30 मरीजों की एकसाथ घर वापसी के मौके पर अस्पताल ने मनाया उत्सव


      भोपाल। आखिरकार दवा और दुआ ने असर दिखाया। मरीजों के हौसले और डॉक्टरों की मेहनत के बूते पहली बार शनिवार को एक साथ 30 मरीज कोराेना से जंग जीतकर घर लौटे। 28 मरीज चिरायु अस्पताल और 2 बंसल अस्पताल में भर्ती थे। आईएएस अफसर स्वास्थ्य पल्लवी जैन गोविल और हेल्थ कॉर्पोरेशन के एमडी जे. विजयकुमार को भी अस्पताल से छुट्‌टी मिल गई है। जब इतने मरीजों की घर वापसी का मौका आया तो अस्पताल ने इसे उत्सव की तरह मनाया। डॉक्टर्स व ठीक हुए लोगों पर फूल बरसाए।


      चिरायु अस्पताल के डायरेक्टर अजय गोयनका के अनुसार 10 दिन में 170 और मरीज बीमारी से मुक्त हो सकते हैं। राजधानी में शनिवार को 102 सैंपल में से सिर्फ एक बाग उमराव दूल्हा के रहने वाले 60 वर्षीय रियाजुद्दीन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। शुक्रवार शाम 7:30 बजे उनकी मौत हो गई थी। उधर इंदौर में 9 नए मरीज मिले, वहीं 70 साल की एक बुजुर्ग महिला की मौत हुई है।


      मैं आप सभी के साहस को प्रणाम करता हूं, हम जल्द ही कोरोना को परास्त करेंगे - मुख्यमंत्री


      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डिस्चार्ज मरीजों से बातचीत के दौरान कहा- “यह अत्यंत हर्ष एवं उत्साह का विषय है कि आपने कोरोना को हराने में सफलता प्राप्त की है। कोरोना का मतलब है हिम्मत और साहस। मैं आप सभी के साहस को प्रणाम करता हूं। आप सभी के सहयोग से हम प्रदेश में कोरोना को जल्द ही पूरी तरह परास्त कर देंगे।’ मुख्यमंत्री ने चिरायु अस्पताल के संचालक डॉ. अजय गोयनका से कहा कि आप पीड़ितों की सेवा करके बहुत बड़ा कार्य कर रहे हैं, आप वाकई बधाई के पात्र हैं।