आज की बात आपके साथ - विजय निगम

प्रिय साथियो। 
💐राम-राम ,💐
💐नमस्ते।💐


आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का 
दिनांक   31 दिसंबर 2019  मंगलवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
   2019 वर्ष आज के दिन हमसे बिदा ले रहा है । यह वर्ष अपने आप मे बहुत सी घटनाओं यादों को समेटे हुवे है। इस वर्ष में राजनीतिक उथल पुथल भी हुई है। 
भारत देश की साख भी विश्व मे बड़ी है।हमने सफलता के कई मुकाम हासिल किए है। किंतु साथ ही हमने कई बड़ी हस्तियों को भी इस वर्ष खोया भी है।हमको इस वर्ष में कई कार्य पूर्ण करने है जो इस वर्ष छूट रहे है।
हम इस समय से सिख लेकर आगे बड़े । हमारी आपसी राजनीतिक रंजिशें विचार अपनी जगह है किंतु सर्वप्रथम हम भारतीय है हम देश के नागरिक है देश की सुरक्षा सर्वोपरि है।अपने विकास के लिए,समाज के विकास के लिए ,देश है विकास के लिए हमे निरंतर कार्य कर आगे बढ़ना है। आज भी हमारे देश के गाँव मे बिजली,पानी,सड़को, स्वास्थ्य,स्वच्छता ,मद्यपान द्वारा नशे की समस्याये, मुंह उठाये खड़ी है जिसके कारण की परिवार बर्बाद हो रहे है घर परिवार उजड़ रहे है।साथ ही हमारे परिवार में बच्चियों,लड़कियों,महिलाओं के  साथ व्यभिचार के गंदे खेल खेले जा रहे है,इन सबको को रोकने के लिए हम सबको अपनी जवाबदारी समझते हुवे एक जुट होकर आगे बढ़ना है।  ईश्वर ने हमे बल बुद्धि साहस समय दिया है हम समय का सदुपयोग कर अपने आप को समय के साथ उत्कृष्ट  कार्यो के माध्यम से नए वर्ष का स्वागत कर  देश हित मे कार्य करने का संकल्प ले, हमारे बंच्चो को कम बजट में उचित शिक्षा प्राप्त हो।परिवार में रोगियों के लिए  कम बजट में उचित चिकित्सा प्राप्त हो।प्रत्येक परिवार ज्ञान से रोशन हो।बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार प्राप्त करने के के लिए विभिन्न क्षेत्रों ने अवसर प्राप्त हो, एवम देश को आगे मंजिल पर ले जाये भारत विश्व में शिक्षा,ज्ञान ,टेक्नोलॉजी के   क्षेत्र में वृद्धि कर विश्वगुरु बन जाये।


        आज की बात आपके साथ  अंक मे है 


A कुछ रोचक समाचार 
B आज के दिन जन्मे.हिन्दी के प्रमुख साहित्यकार
.श्रीलाल शुक्ल.का जीवन परिचय  लेख. ।
Cआज के दिन की प्रमुख ऐतिहासिक घटनाए
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐0💐🎂💐
                 A कुछ रोचक समाचार 


   💐(A/1) क्रिकेट जगत के इन खिलाड़ियों की पत्नियां भी है क्रिकेटर, नंबर 1 पर है ये भारतीय खिलाड़ी|💐
💐 (A/2)कोई डॉक्टर तो कोई है इंजीनियर, इतनी पढ़ी लिखी है हमारे भारतीय खिलाड़ियों की पत्नियां
💐(A/3)राम माधव बोले-सोनिया कोभारतीय से   शादी करनेपर मिली नागरिकता,नहीं पूछागया धर्म💐
💐(A/4)  देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास के पास लगी आग पर पाया गया काबू, शॉर्ट सर्किट थी वजह।
💐🎂@#@💐🎂💐@#@💐🎂💐@#@💐


