लिवस्पेस ने 500 मिलियन डॉलर मॉड्यूलर होम सॉल्यूशंस मार्केट को हासिल करने के लिए चार नये शहरों में विस्तार किया

  • विस्तार के साथ चार नए एक्सपीरियंस सेंटर (ईसी) का उद्घाटन 
  • पहले वर्ष में 500 से अधिक डिजाइन एंट्रेप्रेन्योर्स के साथ साझेदारी का लक्ष्य
  • अगले 12-18 महीनों में अन्य 15 शहरों में विस्तार करने की योजना


भा
रत और दक्षिण-पूर्व एशिया की सबसे बड़ीहोम इंटीरियर्स और रेनावेशन कंपनी, लिवस्पेस, ने आज चार नये शहरों - कोलकाता, अहमदाबाद, जयपुर, कोच्चि में अपना विस्तार करने की घोषणा की। लिवस्पेस नये शहरों में अपने उच्च-मांग वाले मॉड्यूलर सॉल्यूशंस पेश कर रहे हैं। इन शहरों के निवासियों के लिए अब उच्च गुणवत्ता हाई क्वालिटी, स्टाइल और पसंदीदा विकल्पों के साथ विश्वसनीय अंतरराष्ट्रीय ब्रांड के मॉड्यूलर किचन और वार्डरोब उपलब्ध होंगे। कस्टमर्स के लिए इन सॉल्यूशंसके अनुभव प्रदान करने, इनको पर्सनलाइज करने और इनकी खरीदारी में मदद करने के लिए, कंपनी ने एक्सपीरियंस सेंटर्स (ईसी) भी खोले हैं, जो सभी चार शहरों में प्रमुख स्थानों में स्थित हैं और प्रत्येक ईसी 1500 वर्ग फुट में फैला है। कंपनी के विस्तार के साथ एक टारगेटेड मार्केटिंग कैम्पेन भी जल्द ही  लाइव हो जाएगा और जागरूकता तथा रुचि पैदा करने के लिए एटीएल और डिजिटल दोनों चैनलों का उपयोग करेगा।

लिवस्पेस एक्सपीरियंस सेंटर (ईसी) गृहस्वामियों को विभिन्न स्टाइल और बजट में तैयार किये गये किचन और वार्डरोब कॉन्सेप्ट्स को देखने की सुविधा प्रदान करते हैं। वे सलाह-मशवरा के लिए एक डिजाइनरसे मिल सकते हैं और अपने घर के लिए सैकड़ों फर्नीचर्स पर नजर डाल सकते हैं। यह गृहस्वामियों को खरीदारी से पहले एक इन्फॉर्म्ड निर्णय लेने और आत्मविश्वास बनानेमें मदद करता है। जयपुर में शांति नगर के मानसरोवर में हाल ही में शुरू किया गया एक्सपीरियंस सेंटर सभी के लिए मॉड्यूलर किचन, वार्डरोब और स्टोरेज फर्नीचरकी डिजाइन करवाने का अवसर पेश करता है।

आंतरिक अनुमानों के अनुसार, चारों शहरों में मॉड्यूलर सॉल्यूशन मार्केट का मूल्य लगभग 500 मिलियन अमेरिकी डॉलर है। इस बड़े अवसर का लाभ उठाते हुए, लिवस्पेस को अगले दो वर्षों में इन नए बाजारों से अपने कुल राजस्व का 10% से अधिक मिलने की उम्मीद है। चूंकि जयपुर, अहमदाबाद और कोच्चि में लिवस्पेस अपने सेगमेंट में पहली ऑर्गनाइज्ड कंपनी है, इसलिए कंपनी स्वयं को उपभोक्ताओं के साथ-साथ अपने इकोसिस्टम भागीदारों में भी मजबूती से स्थापित करने पर केंद्रित है जिसमें डिजाइनर, ठेकेदार और विक्रेता शामिल हैं। आने वाले वर्ष में, अपने नए शहरों के 500 से अधिक डिज़ाइन एंट्रेप्रेन्योर्स, देश में सबसे बड़े इकोसिस्टम में से एक,लिवस्पेस इकोसिस्टम में शामिल होने की उम्मीद कर सकते हैं |जिसमें वर्तमान में 5000 से अधिक सदस्य हैं।

