आज की बात आपके साथ - विजय निगम


प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 29 अप्रैल 2020 बुधवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
 A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मे प्रसिद्ध IAS,एवं        
छतीसगढ मुख्यमंत्री अजीत जोगी का जीवन परिचय लेख. 
C आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।


🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌻(A)कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)🌻           
🌺(A/1)रिसर्चःभारतमेंकब होगाकोरोना
का100%खात्मा,वैज्ञानिकों ने दुनिया के लिए बताए 3 अनुमानित समय🌺
🌺(A/2)कोरोना:भारत की सबसे बड़ी
हलहोगीमुश्किल,IITने दियाये फॉर्मूला🌺
🌺(A/3)क्या कपिल शर्मा शो देखने में लगतेहैंपैसे,जानें क्या बोलेकपिलशर्मा🌺
🌺(A/4)इंदौर से चोरी छिपे मंडीदीप पहुंची छात्रा निकली कोराना पॉजिटिव, पुलिस ने की एफआईआर दर्ज🌹
🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌹(A) कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)🌹
🌺(A/1)रिसर्चःभारतमेंकब होगाकोरोना
का100%खात्मावैज्ञानिकोंने दुनिया के लिए बताए 3 अनुमानित समय🌺
किलर कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में कोहराम मचा हुआ है। दिसम्बर 2019 से चीन के वुहान से फैलना शुरू हुए इस वायरस से अब तक दो लाख से ज्यादा...
सिडनीः किलर कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में कोहराम मचा हुआ है। दिसम्बर 2019 से चीन के वुहान से फैलना शुरू हुए इस वायरस से अब तक दो लाख से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं जबकि 30 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। लॉकडाऊन के चलते दुनिया की आधी आबादी घरों में कैद है। इस सबके बीच कुछ देशों में लॉकडाउन में ढील भी दी जा रही है, लेकिन लोगों के मन में सबसे बड़ा सवाल यही है कि आखिर कोरोना से दुनिया को मुक्ति कब मिलेगी? लॉकडाउन पूरी तरह खत्म कब होगा? हम पहले जैसी जिंदगी फिर से कब जी पाएंगे? इन्हीं इस बीच में सिंगापुर से एक उम्मीद भरी खबर आई है।
सिंगापुर यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी एंड डिजाइन के शोधकर्ताओं ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ड्रिवेन डाटा एनालिसिस के जरिए बताया कि दुनिया से कोरोनावायरस कब तक खत्म होगा। अध्ययन के मुताबिक, दुनिया के सभी देशों से कोरोना का अंत 9 दिसंबर 2020 तक हो जाएगा जबकि भारत से यह पूरी तरह 26 जुलाई तक खत्म हो जाएगा। अमेरिका में 27 अगस्त तक खत्म होने का अनुमान है। इसी तरह स्पेन में 7 अगस्त तक और इटली में 25 अगस्त तक पूरी तरह से कोरोना समाप्त होगा। शोधकर्ताओं ने बताए 3 अनुमानित समय शोधकर्ताओं ने इस महामारी के समाप्त होने के तीन अनुमानित समय बताए हैं। इसके मुताबिक कोरोना 97 फीसदी तक कब खत्म होगा, 99 फीसदी और फिर 100 फीसदी तक कब खत्म होगा। इसे ग्राफ के जरिए समझाया है।
दुनिया के हर देश से कोरोना खत्म होने का संभावित समय भी बताया है। हालांकि शोधकर्ताओं ने यह स्पष्ट किया है कि उनके अनुमान की समय सीमा में थोड़ा-बहुत परिवर्तन संभव है, क्योंकि अनुमान के मुताबिक चीन में कोरोना खत्म होने का समय 9 अप्रैल 2020 बताया गया था। इसी दिन चीन ने वुहान में लॉकडाउन को खोला था। हालांकि, चीन में अभी भी कुछ मामले आ रहे हैं, लेकिन इनकी संख्या ज्यादा नहीं है। दुनिया से कोरोना के 97% केस 30 मई तक और 99% मामले 17 जून तक खत्म हो जाएंगे शोधकर्ताओं ने यह आकलन दुनियाभर में रोजाना कोरोना के आने वाले नए केस, मौतों और ठीक होने वाले मरीजों के आंकड़ों के तुलनात्मक अध्ययन के आधार पर किया है।
इसके मुताबिक दुनिया से कोरोना के 97% केस 30 मई तक, 99% केस 17 जून तक और 100% मामले 9 दिसंबर 2020 को समाप्त हो जाएंगे। भारत से कोरोना के 97% केस 22 मई तक, 99% केस 1 जून और 100% मामले 26 जुलाई 2020 तक समाप्त हो जाएंगे। अगर बात अमेरिका की करें, तो यहां पर कोरोना के 97% केस 12 मई तक, 99% केस 24 मई तक और 100% केस 27 अगस्त 2020 तक खत्म होने का अनुमान है।
🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌺(A/2)कोरोना:भारतकीसबसेबड़ीहल होगी मुश्किल ,IITने दिया ये फॉर्मूला🌺
आईआईटी जोधपुर के अध्ययनकर्ताओं का दावा है कि बगैर लक्षण वाले कोरोना मरीजों की भी पहचान की जा सकती है. आईआईटी जोधपुर के बायो साइंस विभाग के शोध पत्र में बताया कि कोरोना पॉजिटिव रोगियों में गंध या सूंघने की क्षमता खत्म हो जाती है. गन्ध के आधार पर स्क्रीनिंग कर कोरोना वायरस पॉजिटिव रोगियों का पता लगाया जा सकता है.
