आज की बात-आपके साथ - विजय निगम

🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻
प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 16अक्टूबर 2020 शुक्रवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
 A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मी प्रसिद्ध ड्रीमगर्ल, अभिनेत्री,लेखिका,फिल्म-निर्देशिका,
नृत्यांगना सांसद हेमा मालिनी जी का जीवन परिचय  लेख. 
C आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌲🌸🌲🌹💐💐🌻
  (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
💥(A/1) क्रिकेट के लिए छोड़ी बोर्ड परीक्षा,: मजदूरी कर स्वयं बनाई क्रिकेट  पिच: जानिए IPL T20 -20 में खेल रहे राजस्थान के क्रिकेटर रवि विश्नोई की कहानी।💥
💥(A/2)बिहारविधानसभा चुनाव:-
सीएम नीतीश कुमार की चुनावी सभा में मची गडबड पंडाल भीउड़ गया ये रहा हे कारण💥
💥(A/3)देश की इस बड़ी कम्पनी को आज हर मिनिट में  रूपए 214 करोड़ का नुक़सान हुआ।जानिए कौन सी है ये कंपनी ।💥
💥(A/4) हैप्पी बर्थडे अली फजल:
बॉलीवुडमें छोटेछोटे रोल से प्रारंभकरने
वालेअभिनेताअली फजलआज बॉली
वुड के टॉप एक्टर में शामिल:उन्हें जन्म
दिन की बधाई।💥
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(A)कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)
💥(A/1) क्रिकेट के लिए छोड़ी बोर्ड परीक्षा,: मजदूरी कर स्वयं बनाई क्रिकेट  पिच: जानिए IPL T20 -20 में खेल रहे राजस्थान के क्रिकेटर रवि विश्नोई की कहानी।💥
नई दिल्ली। आईपीएल (IPL) एक ऐसा मंच हैजहांनए खिलाड़ियोंकोचांस मिलते हैं।यह बात एक बार फिर साबित हो गई जब राजस्थान के खिलाड़ी रवि बिश्नोई को किंग्स इलेवन पंजाब की टीमने IPL  2020  की नीलामी में 2 करोड़ रुपए में खरीदा गया था। बता दें कि रवि बिश्नोई  का जन्म राजस्थान के जोधपुर जिले में 5सितंबर,वर्ष 2000 में हुआथा। बचपन सेक्रिकेटको लेकरजुनूनी बिश्नोईनेअपना
कॅरियर बनाने के लिए बोर्ड परीक्षा तक नहीं दी थी। यहां तक कि धन के अभाव में खुद मजदूरी करते हुए पिच तैयार कर प्रैक्टिस की। आईए जानते हैं बिश्नोई के संघर्ष से सफलता की कहानी...
  ❤️शमी को दे रहे हैं कड़ी टक्कर❤️
बिश्नोई अब तक आईपीएल 2020 में 27 ओवरों में 212 रन देखकर 8 विकेट चटका चुके हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 29 रन देकर तीन विकेट है। बात करें अन्य भारतीय गेंदबाजों की तो जसप्रीत बुमराह ने सबसे ज्यादा 11 विकेट, युजवेंद्र चहल ने 10 विकेट और मोहम्मद शमी ने अब तक 10 विकेट चटकाए हैं। अगर इन गेंदबाजों के एक्सप्रीरियस को देखे तो स्पिनर रवि बिश्नोई नए होने के बाद भी उन्हें कड़ी टक्कर देते नजर आ रहे हैं।
❤️खुद पिच बनाकर की प्रैक्टिस❤️