     💐(A/1) क्रिकेट जगत के इन खिलाड़ियों की पत्नियां भी है क्रिकेटर, नंबर 1 पर है ये भारतीय खिलाड़ी|💐
क्रिकेट विश्व का सबसे लोकप्रिय खेल बन चुका है और पुरुषों क्रिकेटर के अलावा अब महिला महिला क्रिकेटर को भी विश्व भर में काफी ज्यादा प्रसन्न किया जाता है।  आज आपको विश्व क्रिकेट जगत के कुछ ऐसे बेहतरीन क्रिकेट खिलाड़ियों के बारे में जानिए जिनकी पत्नियां भी बेहतरीन क्रिकेट खिलाड़ी है तो आइए उन खिलाड़ियों के नाम जानते हैं।
                   1. केदार जाधव
भारतीय क्रिकेट टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज केदार जाधवविश्व केबेहतरीन बल्लेबाजों में से एक मानेजाते। हैं।केदारजाधव की पत्नी का नाम स्नेहल है,जोमहाराष्ट्र
और वेस्ट जोन की तरफ से सेट लिस्ट एमैच,130,T20 मैच और1प्रथम श्रेणी मैच में हिस्सा ले चुकी हैं हालांकि
केदार जाधव वर्तमान समय मेंभारतीय क्रिकेट टीम का 
हिस्सा नहीं है।लेकिन घरेलू क्रिकेट में केदार जाधव का प्रदर्शन बेहद शानदार रहा है औरउनकी पत्नी स्नेहल ने हमेशा ही केदार जाधव को क्रिकेट के लिए प्रोत्साहित किया है।
                    2. मिचेल स्टार्क
ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के विस्फोटक गेंदबाज मिचेल स्टार्क नेअपनी तूफानी गेंदबाजी से क्रिकेटजगत में कई शानदार विश्व रिकार्ड अपने नाम किए हैं। मिचेल का शुमार विश्व के खतरनाक बल्लेबाजों में किया जाता है।  मिचेल स्टार्क ने साल 2016 में एलिसा से शादी रचाई है। एलिसा एक क्रिकेटर हैं, जिन्होंने 4 टेस्ट, 73 वनडे और 101 T20 मैच खेले हैं।मिचेल स्टार्क की पत्नी एलिसा ने साल 2011में इंग्लैंड के विरुद्धअपना अंतर
-राष्ट्रीय डेब्यू में किया था।स्टार्क वर्तमानसमय मेंक्रिकेट
जगत के सबसे तेज गेंदबाज हैऔर उन्होंने साल 2019 विश्वकप के दौरान बेहद शानदार प्रदर्शन किया था।


💐🎂💐#🎂💐🎂@#@💐🎂💐🎂💐🎂


💐 (A/2)कोई डॉक्टर तो कोई है इंजीनियर, इतनी पढ़ी लिखी है हमारे भारतीय खिलाड़ियों की पत्नियां


 भारतीय क्रिकेट टीम में ऐसे कई खिलाड़ी है जो कि काफी कम पढ़े लिखे हैं| अगर बात करें उनकी पत्नियों के बारे में तो. इनमें से कई खिलाड़ियों ;की /0पत्नियां
 डॉक्टर और इंजीनियर है   भारतीय खिलाड़ियों की पत्नियों के बारे में जो कि अपने पतियों से ज्यादा पढ़ी लिखी है।
                  💐 (1) अनुभूति चौहान💐. 
 अनुभूति चौहान भारतीय टीम के खिलाड़ी पीयूष चावला की पत्नी है बता दे की अनुभूति चौहान ने डॉक्टर ऑफ फिलोसोफी (Ph.D.) यानि प्रोफेसर की डिग्री अपने नाम दर्ज की है।
                 💐 ( 2) प्रियंका रैना 💐
 भारतीय क्रिकेट टीम के मध्यक्रम बल्लेबाज सुरेश रैना काफी लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं  दें सुरेश रैना की पत्नी प्रियंका रैना सॉफ्टवेयर इंजीनियर रह चुकी हैं. उन्होंने गाजियाबाद के कृष्ण इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग से बीटेक की पढ़ाई की है।
               💐  (3) अंजलि तेंदुलकर.  💐
भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुल
-कर कक्षा दसवीं में कई बार फेल हो चुके हैं अगर वही बात करें उनकी पत्नी के बारे में तो उनकी पत्नी का नाम अंजली तेंदुलकर है बता दें मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की पत्नी अंजलि तेंदुलकर के पास मेडिकल डिग्री है और पेशे से वे डॉक्टर हैं।
💐🎂#💐🎂@#@💐🎂💐🎂@#@#💐🎂