इस रिसर्च में बताया गया है कि        
       🌺 SARS-CoV-2 hACE2 🌺
(ह्यूमन एंजियोटेंसिन कन्वर्टिंग इंजाइम 2) नामक एकविशिष्ट मानव रिसेप्टर से संपर्क केलिए जाना जाता है.ये वायरस का प्रवेश बिंदु भी होता है, जो बाद में फेफड़ों समेत शरीरकेअन्य हिस्सोंमेंफैलताहै।.आईआईटी
जोधपुर का येशोधपत्र अमेरिकन केमिकल 
सोसायटी के जरनल न्यूरोसाइंस में प्रका-
शित हुआ है.
कोरोना वायरस मेंअब तक कई ऐसे पॉजि
टिव मामले सामने आ चुके हैं जहां रोगी में बीमारी के लक्षण नहीं नजर आते हैं।, लेकिन उनमें सूंघने या जीभ से स्वाद को पहचानने की शक्ति खत्म हो जाती है.मेडि
कल की भाषा में इसे क्रमश: एनोस्मिया और एगिसिया कहा जाता है.लक्षण न
दिखने पर ऐसे रोगियों को नेफ्रोलॉजिस्ट से जांच केबादसेल्फक्वारनटीन के लिएभेजने में आसानी होगी. इससे रोगियों की जिंदगी भीखतरे में नहीं पड़ेगीऔर संक्रमण फैलने का जोखिम भी कम होगा.भारत केपरिपेक्ष
में तो यह खोज और भी ज्यादा महत्वपूर्ण साबित होसकती है,क्योंकियहां 65 %से
अधिकऐसेमामले हैं जहां रोगियों केलक्षणों
की पहचान करना मुश्किल हो रहा है.
🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌻🌺(A/3)क्या कपिल शर्मा शो देखने मेंलगते हैंपैसेजानेंक्याबोलेकपिलशर्मा🌹
इन दिनों लॉकडाउन की वजह से सभी सेलेब्स घर में बंद हैं। सभी ने अपने काम से ब्रेक लिया हुआ है और परिवार के साथ समय बिता रहे हैं। कपिल शर्मा ने इस बीच ट्विटर पर AskKapil सेशन चलाया और इस दौरान फैन्स ने उनसे खूब सवाल किए और कपिल ने भी सभी को जवाब दिया। इस दौरान एक यूजर ने कपिल से पूछा कि क्या आपके शो में आने वाले ऑडियंस को शो की टिकट खरीदनी पड़ती है या आप ऑडियंस को पैसा देते हैं।
कपिल ने यूजर का जवाब देते हुए कहा कि हम अपनी ऑडियंस से किसी तरह का पैसा नहीं लेते और हमारे शो में आना भी एकदम फ्री है।
🌺बेटी के साथकर रहे हैं टाइम स्पेंड🌹
.कपिल शर्मा इन दिनों अपनी बेटी के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड कर रहे हैं। कुछ दिनों पहले कपिल से पूछा गया कि बेटी के साथ उनका अब क्या रूटीन है तो उन्होंने कहा, 'आज कल सारा दिन बेबी के साथ खेलता रहता हूं,खाता हूंऔर सोता हूं।बड़ीमुश्किल 
से रूटीन ठीक हुआ था।उसको सैटल और हमें टाइम पर सोते हुए 10 दिन ही हुए थे कि फिर रूटीन चेंज हो गया।अब बेबी भी सारा दिनमुझे देखकर बोर हो गई हैउसको 
लगता है मेरा बाप कुछ करता ही नहीं है।'
कपिल ने बताया था किअब उनकी बेटी उनके साथभी खुशरहती हैं,पहलेवहसिर्फ अपनीमां के साथ हंसती थींकपिलनेकहा,
पिछलेकुछ दिनों से वह मुझेपहचाननेलगी
हैऔर मुझे देखकर हंसतीभी हैं।येफीलिंग
बहुत अलग है।वहअपने नामअनायरा को पूराजस्टिफाई करती है।अनायरा का मत
लब हैखुशी।वहमेरीमांऔर मेरीतरहहंसती
है।हमतीनों की हंसतेहुएआंखेंबंद होजाती हैं।खूबसूरतवहअपनी मां की तरह हैं और भगवान का शुक्र है कि खूबसूरती में वह मां पर गई हैं।'
🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌻🌺(A/4)इंदौर से चोरी छिपे मंडीदीप पहुंची छात्रा निकली कोराना पॉजिटिव, पुलिस ने की एफआईआर दर्ज🌹
रायसेन/मंडीदीप.इंदौर से बीते दिनों चोरी छिपेमंडीदीप पहुंचीछात्रा कीकोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिवआने के बाद शहरमें हड़
कम्प मच गया। छात्रा को उसके परिजन 23अप्रेल को तबयित खराब होने पर मंडी
