) की भतीजी थी। वह स्वभाव से शकुंतला से बहुत अलग थी।एक नर्तकी के रूप में, उसके पास सार्वजनिक जीवन के लिए कोई विरोध नहीं था,और न केवल उसकी नृत्य प्रतिभाओं के लिए, बल्किउसके प्रति अनुचित"व्यवहारके लिएतीनअलग-अलग
दलों पर मुकदमा चलाने के लिए भी ध्यान आकर्षित किया था।इन दलोंमें से दोपुरुष
थे जिन्होंने उसे कॉलेज और क्रमशः एक नृत्यअकादमी में पढ़ाया था।वहअपने कॉलेज केदिनों मेंएक फायरब्रांडनारीवादी
थीं,और एक महिला के "अपनी शर्तों पर" जीनेकेअधिकार की मुखर वकालत करती थी। निजी तौर पर, हेगड़े ने यह जाना कि यह प्रतिभा की फायरब्रांड भावना,कट्टर
पंथीविचारों की अभिव्यक्तिऔर व्यक्तित्व को आकर्षित करने वाला व्यक्तित्व था। उसेउसके पास।ये गुण निश्चयहीउन अपरा
और निवृत्त शकुंतला से बहुत अलग थे, जिन्होंने इस मामले को अस्तित्व में लाने के साथ-साथ ऊहापोह की उल्लेखनीय अनुपस्थिति को स्वीकार किया था। निजी तौर पर, शकुंतला ने परिवार को बताया कि वहपहले से ही एदादी थीं,और हेगड़े जैसे शक्तिशाली व्यक्ति के लिए एक बहुत छोटीमहिलाकेसाथ संबंध बनाना असामान्य नहीं था, इससे पहले कि उसे इस तरह का आनंद लेने के लिए बहुत देर हो चुकी थी अनुभव। दरअसल, हेगड़े कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में अपने करियर की ऊंचाई पर थे जब वह प्रतिभा से परिचितहो गए।उनका संबंध,जो उनकी 
मृत्यु तक पंद्रह वर्षों तक चला,इसके परिणामस्वरूप जुड़वा पुत्रों, चिरंतन और चिरायु का जन्म हुआ।
              💐बाद का जीवन💐 
अपने राजनीतिक शक्ति के कमजोर होने के बावजूद उन्होंने जनता परिवार में बड़े राजनेता की भूमिका निभानी जारी रखी। वह धीरे-धीरे अपने खराब स्वास्थ्य के कारण सक्रिय राजनीति से दूर चले गए। 77 वर्ष की आयु में लंबी बीमारी के बाद 12 जनवरी 2004 को बंगलौर में उनका निधन हो गया। उनकी मृत्यु के कारण कर्नाटक में शोक की लहर फैल गई।
एक बहुमुखी व्यक्तित्व, उन्होंने कईनाटकों
और फिल्मोंजैसे मारना मृदंगा,प्रजा शक्ति मेंभीअभिनय किया।वे बड़ी संख्या में राज
नेताओंके राजनीतिकगुरु थेजैसे जीवराज अल्वाबुल समदसिद्दीकी एम.पी. प्रकाश, पी।जी।आर सिंधिया, आर। वी। दशपांडे, औरकई छोटेराजनेताओं को तैयार किया
। अपने जीवन के उत्तरार्ध में वे उदास हो गए और जीवनराज अल्वा, अब्दुल समद सिद्दीकी और श्री मानस रंजन जैसे कुछ ही मित्रों पर भरोसा किया। उनकी पत्नी शकुंतला हेगड़े ने 2004 में भाजपा के
उम्मीदवार के रूप में राज्यसभा के लिए 
निर्विरोध रूप से चुनाव लड़ा।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(C) आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ💐
1612 - सूरत की लड़ाई में अंग्रेजों ने पुर्तग़ालियों को हराया,
1833 - ब्रिटिश दास उन्मूलन अधिनियम ने कानून का रूप लिया।
1842 -ग्रेट ब्रिटेन और चीन ने नानकिंग की संधि पर हस्ताक्षर किये।अफ़ीम युद्ध 
समाप्त।
1914-न्यूजीलैंडसैनिकों ने जर्मन समोआ पर कब्जा किया।
1916-अमेरिकीकांग्रेसनेजोन्सअधिनियम
कोस्वीकृतिप्रदान की:फिलीपींस को मिली
स्वतंंत्रता।
1932 - नीदरलैंड की राजधानी एम्स्टर्डम मेंअंतर्राष्ट्रीय युद्ध-विरोधीसमितिका गठन।
1941-रूस में जर्मन इंस्तज कमांडो ने 1469 यहूदी बच्चों की हत्या की।
1945 - ब्रिटिश ने हांगकांग को जापान से मुक्त कराया।
1957-कांग्रेस ने नागरिक अधिकार अधि
नियम,1957 पारित किया।
1974 - चौधरी चरण सिंह की अध्यक्षता में लोकदल पार्टी स्थापना।
1987-कर्नलराबुका नेफिजीको गणराज्य घोषित किया।
1996-आर्कटिक द्वीप केस्पिट्सबर्गेन की
पहाड़ी में वनु कोवो एयरलाइंस केदुर्घटना
ग्रस्त होनेसे उसमें सवार सभी 141 लोगों
की मौत।
