आज की बात आपके साथ - विजय निगम

          ।।ॐ गं गणपतये नमः।।
या देवी सर्वभूतेषु सर्वरूपेन्न संस्थिता
नमस्तस्यै,नमस्तस्यै,नमस्तस्यै,नमो
नम :  श्री चित्रगुप्ताय नमो नमः।।.
🌻💐🌹🌲🌲🌹💐💐🌻
प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बातआपके साथ मे आप सभी  साथीयों का दिनांक 27 अक्टूबर 2020 मंगलवार  आज के दिन  दशहरे के दूसरे दिन यानी बासी दशहरे  की प्रातः की बेला में हार्दिक बधाई, वंदन,व  अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌱🌲🌹💐💐🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
 A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मे.हिन्दी के प्रमुख आधुनिकआलोचक,सुलझे हुए विचारकऔर गहरे विश्लेषक.डॉ॰ नगेन्द्र का जीवन परिचय
C आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
   व्यक्तित्व
E आज के दिन निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज के दिवस का नाम ।
🌻💐🌲🌸🌲🌹💐💐🌻
  (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
💥(A/1)चीन में स्कूल की इमरात को
एकजगह से दूसरीजगह पर शिफ्टकिया
गया।रोबोटिंकट्रिक से एकजगहसे दूसरी जगहपर शिफ्ट करने का इंजीनियरिंग विज्ञान का नायाब नमूना💥
💥(A/2)देश भर में पाई पहलीबार:व हाई कोर्ट के इतिहास में पहली बार सुन
वाई का लाइव प्रसारण💥
💥(A/3) दो दिन में दूसरी बार भूकंप सेकांपीहिमाचल प्रदेश की भूमि।इसकी
रिएक्टरपैमाने पर तीव्रता 3.2से5 यूनिट
की मापि गई ।
💥(A/4)दशहरे के मौके पर कंगना ने संजय राउत पर कसा तंज:कंगना ने टूटे हुवे ऑफिस व घर को हैप्पी दशहरा लिखकर फूलों से सजाया।💥
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(A)कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)
💐💥(A/1)चीन में स्कूल की इमरात कोएकजगहसेदूसरीजगहपरशिफ्टकिया
गया।रोबोटिंकट्रिक से एकजगहसे दूसरी जगह पर शिफ्ट करने का इंजीनियरिंग विज्ञान का नायाब नमूना।💥
बीजिंगचीन के इंजीनियरिंग का नायाब नमूना सामने आया। यहां पर 7600 टन कीएकबिल्डिंग को रोबोटिंकट्रिक से एक जगह सेदूसरी जगह पर शिफ्ट कर दिया
। यह दुनिया के सामने मिसाल बन गया है।दरअसल चीन में स्कूल की इमारत
को एक जगह से दूसरी जगह पर शिफ्ट किया है।इसइमारत को1935 में बनाया
गयाथा।पहले इसे तोड़कर दूसरी इमारत बनाने काप्रस्ताव सामने आया था मगर इमारत के ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए इसे दूसरी जगह पर शिफ्ट करने की योजना बनाई गई।स्थानीय प्रशासन के अनुसार,इस स्कूल को दूसरी जगह पर ले जाना एक नामुमिक काम था।मगर इंजीनियरों ने तकनीक की मदद से इसे शिफ्ट कर दिया। इमारत को हटाने की प्रक्रिया का एक वीडियो भी बनाया गया है।
  💥198 रोबोटिक टूल का उपयोग💥
चीन के सरकारी मीडिया के अनुसार, इंजीनियरों ने इसके लिए 198 रोबोटिक टूल का उपयोग किया है। हजारों टन की इमारत को खिसकाकर करीब 62 मीटर दूर तक ले जाया गया। चीनी मीडिया के अनुसार, इस काम में करीब 18 दिन का समय लगा। 15 अक्टूबर को इस काम को अंजाम दिया गया।