इन नए शहरों में प्रवेश करने के निर्णय के बारे में बताते हुए, लिवस्पेस के सह-संस्थापक और सीओओ, रमाकांत शर्मा ने कहा कि “महानगरों के अलावा अगले 20 शहरों के उपभोक्ताओं में पहले से हीविश्वसनीय ब्रांड के लाइफस्टाइलप्रॉडक्ट्सकीभारी मांग है और इसके लिए खर्च करने की प्रवृत्ति है। लेकिनइन शहरों में रेनोवेशन इंडस्ट्री में कोई मजबूत ब्रांड मौजूद नहीं है। लिवस्पेस सही प्रॉडक्ट मार्केट फिट पेश करता है और हम अपने इकोसिस्टम पार्टनर्स की मदद से हजारों नये घरों को डिजाइन करने के अवसर को लेकर उत्साहित हैं। हम चाहते हैं कि जब लोग घर के रेनोवेशन के बारे में सोचें तो लोगों के दिमाग में सबसे पहलेहमारा नाम आये, और यह एक्सपैंसन इस लक्ष्य तक पहुंचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।”

कंपनी के मॉड्यूलर सॉल्यूशंस के कारोबार के बारे में बताते हुए, सौरभ जैन, एसवीपी, कैटिगरी और सप्लाई, लिवस्पेस,ने कहा कि “औसत घर में, रेनोवेशन के खर्च का 50% से अधिक मॉड्यूलर सॉल्यूशंस के लिए होता है। नॉन-मेट्रो में, यह प्रतिशत और भी अधिक है क्योंकि उपभोक्ता, विशेष रूप से अपार्टमेंट और हाई-राइज में रहने  वाले गृहस्वामी, अच्छी तरह से डिज़ाइन किये गये मॉड्यूलर किचन या वार्डरोब लेना चाहते हैं। हमारे मॉड्यूलर प्रॉडक्ट्स बेहतर क्वालिटी वाले हैंहम डिज़ाइन एंट्रेप्रेन्योर्स को सक्षम बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं ताकि ग्राहकों को शानदार अनुभव मिले सके। जिसकी वजह से लिवस्पेस पर्याप्त बाजार हिस्सेदारी हासिल करने के लिए तैयार है।

नये बाजारों में लिवस्पेस के विस्तार में डिजाइन एंट्रेप्रेन्योर्स और फ्रेंचाइजी पार्टनर्स की भूमिका के बारे में बताते हुए, न्यू बिजनेस इनिशिएटिव्स के एवीपी, ललित मित्तल ने कहा कि “हमें अपने संपन्न पार्टनर इकोसिस्टम पर गर्व है और अपनी पहलमें शामिल होने के लिए उत्साही एंट्रेप्रेन्योर्स को आमंत्रित करते हैं। वे लिवस्पेस के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं ताकि नए शहरों में गृहस्वामियों से किये गये वादे को सफलतापूर्वक पूरा किया जा सके।"

लिवस्पेस भारत और एपीएसी क्षेत्र दोनों में तेजी से विस्तार कर रहा है। भारत में, कंपनी की योजना अगले 12-18 महीनों में 30 भारतीय शहरों में विस्तार करने की है, जिनमें मैसूर, लखनऊ, मैंगलोर और सूरत जैसे बाजार शामिल हैं। बाजार में उतरने के बाद, फ्रैंचाइज़ी के स्वामित्व वाले दसियों एक्सपीरियंस सेंटर (ईसी) के जरिये इसके रिटेल फुटप्रिंट्स की संख्या भी बढ़ेगी। एपीएसी क्षेत्र में, लिवस्पेस ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया और इंडोनेशिया जैसे बाजारों का गहराई से मूल्यांकन कर रहा है।