दीप अस्पताल में उपचार के लिए लेकर पहुंचे थे जहां कोरोना के लक्षण दिखने पर उसे भोपाल के चिरायू अस्पताल रेफर कर दिया था।अस्पताल मेंकी जांच मेंसोम
वार को छात्रा की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।प्रशासन ने100 मीटर का क्षेत्र कॉटेमेंट एरिया घोषित कर छात्रा केपरिजनों को घर मेंही कोरेंटाइन करसेम्पल लेकर जांच के लिए भेज दिए हैं।
नगर पालिका के वार्ड 24 स्थित शीतल टाउन के मकान क्रमांक 235 मेंरहने वाले जानू सिंह की 27 वर्षीय बेटी इंदौर में रह
कर पढ़ाईकर रही थी।इंदौरमें टोटल लॉक
डाउन के चलते छात्रा 21अप्रैल को अपने एक दोस्त केसाथ बाइकसेचोरी छिपे गांव केरास्तेसे मंडीदीप पहुंची थी।छात्रा सहित परिजनों ने यह जानकारी न तोपुलिस को दी ओर न ही स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी दी। 23 अप्रेल को जब छात्रा की तबियत बिगड़ी तोपरिजनउसे उपचार के लिए लेकर अस्पताल पहुंचे। प्रशासन ने कॉलोनी में रहने वाले लोगों को घर में ही रहने की हिदायत देते हुए कॉलोनी के मुख्य द्वार पर नाका लगा दिया है।चार लोगों के खिलाफ दर्ज की एफआईआर प्रशासन के आदेश के बाद बाहर से चोरी छिपे शहर में आना और इसकी जानकारी नहीं देने परमंडीदीपपुलिस थाने मेंकोराना
पीडि़त छात्रा, उसके पिता जानू सिंह,भाई अभिषेक सहित इंदौर से बाइकसे लेकर
आए दोस्त सचिनसोलंकी के खिलाफ आईपीसी 188, 269, 270, 271 के तहत प्रकरण दर्ज किया है। मालूम हो कि जिला प्रशासन एक अप्रेल को बाहर आए लोगों तत्काल कंट्रोल पर जानकारी देना अनिवार्य किया था, इसके बावजूद छात्रा औरउसके परिजनों ने यह जानकारी सभी से छुपा ली।सुमित की पत्नी भी कोरोना पॉजिटिव मंडीदीप की उक्त छात्रा के साथ सुमित अग्रवाल की पत्नी रानूअग्रवाल की जांच रिपोर्ट भी पॉजीटिव पाई गई है। इस तरह रायसेन जिले में कोराना पॉजिटिव की संख्या में 34 हो गई है।इसमें 32 लोग रायसेन जिला मुख्यालय के हैं, एक युवक बरेली क्षेत्र का है जो कि भोपाल एम्स में संक्रमित हो गया था। इसमें रायसेन के एक युवक की मौत हो गई है, वहीं एक युवक स्वस्थ्य होकर घर लौट आया है।
🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌺 (B)आज के दिन जन्मे प्रसिद्ध IAS,एवं छतीसगढ प्रान्त के मुख्यमंत्री अजीत जोगी का जीवन परिचय लेख🌹 
        अजीत जोगी : एक IAS, जिसने कांग्रेस जॉइन की और छत्तीसगढ़ का मुख्यमंत्री बन गया।
  अजीत प्रमोद कुमार जोगी एक भारतीय राजनेता है तथा प्रथम छत्तीसगढ़ के मुख्य
मंत्री रह चुके हैं।बिलासपुर के पेंड्रा में जन्में अजीत जोगी ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पुर्ण की।पडाई पुर्ण करने के बाद पहले भारतीय पुलिस सेवा और फिर भारतीय प्रशासनिक की नौकरी की। बाद में वे मध्यप्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह के सुझाव पर राजनीति में आये। 
जन्म: 29 अप्रैल 1946 (आयु 73 वर्ष),
जन्मस्थान:- पेन्ड्रा  बिलासपुर
पति/पत्नी: रेणु जोगी (विवा. 1975)
निवास: रायपुर
शिक्षा: नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, रायपुर, ज़्यादा
बच्‍चे: अमित जोगी, अनुषा जोगी
पुस्तकें: Sadī ke moṛa para
अजीत जोगी : एक IAS, ऑफिसर जिसने कलेक्टर की नौकरी छोड कांग्रेस जॉइन की और छत्तीसगढ़ का मुख्यमंत्री बन गया।
साल 2000 में जब छत्तीगढ़ अलग राज्य बना, तब अजीत जोगी राज्य के पहले मुख्यमंत्री बने.