💐(A/3)राम माधव बोले-सोनिया कोभारतीय से   शादी करनेपर मिली नागरिकता,नहीं पूछागया धर्म💐


नागरिकतासंशोधन कानून पर छिड़जंग के बीचबीजेपी
 के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने कहा कि हम धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को भारतीय से शादी करने पर यहां की नागरिकता मिली . किसी ने उनका धर्म नहीं पूछा.
 💐नागरिकता संशोधन कानून पर उत्तर प्रदेश में सियासी जंग💐
राम माधव बोले- हम धार्मिक आधार पर नहीं करते भेदभाव  नागरिकता संशोधन कानून पर छिड़ी जंग के बीच बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने कहा कि हम धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करते हैं।. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी कोभारतीय से शादी करने पर यहां कीनागरिकता
 मिली. क्या किसी ने उनका धर्म पूछा. ये कानून इतना साफ है, लेकिन विवाद को पैदा किया गया. कई लोगों की मौत हुई. सरकार ने अपने उद्देश्यों का विवरण भी जारी किया. राम माधव ने कहा कि भारत में 4 तरीके से नागरिकता मिलती है. जन्म, नैचुरलाइजेशन या देशीकरण, जोशरण लेने चाहते हैं और अब नागरिकता
 संशोधन कानून. उन्होंने कहा कि इसमें तीन पड़ोसी देश के लोगों को नागरिकता मिलेगी ये नागरिकता लेने का कानून नहीं है.कोई भीमुस्लिम भारत कीनागरिकता
ले सकता है, लेकिन इसके लिए कुछ मानदंडों को पूरा करने की जरूरत होती है।.राम माधव ने कहा कि साल 1972 में युगांडा में तानाशाह आदि अमीन का राज था।. उसने सभी बाहरी मूल के लोगों को बाहर फेंक दिया  . उनमें से ज्यादातर गुजराती लोग थे. कुछ लोग लंदन चले गए और फिर भारत आ गए. इंदिरा गांधी ने उस वक्त उनकी सहायता की. किसी ने कुछ नहीं कहा. भारत में इस्लाम धर्म का अलग-अलग 72 समुदाय रहते हैं. पाकिस्तान जब इस्लामिक रिपब्लिक बना तो अल्पसंख्यकों पर अत्याचार होने लगा.
        💐 NRC-CAA अलग-अलग कानून 💐
राम माधव ने कहा कि मुजीबुर्रहमान एक धर्म निरपेक्ष देश चाहते थे लेकिन उनकी मौत के बाद बांग्लादेश इस्लामिक देश में बदल गया. नागरिकता कानून अनुच्छेद 14 का उल्लंघन नहीं है. बांग्लादेश के मौजूदा हालात अल्पसंख्यकों के लिए ठीक नहीं हैं. एनआरसी पूरी तरह से सीएए से अलग है. पहला एनआरसी पहली जनगणना से सामने आएगा. एनपीआर की शुरुआत यूपीए सरकार ने 2010 में की थी.
जहां नागरिकता कानून को लेकर देशव्यापी प्रदर्शन के मामले सामने आ रहे हैं, वहीं बीजेपी नागरिकता कानून को कैंपेन के तौर पर विकसित कर रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में ट्विटर कैंपेन की शुरुआत भी कर दी है.

