भाजयुमो की युवा आक्रोश रैली में नेताओं ने प्रदेश सरकार को कोसा


           उज्जैन। भारतीय जनता युवा मोर्चा द्वारा युवा आक्रोश रैली का आयोजन किया गया। रैली के समापन पर राज्यपाल के नाम ज्ञापन प्रशासनिक आधकारी को सौपा गया। भाजयुमो के तय कार्यक्रम अनुसार टॉवर से रैली प्रारंभ हो कर पुलिस कंट्रोल रूम पर समाप्त होना थी लेकिन जैसे-जैसे कार्यकर्ता टॉवर चौक पर एकत्रित होने लगे तो वहां मौजूद माधव नगर थाना प्रभारी ने उन्हें धारा 144 का हवाला देते हुए कहा कि रैली की अनुमति नहीं है। इस बात को लेकर उनके व युवा मोर्चा नेताओं के बीच नोक झोंक हो गई बाद में टॉवर चौक पर ही हुई सभा को सम्बोधित करते हुए सांसद अनिल फिरोजिया ने कहा कि वादाखिलाफी कमलनाथ सरकार की कार्यशैली का महत्वपूर्ण हिस्सा हो गई है, किसान, महिला, बुजुर्ग और अब युवा हर कोई प्रदेश सरकार की वादाखिलाफी का शिकार हुआ है।


           भाजयुमो नगर सह मीडिया प्रभारी अपूर्व देवड़ा ने बताया कि प्रदेश के युवाओं के साथ वादाखिलाफ करने वाली कमलनाथ सरकार के विरोध में युवा आक्रोश रैली निकाली गई उज्जैन में भाजयुमो द्वारा भी जिलाध्यक्षद्वय अमय आप्टे, एवम सी एम अतुल के नेतृत्व में टॉवर चौक से शहीद पार्क तक रैली निकाली गई तत्पश्चात यहां महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन भी सौंपा गया। कार्यकर्ताओं को टॉवर पर सम्बोधित करते हुए भाजयुमो प्रदेश महामंत्री के पी झाला ने कहा कि ये युवाओं के साथ धोखा करने वाली सरकार है, युवाओं के वोट प्राप्ति के लिए चुनाव से पूर्व के लोक लुभावन वादे अपने वचन पत्र के माध्य से कांग्रेस पार्टी द्वारा किये गए थे।


           सभा को भाजपा जिलाध्यक्ष बहादुर सिंह बोरमुंडला, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष अमय आप्टे,ग्रामीण युवा मोर्चा अध्यक्ष सी एम अतुल, इकबाल सिंह गांधी सहित अन्य नेताओं ने सम्बोधित किया। कार्यक्रम का संचालन योगेश सांगते ने किया। उल्लेखनीय है कि रैली का समापन पुलिस कंट्रोल रूम पर होना था लेकिन टॉवर चौक से सौ मीटर दूर ही शहीद पार्क पर रैली का समापन किए जाने से कार्यकत्ताओं में नेताओ के खिलाफ आक्रोश देखा गया।