मैकेनिकल इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडलिस्ट उस लड़के की, जो  IPS बन गया. जिसने दो साल बाद IAS पास किया.।जिसने रिकॉर्ड वक्त तक कलेक्टरी की और फिर फिर एक दिन उसके दुश्मन ने ही उसको सीएम की कुर्सी तक पहुंचाया. ये कहानी है छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी की. 
कलेक्टर से सूबे के पहले आदिवासी CM तक अजीत जोगी की कहानी
      🌹 तुम्हारे पास ढाई घंटे हैं🌹
1985. शहर इंदौर. रात का वक्त. रेसिडेंसी एरिया स्थित कलेक्टर का बंगला. कलेक्टर साहब सो रहे हैं. अचानक फोन बजता है. दौड़कर एक कर्मचारी उठाता है. बताता है – कलेक्टर साहब सो गए हैं. पर फोन की दूसरी तरफ से अधिकार भरे स्वर में आदेश आता है –  कलेक्टर साहब को उठाइये और बात करवाइये. साहब जगाए जाते हैं. फोन पर आते हैं. दूसरी तरफ से आवाज आती है –
     🌺‘तुम्हारे पास ढाई घंटे हैं🌹
. सोच लो. राजनीति में आना है या कलेक्टर ही रहना है. दिग्विजय सिंह लेने आएंगे, उनको फैसला बता देना.‘
अजीत जोगी को वी जॉर्ज का फोन आया और कलेक्टर जोगी नेता जोगी बन गए.
ये फोन था प्रधानमंत्री राजीव गांधी के पीए वी जॉर्ज का. और फोन उठाने वाले थे अजीत जोगी. नेता नहीं, कलेक्टर अजीत जोगी. पर 2.30 घंटे बाद जब दिग्विजय सिंह कलेक्टर आवास पहुंचे. तो वो नेता जोगी बन चुके थे. कांग्रेस जॉइन कर ली. कुछ ही दिन बाद उनको कांग्रेस की ऑल इंडिया कमिटी फॉर वेलफेयर ऑफ़ शेड्यूल्ड कास्ट एंड ट्राइब्स के मेंबर बना दिया गया. कुछ ही महीनों में राज्यसभा भेज दिए गए.
🌹गॉडफादरअर्जुन व दुश्मनदिग्विजय🌹
दोस्त रहे दिग्विजयदुश्मन बन गए और अर्जुनसिंह बनअजीत जोगी के गॉड फादर
जोगी कांग्रेस में राजीव की पसंद से आए थे.ये वो वक्त थाजब राजीव ओल्ड गार्ड्स को ठिकाने लगानई टीम बना रहे थे.एमपी से दिग्विजय सिंहउनकी लिस्टमें जो शुक्ला
ब्रदर्स को चुनौती दे सके.इस तरह राजीव एंड कंपनी कीनजर गई जोगी पर.एक तेज तर्रार आईएएस. जो बोलता भी बहुत था. कामभी करता था।कांग्रेस जॉइन करने के बाद अजीत की गांधी परिवार से नज़दी
कियां बढ़ती रहीं।अजीत जोगी सीधी और शहडोल में लंबे समय तक कलेक्टर रहे. 
सीधी में पड़ता है चुरहट,जहां केअर्जुनसिंह का उस वक़्त मध्यप्रदेश में सिक्का चलता था. एक वक्तआया, जब अजीत जोगी खुद को पिछड़ी और अतिपिछड़ी जातियों का नेता मानने लगे थे.अजीत जोगी ने हवा का रुख भांपअर्जुन को अपना गॉडफादर बना लिया.बड़ा हाथ सिर पर आया तो अजीत खुद को पिछड़ी और अतिपिछड़ी जातियों का नेता मानने लगे।इतने बड़े किजो दिग्वि
-जय सिंह उन्हें राजनीति में लाएथे,उनके ही खिलाफमोर्चा खोल दिया।1993में जब
दिग्विजयसिंह के सी एम बनने का नंबर आया तो जोगी भी दावेदार थे।दावेदारी तो चली नहीं पर दिग्विजय जैसा एक दोस्त दुश्मन जरूर बन गया।इस दुश्मनी को याद रखिएगा. ज़िक्र फिर आएगा.
   –🌺 दुश्मन फिर बना दोस्त🌺
1999 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनी और फिर साल 2000 में छोटे राज्यों की मांग पूरी हो गई.
