आज की बात आपके साथ - विजय निगम

        ।।ॐ गं गणपतये नमः।।
      ।।ॐ यमाय यमाय धर्मराजाय-
        -श्री चित्रगुप्ताय नमो नमः।। 
🌻💐🌹🌲🌸🌲🌹💐💐🌻
प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आपस साथीयों का दिनांक 24 सितंबर  2020 गुरुवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
आज की बात आपके साथ अंक मे है 
A कुछ रोचक समाचार
Bआज के दिन जन्मे उच्च कोटि के कवि मौलिकनिबंधकार,लेखक,साहित्यकार,नाटककार पण्डित प्रताप नारायण मिश्र का जीवन परिचय लेख।. 
Cआज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
Dआजके दिन जन्म लिएमहत्त्वपूर्ण    
   व्यक्तित्व
E आज के दिन निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌹🌲🌸🌲🌹💐💐🌻
    (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
💖(A/1)वाराणसी. वाराणसी की रहने वाली फ्लाइट लेफ्टिनेंट  शिवांगी सिंह  भारतीय वायु सेना के राफेल विमान को  उड़ाएंगी।💖
💖(A/2)अमरीका की मशहूर टाइम मैगजीन  ने दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र  मोदी कोशामिलकरउन पर निशाना साधा।💖
💖(A/3)संयुक्त राष्ट्र महासभा के75 वें
सत्र मेंमंगलवार को हुई एक उच्च स्तरीय चर्चाकेदौरानअमरीकाकेराष्ट्रपतिडोनाल्डट्रंप ने चीन पर सख्त टिप्पणियां कीं।💖
💖(A/4) सुशांतसिंह राजपूत:बॉलीवुड
के दबंग सलमान खान  का नाम भी ड्रग  मामले में जुड़ता हुआ नजर आ रहा है?सलमान NCB के संदेह के दायरे में 💖
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐।  
    (A)कुछ रोचकसमाचार(विस्तृत)
💖(A/1)वाराणसी. वाराणसी की रहने वाली फ्लाइट लेफ्टिनेंट  शिवांगी सिंह  भारतीय वायु सेना के राफेल विमान को  उड़ाएंगी।💖
वाराणसीवाराणसीकी रहनेवाली फ्लाइट लेफ्टिनेंट  शिवांगी सिंह भारतीय वायु सेना  के राफेल  विमान को उड़ाने वाली पहली महिला पायलट बनने जा रही हैं। उन्होंनराफेलकी अंबाला स्थित स्‍क्‍वाड्रन को ज्‍वॉइन करने की तैयारी कर ली है। सोमवार को खबर आई थी कि भारतीय वायुसेना की एक महिला फाइटर पायलट को नव-प्रवर्तित राफेल लड़ाकू बेड़े में शामिल होने के लिए चुना गया है। वहीं बुधवार को बताया गया कि शिवांगी ही वह महिला हैं।
💖डीएम हुए सख्त,जारी किया नोटिस
साल 2017में मिला कमीशन-💖
फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह ने साल
2017में इंडियन एयर फोर्स केउस दूसरे महिला पायलट के बैच का हिस्‍सा थीं जिसेफाइटर पायलट के तौर परकमीशन हासिलहुआ था।वाराणसी की रहनेवाली फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी इस समय ट्रेनिंग प्रक्रिया से गुजर रही हैं और कुछ ही दिनों में वह गोल्‍डन एरो स्‍क्‍वाड्रन से औपचारिक तौर पर जुड़ जाएंगी।  साल 2016मेंआईएएफ में पहली बार फाइटर पायलटकेतौर परमहिलाओं को कमीशन मिलाथाफ्लाइटलेफ्टिनेंटशिवांगीअंबाला
से पहले राजस्‍थान में पाकिस्‍तान बॉर्डर से सटे एयरबेस पर तैनात थीं।
💖अभिनंदन वर्तमान के साथ उड़ा चुकी हैं मिग-💖
फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी आईएएफ के बेस्‍ट फाइटर पायलट अभिनंदन के साथ मिगकोउड़ाचुकी हैं।याद होकिअभिनंदन
ही वोविंग कमांडर हैं,जिन्होंने 27फरवरी