रवि जोधपुर के रहने वाले हैं, जहां कोई क्रिकेट पिच नहीं थी। वे बचपन से ही क्रिकेट को लेकर जुनूनी थे। रवि बिश्नोई जैसेबच्चों के लिए जोधपुर में शाहरुख पठानऔर प्रद्योत सिंह नाम के दो दोस्तों नेएकेडमी खोलने का फैसलाकिया, लेकिन उनके पर्याप्त धन नहीं था। ऐसे में रवि जैसे बच्चों ने उनकी मदद की। खर्च कम हो इसके लिए लोगों ने खुद ही मजदूरी का काम करके पिच तैयार करवाई। खुद बिश्नोई सिमेंट का बैग लेकर एकेडमी पहुंचाते, पत्थर तोड़ते थे ताकि मजदूरी का खर्च बचाया जा सके। उनकी मजदूरी करने से जो पैसे बचे उससे एक्सपर्ट्स को बुलाकर अकेडमी की क्रिकेट पिच तैयार की गई थी।
❤️क्रिकेट के लिए छोड़ दी थी बोर्ड की परीक्षा❤️
रविके पिता सरकारी स्कूल में हेडमास्टर
 थे। वे चाहते थे कि उनका बेटा क्रिकेट काजुनून छोड़कर पढ़ाई में ध्यान दे। तब रवि बिश्नोई के कोच ने उनके पिता को समझाया।बाद में उन्हें राजस्थान रॉयल्स टीम के लिए नेट पर गेंदबाजी करने का अवसर मिला। इस मौके को भुनाने के लिएउन्होंने बोर्ड की परीक्षा तक छोड़ दी थी।उन्होंनेकोच की सलाह केबादक्रिकेट
 को अपना कॅरियर चुना।
❤️अंडर-19 वर्ल्ड कप में रहे थे मैन ऑफ द मैच❤️
वर्ष 2019 में बिश्नोई को अंडर-19 वर्ल्ड कप में खेलने का मौका मिला। 21 जनवरी, 2020 में भारत का मुकाबला जापान से था। इसमें बिश्नोई ने 8 ओवर में 5 रन देखकर 4 विकेट चटकाए थे। इस मैच में भारत की 10 विकेट से जीत हुई। शानदार गेंदबाजी के प्रदर्शन के लिए बिश्नोई को इस मैच में मैन ऑफ द मैच चुना गया। इस टूर्नामेंट में वह सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी रहे थे।
🌻💐🌹🌸🌹🌹💐💐🌻💐🌻(A/2)बिहारविधानसभा चुनाव:-
सीएम नीतीश कुमार की चुनावी सभा में मची गडबड पंडाल भीउड़ गया ये रहा हे कारण❤️
नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव  को लेकर सरगर्मी तेज है। ताबड़तोड़     रैलियां जारी है। सभी पार्टियों के दिग्गज नेता प्रचार में जुट चुके हैं। इसी कड़ी में जेडीयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार  भी लगातार चुनावी रैली कर रहे हैं।लेकिन,मुंगेर जिले
 में नीतीश कुमार की चुनावी सभा में अचानक भगदड़ मच गई। लोग इधर-उधर भागने लगे। यहां तक पंडाल भी उड़ गया। लेकिन, गनीमत ये रही कि कोई अप्रिय घटना नहीं घटी।
❤️नीतीश कुमार की चुनावी सभा में मची अफरा-तफरी❤️
जानकारी के मुताबिक, मुंगेर जिला के तारापुर विधानसभा सीट पर जेडीयू प्रत्याशी के लिए नीतीश कुमार प्रचार करने पहुंचे थे। लेकिन, सभा स्थल पर हेलीकॉप्टर लैंडिंग के दौरान अचानक अफरा-तफरी मच गई। बताया जा रहा है कि लैंडिंग के दौरान तेज के कारण सभा स्थल पर जो पंडाल लगाया गया था, वह उड़ गया। पंडाल के उड़ते ही सभा स्थल पर अचानक भगदड़ मच गई। लोग इधर-उधर भागने लगे। कुछ देर के लिए मौके पर दहशत का माहौल कायम हो गया। लेकिन, पुलिसकर्मियों ने बिना देरी हालात पर काबू पा लिया। लेकिन, इस दौरान किसी प्रकार की कोई घटना नहीं घटी।
    ❤️चुनावी स्थल पर उड़ा पंडाल❤️