1999केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए आई।छोटे राज्यों कीमांग ने जोरपकड़ी।बीजेपी खुद छोटे राज्यों की समर्थक जून 2000आते-आते तय हो गया 
कि देश में तीन नए राज्य बनेंगे। इनमें एक था मध्यप्रदेश से अलग होकर बनने वाला 
छत्तीसगढ़।1924 में कांग्रेस के त्रिपुरीअधि
-वेशन में पहली बार इसकी मांग उठी थी।जुलाई 2000 मेंपूरी हो सकी।येअलगहोने
की प्रक्रिया 31अक्टूबर 2000 तक चली।पूरा मध्यप्रदेश बेचैनी में डूबा रहा। बेचैनी स्वाभाविक भी थी।44 साल से उनसे जुड़ा ज़मीन का एक बड़ा हिस्सा अगल हो रहा था।और ज़मीन केइस टुकड़े केसाथ विदाई लेरहे थे 90 विधायक।जब मध्य प्रदेश से
अलगहोकरछत्तीसगढ़ राज्य बना तोश्यामा
चरण शुक्ल,विद्याचरण शुक्ल और मोती
लाल वोराछत्तीसगढ़ के नेता हो गए श्यामा
चरणशुक्ल,विद्याचरण शुक्ल,राजेंद्रशुक्ल, 
मोतीलाल वोरा.येसब होगए छत्तीसगढ़के।अब इनमें से मुखिया कौन हो?सबसे आगे थे कांग्रेस नेता विद्याचरण शुक्ला।छत्तीस
गढ़ राज्य संघर्ष मोर्चा बना लिया.ताकत दिखाने के लिए 12 विधायक समेत पर उतरे.चर्चा यहां तक फैली कि वो मुख्यमंत्री बनने के लिए बीजेपी का सपोर्ट ले सकते हैं.बीजेपी को भी शुक्ल में विभीषण नजर आरहा था.दूसरी तरफ जोर लगाएथे एमपी केपूर्व सीएम मोतीलाल वोरा.झगड़ा खत्म
करने के लिए कांग्रेस हाइ-कमान ने कहा 
छत्तीसगढ़ की पुरानी मांग पूरी करो।आदि
-वासीसी.एम.बनाओ।अब प्रमाण पत्र
अजीत के पासअनुसूचित जनजाति वाला है।लेकिनइसपर सालोंविवाद चलाहै.कभी
कोर्टउनकेखिलाफ फ़ैसलादेती,कभीजाति
छानबीन समिति की जांच होती।.लेकिन 
2018 केसितंबर में सुप्रीम कोर्ट नेछत्तीस
गढ़ हाईकोर्ट का फ़ैसला पलट दिया कहा,
अजीतजोगीआदिवासी ही हैंसोनियागांधी
के कहने पर दिग्विजय सिंह अजीत जोगी से अपनी दुश्मनीभूल गएऔरउनको मुख्य
मंत्री की कुर्सी तक पहुंचा दियाखैर2018
सेवापस 2000 चलतेहैं।आदिवासीसीएम 
की मांग कोपूरा कर कांग्रेस अपने गढ़ को बचाए रखना चाहती थी.ऐसे लॉटरी खुली अजीत जोगी कीअब सीन ये था किजोगी को विधायक दल का नेता बनाने के लिए चाहिए था दिग्विजय का समर्थन। क्योंकि विधायकउन्हीं के सगे थे।एक वक्त थाजब
दिग्विजयनेजोगी केसीएमबननेकीभविष्य
वाणी की थी.लेकिन अब दोनों में 36 का
आंकड़ा था।हाइकमान ने इसका येइलाज निकालाकि दिग्विजय कोहीआधिकारिक तौर पर जोगी का नामआगे बढ़ाने और जिताने का ज़िम्मा दे दिया।दिल्ली में अब तक कांग्रेस हाइकमान कामतलबसोनिया
गांधीहोनेलगाथाऔर दिग्विजयउन्हेंनाराज़ 
नहींकरनाचाहते थेतोउन्होंनेदुश्मनी पोस्ट
पोन कर दी।31अक्टूबर 2000कोअजीत
जोगी छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री बन गए।.अजीत जोगी ने अपनेबंगले का नाम
भी अपनी बेटी के नाम पररखा है अनुषा
विला.लेकिनसपना पूरा होने पर भी जोगी
को दुनिया अधूरी ही लग रही थी।उन्हें अपनी बेटी यादआने लगी जोकी कुछदिन पहलेहीदुनियाछोड़ गई थीनाम थाअनुषा।बेटी से बहुत प्यार करते थे। रायगढ़ के कुतरा रोड पर उनका जो बंगला है उसका नाम भी बेटी के नाम पर रखा है।अनुषा
विला।जोगी तब इंदौर में रहते थे.बताते हैं कि वो किसीसे प्यारकरती थी,शादीकरना
चाहती थीलेकिनपिता की मर्ज़ी नहीं थी।.
