बंद मुट्ठी में गणतंत्र कसे- डॉ.एम.डी.सिंह

बंद मुट्ठी में गणतंत्र कसे 
मन में सबके वह मंत्र बसे 

भटके न कभी कोई पथ से
छिटके न कभी कोई रथ से
सबके नाक एक नकेल हो 
बंध रहें सब एक ही नथ से

कभी कोई ना अन्यत्र हंसे 
मन में सबके वह मंत्र बसे 

पुर्जा हिले न एक यंत्र का
न खंडित हो एक शब्द मंत्र का
तभी देश गतिमान रहेगा
समगति चले हर अंग तंत्र का

रग रग में जीवन जन्त्र रसे
मन में सबके वह मंत्र बसे 

दुश्मन ढूंढ रहे हैं अवसर
रहे खेल दिन-प्रतिदिन चौसर 
फिर महाभारत न हो जाए 
पढ़ना होगा हमको अरिसर

कहीं आ न फिर परतंत्र ठ॔से
मन में सबके वह मंत्र बसे

गणतंत्र हमारा अटल रहे
डॉ. एम.डी.सिंह




Popular posts
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
पियाजियो व्ही।कल्सऔ ने जयपुर में राजस्था न के अपनी तरह के पहले इलेक्ट्रिक व्हीजकल (ईवी) एक्सेपीरियेंस सेंटर का उद्घघाटन किया
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image
‘‘एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता’’, यह कहना है एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ की तन्वी डोगरा का
Image