देश में पहली बार सिंगल गर्ल पैरेंट्स के लिए आयोजित ऑनलाइन टॉक शो मे "मेरी लाडो"

  • लड़कियों के जन्म को अभिशाप समझने वाली दूषित मानसिकता के खिलाफ जागरूकता अभियान
  • चार राउंड में संपन्न हुई प्रतियोगिता
  • अलग अलग शहरों से सपरिवार जुड़ें प्रतिभागी

इंदौर। देशभर में पहली बार सिंगल गर्ल पैरेंट्स के लिए आयोजित किए गए ऑनलाइन प्रतियोगिता व टॉक शो "मेरी लाडो" में पहुंचे परिवारों ने बच्चे के रूप में एक मात्र लड़की होने पर ख़ुशी जाहिर की साथ ही शो के दौरान एक दूसरे से जुड़ी दिलचस्प बातें भी दर्शकों के बीच रखी। चैनल के फेसबुक पेज पर लाइव प्रसारित हुए इस कार्यक्रम में इंदौर की शर्मा फैमिली से आर्किटेक्ट श्री के जी शर्मा श्रीमती डॉ अल्का शर्मा और पुत्री स्मारिका शर्माए देवास के ठाकुर परिवार से श्री कृष्णपाल सिंह ठाकुरए श्रीमती सीमा ठाकुर और पुत्री अंजनी ठाकुर व रायपुर की भट्टाचार्य फैमिली से श्री संदीप भट्टाचार्यए श्रीमती सविता भट्टाचार्य और पुत्री श्रुतिका भट्टाचार्य ने हिस्सा लिया। कुल चार राउंड्स में हुई इस प्रतिस्पर्धा के पहले फेज में कॉमन सवाल किए गए। वहीं दूसरा व तीसरा राउंड रैपिड फायर राउंड रहाए जिसमें बच्चों तथा माता.पिता को फटाफट सवालों के जवाब देने थे। आखिरी और चौथे टंग ट्विस्टर राउंड में भी सभी ने जमकर मस्ती की और अंत में शर्मा फैमिली बाजी मारने में कामयाब रही। इस मौके पर चैनल के को.फाउंडर अतुल मलिकराम ने सभी का धन्यवाद देते हुए अन्य पैरेंट्स से भी आगे आने का अनुरोध किया।  

सवाल जवाब के दौरान कृष्णपाल सिंह ठाकुर ने बताया कि यदि वह दूसरे बच्चे का सोचते तो अंजनी को जिस तरह के देखभाल की जरुरत थी वह ना दे पाते। बता दें कि अंजनी एक दिव्यांग बाल गायिका हैंए जिन्होंने अपनी खूबसूरत आवाज के दम पर कई राष्ट्रीय पुरस्कार अपने नाम किए हैं। वही संदीप भट्टाचार्य ने कहा कि लड़के अक्सर मां बाप से दूर हो जाते हैं लेकिन बेटियां हमेशा रिश्ता जोड़े रखती हैं। उन्होंने कहा कि लडकियां ज्यादा इमोशनल लेकिन लड़कों से अधिक समझदार होती हैं। इसके आलावा शर्मा परिवार ने एक मात्र लड़की के सवाल पर कहा कि आर्थिक स्थिति के कारण हम दूसरा बच्चा नहीं करना चाहते थे और हमारी सोच थी कि एक ही बच्चे के लिए सब कुछ कर सकें भले वह लड़का हो या लड़की।

कार्यक्रम के अंत में अंजनी ठाकुर की मनमोहक आवाज में एक मधुर गाना भी सुनने को मिला। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य एकलौती लड़की के पैरेंट्स के लिए सामाजिक रूप से होने वाली चुनौतियों व लड़कियों के जन्म को अभिशाप समझने वाली दूषित मानसिकता के खिलाफ लोगों को जागरूक करना था। गौरतलब है कि चैनल द्वारा ऐसे ही कई अन्य सामाजिक पहलुओं को कवर करने का प्रयास किया जा रहा है। जिसमें वरिष्ठ नागरिकों के लिए करियर खोज और स्टार्टअप आइडियाज के लिए आत्मनिर्भर युवा जैसे वेबिनार शोज आदि शामिल हैं।

Popular posts
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
“कॉमेडी मेरे लिए एक नया क्षेत्र है” : मनोज बाजपेयी
Image
पियाजियो व्ही।कल्सऔ ने जयपुर में राजस्था न के अपनी तरह के पहले इलेक्ट्रिक व्हीजकल (ईवी) एक्सेपीरियेंस सेंटर का उद्घघाटन किया
Image
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image