बताया जा रहा है कि आरएसके उच्च विद्यालय के मैदान में नीतीश कुमार की चुनावी सभा थी। हेलीपैड पर लैंडिंग से पहले हेलीकॉप्टर के पंखे के कारण तेज हवा बहने लगी। कुछ लोगों का कहना है कि पंडाल को ठीक से नहीं बांधा गया था।जिसके कारण पंडाल उड़ गया वहीं, एक शख्स का कहनाहै किवहबाल-बाल
 बच गए। लेकिन, मौके पर काफी समय तक अफरा-तफरी का माहौल गर्म रहा। यहां आपको बता दें कि राज्य में दूसरे चरण के लिए नामांकन जारी है। कई दिग्गज एक के बाद एक चुनावी सभा कर रहे हैं। वहीं, राज्य में दल-बदल, गठबंधन की राजनीति भी चरम पर है। गौरतलब है कि 28 अक्टूबर को सूबे में पहले चरण का मतदान है। जबकि, 10 नवंबर को परिणाम घोषित किए जाएंगे
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐❤️(A/3)देश की इस बड़ी कम्पनी को आज हर मिनिट में  रूपए 214 करोड़ का नुक़सान हुआ।जानिए कौन सी है ये कंपनी ।❤️
।देश की दिग्गजआईटी कंपनियों में से एक इंफोसिस के शेयर 9 बजकर 10 मिनट पर 52 हफ्तों की उंचाई पर पहुंच गए थे। 9 बजकर 15 मिनट के बाद से बाजारमें गिरावट का दौर शुरू हुआ और कंपनीके शेयरों में भी गिरावट देखने को मिली और 11 बजकर 50 मिनट यानी इन 150 मिनटों के अंतराल में कंपनी ने प्रत्येकमिनट औसतन 214 करोड़ रुपए कानुकसान हुआ।अबअंदाजालगासकते 
हैं कि कंपनी को इस दौरान कितना हो चुका होगा। जबकि 52 हफ्तों की उंचाई पर पहुंचने के बाद कंपनी का मार्केट कैप भी 5 लाख करोड़ रुपए केे उपर चला गया था।
❤️कंपनी के शेयरों में 2 फीसदी से ज्यादा की गिरावट❤️
मौजूदा समय में कंपनी के के शेयरों में 2 फीसदी से ज्यादा की गिरावट की देखने को मिल रही है। 12 बजे कंपनी का शेयर 2.13 फीसदी की गिरावट के साथ 1111.90 रुपए पर कारोबार कर रहा है। जबकि आज कंपनी का शेयर 1184रुपए पर खुला था।जबकिबुधवार
 को कंपनी का शेयर 1136.10 रुपए पर बंद हुआ था।
❤️52 हफ्तों की उंचाई पर पहुंचा कंपनी का शेयर❤️
आजप्री ओपन मार्केट में कंपनी के शेयर मेंजबरदस्त तेजी देखने को मिल रहीथी। कंपनीका शेयर करीब 5फीसदी कीतेजी के साथ कारोबार कर रहा था। जिसकी बदौलत कंपनी के शेयर के दाम 1185 रुपए केसाथ 52 हफ्तों कीनई उंचाई पर पहुंच गया।यानी कल के मुकाबलेकंपनी केशेयर मेंकरीब50 रुपए की तेजीदेखने 
को मिली। जबकि कंपनी का शेयर दिन के सबसे निचले स्तर 1100 रुपए पर भी पहुंचा।
❤️5 लाख करोड़ रुपए के पार गया कंपनी का मार्केट कैप❤️
खास बात तो ये है कि आज कंपनी का मार्केट कैप 5 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंचा। ऐसा पहली बार हुआ कि कंपनी ने मार्केट कैप ने 5 लाख करोड़ रुपए के स्तर को छुआ है। जबकि कंपनी का शेयर प्राइस 1185 रुपए था, तब कंपनी का मार्केट कैप 504740.277 करोड़ रुपए था। जबकि 11 बजकर 50 मिनट पर कंपनीकामार्केट कैप 4,72,645.61 करोड़ रुपए पर कारोबार कर रहा था।
हर मिनट में गंवाए 214 करोड़ रुपए
