महाराष्ट्र समाज व वृक्षमित्र सेवा समिति द्वारा वृक्षारोपण हरियाली अमावस पर
उज्जैन। हरियाली अमावस्या के पावन अवसर पर वृक्षमित्र सेवा समिति और महाराष्ट्र समाज उज्जैन के संयुक्त तत्वावधान में प्राणिकी अध्ययन शाला में पौधरोपण उत्सव का आयोजन किया गया.कार्यक्रम की जानकारी देते हुवे श्री गोपाल महाकाल ने बताया की इस अवसर पर माननीय श्री अरविंद जैन ADJ जिला न्यायालय, श्री संजय सूर्यवंशी लेबर जज, माननीय श्री शैलेन्द्र शर्मा कुलानुशासक विक्रम विश्वविद्यालय, श्रीमती राजश्री जोशी अध्यक्ष एवम श्री सदाशिव नायगावकर महाराष्ट्र समाज विशेष रूप से उपस्थित थे। सर्वप्रथम संस्था परिचय देते हुए अजय भातखंडे ने बताया कि विगत दो सालों में शहर के विभिन्न हिस्सों में लगभग 6500 पौधे लगाकर हर संडे दो घंटे पर्यावरण के लिए इस ध्येय वाक्य के साथ वृक्षमित्र निरंतर पोधो का संगोपन और संवर्धन कर रहे है। श्री जैन साहब ने संबोधित करते हुए सभी से अधिक से अधिक पौधे लगाने का आह्वान किया। आपने कहा आज की महती आवश्यकता शुद्ध पर्यावरण है। आपने वृक्षमित्रो के प्रयासों की सराहना की। श्री सूर्यवंशी जी ने कहा कि शुद्ध ऑक्सिजन के लिए अधिक से अधिक पौधरोपण आवश्यक है। पेड़ ही ऑक्सीजन बनाता है और कार्बन डाइऑक्साइड कम करते है। आप वृक्षमित्र परिवार के सक्रिय सदस्य है। समाज अध्यक्ष श्रीमती राजेश्री जोशी ने कहा कि हमारे सभी त्योहार पर्यावरण से जुड़े हुए है।महाराष्ट्र समाज सदैव पर्यावरण संरक्षण के लिये तत्पर रहता है। आज बड़ी संख्या में महिलाये और पुरुषों की उपस्थिति इसका प्रमाण है। विश्वविद्यालय के कूलानुशक श्री शैलेन्द्र शर्मा ने सभी से परिसर में पौधरोपण हेतु प्रोत्साहित किया। आपने प्रातः भ्रमण करने और परिसर में भ्रमण करने वालों को वृक्षमित्रो के साथ सहयोग करने का आह्वान किया. वृक्षमित्रो के पर्यावरण के प्रति निष्ठा देखकर श्री रमेश झा, प्रबंधक बैंक ऑफ इंडिया तराना ने 500 पौधे देने की घोषणा की। महाराष्ट्र समाज की तरफ से 5000/- चेक संस्था को प्रदान किया गया।
बड़ी संख्या में समाजजनों ने बड, पीपल, नीम, कदम्ब, कचनार, गुलमोहर, गूलर, जामुन, आम, जामफल इत्यादि के पौधे लगाए उनको सप्पोर्ट लगाए।
अंत मे प्राणीकि विभागाध्यक्ष प्रोफेसर श्रीमती लता भट्टाचार्य ने सभी का आभार प्रदर्शन किया। अंत मे विभाग कि और से शानदार पोहे-जलेबी-चाय के आयोजन के साथ समापन हुआ।

गोपाल महाकाल-9425092702
वृक्षमित्र सेवा समिति उज्जैन
Comments
Popular posts
वार्षिक विवरणी ऑनलाइन दाखिल करने के लिए पंजीकरण अनिवार्य
Image
अवंतिकानाथ राजाधिराज भगवान महाकाल राजसी ठाट-बाट के साथ नगर भ्रमण पर निकले; भगवान महाकाल ने भक्तों को चारों रूप में दिये दर्शन
Image
मोक्षदायिनी माँ क्षिप्रा....जानें, कैसे प्रसिद्ध हुआ मोक्षदायिनी नदी का नाम क्षिप्रा ?
Image
श्री महाकालेश्वर मंदिर में संध्या आरती पश्चात होलिका का दहन हुआ संपन्‍न
Image
कुक्कू ओटीटी ऐप ने अपने एस्टीम्ड सब्सक्राइबर्स के लिए नए साल में एंटरटेनिंग वेब सीरीज की कतार लगाई
Image