एण्डटीवी के नये शो ‘येशु’ के राजा हेरोड, यानि दर्पण श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘मैं अनूठे और दिलचस्प किरदार अदा कर खुद को चुनौती देना पसंद करता हूँ’


लो
कप्रिय कलाकार दर्पण श्रीवास्तव एण्डटीवी के नये शो ‘येशु’ में किंग हेरोड की महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। एक बेबाक बातचीत में, इस कुशल अभिनेता ने बताया कि उन्हें यह रोल कैसे मिला, इसके लिये वे क्या तैयारियाँ कर रहे हैं और इस शो को दर्शकों से मिलने वाली प्रतिक्रिया का वे कितनी उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं।

1.आप अभिनय की दुनिया में कैसे आये? क्या यह पेशा आपकी पहली पसंद था?

वास्तव में अभिनय करना मेरा पहला कॅरियर आॅप्शन नहीं था; मैं शुरूआत में प्रोड्यूसर बनना चाहता था। जब मैंने असिस्टेन्ट डायरेक्टर के तौर पर शुरूआत की, तो मुझे याद है कि मैं सोचता था कि एक्टर का काम कभी खत्म नहीं होता है। जब मैंने प्रयोग के तौर पर अभिनय की शुरूआत की, तो वह मेरे लिये एक सुखद आश्चर्य था और मैं अपनी भूमिकाओं और किरदारों के साथ इतना सहज हो गया कि मैंने अभिनय ही करने का फैसला कर लिया। अब तक, मैंने जो भी भूमिकाएं की हैं, मैं उनसे संतुष्ट हूँ और येशु के लिये, मैं बहुत रोमांचित हूँ और अपने किरदार राजा हेरोड की बारीकियों में ढलने की पूरी कोशिश कर रहा हूँ।  

2.अभिनय के साथ आपका अनुभव कैसा रहा?

मेरा अनुभव बहुत संतोषजनक और इनाम मिलने जैसा रहा है। मैं भाग्यशाली हूँ कि मैंने कई शोज और फिल्मों में काम किया है, जिससे मुझे प्रतिष्ठा और आत्मविश्वास मिला है। अभिनय ने मेरे व्यक्तित्व को कई आयाम दिये हैं और मेरी पूरी यात्रा सुखद रही है। मेरा सौभाग्य है कि मैंने इस इंडस्ट्री में अपने लिये एक मुकाम बनाया है, जहाँ लोग मुझे पहचानते हैं और मेरे काम की तारीफ करते हैं।

3. आपको यह भूमिका कैसे मिली? इसके लिये आपको आॅडिशन के कितने राउंड्स से गुजरना पड़ा?

आज की महामारी की स्थिति को देखते हुए, यह एक वर्चुअल ऑडिशन था। मुझसे इस भूमिका के ऑडिशन के लिए सीधे तौर पर प्रोडक्शन द्वारा संपर्क किया गया था। इस किरदार का मुझे एक छोटा सा ब्रीफ दिया गया था जिसने मुझे काफी उत्साहित कर दिया था, और ऑडिशन देने के बाद, लगभग तुरंत ही मुझे यह भूमिका मिल गई। इस तरह के शो और भूमिकाएं किसी के पास आसानी से नहीं आती। मैं बहुत आभारी और खुश हूं कि सब कुछ सही तरह से हुआ। मैं येशु का हिस्सा बनकर बहुत ही खुश हूं और दर्शकों की प्रतिक्रिया का बेसब्री से इंतजार कर रहा हूं।

4.हमें इस शो में अपनी भूमिका के बारे में बताइए?