वास्तव में कंपनी के शेयर प्राइस 52 हफ्तों की उंचाई पर प्री ओपन मार्केट के दौरान पहुंचे। उस वक्त कंपनी का मार्केट कैप 504740.277 करोड़ रुपए था। उसके बाद बाद से कंपनी के शेयरों में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। 11 बजकर 50 मिनट पर कंपनी का मार्केट कैप 4,72,645.61 पर आ गया। यानी इन 150 मिनट में कंपनी के मार्केट कैप में 32094.66 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। अगर इस प्रत्येक मिनट के नुकसान के हिसाब से देखें तो कंपनी को 214 प्रति मिनट का नुकसान हुआ है।अच्छेआएथे इंफोसिसकेआंकड़े 
दूसरी तिमाहीके आंकड़ों के अनुसार
इन्फो सिस इस तिमाही में कंपनी का कंसोलिडे टेड मुनाफा 14.4 फीसदी की बढ़त के साथ 4,845 करोड़ रुपए हो गया है। कंपनी की आय तिमाही आधार पर 3.8 फीसदी बढ़कर 24,570 करोड़ रुपए हो गई।वहीं कंपनी की डॉलर आय पिछलीतिमाही की तुलना में 6.1फीसदी की बढ़त के साथ 331.2 करोड़ डॉलर रही है। कंपनी की कांस्टैंट करेंसी रेवेन्यू ग्रोथ 4 फीसदी देखने को मिली। कंपनी नेफिस्कलईयर 2020-21के लिए अपने रेवेन्यू ग्रोथगाइडेंस को बढाकर 2-3 फीसदी कर दिया है।
🌻💐🌹🌸🌲🌹💐💐🌻💐💥(A/4) हैप्पी बर्थडे अली फजल:
बॉलीवुडमें छोटेछोटे रोल से प्रारंभकरने
वालेअभिनेताअली फजलआज बॉली
वुड के टॉप एक्टर में शामिल:उन्हें जन्म
दिन की बधाई।💥
नई दिल्ली: बॉलीवुड एक्टर अली फजल आज अपना 34वां जन्मदिन मना रहे है। 15 अक्टूबर 1986 को उत्तर प्रदेश के लखनऊ में जन्मे अली आज बॉलीवुड के टॉप एक्टर्स में शामिल होते हैं। स्कूली पढ़ाई अली ने देहरादून से की। उसके बाद मुंबई के सेंट जेवियर कॉलेज से ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत बतौर मॉडल की थी। वह एक स्टेज शो में परफॉर्म कर रहे थे कि तभी डायरेक्टर राजू हिरानी की नजर उनपर पड़ी। इसके बाद उन्होंने अली फजल को अपनी फिल्म '3 इडियट्स' के लिए साइन किया। हालांकि फिल्म में उनका रोल काफी छोटा था लेकिन इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।
अगर आपको याद नहीं है कि अली फजल ने '3 इडियट्स' में कौन सा रोल निभाया था तो बता दें कि उन्होंने एक इंजीनियरिंग छात्र 'जॉय लोबो' का रोल किया था, जो कॉलेज में पढ़ाई से जुड़े दबाव के चलते सुसाइड कर लेता है। इस फिल्म के बाद उन्होंने कई फिल्मों में काम किया लेकिन असली पहचान उन्हें 'फुकरे' से मिली। इस फिल्म को दर्शकों द्वारा काफी पसंद किया गया था। अली फजल ने बॉलीवुड से हॉलीवुड तक में अपनी पहचान बनाई है। हाल ही में उनके हाथ एक बड़ा प्रोजेक्ट लगा है। वह जॉनी वॉकर के बेस्ट सेलर उपन्यास कोडनेम पर बन रही फिल्म में मुख्य भूमिका निभाने वाले हैं।
इसके साथ ही हाल ही में उनकी वेब सीरीज 'मिर्जापुर 2' का ट्रेलर रिलीज किया गया है। इस वेब सीरीज के जरिए उन्होंने अपनी एक अलग ही छाप छोड़ी है। सीजन 1 के सुपरहिट होने के बाद से ही ऑडियंस को इसके दूसरे सीजन का बेसब्री से इंतजार था। ऐसे में जब 'मिर्जापुर 2' का ट्रेलर रिलीज किया गया तो लोगों ने इसे काफी पसंद किया है। इस सीरीज में अली फजल गुड्डू भईया के रोल में नजर आते हैं।
इसी के साथ इन दिनों ऐसी भी खबरें हैं किअलीफजलजल्द ही अपनी लॉन्ग
