बंद मुट्ठी में गणतंत्र कसे- डॉ.एम.डी.सिंह

बंद मुट्ठी में गणतंत्र कसे 
मन में सबके वह मंत्र बसे 

भटके न कभी कोई पथ से
छिटके न कभी कोई रथ से
सबके नाक एक नकेल हो 
बंध रहें सब एक ही नथ से

कभी कोई ना अन्यत्र हंसे 
मन में सबके वह मंत्र बसे 

पुर्जा हिले न एक यंत्र का
न खंडित हो एक शब्द मंत्र का
तभी देश गतिमान रहेगा
समगति चले हर अंग तंत्र का

रग रग में जीवन जन्त्र रसे
मन में सबके वह मंत्र बसे 

दुश्मन ढूंढ रहे हैं अवसर
रहे खेल दिन-प्रतिदिन चौसर 
फिर महाभारत न हो जाए 
पढ़ना होगा हमको अरिसर

कहीं आ न फिर परतंत्र ठ॔से
मन में सबके वह मंत्र बसे

गणतंत्र हमारा अटल रहे
डॉ. एम.डी.सिंह




Comments
Popular posts
मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी, सोशल मीडिया पर लोग दे रहे श्रद्धांजलि
Image
पार्षद प्रत्याशियों की अधिकृत सूची जारी, सूची में देखें किस वार्ड से कौन है भाजपा का प्रत्याशी
Image
लोगों की बुनियादी समस्याएं हमारी प्राथमिकता - अपना दल (एस) समर्थित निर्दलीय महापौर प्रत्यासी कैलाश गावंडे
Image
महापौर एवं पार्षद पद उम्मीदवारों की सूची; देखें कौन–कौन उम्मीदवार है, जिन्होंने नामांकन वापिस नहीं लिया
Image
सेंट-गोबेन इंडिया ने रायपुर में अपने एक्‍सक्‍लूसिव ‘माय होम’ स्‍टोर का अनावरण किया
Image