💐बीजेपी ने शुरू की #IndiaSupportsCAA कैंपेन💐
#IndiaSupportsCAA हैशटैग से पीएम मोदी ने कैंपेन की शुरुआत करते हुए लिखा, 'भारत सीएए का समर्थन करता है, क्योंकि सीएए सताए गए शरणार्थियों को नागरिकता देने के बारे में है. यह किसी की नागरिकता लेने के बारे में नहीं है. नमो ऐप पर सीएए से जुड़े कई दस्तावेज, वीडियो और कंटेंट हैं. आप इसके समर्थन में अभियान चलाएं|,💐
💐🎂💐@🎂💐🎂💐@0💐🎂💐@🎂💐


💐(A/4)  देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास के पास लगी आग पर पाया गया काबू, शॉर्ट सर्किट थी वजह।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 7 लोक कल्याण मार्ग स्थित पर आवास पर सोमवार शाम आग लग गई। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे फायरकर्मियों ने 20 मिनट में ही आग पर काबू पा लिया। आशंका जताई जा रही है कि शॉर्ट सर्किट के कारण आग लगी है। बहरहाल एहतियातन तकनीकी विशेषज्ञों की मदद से आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है। आग बुझाने के लिए मौके पर एहतियातन 9 दमकल वाहनों को भेजा गया था। 
घटना की जानकारी प्रधानमंत्री मोदी ने खुद अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से दी। उन्होंने ट्वीट कर यह जानकारी दी कि शॉर्ट सर्किट की वजह से लोक कल्याण मार्ग में स्थित आवास में आग लग गई। 
 हालांकि यह आग पीएम के आवासीय या कार्यालय क्षेत्र में नहीं थी, बल्कि एलकेएम परिसर सुरक्षा कार्यालय-स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) के रिसेप्शन क्षेत्र में लगी थी। इस आग पर काबू पा लिया गया है। हालांकि जैसे ही आग लगने की सूचना मिली, मौके पर फायर कर्मियों सहित पूरा स्थानीय प्रशासन पहुंच गया। हालात की जानकारी लेने के लिए चंद मिनट दिल्ली पुलिस के कई आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए। इतना ही नहीं भारी संख्या में सुरक्षाकर्मी भी पहुंच गए। इस बीच फायरकर्मियों ने आग बुझाना शुरू किया और उस पर काबू पा लिया।  
आग लगने की यह घटना सात बजकर 25 मिनट पर मिली। सूचना मिलते ही फायरकर्मी मौके पर पहुंचे और करीब 20 मिनट के बाद सात बजकर 55 मिनट पर आग पर काबू किए जाने की सूचना दी। वहीं प्रधानमंत्री कार्यकाल की तरफ से भी जारी किए गए बयान भी यह कहा गया कि आग प्रधानमंत्री के आवासीय एरिया या कार्यालय में नहीं लगी थी। घटना में किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है। हालांकि जब आग लगी तब प्रधानमंत्री अपने परिसर में थे या नहीं थे, फिलहाल इस बात की जानकारी अबतक नहीं मिल पाई है।  वैसे नव वर्ष की पूर्व संध्या पर जश्न की तैयारी के मद्देनजर दिल्ली दमकल सेवा ने संभावित आपात स्थिति से निपटने के लिए दिल्ली के कनॉट प्लेस समेत ऐसे 10 मुख्य इलाकों पर दमकल की गाड़ियों को एहतियातन तैनात भी किया है। खासतौर से उन इलाको में जहां बड़ी संख्या में लोगों के जुटने की उम्मीद है। अधिकारियों ने सोमवार को ही यह जानकारी भी दी। साथ ही लोगों से यह अपील भी की है कि 31 दिसंबर को जिन रेस्तरां, होटलों और क्लबों में पार्टी करने जाएं, वे उनके आपात द्वार के बारे में पहले पता लगा लें। उन्होंने बताया कि नव नववर्ष की पूर्व संध्या पर करीब 1300 दमकल कर्मियों को तैनात किया जाएगा ताकि आग संबंधी किसी भी आपात स्थिति से तुरंत निपटा जा 
💐🌺🌸@,🎂💐💮🌼🏵️🌹🏵️🌼💮🌸।।   


    💐 (B) आज के दिन जन्मे हिंदी भाषा के प्रमुख      
   साहित्यकार श्रीलाल शुक्ल का जीवन परिचय💐