टाइम गर्लफ्रेंड ऋचा चड्ढा से शादी करने वाले हैं। पहले दोनों इसी साल अप्रैल में शादी करने वाले थे लेकिन कोरोना के चलते शादी को पोस्टपोन्ड करना पड़ा। दोनों अब कोरोना खत्म होने के बाद सात फेरे लेंगे। अली और ऋचा की मुलाकात फुकरे के सेट पर हुई थी। उसके बाद से ही दोनों एक-दूसरे को डेट कर रहे हैं।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💥(B)आज के दिन जन्मी प्रसिद्ध ड्रीम
गर्ल,अभिनेत्री,लेखिका,फिल्मनिर्देशिका
नृत्यांगना सांसद हेमा मालिनी जी का जीवन परिचय  लेख.💥 
हेमा मालिनी(16 अक्टूबर 1948) एक
भारतीय अभिनेत्री,लेखिका,फिल्म-निदे
शक,नृत्यांगना और राजनेता हैं।इन्होंने
अपनेफिल्मीकरियरकाआरम्भ राजकपूर
केसाथफ़िल्म'सपनों का सौदागर' सेकी।वेड्रीमगर्ल'नाम से प्रसिद्धहैं1981में आप नेअभिनेताधर्मेन्द्र से विवाह किया।येअब
भीफ़िल्मोंमेंसक्रिय हैं।एवम् हेमामालिनी वर्तमान में मथुरा(उत्तर प्रदेश)सेभारतीय जनतापार्टी की लोकसभा की सांसद हैं।
                  हेमा मालिनी
             सांसद, लोक सभा
पदस्थ:-कार्यालय ग्रहण 
16 मई 2014 से अब तक पूर्वाधिकारी:-जयंत चौधरी
चुनाव-क्षेत्र:-मथुरा 
मनोनीत:-सांसद,राज्यसभा
पदबहाल:16नव 2003-16नव2009


पूर्वाधिकारी:-मृनाल सेन
उत्तराधिकारी:-जावेद अख्तर
जन्म:-16अक्टूबर 1948 (आयु 71)
जन्मस्थल:- मद्रास, भारत
राष्ट्रीयता:-भारतीय
दल:-भारतीय जनता पार्टी
जीवनसंगी:-धर्मेन्द्र (विवाह 1980)
बच्चे:-  ,ईशा देओल सहित 2
व्यवसाय:अभिनेत्री,निर्देशक,राजनीतिज्ञ
पुरस्कार/सम्मान:-पद्मश्री (2000)
भरतनाट्यम्  
हेमामालिनी बालीवुड की उन गिनी-चुनी अभिनेत्रियों में शामिल हैं, जिनमें सौन्दर्य औरअभिनय का अनूठा संगम देखने को मिलता है।लगभग चार दशक के कैरियर में उन्होंने कई सुपरहिट फिल्मों में काम कियालेकिन कैरियर के शुरुआती दौर में उन्हेंवह दिन भी देखना पड़ा थाजब एक निर्माता-निर्देशक ने उन्हें यहां तक कह दिया था कि उनमें स्टार अपील नहीं है।
हेमा मालिनी ने जब फिल्म इंडस्ट्री में कदमरखा ही थातब एकतमिल निर्देशक श्रीधर ने उन्हें अपनी फिल्म में काम देने सेयहकहते हुए इन्कार करदियाकि उनमें स्टारअपीलनहीं है।बाद में सत्तर केदशक
में इसी निर्माता-निर्देशक ने उनकी लोक
प्रियताकोभुनाने के लिएउन्हेंलेकर1973
में(गहरी चाल)फिल्म का निर्माण किया।
हेमामालिनीफिल्म इंडस्ट्रीमें जगह बनाने केलिए1968तकसंघर्ष करतीरहींलेकिन 
उन्हेंकामनहींमिला।वह साल उनके सिने कैरियर का सुनहरा वर्ष साबितहुआ जब उन्हेंसुप्रसिद्ध निर्माता-निर्देशकऔरअभि
नेताराजकपूरकी फिल्म(सपनोंका सौदा
गर)मेंपहलीबार नायिका के रूप में काम करनेका मौका मिला।फिल्म के प्रचार के दौरान हेमा मालिनी को।ड्रीम गर्लके रूप में प्रचारित किया गया।बदकिस्मती से फिल्मटिकटखिडकी परअसफल साबित हुईलेकिनअभिनेत्रीकेरूप मेंहेमामालिनी को दर्शकों ने पसंद कर लिया।जया चक्र