मैं डरावने राजा हेरोड की भूमिका निभा रहा हूं, जो शो में एक महत्वपूर्ण विरोधी है। वह एक क्रूर और अन्यायपूर्ण रोमन सम्राट के रूप में बदनाम है। वह इस शो में अपनी प्रजा पर अपना गुस्सा निकालने के लिए तैयार रहता है। वह एक स्वार्थी और ऐयाश राजा है, जो केवल अपने हित की सोचता है। वह लोगों से आदर पाकर नहीं, बल्कि उन्हें डराकर राज करता है। उस पर शैतान, यानि बुरी ताकत का प्रभाव है और वह उसी हिसाब से काम करता है। मैं उम्मीद करता हूं कि मैं इस भूमिका के साथ पूरा न्याय कर पाउं। मुझे अनूठी और दिलचस्प भूमिकाओं को निभाते हुए खुद को चुनौती देना बहुत पसंद है। अरविंद बब्बल सर के साथ काम करना मेरे लिए बड़ी खुशी की बात है, उनके दिमाग में हमेशा एक विचार रहता है, मैं उसके महत्व को बखूबी समझता हूं। हमने अभी शूटिंग शुरू की है और अब तक मेरा अनुभव बहुत अच्छा रहा है, मैं यह देखने के लिए उत्साहित हूं कि आगे मेरा किरदार कैसे बदलता है।

5.इस भूमिका में खुद को ढालने के लिए क्या आपको किसी खास तैयारी से गुजरना पड़ा? अगर हाँ, तो उसके बारे में बताइये?

अनुभव के साथ, मैं बहुत भाग्यशाली रहा हूं कि मैंने अतीत में कई अलग तरह की भूमिकाएं निभाई हैं, जिन्होंने मुझे राजा हेरोड की भूमिका को निभाने के लिए आश्वस्त होने की अनुमति दी। मैं किसी कठिन तैयारी से नहीं गुजरा हूं, लेकिन जब मैं स्क्रिप्ट पढ़ रहा था, तो उस समय मुझे इस कहानी की और इस किरदार की गहराई समझ आई और मुझे ये समझ आया कि मुझसे क्या उम्मीद की जा रही थी। वो कहते हैं न डायरेक्टर का एक्टर मैं वही हूं, जैसा कि मुझे बोला गया था मैं वही कर रहा हूं। मेरे लिए किसी भी एक भूमिका और पूरी तरह से उसकी विशेषताओं में ढलना आसान है। मैं मेरे किरदार पर अपने  दोस्तों, परिवार और प्रशंसकों की प्रतिक्रिया देखने का बेसब्री से इंतजार कर रहा हूं।

6.इसकी कहानी असल में क्या है? इस शो और दर्शकों से आपकी क्या अपेक्षाएं हैं?

‘येशु’ विशेष रूप से परोपकारी एक बच्चे की कहानी है, जो सिर्फ अच्छाई करना चाहता है और अपने आसपास खुशियां फैलाता है। सभी के लिए उसका प्यार और करुणा उन बुरी, शैतानी शक्तियों के लिये बिल्कुल विपरीत हैं, जो उनके जन्म और बचपन के दौरान मौजूद थीं। अपनेे परिवार और समाज पर होने वाले अत्याचारों ने उन्हें काफी प्रभावित किया। दूसरों की मदद करने और उनके दर्द को कम करने की कोशिश अक्सर उन्हें उस राह पर ले जाती थी, जहां वह निश्चित रूप से आहत होते थे और न सिर्फ उत्पीड़कों बल्कि एक बड़ी संख्या में लोगों द्वारा भी उनकी निंदा की जाती थी। लेकिन आखिरकार ये चीजें भी उन्हें उनके रास्ते पर चलने से नहीं रोक पाईं। यह कहानी अच्छाई बनाम बुराई के बीच की सिर्फ एक आदर्श कहानी ही नहीं है, बल्कि यह येशु और उनकी समर्थक एवं मार्गदर्शक बनीं उनकी मां के बीच के खूबसूरत रिश्ते को भी दर्शाता है। येशु हिन्दी के सामान्य मनोरंजन चैनल के क्षेत्र में एण्डटीवी द्वारा पहली बार दिखाई जा रही एक अनकही और अनसुनी कहानी है, जिसका काॅन्सेप्ट पूरी तरह नया और अलग है। मैं इस शो के बेहतरीन कलाकारों के साथ काम करने का इंतजार कर रहा हूँ, जिनमें कई अन्य महान कलाकार शामिल हैं। मुझे यकीन है कि यह शो दर्शकों के दिल को छूएगा और वे इसे स्वीकार करने के साथ-साथ इसकी तारीफ भी करेंगे। हम सभी बहुत उत्साहित हैं और अपने दर्शकों की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे हैं।