         श्रीलाल शुक्ल (31 दिसम्बर 1925 - 28 अक्टूबर 2011) हिन्दी के प्रमुख साहित्यकार थे। वह समकालीन कथा-साहित्य में उद्देश्यपूर्ण व्यंग्य लेखन के लिये विख्यात थे।
                 💐   श्रीलाल शुक्ल। 💐
श्रीलाल शुक्ल (जन्म-31 दिसम्बर 1925 - निधन- 28 अक्टूबर 2011) को लखनऊ जनपद के समकालीन कथा-साहित्य में उद्देश्यपूर्ण व्यंग्य लेखन के लिये विख्यात साहित्यकार माने जाते थे। उन्होंने 1947 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक परीक्षा पास की। 1949 में राज्य सिविल सेवासे नौकरी शुरू की। 1983 में भारतीय प्रशासनिक सेवा से निवृत्त हुए। उनका विधिवत लेखन 1954 से शुरू होता है और इसी के साथ हिंदी गद्य का एक गौरवशाली अध्याय आकार लेने लगता है।उनका पहला प्रकाशित उपन्यास 'सूनी घाटी का सूरज' (1957) तथा पहला प्रकाशित व्यंग 'अंगद का पाँव' (1958) है। स्वतंत्रता के बाद के भारत के ग्रामीण जीवन की मूल्यहीनता को परत दर परत उघाड़ने वाले उपन्यास 'राग दरबारी' (1968) के लिये उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया उनके इस उपन्यास पर एक दूरदर्शन धारा-
वाहिक कानिर्माण भी हुआ।श्री शुक्ल को भारतसरकार
 ने 2008 में पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया है।
                     💐   व्यक्तित्व। 💐
श्रीलालशुक्ल का व्यक्तित्व  अपने आप म के मिसाल आप था। सहज लेकिन सतर्क, विनोदी लेकिन विद्वान, अनुशासनप्रिय लेकिन अराजक। श्रीलाल शुक्ल अंग्रेज़ी, उर्दू, संस्कृत और हिन्दी भाषा के विद्वान थे। श्रीलाल शुक्ल संगीत के शास्त्रीय और सुगम दोनों पक्षों के रसिक-मर्मज्ञ थे। 'कथाक्रम' समारोह समिति के वह अध्यक्ष रहे। श्रीलाल शुक्ल जी ने गरीबी झेली, संघर्ष किया, मगर उसके विलाप से लेखन को नहीं भरा। उन्हें नई पीढ़ी भी सबसे ज़्यादा पढ़ती है। वे नई पीढ़ी को सबसे अधिक समझने और पढ़ने वाले वरिष्ठ रचनाकारों में से एक रहे। न पढ़ने और लिखने के लिए लोग सैद्धांतिकी बनाते हैं। श्रीलाल जी का लिखना और पढ़ना रुका तो स्वास्थ्य के गंभीर कारणों के चलते। श्रीलाल शुक्ल का व्यक्तित्व बड़ा सहज था। वह हमेशा मुस्कुराकर सबका स्वागत करते थे। लेकिन अपनी बात बिना लाग-लपेट कहते थे। व्यक्तित्व की इसी ख़ूबी के चलते उन्होंने सरकारी सेवा में रहते हुए भी व्यवस्था पर करारी चोट करने वाली राग दरबारी जैसी रचना हिंदी साहित्य को दी।
                   💐   रचनाएँ   💐
10 उपन्यास, 4 कहानी संग्रह, 9 व्यंग्य संग्रह, 2 विनिबंध, 1 आलोचना पुस्तक आदि उनकी कीर्ति को बनाये रखेंगे। उनका पहला उपन्यास सूनी घाटी का सूरज 1957 में प्रकाशित हुआ। उनका सबसे लोकप्रिय उपन्यास राग दरबारी 1968 में छपा। राग दरबारी का पन्द्रह भारतीय भाषाओं के अलावा अंग्रेजी में भी अनुवाद प्रकाशित हुआ। राग विराग श्रीलाल शुक्ल का आखिरी उपन्यास था। उन्होंने हिंदी साहित्य को कुल मिलाकर 25 रचनाएं दीं। इनमें मकान, पहला पड़ाव, अज्ञातवास और विश्रामपुर का संत प्रमुख हैं।
                💐   प्रसिद्ध रचनाएँ 💐
सूनी घाट का सूरज (1957)अज्ञातवास (1962)
'राग दरबारी (1968)आदमी का ४४४)सीमाएँ टूटती (1973)'मकान (1976)पहला (1987)'
विश्रामपुर का संत (1998)बब्बरसिंह और उसकेसाथी
(1999)रागविराग(2001) 'यह घर मेरी नहीं (1979)
     सुरक्षा और अन्य कहानियाँ (1991)
इस उम्र में (2003)दस प्रतिनिधि कहानियाँ (2003)


