एमवे ने महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई में अपना सहयोग बढ़ाया; 1 मिलियन अमेरिकी डॉलर की मदद की घोषणा

महामारी की दूसरी लहर से जूझते भारत के साथ एकजुटता से खड़ा होने का लिया संकल्प


नई दिल्ली।
प्रमुख एफएमसीजी डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों में से एक एमवे ने भारत के साथ एकजुटता से खड़ा होने का संकल्प लिया है। देश में बड़े पैमाने पर हमला करने वाली महामारी की दूसरी लहर के प्रभाव के जवाब में एमवे कोविड राहत प्रयासों में सहयोग करने के लिए 1 मिलियन अमेरिकी डॉलर (लगभग 7.50 करोड़ रुपए) दान कर रहा है। इस दान राशि का उपयोग कोविड-19 राहत कार्य में तेजी लाने के लिए कोविड-19 संसाधनों, जैसे वेंटिलेटर्स, ऑक्सीजन कन्संट्रेटर्स आदि की उपलब्धता को सुविधाजनक बनाने के लिए किया जाएगा।

एमवे के योगदान पर टिप्पणी करते हुए एमवे ग्लोबल के सीईओ श्री मिलिंद पंत ने कहा, “भारत एमवे के वैश्विक परिवार के दिलोदिमाग में बसता है। भारत भर में अपने सहयोगियों और दोस्तों को हम बता देना चाहते हैं कि हम इस कठिन समय में आपका सहयोग करने के लिए एकदम प्रतिबद्ध हैं। महामारी के दौरान आपके साहस और दृढ़ संकल्प के लिए धन्यवाद। हम एकजुट होकर इस मुश्किल दौर से निपटेंगे और पहले से ज्यादा मजबूत होकर उभरेंगे। संस्थापक परिवारों, साथ ही कार्यकारी नेतृत्व के सहयोग से एमवे कॉर्पोरेशन ने देश को सहायता प्रदान करने के लिए यूएस चैंबर्स फाउंडेशन को 7.50 लाख अमेरिकी डॉलर का योगदान दिया।"

एक स्थायी दृष्टिकोण का समर्थन करते हुए एमवे इंडिया के सीईओ अंशु बुधराजा ने कहा, “हम महामारी की इस पूरी अवधि के दौरान अपने सभी वितरकों, ग्राहकों और कर्मचारियों का सहयोग करते रहे हैं। पिछले एक साल से हम अपने 5,50,000 वितरकों और देश भर के 1000 कर्मचारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और अपने फ्रंटलाइन कर्मचारियों व समुदाय के लिए 3.38 लाख अमेरिकी डॉलर (लगभग 2.5 करोड़ रुपए) जुटाए हैं। 1 मिलियन अमेरिकी डॉलर (लगभग 7.5 करोड़ रुपए) की यह अतिरिक्त राशि हमें केंद्र और राज्यों के स्तर पर देश के साथ काम करने व सहयोग करने के लिए और अधिक सक्षम बनाएगी। हमें गर्व है कि हमारे वितरकों और कर्मचारियों ने देश में प्रतिरक्षा एवं निवारक स्वास्थ्य सेवा के संदेश के प्रसार में मदद करने के लिए विभिन्न सामुदायिक पहलों का समर्थन करते हुए अनगिनत स्वैच्छिक घंटे बिताए हैं।”

अब तक एमवे ने कोविड-19 राहत कोषों में तकरीबन 1.35 मिलियन अमेरिकी डॉलर (लगभग 10 करोड़ रुपए) का कुल योगदान दिया है। इसके अलावा अपने कर्मचारियों को सुरक्षित करने और उनकी सहायता करने के लिए एमवे इंडिया ने टीकाकरण अभियान, चिकित्सा सेवाओं तक पहुंच और चिकित्सा खर्चों की पूर्ति तथा प्रभावित कर्मचारी(यों) के स्वास्थ्य लाभ के लिए केंद्र मुहैया कराने सहित बड़े पैमाने पर कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं।