वर्ती फिल्म निर्माता थीं   घर  में  फिल्मी माहौल होने से हेमा मालिनी का झुकाव भीफिल्मों कीओरहो गया।उन्होंने अपनी
प्रारंभिक शिक्षा चेन्नई से पूरी की। वर्ष 1961मेंहेमामालिनी को एक लघु नाटक
पांडव वनवासम में बतौर नर्तकी काम करने का अवसर मिला।हेमामालिनी को
पहली सफलता वर्ष 1970 में प्रदर्शित फिल्म (जॉनी मेरा नाम) से हासिल हुई। इसमेंउनके साथ अभिनेता देवानंद मुख्य भूमिका में थे।फिल्म में हेमाऔर देवानंद कीजोड़ीकोदर्शकोंनेसिरआंखों पर लिया और फिल्म सुपरहिट रही। हेमा मालिनी को प्रारंभिक सफलता दिलाने में निर्माता
निर्देशक रमेशसिप्पी की फिल्मोंका बड़ा योगदान रहा।उन्हेंपहलाबड़ा ब्रेक उनकी ही फिल्म (अंदाज)1971 से मिला। इसे महज संयोग कहा जाएगा कि निर्देशक केरूपमें रमेशसिप्पी की यहपहलीफिल्म
थी।इस फिल्म में हेमा मालिनी ने राजेश खन्ना की प्रेयसी की भूमिका निभाई जो उनकीमौतके बाद नितांतअकेलीहोजाती
है।अपने इस किरदार को हेमा मालिनी ने इतनी संजीदगीकि दर्शक उस भूमिका को आज भी भूल नहीं पाए हैं।
वर्ष1972 में हेमामालिनीको रमेशसिप्पी
की ही फिल्म (सीता और गीता) में काम करने का अवसर मिला जो उनके सिने कैरियर के लिए मील का पत्थर साबित हुई।इस फिल्म की सफलता के बाद वह शोहरत की बुंलदियों पर जा पहुंचीं। उन्हें इस फिल्म में दमदार अभिनय के लिए सर्वश्रेष्ठअभिनेत्री केफिल्मफेयर पुरस्कार
सेभी सम्मानित किया गया। रमेश सिप्पी निर्देशितफिल्म सीताऔरगीता में जुडवा बहनों की कहानी थी जिनमें एक बहन ग्रामीण परिवेश में पली बढ़ी है और डरी सहमी रहती है जबकि दूसरी तेज तर्रार युवती होती है।हेमा मालिनी के लिए यह किरदार काफी चुनौती भरा था लेकिन उन्होंने अपने सहज अभिनय से न सिर्फ इसे अमर बना दिया बल्कि भविष्य की पीढ़ी कीअभिनेत्रियोंकेलिएइसे उदाहरण केरूप में पेश किया।बाद मेंइसी से प्रेरित होकरफिल्म चालबाज का निर्माण किया गया जिसमें दोहरी भूमिका वाली बहनों काकिरदारश्रीदेवीनेनिभाया हेमामालिनी
सीताऔर गीता से फिल्मइंडस्ट्री में शोह
रतकीबुलंदियोंपरपहुंचीलेकिन दिलचस्प
बात यह है किफिल्म के निर्माण केसमय
निर्देशकरमेशसिप्पी नायिका की भूमिका के लिए मुमताज का चयन करना चाहते थे लेकिनकिसी कारण से वह यह फिल्म नहीं कर सकी। बाद में हेमा मालिनी को इसफिल्ममे काम करनेकाअवसर मिला
परदे पर हेमा मालिनी की जोड़ी धर्मेन्द्र के साथ खूब जमी। यह फिल्मी जोड़ी सबसे पहले फिल्म (श्राफत) से चर्चा में आई।वर्ष 1975 में प्रदर्शित फिल्म शोले मेंधर्मेन्द्र ने वीरु औरहेमामालिनीनेबसंती
कीभूमिकामें दर्शकों काभरपूर मनोंरजन किया। हेमा और धमेन्द्र की यह जोड़ी इतनीअधिक पसंद की गई कि धर्मेन्द्र की रीललाइफकी(ड्रीम गर्ल)हेमामालिनी
उनके रीयल लाइफ की ड्रीम गर्ल बन गईं। बाद में इस जोड़ी ने ड्रीम गर्ल चरस आसपास प्रतिग्या राजा जानी रजिया सुल्तान अली बाबा चालीस चोर बगावत आतंक द बर्निंग ट्रेन चरस दोस्त आदि फिल्मों में एक साथ काम किया।
              हेमा मालिनी