  💥रोबोटिक लेग्स का इस्तेमाल💥
अभी तक इमारत को बड़े प्लेटफ़ॉर्म पर ज्यादाक्षमता वाली रेल या क्रेन के सहारे खींचा जाता था। इस काम में रोबोटिक लेग्स का इस्तेमाल हुआ जो पहली बार था।इससे पहले 2017 में, 135 साल पुराने बने करीब दो हज़ारटन के ऐतिहा
सिकबौद्ध मंदिरकोभी लगभग 30 मीटर तक खिसकाया गया था।इसकाम में 15 दिन तक का समय लग गया।
🌻💐🌸🌲🌹💐💐🌻💐
💥(A/2)देश भर में पाई पहलीबार:व हाईकोर्ट केइतिहास मेंपहलीबार सुनवाई का लाइव प्रसारण।💥
नई दिल्ली। गुजरात हाईकोर्ट  में पहली बार सुनवाई का लाइव प्रसारण हो रहा है। खास बात यह है कि यह हाईकोर्ट के इतिहास का पहला मामला है। गुजरात हाईकोर्ट ने घोषणा की थी कि वह सोम
वार से मुख्य न्यायाधीश विक्रम नाथ की कोर्टसे लाइव स्ट्रीमिंगकी कार्यवाही शुरू करदेगा। मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष कार्यवाही को यूट्यूब पर लाइव स्ट्रीम किया जा रहा है।
गुजरात हाई कोर्ट की सुनवाई अब आप यूट्यूब पर लाइव देख सकते हैं। गुजरात हाई कोर्ट, देश में पहला ऐसा हाई कोर्ट बन गया है, जो यूट्यूब के जरिए सुनवाई को लाईव स्ट्रीम कर रहा है।
उच्चन्यायालय केमुख्य न्यायधीश विक्रम नाथ की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष होने वाली सुनवाई को यूट्यूब पर लाइव प्रसारित किया गया। इस लाइव प्रसारण के पीछे गुजरात हाईकोर्ट ने सर्वोच्च न्यायाल के उस फैसले का उदाहरण दिया, जिसमें जिक्र किया गया था कि, जनता को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित अदालतों की सुनवाई देखने की अनुमति दी जानी चाहिए।
आपको बता दें कि कोरोना संकट के चलते देशभर में कोर्ट की सुनवाई ऑनलाइन ही की जा रही हैं। वर्चुअल सुनवाई के जरिए ही कई अहम फैसले दिए जा रहे हैं।
🌻💐🌹🌸🌲🌹💐💐🌻💐💥(A/3) दो दिन में दूसरी बार भूकंप से कांपी हिमाचल प्रदेश की भूमि  यह रिएक्टर पैमाने पर 3.2 से 3.6 यूनिट की तीव्रता मापि गई।🔥
भारत देश इन दिनों कोरोना वायरस के
संकट से जूझ रहा है।वहीं,दूसरी तरफ 
प्राकृतिक आपदाओं का कहर भी लगा
तार जारी है।ताजा मामला है हिमाचल
प्रदेश का,जहां दो दिन में दूसरी बार धरती हिली है।बताया जा रहा है कि हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किये  गये है।रिक्टरपैमाने पर भूकंप कीतीव्रता 3.6 मापी गई है। गनीमत ये है कि अभी तक जानमाल के नुकसान की कोईखबर नहीं
 है। 💥शिमला में फिर आया भूकंप💥
नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी के मुता
बिक,शिमला में सोमवार दोपहर 1 बज
कर 20 मिनट पर भूकंप के झटका मह
सूस किया गया। बताया जा रहा है कि रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 3.6 मापी गई है।गौरतलब है कि शनिवार को भी हिमाचलप्रदेश में भूंकप केझटके मह
सूस किए गए थे।भूकंप की तीव्रता 3.2 मापीगई थी।शनिवार सुबह 10 बजकर 34मिनटपर मंडी में भूकंप के झटके मह
सूस किए गए थे।हालांकि,उस दौरान भी किसीके हताहत कीकोई खबर नहीं थी।
🌻💐🌹🌲🌸🌲🌹💐💐🌻💥(A/4)दशहरे के मौके पर कंगना ने संजय राउत पर कसा तंज:कंगना ने टूटे हुवे ऑफिस व घर को हैप्पी दशहरा लिखकर फूलों से सजाया।💥 