बिटिया नहीं मानी12 मई 2000 को बता
ते हैं उस दिन सोनिया गांधी इंदौर आई थीं
पिता सोनिया गांधी कीअगवानी में लगे थे
घर में बेटीने जान दे दी।इंदौर केकब्रिस्तान मेंउसे दफना दिया गया।अजीत बेटी के दफनाए जा चुके शव को पैतृक गांव गोरे
ल्ला ले जाना चाहतेथे.लेकिन कब्र खोदने
की अनुमति नहीं मिल रहीथी.अजीत जोगीके पिता ने ईसाई धर्म अपना लिया था. कहा जाता है कि सोनिया गांधी के पास पहुंचने के लिए अजीत जोगी हर रविवार उसी चर्च में जाते थे,जहां सोनिया जाती थीं।अजीत जोगी सीएम बनेतो इंदौर नगरनिगम ने अनुमति दे दी।5 जून 2001को रातों-रात कब्र खोदकर देह निकाली गई. राजकीय प्लेन से बिलासपुर ले जाई गई. अजीत जोगी दिल्ली में थे.अचानक कलेक्टर से मिलने रायपुर पहुंच गए और बेटी का शव फिर दफना दिया गया।. दफ़न – इसाइयों में अंतिम संस्कार की एक प्रथा।अजीत जोगी के पिता ने ईसाई धर्म अपना लिया था।ये ईसाई धर्म वाली बात यहां तक पहुंचती है किजबवो राज्यसभा में थे
.तब जान-बूझकर हर रविवार उस गिरजे में जातेजहां सोनिया गांधीजाती थीं. इस तरह वो सोनिया गांधी के करीबी बनना चाहते थे.
         🌺जोगी आए, कुर्ता फटा🌺
अजीतजोगी के सीएम बनने से विद्याचरण शुक्ल नाराज हो गए. दिग्विजय जब उन्हें मनाने पहुंचे, तो विद्याचरण के समर्थकों ने दिग्विजय का कुर्ता फाड़ दिया.लेकिन 
दिग्विजय को अपने इस कदम की कीमत अपने कुर्ते के रूप में चुकानी पड़ी. सीएम ऑफ रायपुर विद्याचरण शुक्ल बिफर गए. क्योंकि उनकी योजना फ्लॉप हो गई थी. वो शपथ ग्रहणके दिनदिग्विजय और जोगी को गच्चा देने के मूड मे  थे।16 विधायक उनके फॉर्महाउस पर थे भी.मगर दिग्विजय ने पासा फेंका और इसमें 8 जोगी समर्थक हो गए. शुक्ल अपने फॉर्म हाउस में ही बैठे रह गए. उन्हें कोपभवन से बाहर लाने की ज़िम्मेदारी भी दिग्विजय को मिली. गुलाम नबी आजाद के साथ फॉर्म हाउस पर पहुंचे तो शुक्ल के लोगों ने झूमा-झटकी कर दी. दिग्विजय जब मुलाकात करके बाहर आए तो उनके कुर्ते की जेब फटी हुई थी. लेकिन दिग्विजय सिंह ने सिर्फ इतना कहा-🌻राजनीति में ये सब चलते रहता है🌻.’
  🌻 मुख्यमंत्री विधायक खरीद रहे हैं🌻
2003 में चुनाव के बाद एक स्टिंग सामने आया।अजीत जोगी को पार्टी से बाहर निकालने की सिफारिशहुई,लेकिनसोनिया
ने उन्हें नहीं निकाला.2003. छत्तीसगढ़ में पहले चुनाव की घड़ी आ गई.चुनाव हुए तो कांग्रेस के पास सीटों की संख्या कम थी. बीजेपी को 50 सीटें मिली थीं,जबकि अजित जोगी को सिर्फ 37 सीटें मिली थीं.उस वक्त एक स्टिंगऑपरेशनमें दावा
किया गया किअजित जोगी ने पैसे देकर बीजेपीकेविधायकोंको खरीदनेकीकोशिश 
की है.टेप के सामने आने के बाद अजित जोगी को कांग्रेससेपांच साल के लिए बाहरकरने की सिफारिश की गई.हालांकि सोनिया गांधी ने उन्हें निकाला नहीं।जनवरी 2017में सीबीआई ने इस मामले में अजित जोगी को क्लीन चिट दे दी।.
      🌹 मुझपर जादू-टोना करवाया🌹
2004 में एक हादसे के बाद अजीत जोगी के पैर को लकवा मार गयाऔर उसके बाद वो फिर कभी बिना वील चेयर के खड़े नहीं हो पाए  20अप्रैल2004
अजितमहासमुद लोकसभा सीटसेसांसदी के उम्मीद वार हुए।सामनेभारतीय जनता
पार्टी के हो चुके विद्याचरण शुक्ल,अजित कांग्रेस महासचिव मेहतर लाल  साहू के 
साथ कार से जा रहे थे. गरियाबंद के पास उनकी कार एक पेड़ से टकरा गई।जोगी के पैर को लकवा मार गया। अब भी अजित जोगी व्हील चेयर पर हैं. बाद में उन्होंने कहा,मेरे ऊपरजादू-टोना किया थाकिसीने.इसीलिए गाड़ी भिड़ी.
      🌺 जोगी ने मरवाया मेरे बाप को🌺
अजीत जोगी और उनके बेटे अमित जोगी को C.B.I.ने हत्या के मामले में गिरफ्तार किया था।.4 जून 2003 को छत्तीसगढ़
 की राजधानी रायपुर में एनसीपी नेता रामअवतार जग्गी की हत्याहोगई.