इसके अलावा एमवे के लिए अपने कर्मचारियों और उनके परिवार का कल्याण पहली प्राथमिकता है। कंपनी सभी कर्मचारियों और उनके परिवार के सदस्यों के लिए कोविड-19 टीकाकरण के प्रायोजन की घोषणा करने वाले शुरुआती संगठनों में से एक है। एमवे इंडिया ने टीकाकरण प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए अस्पतालों और ईकिनकेयर के साथ भागीदारी की है। टीकाकरण के साथ-साथ कंपनी अनुरोध पर ऑक्सीजन सिलेंडर भी खरीद रही है, कॉल पर परामर्श के लिए डॉक्टर भी मुहैया करा रही है, कोविड-19 उपचार के कारण उत्पन्न होने वाले सभी चिकित्सा खर्चों को कवर कर रही है और सभी कर्मचारियों को एक कल्याण एवं स्वच्छता किट भी प्रदान कर रही है। इसके अलावा कंपनी ने कर्मचारियों को अलग होने और स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए विनिर्माण इकाई के पास एक अस्थायी अलगाव केंद्र भी बनाया है।

एमवे के कोविड राहत प्रयासों के बारे में

कॉर्पोरेट नागरिकता एमवे के सिद्धांतों का एक अभिन्न अंग है। इसी के अनुरूप कंपनी ने 

कोविड-19 राहत प्रोग्राम लॉन्च किया और कई राहत पहलों के लिए 2.50 करोड़ रुपए के करीब का योगदान दिया। एमवे का कोविड-19 राहत कार्यक्रम 2 लाख से अधिक लाभार्थियों तक पहुंच चुका है।

इस कार्यक्रम में पीएम केयर्स फंड में 1 करोड़ रुपए और तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना व केरल के मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में प्रत्येक के लिए 25-25 लाख रुपए का योगदान दिया, ताकि कोरोनोवायरस के प्रकोप को रोकने के लिए उनके प्रयासों को मजबूती प्रदान की जा सके।

इसके अतिरिक्त एमवे ने देश भर के अस्पतालों में काम कर रहे अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं को एन95 मास्क, दस्ताने, सैनिटाइजर्स और हैंडवॉश इत्यादि मुहैया कराने के लिए यूनाइटेड वेज दिल्ली, एसोसिएशन ऑफ सर्जन्स ऑफ इंडिया और मीनाक्षी मिशन हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के साथ भागीदारी भी की है।

एमवे ने अपने परियोजना लाभार्थियों के बेहतर स्वास्थ्य और स्वच्छता को सुनिश्चित करते हुए एमवे के पार्टनर एनजीओ परिसरों को स्वच्छ, कीटाणुरहित और साफ करने के लिए एक स्वच्छता अभियान का आयोजन भी किया।

चूंकि पश्चिम बंगाल एक भयानक तूफान के प्रभावों के साथ-साथ कोविड-19 महामारी से भी बुरी तरह से लड़ रहा है, ऐसे में वहां पुनर्वास प्रयासों का सहयोग करने के लिए एमवे इंडिया ने पश्चिम बंगाल आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को 25 लाख रुपए दान करने का संकल्प भी लिया है।

और अधिक जानकारी के लिए, क्लिक करें- https://www.amway.in/about-amway/csr/covid-relief

Comments
Popular posts
अवंतिकानाथ राजाधिराज भगवान महाकाल राजसी ठाट-बाट के साथ नगर भ्रमण पर निकले; भगवान महाकाल ने भक्तों को चारों रूप में दिये दर्शन
Image
मोक्षदायिनी माँ क्षिप्रा....जानें, कैसे प्रसिद्ध हुआ मोक्षदायिनी नदी का नाम क्षिप्रा ?
Image
वार्षिक विवरणी ऑनलाइन दाखिल करने के लिए पंजीकरण अनिवार्य
Image
कुक्कू ओटीटी ऐप ने अपने एस्टीम्ड सब्सक्राइबर्स के लिए नए साल में एंटरटेनिंग वेब सीरीज की कतार लगाई
Image
श्री महाकालेश्वर मंदिर में संध्या आरती पश्चात होलिका का दहन हुआ संपन्‍न
Image