नई दिल्ली |बॉलीवुड की क्वीन कंगना रनौतअपनेबेबाक अंदाज केलिए प्रसिद्ध
हैं।कंगनाऔर शिवसेनाकेबीच काविवाद
किसी सेछिपानहीं है।कंगना को महाराष्ट्र 
सरकारसेबहस के कारण बहुत नुकसान झेलना पड़ा था।उनके ऑफिस को BM
Cनेअवैध निर्माण बताकर अचानक बुल
डोजर चला दिया था। कंगना जब तक वहां पहुंचती तब तक उनका ऑफिस ध्वस्त किया जा चुका था। उसके बाद से कंगनानेना सिर्फ कोर्ट मेंयाचिकादाखिल
की थी बल्कि वो लगातार संजय राउत पर तंज कसती रहती हैं। दशहराके मौके पर एक बार फिर कंगना ने संजय  राउत 
पर निशाना साधा है।
💥अभिनेत्री कंंगना ने संजय राउत पर साधा निशाना💥
अभिनेत्री कंगना नेअपने टूटे हुएऑफिस
की तस्वीरें साझा कर बुराई पर अच्छाई कीजीत का मैसेज दिया है।साथ ही पप्पू सेना कहते हुए शिवसेना को आड़े हाथों लिया है।कगंना ने अपने ट्विटरपर ट्वीट करते हुए लिखा-मेरा टूटा हुआ सपना तुम्हारे चेहरे पर हंस रहा है संजय राउत, पप्पू सेना मेरा घर तोड़ सकती है लेकिन मेरी हिम्मत नहीं। बंगला नंबर 5 आज बुराई पर अच्छाई की जीत मना रहा है।    
💥HappyDussehra.लिखकर कंगना केऑफिस और घर को फूलों से सजाया💥 
कंगना के ऑफिस और घर को फूलों से सजायागया है।जिसकी खूबसूरत तस्वीर
उन्होंने साझा की है। कंगना के इस पोस्ट पर फैंस उनका पूरा समर्थन कर रहे हैं।
💥कंगनाके खिलाफदर्ज हैंएफआईआर💥बता दें कि कुछ दिनों पहले कंगना के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई गई थी जिसके लिए उन्हें समन भी भेजे जा चुके हैं। कंगना पर कई आरोप लगे हैं। किसानों के विरुद्ध ट्वीट करने, धर्म के नाम पर नफरत फैलाने और कोर्ट के आदेश की अवमानना करने जैसे आरोप एक्ट्रेसपरलगाए गए हैं।इसमेंसिर्फकंगना
 का ही नहीं बल्कि एक मामले में उनकी बहन रंगोली के नाम को शामिल किया गया है।कंगना कोजब इस बात की जान
कारी हुई थी तब भी उन्होंने कहा था कि पप्पू सेना उनसे मिलने के लिए बहुत ही बेताब हैं।वहीं हाल ही में कंगना ने जेल जाने की बात भी कही थी।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐 💐
(B)आज के दिन जन्मे.हिन्दी के प्रमुख आधुनिक आलोचक, सुलझे हुए विचारक,और गहरे विश्लेषक.डॉ॰ नगेन्द्र का जीवन परिचय                  
                🍁 डॉ॰ नगेन्द्र🍁
            🍁 जीवन परिचय  लेख.🍁 
डॉ॰ नगेन्द्र (जन्म: 9 मार्च 1915 अलीगढ़, मृत्यु: 27 अक्टूबर 1999 नई दिल्ली) हिन्दी के प्रमुख आधुनिक आलोचकों में थे। वे एक सुलझे हुए विचारक और गहरे विश्लेषक थे।
डॉ॰ नगेन्द्र
अपनी सूझ-बूझ तथा पकड़ के कारण वे गहराई में पैठकर केवल विश्लेषण ही नहीं करते, बल्कि नयी उद्भावनाओं से अपने विवेचन को विचारोत्तेजक भी बना देते थे। उलझन उनमें कहीं नहीं थी। 'साधारणीकरण' सम्बन्धी उनकी उद्भावनाओं से लोग असहमत भले ही रहे हों, पर उसके कारण लोगों को उस सम्बन्ध में नये ढंग से विचार अवश्य करना पड़ा है। 'भारतीय काव्य-शास्त्र' (1955ई.) की विद्वत्तापूर्ण भूमिका प्रस्तुत करके उन्होंने हिन्दी में एक बड़े अभाव की पूर्ति की। उन्होंने 'पाश्चात्य काव्यशास्त्र : सिद्धांत और वाद' नामक आलोचनात्मक कृति में अपनी सूक्ष्म विवेचन-क्षमता का परिचय भी दिया। अरस्तू के काव्यशास्त्र की भूमिका-अंश उनका सूक्ष्म पकड़, बारीक विश्लेषण और अध्यवसाय का परिचायक है। बीच-बीच में भारतीय काव्य-शास्त्र से तुलना करके उन्होंने उसे और भी उपयोगी बना दिया है। उन्होंने हिंदी मिथक को भी परिभाषित किया है।