रामअवतार जग्गी के बेटे सतीशजग्गी ने
 सीएम अजित जोगी और उनके बेटे अमित जोगी का नाम लिया. जोगी सत्ता से बाहर हुए तो रमन सिंह ने मामला सीबीआई को देंगे. 2005 में अमित जोगी गिरफ्तार हुए और 2007 में अजित जोगी
.केंद्र में सरकारथी कांग्रेस की.अजित ने गिरफ्तारीका ज़िम्मेदार माना कांग्रेस हाइ
कमान को. हालांकि 2009में बाप-बेटे दोनों हीनिचली अदालत से बरी हुए.ये मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है.महेंद्रकर्मा
 के बेटे छविंद्र कर्मा नेभी अजीत जोगी पर संगीन आरोप लगाए थे.इससे भी
संगीन इल्ज़ाम लगाया था छविंद्र कर्मा ने. उनकेपिता महेंद्र कर्मादरभा केझीरमघाटी
हमले में मारे गए थे.साथ मेंमारे गए थे 31
और कांग्रेसी जिनमें विद्याचरण शुक्ल
,नंद कुमार पटेलऔर उदय मुदलियार जैसे नाम थे.छविंद्र ने हमले के तीन साल बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कांग्रेस नेताओं पर हमला अजित जोगी और अमित जोगी के कहने पर हुआ था.छविंद्र ने कहा था कि उनके पिता भी राज्य के मुख्यमंत्री बनने के दावेदार थे.लेकिन महेंद्रकर्माको हमेशा डर लगा रहता था कि अजित जोगी के शूटर उन्हें गोलीमारदेंगे
औरऐसा ही हुआ.हालांकि  झीरम हमले की जांच पहले एनआईए और फिर सीबीआई ने कीऔरअबभी इसमामले की जांच चल ही रही है.
     🌺 एक और खरीद की बात,🌹
एक और निलंबनकीसिफारिश और जनता कांग्रेस बनती है मंतूराम पवार ने नाम वापस ले लिया.कहा गया कि खरीद
-फरोख्त हुई है.एकऑडियो वायरल हुआ
और उसमें कहा गया कि आवाज अजीत
 जोगी,अमित जोगी और रमन सिंह के दामादपुनीत गुप्ता की है.2014 मेंछत्ती
सगढ़ के अंतागढ़ में उपचुनाव होना था. कांग्रेस की ओर से मंतूराम पंवार प्रत्याशी थे.उन्होंने नामांकन दाखिल कर दिया.जब 
नाम वापस लेने के आखिरी दिन मंतूराम ने पार्टी को बिना बताए नाम वापस ले लिया.2015 केआखिरमें एकऑडियो टेपसामने आया, जिसमें खरीद-फरोख्त की बात थी. आरोप लगे कि टेप मेंअजित
 जोगी, उनके बेटे अमित जोगी और मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता की आवाज थी. ये बातचीत मंतूराम पंवार के नाम वापस लेने के बारे में थी. इस टेप कांड के सामने आने के बादछह जनवरी को छत्तीसगढ़की प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने बेटे अमित जोगी को छह साल के लिए पार्टी से निकाल दिया. इसके साथहीअजित जोगीकोभी पार्टी से निका
लने की सिफारिश कर दी.कांग्रेससे अलग
होकर अजीत जोगी ने नई पार्टी बना ली छत्तीसगढ़ कांग्रेस.आलाकमान इस सिफा
रिशपर कोई फैसला कर पाता,उससे पहलेही 6 जून 2016 कोअजितजोगी नेकांग्रेससे अलग होने का फैसला कर लिया.अपने विधानसभा क्षेत्र मरवाही के कोटमी में हजारों लोगों के बीच पत्नी और बेटे के साथ मौजूद अजित जोगी ने कहा कि वो कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बना रहे हैं. 23 जून 2016 को अजित जोगी ने अपनी नई पार्टी बना ली और इसका नाम रखा छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेसआखिरी जीत की आसपालते,
अजीत-अजीत जोगी ने मायावतीसे गठबंधन किया है.मायावती ने भी कहा है कि अगर पार्टी जीतती है तो मुख्यमंत्री अजीतसिंह हीबनेंगे.अब अब वो कर रहे 
हैं,जोवोहमेशासे चाहते थे।राजनीतिअपने दम परऔरउन्होंनेअपना दम दिखाना
शुरूकर दिया है।.