वर्ष 1975 हेमा मालिनी के सिने कैरियर का अहम पड़ाव साबित हुआ। उस वर्ष उनकी संन्यासी धर्मात्मा खूशबू और प्रतिज्ञा जैसी सुपरहिट फिल्में प्रदर्शित हुई। उसी वर्ष हेमा मालिनी को अपने प्रिय निर्देशक रमेश सिप्पी की फिल्म (शोले) में काम करने का मौका मिला। इस फिल्म में अपने अल्हड. अंदाज से हेमा मालिनी ने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। फिल्म में हेमा मालिनी के संवाद उन दिनों दर्शकों की जुबान पर चढ. गए और आज भी सिने प्रेमी उन संवादों 9आरो पलगने लगे कि à ग्लैमर वाले किरदार ही निभा सकती है लेकिन उन्होंनेखुशबू 1975 किनारा1977 और मीरा 1979 जैसी फिल्मों में संजीदा किरदार निभाकर अपने आलोचकों का मुंह हमेशा के लिए बंद कर दिया। इस दौरानहेमामालिनी केसौंदर्यऔरअभिनय
काजलवाछाया हुआ था। इसी को देखते हुए निर्माता प्रमोद चक्रवर्ती ने उन्हें लेकर फिल्मड्रीमगर्लका निर्माणतककर  दिया।
वर्ष 1990 में हेमा मालिनी ने छोटे पर्दे की ओर भी रूखकिया और धारावाहिक नुपूर का निर्देशन भी किया। इसके बाद वर्ष 1992 में फिल्म अभिनेता शाहरूख खानको लेकरउन्होंनेफिल्म(दिलआशना
है) का निर्माण और निर्देशन किया। वर्ष 1995 में उन्होंने छोटेपर्दे के लिएमोहिनी
का निर्माण और निर्देशन किया।
फिल्मों में कई भूमिकाएं निभाने के बाद हेमामालिनी ने समाजसेवा केलिए राज
नीतिमें प्रवेश किया और भारतीय जनता पार्टीकेसहयोग से राज्य सभा की सदस्य बनीं।हेमा मालिनी को फिल्मों में उल्लेख
नीययोगदानकेलिए1999 में फिल्म
फेयर का लाइफटाइम एचीश्री सम्मान से भी सम्मानित की गईं।
हेमा मालिनी ने अपने चार दशक के सिने कैरयिर में लगभग 150 फिल्मों में काम किया। उनकी कुछ उल्लेखनीय फिल्में हैं: सीता और गीता 1972, प्रेम नगर अमीर गरीब 1974, शोले 1975, महबूबा चरस 1976, ड्रीम गर्ल. किनारा 1977, त्रिशूल 1978, मीरा 1979, कुदरत, नसीब,क्रांति 1980, अंधा कानून, रजिया सुल्तान 1983, रिहाई 1988, जमाई राजा 1990, बागबान 2003, वीर जारा 2004, आदि।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(C) आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ💐
1905 - लार्ड कर्जन द्वारा बंगाल का प्रथम विभाजन।
1939 - द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी ने ब्रिटिश क्षेत्र पर पहला हमला किया।
1951 - पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री लियाकत अली खान की रावलपिंडी में गोली मारकर हत्या की गई।
1959 - राष्ट्रीय महिला शिक्षा परिषद की स्थापना।
1964 - चीन ने अपना पहला परमाणु विस्फोट किया।
1968 - हरगोविंद खुराना को चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
1984 - दक्षिण अफ्रीका के सामाजिक कार्यकर्ता डेसमंड टुटु को शांति के लिये नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया।
1996 - ग्वाटेमाला की राजधानी ग्वाटेमाला सिटी में फुटबाॅल मैच के दौरान स्टेडियम में क्षमता से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण मची भगदड़ में 84 लोगों की मौत,180 से अधिक घायल।