              🍁जन्म और शिक्षा🍁
उनका जन्म मार्च, 1915 ई. में अतरौली (अलीगढ़) में हुआ था। उन्होंने अंग्रेज़ी और हिन्दी में एम.ए. करने के बाद हिंदी में डी.लिट. की उपाधि भी ली।
                  🍁कार्यक्षेत्र🍁
डा नगेंद्र का साहित्यिक जीवन कवि के रूप में आरंभ होता है। सन 1937 ई. में उनका पहला काव्य संग्रह 'वनबाला' प्रकाशित हुआ। इसमें विद्यार्थीकाल की गीति-कविताएँ संग्रहीत हैं। एम.ए. करने के बाद वे दस वर्ष तक दिल्ली के कामर्स कॉलेज में अंग्रेज़ी के अध्यापक रहे। पाँच वर्ष तक 'आल इंडिया रेडियो' में भी कार्य किया। बाद में वे दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में अध्यक्ष पद से निवृत्त होकर वहीं रहने लगे थे।
27 अक्टूबर 1999 को नई दिल्ली में उनका निधन हुआ।
                 🍁समालोचना🍁
डा नगेंद्र की शैली तर्कपूर्ण, विश्लेषणात्मक तथा प्रत्यायक है। यह सब होते हुए भी उसमें सर्वत्र एक प्रकार की अनुभूत्यात्मक सरसता मिलती है। वे अपने निबंधों और प्रबंधों को जब तक अपनी अनुभूति का अंग नहीं बना लेते तब तक उन्हें अभिव्यक्ति नहीं देते। अतः उनकी समीक्षाओं में विशेषरूप से निबंधों में भी सर्जना का समावेश रहता है।
'साहित्य-संदेश' में प्रकाशित उनके लेखों ने उनकी ओर लोगों का ध्यान आकृष्ट किया। उनकी तीन आलोचनात्मक कृतियाँ प्रकाशित हुईं - 'सुमित्रानंदन पंत'(1938ई.), 'साकेत- एक अध्ययन'(1939ई.) और 'आधुनिक हिंदी नाटक'(1940ई.)। पहली पुस्तक का पाठकों और आलोचकों के बीच खूब स्वागत हुआ। वे अंग्रेज़ी के श्रेष्ठ आलोचकों की कृतियों से प्रभावित थे और उन कृतियों की तरह ही वे उच्चस्तरीय समीक्षा-पुस्तक प्रस्तुत करना चाहते थे। 'साकेत-एक अध्ययन' पर इस मनोवृत्ति का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है।
'आधुनिक हिंदी नाटक' में उनके आलोचक स्वरूप ने एक नया मोड़ लिया और वे फ्रायडीय मनोविज्ञान के क्षेत्र में आ गए। उन्होंने फ्रायड के मनोविश्लेषण शास्त्र के आधार पर नाटक और नाटककारों की आलोचनाएँ लिखीं। बाद में क्रोचे आदि के अध्ययन के फलस्वरूप उनका झुकाव सैद्धांतिक आलोचना की ओर हुआ। 'रीति-काव्य की भूमिका' तथा 'देव और उनकी कविता' (1949 ई. - शोध ग्रंथ) के भूमिका भाग में भारतीय काव्य-शास्त्र पर विचार किया गया है, जिसमें उनके मनोविश्लेषण-शास्त्र के अध्ययन से काफ़ी सहायता मिली है।