2019 को एलओसी पर पाकिस्‍तान के फाइटर जेट एफ-16 को ढेर किया था। इसके बाद वह पाकिस्‍तान में जा गिरे थे और पाक ने उन्‍हें बंदी बना लिया था, हालांकि बाद में उन्हें बाइज्जत रिहा कर दिया गया था। कमीशन हासिल करने के बादसे हीफ्लाइटलेफ्टिनेंटशिवांगी मिग
-21 बाइसन को उड़ा रही हैं। वह जिस एयरबेस से ट्रांसफर होकर अंबाला आई हैं, वहां पर ही विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान भी तैनात हैं।
💖बचपन से ही था पायलट बनने का सपना💖-
फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी का बचपन से ही पायलट बनने का सपना था। स्‍कूल की पढ़ाई के बाद उन्होंने वाराणसी के बीएचयू में एडमिशन लिया और यहां पर वह नेशनल कैडेट कोर यानी एनसीसी के साथ जुड़ी और 7 यूपी एयर स्‍क्‍वाड्रन का हिस्‍सा बन गईं। साल 2016 में वह ट्रेनिंगके लिए एयरफोर्स एकेडमी पहुंची, जहांफ्लाइटलेफ्टिनेंट शिवांगी आईएएफ केसबसेपुराने फाइटर जेट मिग-21 बाइ
सन को उड़ा चुकी हैं तो वह इसके सबसे नएफाइटर जेटराफेल को भी उड़ासकेंगी
उनकी कोर्समेट और एक और फाइटर पायलट फ्लाइट लेफ्टिनेंट प्रतिभा इस समय सुखोई-30 एमकेआई को उड़ा रही हैं।
🌻💐🌸🌸🌲🌹💐💐🌻💐💖(A/2)अमरीका की मशहूर टाइम मैगजीन  ने दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र  मोदी कोशामिलकरउन पर निशाना साधा।💖
नई दिल्ली। अमरीका की मशहूर टाइम मैगजीन  ने दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शामिल किया है।इस सूची में शामिल भारतीयों में अभिनेताआयुष्मान खुराना, एचआईवी पर शोध कर रहे रविंदरगुप्ता, शाहीन बाग में धरने पर बैठीं बिल्कीस बानो और गूगल के सीईओ सुंदर पिचई प्रमुख रूप से शामिल हैं।
टाइम्स ने भले ही पीएम मोदी को दुनिया के प्रभावशाली लोगों में शामिल किया हो, लेकिन साथ ही उन पर निशाना भी साधा है।टाइम मैगजीन के संपादककार्ल
विक ने कहा है कि बीजेपी सरकार ने भारत में बहुलतावाद को खत्म कर दिया है। यही नहीं पीएम मोदी को मुसलमानों के खिलाफ भी बताया है।
टाइम मैगजीन के संपादक ने बताया है कि भारत के लगभग सभी प्रधानमंत्री 80 फीसदी आबादी वाले हिंदू समुदाय से ही रहे हैं।पीएम मोदी को लेकर लिखा गया हैवास्तव में लोकतंत्र केलिए निष्पक्ष
चुनावअहमनहीं है।इससे केवल यह पता चलताहैकि किसेसबसेअधिकवोटमिला। ज्यादा अहम उनका अधिकार हैजिन्होंने विजेता को वोट नहीं दिया।'
मैगजीन ने लिखा- भारत के ज्‍यादातर प्रधानमंत्री करीब 80 % आबादी वाले हिंदूसमुदाय सेआए हैं,लेकिन सिर्फनरेंद्र मोदी ही ऐसे हैंजिन्‍होंने ऐसे शासनकिया जैसे उनके लिए कोई और मायने नहीं रखता है।
बीजेपी ने मुसलिमों को खारिज किया
मोदी सशक्तिकरण के लोकप्रिय वादे के साथसत्‍ता में तोआए लेकिन उनकी हिंदू राष्‍ट्रवादीपार्टी बीजेपी नेनसिर्फउत्कृष्टता
को बल्कि बहुलवाद खासतौर पर भारत के मुसलमानों को खारिज कर दिया।
💖पीएम मोदी को बताया था भारत का डिवाइडर इन चीफ💖
आपको बता दें इससे पहले भी टाइम मैगजीन ने अपने कवर पेज पर पीएम मोदीको रखते हुए उन्हें 'भारत काडिवाइ
डर इन चीफ' बता दिया था। इस लेख को भारतीय पत्रकार तवलीन सिंह और पाकिस्तानी नेता सलमान तासीर के बेटे आतिश ने लिखा था। चुनाव से ठीक पहले आए इस लेख को लेकर काफी विवाद भी हुआ था।
       ,💖ये नेता भी हैं शामिल💖