1999 - सं.रा. अमेरिका ने सैन्य शासन के विरोध में पाकिस्तान पर प्रतिबन्ध लगाया।
2002 - 14वें एशियाई खेलों में एक स्वर्ण और एक कांस्य पदक विजेता डोपिंट टेस्ट में असफल रहने के बाद भारत की सुनीता रानी का पदक छीना गया।
2003 - मलयाली फ़िल्मकार अडूर गोपाकृष्णन को फ़्रांस का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'कमांडर आफ़ द आर्डर आफ़ आर्ट्स एंड लैटर्स' दिया गया।
2004 - दारफुर में मरने वालों का आंकड़ा 70,000 तक पहुँचा। अमेरिका ने इराकी अबू मुसार जल जरकावी के संगठन को आतंकवादी संगठन घोषित किया।
2005-+11जी-20 देश वर्ल्ड बैंक और आईएमएफ़ में सुधार हेतु एकमत।
2011- भारतीय मूल के धावक 100 वर्षीय फ़ौजा सिंह ने सबसे अधिक उम्र में टोरंटो वाटरफ्रंट मैराथन पूरा करके नया कीर्तिमान स्थापित करते हुए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया है। उम्र का ‘शतक’ बना चुकेफ़ौजासिंह ने तालियोंकी गड़गड़ाहट के बीचआठघंटे सेअधिकसमयमेंफिनिश लाइन पार की।
2012 - सौर मंडल के बाहर एक नये ग्रह ‘अल्फा सेंचुरी बीबी’ का पता चला।
2013  l9दक्षिणपूर्व एशियाई देश लाओस के पाक्से अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरने से कुछ देर पहले लाओ एयरलाइंस के विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से 49 लोगों की मौत
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(D)आज के दिन जन्म लिए महत्त्व
पूर्ण व्यक्तित्व
1896 - सेठ गोविन्द दास - सेनानी, सांसद तथा हिन्दी के साहित्यकार थे।
1944 - लच्छू महाराज - भारत के जानेमाने तबला वादक।
1948- हेमा मालिनी- प्रसिद्ध अभिनेत्री और भरतनाट्यम् की नृत्यांगना।
1948- नवीन पटनायक- ओडिशा के 14वें मुख्यमंत्री
1905- विनय मोहन शर्मा (पं. शुकदेव प्रसाद तिवारी)- प्रसिद्ध लेखक एवं आलोचक
1995 - वेद कृष्णमूर्ति - भारतीय महिला क्रिकेटरl
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(E)आज के निधन हुवे महत्व
पूर्ण व्यक्तित्व।
1938 - प्रभाशंकर पाटनी - गुजरात के प्रमुख सार्वजनिक कार्यकर्त्ता थे।
1951 - लियाक़त अली ख़ाँ - पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री
1994 - गणेश घोष - भारतीय स्वतंत्रता सेनानी।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(F) आज का दिवस का नाम
राष्ट्रीय विधिक सहायता दिवस (सप्ताह)
विश्व खाद्य दिवस
विश्व एनेस्थीसिया दिवस
कान्हा राष्ट्रीय
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐   
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
    आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियों
को आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जयमहाकाल,बोलेसोनिहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐
💐  निवेदक;-💐
💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