          💐     प्रसिद्ध व्यंग्य रचनाएँ 💐
अंगद का पाँव (1958)
यहाँ से वहाँ (1970)
मेरी श्रेष्‍ठ व्यंग्य रचनाएँ (1979)
उमरावनगर में कुछ दिन (1986)
कुछ ज़मीन में कुछ हवा में (1990)
आओ बैठ लें कुछ देरे (1995)
अगली शताब्दी का शहर (1996)
जहालत के पचास साल (2003)
खबरों की जुगाली (2005)
आलोचना
अज्ञेय:कुछ रंग और कुछ राग (1999)
विनिबंध
भगवतीचरण वर्मा (1989)
अमृतलाल नागर (1994)
                 💐    उपन्यास:   💐
सूनी घाटी का सूरज (1957)· अज्ञातवास · रागदरबारी · आदमी का ज़हर · सीमाएँ टूटती हैं
मकान · पहला पड़ाव · विश्रामपुर का सन्त · अंगद का पाँव · यहाँ से वहाँ · उमरावनगर में कुछ दिन
                💐    कहानी संग्रह:💐
यह घर मेरा नहीं है · सुरक्षा तथा अन्य कहानियां · इस उम्र मेंव्यंग्य संग्रह:अंगद का पांव · यहां से वहां · मेरी श्रेष्ठ व्यंग्य रचनायें · उमरावनगर में कुछ दिन · कुछ जमीन पर कुछ हवा में · आओ बैठ लें कुछ देरआलोचना:अज्ञेय: कुछ राग और कुछ रंगविनिबन्ध:भगवती चरण वर्मा · अमृतलाल नागरबाल साहित्य:बढबर सिंह और उसके
💐🎂@#💐@🎂💐🎂@#💐🎂@#💐🎂


