क्षिप्रा तट पर 11 फीट उंचे रावण का होगा दहन

  • कोरोना महामारी के कारण आमजन का प्रवेश वर्जित होगा

  • लाईव प्रसारण से घर बैठे दशहरा उत्सव मनाने का अनुरोध


उज्जैन। पुण्य सलिला मां क्षिप्रा के पावन तट पर स्थित कार्तिक मेला प्रांगण में विजयादशमी महोत्सव इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण सांकेतिक रूप में मनाया जा रहा है। 25 अक्टूबर रविवार को यहां 11 फीट के रावण के पुतले का दहन किया जाएगा जिसका लाईव प्रसारण होगा ताकि आम जन घर में ही रहकर सुरक्षित रहते हुए रावण दहन का आनंद ले सकें।
विजयादशमी महोत्सव समिति के चेतन प्रेमनारायण यादव ने बताया कि स्व. प्रेमनारायण यादव व स्व. राम भैया यादव की स्मृति में आयोजित होने वाले रावण दहन उत्सव में इस वर्ष 11 फीट उंचे रावण का निर्माण किया जा रहा है। समिति ने शहरवासियों से अपील की है कि कोरोनाकाल में सुरक्षा को देखते हुए लाईव टेलीकास्ट के माध्यम से परिवार के साथ रहकर दशहरा उत्सव मनाएं। रावण दहन स्थल पर आमजन का प्रवेश वर्जित होगा इसलिए महाकाल भक्ति के माध्यम से रावण दहन का सीधा प्रसारण किया जाएगा। रावण के पुतले का निर्माण राम लखन के निर्देशन में किया जा रहा है। भगवान श्रीराम लक्ष्मण की सवारी व देवगुरू बृहस्पति महाराज की पालकी परंपरानुसार कार्तिक मेला प्रांगण पर पहुंचेंगी। पूजन विधि पं. आशीष गुरू संपन्न कराएंगे।
उल्लेखनीय है कि पं. आनंदशंकर व्यास एवं पं. राधेश्याम उपाध्याय की प्रेरणा से उपमहापौर स्व. प्रेमनारायण यादव समिति के सदस्यों ने नागरिकों की सुविधा की दृष्टिगत वर्ष 1983 से इस आयोजन की शुरूआत की थी, इस वर्ष भी भगवान श्रीराम एवं रावण युध्द के मध्य समर क्षेत्र में संवाद होंगे। महोत्सव समिति के संरक्षक नवनीत नीमा, अध्यक्ष पं. आनंदशंकर व्यास, उपाध्यक्ष राधेश्याम, प्रेमसिंह यादव, कैलाश विजयवर्गीय, हरनामसिंह यादव, अजय यादव तथा समिति के सदस्यों ने नागरिकों से अपील की है कि घर पर रहकर ही दशहरा उत्सव का आनंद लें।