     उनके मायावती और वाम दलों के साथ गठबंधन किया है।इसके सियासी मायने बहुत गहरे हैं.इसने कांग्रेस को वो चुंबक बनने से फौरी तौर पर रोक दिया है जिसके इर्द-गिर्द महागठबंधन को इकट्ठा होना था. मायावती ने मुक्त कंठ से कह दिया है कि गठबंधन जीता तो मुख्यमंत्री अजीत जोगी ही। 
🌺🥀&🌾^🌴🌲^🌹^@🌻🌱🍁🌹 
🌻 (C )आज के दिन की महत्त्वपूर्ण     
                        घटनाएँ🌻
1997 - रासायनिक हथियारों पर प्रतिबंध लागू। 
1999 - बच्चों के यौन शोषण पर रोक संबंधी विधेयक जापानी संसद में मंजूर। 2006 - पाकिस्तान ने हत्फ़-6 का परीक्षण किया। 
2007 - आस्ट्रेलिया ने लगातार तीसरी बार क्रिकेट विश्वकप जीता। 
2008 - ईरान के राष्ट्रपति महमूद अहमदी नेजाद एक संक्षिप्त यात्रा पर भारत पहुँचे। तिब्बत में मार्च 2008 में भड़की हिंसा के सिलसिले में एक स्थानीय अदालत ने 17 लोगों को 3 साल की क़ैद की सज़ा सुनाई। 2010 - भारत ने दुश्मनों के रडार की पकड़ में नहीं आने वाले मुंबई की मंझगांव गोदी में निर्मित आधुनिकतम उपकरणों से लैस युद्धपोत आईएनएस शिवालिक को नौसेना में शामिल किया। पहले पोत 'आईएनएस शिवालिक' को नौसेना में शामिल किया। भारतीय इंजीनियर हरपाल कुमार ने लंदन में आँत में कैंसर के शिकार लोगों का ब्लड टेस्ट कर रोग का पता लगाने के बजाय उनके पेट का निरीक्षण कर सकने वाले कैमरे का आविष्कार किया है। इससे इस बीमारी की समय से पहले ही पहचान की जा सकेगी और 43 प्रतिशत रोगियों को मृत्यु से बचाया जा सकेगा।
🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌻 
  🌻(D)आज के दिन जन्मे व्यक्ति 🌻
1547 - भामाशाह - मेवाड़ के महाराणा प्रताप के मित्र, सहयोगी और विश्वासपात्र सलाहकार।
1848 - राजा रवि वर्मा,विख्यात चित्रकार 
1919 - अल्ला रक्खा ख़ाँ, सुविख्यात तबला वादक, भारत के सर्वश्रेष्ठ एकल और संगीत वादकों में से एक
1936 - ज़ुबिन मेहता - भारत सरकार द्वारा 'पद्म भूषण' से सम्मानित प्रसिद्ध भारतीय संगीत निर्देशक। 
1938 - ई. अहमद -एक राजनेता के रूप में भारत के दसवीं लोकसभा, ग्यारहवीं लोकसभा, बारहवीं लोकसभा, तेरहवीं लोकसभा और पंद्रहवीं लोकसभा सांसद के सदस्य रह चुके हैं। 
1946 - अजीत जोगी - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ, जो छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री रहे हैं।
 1965 - दीपिका चिखालिया - रामानन्द सागर के सीरियल 'रामायण' में सीता की भूमिका निभाकर प्रसिद्धि पाने वाली अभिनेत्री हैं। 
🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌻   
     🌻(E) आज के दिन निधन हुवे     
            महत्वपुर्ण व्यक्तित्व 🌻 
1236 में दिल्ली सल्तनत में गुलाम वंश के एक प्रमुख शासक इल्तुतमिश का निधन हुआ।
1958 में उड़ीसा के प्रसिद्ध क्रांतिकारी तथा गाँधीवादी कार्यकर्ता गोपबन्धु चौधरी का निधन।
1960 में हिन्दी जगत् के कवि, गद्यकार और अद्वितीय वक्ता बालकृष्ण शर्मा नवीन का निधन।
1979 में भारत के सच्चे देशभक्त, क्रान्ति
कारी, पत्रकार और समाज सुधारक राजा महेन्द्र प्रताप का निधन।
1997 में भारतीय रिज़र्व बैंक के सत्रहवें गवर्नर आर. एन. मल्होत्रा का निधन।
1999 में भारतीय फ़िल्म निर्देशक, निर्माता, पटकथा लेखक और हिंदी फ़िल्मों के गीतकार केदार शर्मा का निधन।
2010 में गायत्री मण्डल की संस्थापक सदस्या एवं समाज सेविका का कमलादेवी शुक्ला निधन।
🌹🌲🌱🌸🌺🌸🌲🌹💐💐🌸🌻
  🌻(F)आज के दिन के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव🌻 
1.अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस।
2.भामाशाह मेवाड़ के महाराणा प्रताप के मित्र,सहयोगी और विश्वासपात्र सलाहकार
का जयंती दिवस।
3 राजा रवि वर्मा, विख्यात चित्रकारका जयंती दिवस।
4 प्रसिद्ध IAS,IPS पुर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का जन्म दिवस
5 प्रसिद्ध TV आर्टिस्टअभिनेत्री दीपिका चिख्लिया का जन्मदिवस।
6  दिल्ली सल्तनत में गुलाम वंश के एक प्रमुख शासक इल्तुतमिश का पुण्यतिथि दिवस।
7.उड़ीसा के प्रसिद्ध क्रांतिकारी तथा गाँधी
वादी कार्यकर्ता गोपबन्धु चौधरी का  पुण्यतिथि दिवस।
8. हिन्दी जगत् के कवि,गद्यकार और अद्वितीय वक्ता बालकृष्ण शर्मा नवीन का निधन दिवस।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻
       आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