1998-पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुल
कर राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित।
1999 - बांग्लादेश मुक्ति संघर्ष के दौरान टाइगर सिद्दीकी के नाम से मशहूर सांसद कादिर सिद्दीकी ने संसद की सदस्यता से इस्तीफ़ा दिया।
2000- न्यूयार्कमेंचार दिवसीय विश्व शांति शिखर सम्मेलन शुरू।
2001-पश्चिम एशिया में पुन: हिंसाभड़की
तीन फ़िलिस्तीनी मरे;जापान के 'एच-2ए' रॉकेट का सफल प्रक्षेपण।
2002 - पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ़ का नामांकन पत्र स्वीकार किया।
2003 -कोलंबिया अंतरिक्ष यान हादसे के लिए नासा की त्रुटिपूर्ण कार्य-संस्कृति को ज़िम्मेदार ठहराया गया।
इराक के पवित्र शहर नजफ़ में हुए एक आत्मघाती हमले में शिया नेता सहित 75 लोग मारे गये।
2004 - एथेंस ओलम्पिक का समापन।
2008-तृणमूल कांग्रस के कार्यकर्ताओं के बवाल से क्षुब्ध होकर टाटा मोटर्स ने सिंगुर में नैनों परियोजना स्थल से अपने कर्मचारी हटाए।
2009 झारखण्ड के नवनियुक्त मुख्यमंत्री शिबु सोरेननेविधानसभा में अपना बहुमत
साबित किया।
2012-चीन में सिचुआन प्रांत के शियाओ
जियावान कोयला खदान में हुए विस्फोट से कम से कम 26 चीनी श्रमिकों की मौत हो गयी जबकि 21 लापता हो गये।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(D)आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
1887 - जीवराज मेहता - भारत के एक प्रमुख चिकित्सक और देश सेवक।
1905 - मेजर ध्यानचंद- भारत के ख्याति प्राप्त हॉकी खिलाड़ी। 
1925 - गोलप बोर्बोरा - भारतीय राज्य असम के छठे मुख्यमंत्री थे।
1926 - रामकृष्‍ण हेगड़े - जनता पार्टी के राजनीतिज्ञ थे, जो कर्नाटक के भूतपूर्व मुख्यमंत्री थे।
1949 - के. राधाकृष्णन - भारत के शीर्ष वैज्ञानिकों में से एक। 
1969 - मेजर मनोज तलवार - भारतीय सेना के जाबांज सैनिकों में से एक थे। 
1980 - माधव श्रीहरि अणे - भारत की आज़ादी के लिए संघर्ष करने वाले स्वतंत्रता सेनानियों में से एक। 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(E)आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
1931 - जदोनांग एक युवा रोगमई नेता जिसने शक्तिशाली नागा आन्दोलन का गठन किया
1952 - सिस्टर यूप्रासिआ - भारतीय ईसाई महिला संत।
1956 - मलिक ग़ुलाम मोहम्मद - पाकिस्तान के तीसरे गवर्नर-जनरल थे।
1976 - काज़ी नज़रुल इस्लाम - प्रसिद्ध बांग्ला कवि, संगीत सम्राट, संगीतज्ञ और दार्शनिक थे।
2007 - बनारसी दास गुप्ता - हरियाणा के भूतपूर्व मुख्यमंत्री तथा स्वतंत्रता सेनानी।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(F) आज का दिवस का नाम
1.जीवराज मेहता - भारत के एक प्रमुख चिकित्सकऔरदेशसेवक थे उनकाजयन्ति
दिवस।
2.मेजर ध्यानचंद- भारत के ख्याति प्राप्त हॉकी खिलाड़ी थे उनका जयंति दिवस।
3.गोलप बोर्बोरा - भारतीय राज्य असम के छठेमुख्यमंत्री थे उनकाजयन्ति दिवस।
4. रामकृष्‍ण हेगड़े- जनता पार्टी के  राज -नीतिज्ञ थे,जो कर्नाटक के भूतपूर्व मुख्य
मंत्री थे।उनका जयन्ति दिवस।
5.जदोनांग एक युवा रोगमई नेता जिसने शक्तिशाली नागा आन्दोलन का गठन किया आज उनका पुण्यतिथि दिवस।
6.सिस्टर यूप्रासिआ - भारतीय ईसाई महिला संत थी आज उनका पुण्यतिथि दिवस।
7.मलिक ग़ुलाम मोहम्मद - पाकिस्तान के तीसरे गवर्नर-जनरल थे,उनका आज पुण्यतिथि दिवस।
8.काज़ी नज़रुल इस्लाम - प्रसिद्ध बांग्ला कवि, संगीत सम्राट, संगीतज्ञ और दार्शनिक थे ,उनका आज पुण्यतिथि दिवस।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐   
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐
💐  निवेदक;-💐
💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