नगेंद्र मूलतः रसवादी आलोचक हैं, रस सिद्धांत में उनकी गहरी आस्था है। फ्रायड के मनोविश्लेषण-शास्त्र को उन्होंने एक उपकरण के रूप में ग्रहण किया है, जो रस सिद्धांत के विश्लेषण में पोषक की सिद्ध हुआ है। हिंदी की आलोचना पर आचार्य रामचंद्र शुक्ल का गहरा प्रभाव पड़ा है और सच पूछिए तो आज की हिंदी- आलोचना शुक्ल जी के सिद्धांतों का अगला कदम ही है। नगेंद्र पर भी शुक्ल जी का प्रभाव पड़ा। उन्होंने स्वयं स्वीकार किया है कि रस-सिद्धांतों की ओर उनके झुकाव के मूल में शुक्ल जी का ही प्रभाव है। नगेंद्र जी काव्य में रस-सिद्धांत को अंतिम मानते हैं। इसके बाहर न तो वे काव्य की गति मानते है और न सार्थकता।
पौरस्त्य आचार्यों में वे भट्टनायक और अभिनवगुप्त से विशेष प्रभावित हैं और पाश्चात्य आलोचकों में क्रोचे और आई.ए. रिचर्डस से। उन्होंने भारतीय तथा पाश्चात्य काव्य-शास्त्र दोनों का गहरा आलोकन किया है। दोनों के तुलनात्मक अध्ययन के आधार पर उनका कहना है कि सैद्धांतिक आलोचना के क्षेत्र में भारतीय-काव्य शास्त्र पश्चिमी काव्य-शास्त्र से कहीं आगे बढ़ा हुआ है।
भारतीय और पाश्चात्य आचार्यों ने काव्य-बोध के संबंध में अलग-अलग पद्धतियाँ अपनाई हैं। भारतीय आचार्यों ने काव्य-चर्चा करते समय सह्रदय को विवेचन का केंद्रीय विषय माना है तो पाश्चात्य आचार्यों ने कवि को केंद्रीय विषय मानकर सृजन-प्रक्रिया की व्याख्या की है। ये दोनों दृष्टियाँ एक दूसरे की पूरक हैं, अपने आप में प्रत्येक एकांगी ही रह जाती हैं। नगेंद्र ने इन दोनों पद्धतियों के समन्वय का प्रयास किया है।[2]


          🍁 प्रमुख कृतियाँ🍁
आपकी अन्य मौलिक रचनाओं में 'विचार और विवेचन' (1944), 'विचार और अनुभूति' (1949), 'आधुनिक हिंदी कविता की मुख्य प्रवृत्तियाँ (1951), 'विचार और विश्लेषण'(1955), 'अरस्तू का काव्यशास्त्र' (1957), 'अनुसंधान और आलोचना' (1961), 'रस-सिद्धांत (1964), 'आलोचक की आस्था' (1966), 'आस्था के चरण' (1969), 'नयी समीक्षाः नये संदर्भ (1970), 'समस्या और समाधान' (1971) प्रमुख
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻(C) आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ💐
1676 - पोलैंड और तुर्की ने वारसा की संधि पर हस्ताक्षर किए। 
1795 - अमेरिका और स्पेन ने सैन लोरेंजो की संधि पर हस्ताक्षर किए।
1806 - फ्रांस की सेना बर्लिन में घुसी।
1947 - जम्मू कश्मीर के राजा हरि सिंह ने भारत में जम्मू कश्मीर के विलय को स्वीकार कर लिया। 
1959 - पश्चिमी मेक्सिको में चक्रवाती तूफान से कम से कम 2000 लोग मरे। 
1968 - मेक्सिको सिटी में 19वें ओलंपिक खेलों का समापन हुआ।
1978 - मिस्र के राष्ट्रपति अनवर सादात और इजरायल के प्रधानमंत्री मेनाचेम को शांति का नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया। 
1995 - यूक्रैन में कीव स्थित चेननोबिल परमाणु संयुत्र सुरक्षा संबंधी खामियों के कारण पूर्णत: बन्द किया गया। 
1997 - एडिनबर्ग (स्काटलैंड) में राष्ट्रकुल शिखर सम्मेलन सम्पन्न। 
2003 - चीन में भूकम्प से 50,000 से अधिक लोग प्रभावित, बगदाद में बम धमाकों से 40 लोगों की मृत्यु। 
