कविता 'पिता का घर' -डॉ.एम.डी.सिंह
पिता का छोटा सा घर
मानो भरा पूरा शहर
मां की लोरियां 
बच्चों की किलकारियां 
भाई बहनों की हंसी 
दादा दादी का आशीर्वाद 
आगत का आव भगत 
पथिक को विश्राम 

नन्हे से बक्से में 
तह-तह बैठे 
पाँव समेटे लोग
सलवटों से खुश 

पिता की छाती आकाश 
मां की बांहें क्षितिज 
हर शब्द का अर्थ 
हर अर्थ में खुशी

अब बच्चों का घर अपना है
माता- पिता के लिए सराय
बहनों के लिए चांद 
भाइयों के लिए सपना है

एक बड़े से बक्से में
कुछ सिक्के झगड़ते हैं

      - डॉ.एम.डी.सिंह 
('मुट्ठी भर भूख से' सन 2004 में लिखी मेरी एक कविता)
डॉ एम डी सिंह, महाराजगंज (गाजीपुर उत्तर प्रदेश-में पिछले पचास सालों  से होमियोपैथी  के  चिकित्स्क के रूप में  कार्यरत हैं)
Comments
Popular posts
मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी, सोशल मीडिया पर लोग दे रहे श्रद्धांजलि
Image
पार्षद प्रत्याशियों की अधिकृत सूची जारी, सूची में देखें किस वार्ड से कौन है भाजपा का प्रत्याशी
Image
लोगों की बुनियादी समस्याएं हमारी प्राथमिकता - अपना दल (एस) समर्थित निर्दलीय महापौर प्रत्यासी कैलाश गावंडे
Image
महापौर एवं पार्षद पद उम्मीदवारों की सूची; देखें कौन–कौन उम्मीदवार है, जिन्होंने नामांकन वापिस नहीं लिया
Image
सेंट-गोबेन इंडिया ने रायपुर में अपने एक्‍सक्‍लूसिव ‘माय होम’ स्‍टोर का अनावरण किया
Image