हनुमान अष्टमी पर मंदिरों में उमड़ा भक्तो का जनसैलाब

कहीं चौपाई तो कहीं सुंदरकांड की गूंज सुनाई दी, जगह-जगह हुए भंडारे


 
   
 


      उज्जैन। गुरुवार को हनुमान मंदिरों में हनुमान अष्टमी का उजास छाया। सुबह से मंदिरों में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा तथा सुबह हनुमान मूर्तियों का मनोहारी श्रृंगार किया गया। भक्तों ने केसरी नंदन के दर्शन कर अपलक निहारा और सुख समृद्धि के लिए प्रार्थना की। कहीं रामचरित मानस की चौपाई गंजी तो कहीं संदरकांड का पाठ करने का सिलसिला जारी रहा। हनुमान मंदिरों में आकर्षक रोशनी की गई है,अष्टमी पर 108हनुमान दर्शन यात्रा भी निकाली गई। खड़े हनुमान, वनखंडी हनुमान, समर्थ रामदास हनुमान, रणजीत हनुमान, मायापति हनुमान, बाबा बाल हनुमान, बलवीर हनुमान, गुमानदेव हनुमान, गैबी सहाब हनुमान मंदिरों के साथ ही अन्य प्रमुख हनुमान मंदिरों में दो दिन पहले से ही हनुमान अष्टमी मनाने की शुरूआत हो गई थी। कई मंदिरों में अखंड रामायण के पाठ शुरू किये गये, जिसकी पूर्णाहुति गुरुवार सुबह हुई और शाम को कई हनुमान मंदिरों में भंडारे के भी आयोजन हुएबाबा बाल हनुमान की हुई महाआरती, लगा 11 हजार लड्डूओं का महाभोग उज्जैन। महाकाल मंदिर परिसर स्थित बाबा बाल विजय मस्त हनुमान मंदिर पर हनुमान अष्टमी महोत्सव पर ढोल नगाड़ों के साथ महाआरती की गई। दोपहर में 200 घंटे से सतत गूंज रही रामायण की चौपाइयों की पूर्णाहुति हुई तथा सुबह हनुमानजी को 11 हजार लडूओं का महाभोग लगाया गया। मंदिर के पुजारी पं. सुलभ शान्तु गुरू ने बताया कि हनुमान अष्टमी पर्व के चलते बाबा का राम भक्ति स्वरूप में अनूठा अंगार किया गया। कोलकाता के साटन सिल्क की पोषाक बाबा को धारण की गई। साथ ही रत्नजड़ित आभूषण से बाबा को श्रृंगारित किया गया। गुरुवार सुबह 9 बजे बाबा को 11000 लड्डुओं का महाभोग लगा व प्रातः कालीन आरती हुई। संध्या 7 बजे श्रीमहंत हरिगिरी महाराज, उमेशनाथ महाराज, अवधेशपुरी महाराज, सांसद अनिल फिरोजिया, राजेन्द्र भारती, योगेश शर्मा, आरटीओ अरविंद कुशराम सहित सैकड़ों भक्तों की मौजूदगी में महाआरती की गई। तत्पश्चा महाप्रसादी (भंडारे) का आयोजन हुआ।


खेड़ापति हुनमान को लगाया छप्पन भोग
श्री खेड़ापति हनुमान मंदिर देसाईनगर चौराहा पर बाबा को छप्पन भोग लगाया गया। पुजारी राजाराम तिलकर व पुजारी मनीष तिलकर ने बताया कि हनुमान अष्टमी महोत्सव पर हनुमानजी का विशेष श्रृंगार किया गया तथा मंदिर को आकर्षक रूप से सजाया गया। शाम को महाआरती हुई तथा प्रसादी का वितरण किया गया। श्रीराम कथा की हुई पूर्णाहुति, महाआरती कर लगाया छप्पन भोग उज्जैन। ऋषिनगर स्थित सौभाग्येश्वर महादेव मंदिर पर चल रही चार दिवसीय श्रीराम कथा की पूर्णाहुति गुरूवार को हुई। कथा समापन पर अन्नकूट का आयोजन किया गया। हनुमान अष्टमी महोत्सव पर महावीर को छप्पन भोग अर्पित किये गये तथा हजारों श्रध्दालुओं ने महाप्रसादी ग्रहण की। स्वामी प्रणव पुरी महाराज ने कथा समापन पर भगवान श्रीराम-रावण के युध्द की कथा के साथ राम राज्याभिषेक की कथा सुनाई। संयोजक पं. लखन शर्मा ने बताया कि चार दिनों तक कथा श्रवण कराने वाले स्वामी प्रणव पुरी महाराज का कथा समापन पर अभिनंदन किया गया। प्रणवपुरी महाराज की विशेषता है कि वे प्रतिदिन कथा पूरे समय खड़े रहकर सुनाते हैं। कथा की पूर्णाहुति पर सौभाग्येश्वर महादेव मंदिर पर अन्नकूट का आयोजन हुआ जिसमें हजारों लोगों ने महाआरती कर प्रसादी ग्रहण की।


उजड़खेड़ा हनुमान मंदिर पर हुआ भंडारा
बड़नगर रोड पर उजड़खेड़ा हनुमान मंदिर पर हनुमान अष्टमी के अवसर पर प्रातः हनुमान जी महाराज का भव्य श्रृंगार यज्ञ हवन पूजन और विधिवत आरती की गई। तत्पश्चात विशाल भंडारे का आयोजन शुरू हुआ। दिन भर भंडारे में प्रसादी ग्रहण करने के लिए उज्जैन शहर और आसपास के ग्रामीण जन पहुंचे। आशीष पुजारा के अनुसार उजड़ खेड़ा हनुमान मंदिर बड़नगर रोड पर बड़ा प्राचीन हनुमान जी का मंदिर है जहां पर पूज्य गुरुदेव स्वर्गीय श्री रणछोड़ दास जी महाराज के तप स्थली और साधना भक्ति का केंद्र रहा है और यहां पर बड़ी संख्या में भक्त पहुंचते हैं और हनुमान जी महाराज की पूजा अर्चना और दर्शन करते हैं। हनुमान अष्टमी पर प्रतिवर्ष कई वर्षों से विशाल भंडारे का आयोजन किया जा रहा है।