2004 - चीन ने विशालकाय क्रेन का निर्माण किया। फ़्रांस के विदेश मंत्री माइकल वार्नियर दो दिवसीय भारत यात्रा पर नई दिल्ली पहुँचे। 2008 - केन्द्र सरकार ने अख़बार उद्योग के पत्रकारों और ग़ैर पत्रकारों को अंतरिम राहत की अधिसूचना जारी की।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐
(D)आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व
 1811- आइजैक मेरिट सिंगर - सिलाई मशीन का आविष्कारक
1904 - जतीन्द्रनाथ दास - भारत के प्रसिद्ध क्रान्तिकारियों में से एक। 
1920 - के. आर. नारायणन - भारत के राष्ट्रपति
1945- लुइज़ इंसियो लूला दा सिल्वा- ब्राज़ील के पैतीसवें राष्ट्रपति रहे हैं। 
1966 - दिब्येन्दु बरुआ - भारत में शतरंज के दूसरे ग्रैंड मास्टर हैं।  
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(E)आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
1605 - अकबर - मुग़ल शासक 
1907 - ब्रह्मबांधव उपाध्याय - भारतीय स्वतंत्रता सेनानी।
1942 - सत्येन्द्र चंद्र मित्रा - कुशल राजनीतिज्ञ एवं स्वतंत्रता सेनानी थे।
1953 - टी.एस.एस. राजन - भारत के स्वतन्त्रता संग्राम में सम्मिलित होने वाले प्रमुख भारतीयों में से एक। 
1974 - रामानुजम - महान् भारतीय गणितज्ञ।
1982 - प्यारे लाल - गांधी जी के निजी सचिव।
 1987 - विजय मर्चेन्ट - डॉन ब्रैडमैन के ज़माने के महान् भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी थे।
1999 - डॉ. नगेन्द्र - भारत के प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार। 
 2001 - प्रदीप कुमार, हिन्दी फ़िल्मों के प्रसिद्ध अभिनेता। 
2018 - मदन लाल खुराना - दिल्ली के पूर्व मुख्यमन्त्री
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻
    (F)      आज का दिवस का नाम
1-आइजैक मेरिट सिंगर - सिलाई मशीन का आविष्कारक थेआज उनका जयंती दिवस हे
2- जतीन्द्रनाथ दास - भारत के प्रसिद्ध क्रान्तिकारियों में से एक थेआज उनका जयंती दिवस हे
3-के. आर. नारायणन - भारत के राष्ट्रपति थे।आज उनका जयंती दिवस हे।
4- लुइज़ इंसियो लूला दा सिल्वा- ब्राज़ील के पैतीसवें राष्ट्रपति थे।आज उनकाजयंतीदिवस हे।
5- विजय मर्चेन्ट - डॉन ब्रैडमैन के ज़माने के महान् भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी थे आज उनका  पुण्यतिथि दिवस हे
6- डॉ. नगेन्द्र - भारत के प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार थे।आज उनका  पुण्यतिथि दिवस हे
7-प्रदीप कुमार, हिन्दी फ़िल्मों के प्रसिद्ध अभिनेता थे। आज उनका  पुण्यतिथि दिवस हे।
8 - मदन लाल खुराना - दिल्ली के पूर्व मुख्यमन्त्री थे। आज उनका  पुण्यतिथि दिवस हे
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐   
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
 आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन  दशहरे के दूसरे दिन यानी बासी दशहरे की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
🔥जयमहाकाल,बोलेसोनिहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐
💐  निवेदक;-💐
💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