💐(c)आज के दिन की प्रमुख ऐतिहासिक घटनाएँ💐 


1492 - इटली के सिसली क्षेत्र से 100,000 यहूदियों को निकाला गया।
1600 - ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापनी हुई।
1781 - अमेरिका में पहला बैंक 'बैंक ऑफ नॉर्थ अमेरिका' में खुला।
1802 - पेशवा बाजीराव द्वितीय को ब्रिटिश संरक्षण प्राप्त हुआ।
मराठा शासक पेशवा बाजीराव द्वितीय अंग्रेजों के संरक्षण में आये।
1861 - चेरापूँजी (असम में 22990 मिमि बारिश हुई जो विश्व में किसी भी स्थल पर होने वाली सर्वाधिक वर्षा है।
1929 - महात्मा गाँधी के नेतृत्व में काँग्रेस के कार्यकर्ताओं ने लाहौर में पूर्ण स्वराज्य के लिए आंदोलन शुरू किया।
1944 - अमेरिकी राज्य उताह के ओगडन में रेल दुर्घटना में 48 लोगों की मौत।
द्वितीय विश्व युद्ध में हंगरी ने जर्मनी के ख़िलाफ़ युद्ध की घोषणा की।
1949 - विश्व के 18 देशों ने इंडोनेशिया को मान्यता दी।
1962 - हालैंड ने दक्षिण पश्चिम प्रशांत महासागर में स्थित द्वीप न्यू गिनी को छोड़ा।
1964 - इंडोनेशिया को संयुक्त राष्ट्र से निष्कासित किया गया।
1981 - घाना में सैनिक क्रान्ति द्वारा राष्ट्रपति डाक्टर लिम्मान सत्ताच्युत एवं फ़्लाइट लेफ़्टिनेंट जेरी रालिंग्स ने सत्ता संभाली।
1983 - ब्रुनेई को ब्रिटेन से आजादी मिली।
1984 -राजीव गाँधी 40 वर्ष की उम्र में भारत के सातवें प्रधानमंत्री बने।
मो. अज़हरुद्दीन ने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टेस्ट मैच खेलकर अपने अंतर्राष्ट्रीए क्रिकेट जीवन की शुरुआत की। बाद में वे भारतीय टीम के कप्तान भी बने।
1988 - परमाणु प्रतिष्ठानों पर हमले रोकने के लिए भारत और पाकिस्तान ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किया जो 27 जनवरी 1991 से प्रभावी हुआ।
1997 - मोहम्मद रफ़ीक तरार पाकिस्तान के 9वें राष्ट्रपति निर्वाचित।
1998 - रूस द्वारा कज़ाकिस्तान अंतरिक्ष केंद्र से तीन उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण।
1999 - इंडियन एयरलाइंस के विमान 814 का अपहरण कर अफ़ग़ानिस्तान के कंधार हवाई अड्डे ले जाया गया। सात दिन के बाद 190 लोगों की सुरक्षित रिहाई के साथ यह बंधक संकट टला।
2001 - भारत ने पाकिस्तान को 20 वांछित अपराधियों की सूची सौंपी; अर्जेन्टीना के राष्ट्रपति फ़र्नांडों रूआ ने अपने पद इस्तीफ़ा दिया।
2003 - भारत और सार्क के दूसरे देशों के विदेश सचिवों ने शिखर सम्मेलन से पहले वार्ता शुरू की।
2004 - ब्यूनर्स आयर्स (अर्जेन्टीना) के एक नाइट क्लब में आग लगने से 175 लोगों की मौत।
2005 - सुरक्षा कारणों से संयुक्त राज्य अमेरिका ने मलेशिया में अपने दूतावास को अनिश्चित काल के लिए बंद किया।
2007 - म्यांमार की सैन्य सरकार ने सात विपक्षी नेताओं को गिरफ़्तार किया।
2008 - ईश्वरदास रोहिणी को दूसरी बार मध्य प्रदेश विधानसभा का अध्यक्ष बनाने की घोषणा हुई।
2014 - चीन के शंघाई शहर में नए साल की पूर्व संध्या पर मची भगदड़ में कम से कम 36 लोग मारे गए और 49 अन्य घायल हो गये।
🎂@#💐&🎂@#@💐🎂@#@💐🎂@#💐


   💐 (D) आज के दिन जन्मे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व💐


1925 - श्रीलाल शुक्ल - व्यंग्य लेखन के विख्यात साहित्यकार।
1866- कृष्ण बल्लभ सहाय- बिहार के मुख्यमंत्री एवं स्वतंत्रता सेनानी।


💐🎂#@#💐&🎂#@#💐🎂@#@💐🎂💐
        
💐(E)आज के दिननिधन हुवे महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व💐  


1926 - विश्वनाथ काशीनाथ राजवाडे प्रसिद्ध भारतीय 
लेखक, इतिहासकार, श्रेष्ठ वक्ता और विद्वान् थे। 1956 - रविशंकर शुक्ल - मध्य प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री।
1965 - वी. पी. मेनन - भारतीय रियासतों के एकीकरण में सरदार पटेल के सहयोगी थे।
💐🎂@#@💐🎂@#@💐🎂@#@💐🎂💐


         .💐 ( F) आज का दिवस का नाम। 💐
💐(1)ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कम्पनी स्थापना दिवस💐
💐(2) ब्रुनेई को ब्रिटेन से 1983 में आज के दिन ही  आजादी मिली ब्रुनेई देश का स्वतंत्रता दिवस आज के दिन ही मनाया जाता है।
💐(3)पंडित रविशंकर शुक्ल पुण्यतिथि।
💐(4) पूर्ण स्वराज आंदोलन दिवस।


💐🎂💐@🎂💐🎂💐0💐🎂💐0💐🎂💐
 
    आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल नए वर्ष 2020 में पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
।💐जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐


💐  निवेदक;💐-


  💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