नवलेखा की साइड से समाचार पत्रों को मिला एक सार्थक मंच

पत्रकार वीरेंद्र ठाकुर की खबर को 24 घण्टे में मिले सत्रह हजार से भी अधिक पाठक



      उज्जैन। नवलेखा की साइड ने लघु एवं मध्यम समाचार पत्रों को एक सार्थक मंच प्रदान किया है, जिसके चलते नई प्रतिभाएं उभर कर अपना परचम लहरा रही है, इसी का नतीजा है कि उज्जैन की पाक्षिक निहारिका वाणी के संपादक पत्रकार वीरेंद्र ठाकुर को नवलेखा ने एक आर्टिकल्स पर 24 घंटे में हजारों लोगों के पढ़े जाने की उपलब्धि पर नवलेखा की ओर से बधाई प्रेषित की है।


       दरअसल समाचार वह है, जिसे प्रस्तुत करने में किसी व्यक्ति को सबसे अधिक संतोष हो। जिसे प्रस्तुत करते समय कर्ता को आर्थिक लाभ ना होता हो परंतु जिसके संपादन से उसकी कुशलता का पता चलता है। संपादक की क्षमता की सबसे बड़ी कसौटी अस्पष्टताओं और दुरूहताओं की ओट में छिपे महत्वपूर्ण तथ्यों को इस ढंग से प्रस्तुत करना है, कि उन तथ्यों को लोग आसानी से समझ सके।
      उज्जैन से प्रकाशित पाक्षिक समाचार पत्र निहारिका वाणी के संपादक विरेंद्र ठाकुर द्वारा लिखित आर्टिकल को नवलेखा के माध्यम से 24 घंटे के अंतराल में सत्रह हजार से भी अधिक लोगों  द्वारा पढ़ा जाने पर नवलेखा की ओर से उन्हें बधाई प्रेषित की गई। इस उपलब्धि के अवसर पर उज्जैन के पत्रकार जगत खुशी की लहर व्याप्त है और वरिष्ठ पत्रकार कमल सिंह राही, राजेंद्र सिंह भदोरिया, प्रदीप तिवारी, लक्ष्मण गौड़, पत्रकार राजोरिया, विजय सिंह ठाकुर, राधेश्याम मालवीय सहित देवेन्द्र गेहलोत एवं अन्य शुभचिंतकों ने निहारिका वाणी के संपादक वीरेंद्र सिंह ठाकुर को शुभकामनाएं और बधाई दी।



वीरेंद्र ठाकुर की खबर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें 👈