टाइम मैगजीन की 100 प्रभावशाली लोगों की सूची में दुनियाभर के अन्य नेता भी शामिल हैं। इनमें शी जिनपिंग, ताइवान की राष्‍ट्रपति त्‍साई इंग वेन, डोनाल्‍ड ट्रंप, कमला हैरिस, जो बाइडन, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल समेत दुनियाभर को जगह दी गई।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸💐
💖(A/3)संयुक्त राष्ट्र महासभा के75 वें
सत्र मेंमंगलवार को हुई एक उच्च स्तरीय चर्चाकेदौरानअमरीकाकेराष्ट्रपतिडोनाल्डट्रंप ने चीन पर सख्त टिप्पणियां कीं।💖
वाशिंगटन।संयुक्त राष्ट्र महासभा के75वें
सत्रमें मंगलवार को हुई एक उच्च स्तरीय
चर्चाकेदौरानअमरीकाकेराष्ट्रपतिडोनाल्ड
ट्रंप ने चीन पर सख्त टिप्पणियां कीं। ट्रंप ने केवल सात मिनट का भाषण दिया। छोटेसेभाषण में उन्होंने अपनी बातखत्म करदी।भाषण केअधिकतरभागमें उन्होंने चीन पर तीखे वार किए। उन्होंने अपने पूरेभाषण में 11बारचीन का नाम लिया।
भाषणकीशुरुआत हीउन्होंने कोविड-19
का जिक्र किया। इसे "चीनी वायरस" का नाम दिया था। उन्होंने बीजिंग को इसके लिए जवाबदेह ठहराया। ट्रंप ने कोरोना वायर की तुलना दूसरे विश्व युद्ध से कर डाली। इसेभीषण वैश्विक संघर्ष बताया।
💖चीन ने अंतरराष्ट्रीय उड़ाने पर रोक नहीं लगाई💖
इस दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर आरोप लगाते हुए कहा कि इसने पूरी दुनिया में कोरोना के प्लेग को फैलाने का काम किया है। वायरस फैलने के शुरूआती समय में चीन ने घरेलू स्तर पर यात्रा को बंद कर दिया लेकिन चीन ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को जारी रखा। इस तरह से पूरी उसने दुनिया को संक्रमित कर दिया।
💖चीन को उनके करतूतों के लिए जिम्मेदार ठहराए संयुक्त राष्ट्र💖
अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि डब्ल्यूएचओ को चीन द्वारा नियंत्रित किया जाता है। उन्होंने कहा कि इन दोनों ने मिलकर ही ये झूठ फैलाया कि कोरोना इंसान से इंसान में फैलने वाली बीमारी नहीं है। इसके कोई सबूत नहीं है। ट्रंप ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र को चीन को उनकी करतूतों के लिए जिम्मेदार ठहराना चाहिए।
💖जूलियन बोर्जर ने ट्रंप के झूठे दावों की पोल खोली💖
गार्जियन के सम्पादक जूलियन बोर्जर ने ट्रंप के भाषण की आलोचना की है। उन्होंने लिखा कि ट्रंप ने संयुक्त राष्ट महासभा में कोरोना को भीषण वैश्विक संघर्ष बताया है। एक दिन पहले ही अपनी चुनावी रैली में उन्होंने इसे अधिक अहम समस्या नहीं बताया था। उन्होंने महामारी को लेकर अमरीकी सरकार के उठाए कदमों की पोल खोली। उन्होंने कहा कि ट्रंप ने इस बीमारी को कभी गंभीरता से नहीं लिया। इसके लिए सारी जिम्मेदारी उन्होंने राज्यों पर छोड़ दी। वह अपने भाषण अपने यहां पर मरने वाले दो लाख लोगों का भी कोई जिक्र नहीं करते हैं।
🌻💐🌸🌲🌹💐💐🌻💐
💖(A/4) सुशांतसिंह राजपूत:बॉलीवुड
के दबंग सलमान खान  का नाम भी ड्रग  मामले में जुड़ता हुआ नजर आ रहा है?सलमान NCB के संदेह के दायरे में 💖
नई दिल्ली | बॉलीवुड के दबंग सलमान खान  का नाम भी ड्रग मामले  में जुड़ता हुआनजरआ रहा है।सुशांत सिंहराजपूत
की मौत  के बाद ड्रग एंगल ने कई बड़े सेलेब्स को एनसीबी (NCB) की रडार पर लाकर खड़ा कर दिया है।इसमें अब तकदीपिका पादुकोण दीया मिर्जा ,रकुल
प्रीत सिंह,सारा अली खान, श्रद्धा कपूर, जैकलिनफर्नांडिजऔरसोनम कपूर जैसे
सेलेब्स के नाम उजागर कर दिए गए हैं। जबकि अभी कई और सितारों के नाम सामनेआनेकी उम्मीद है।मीडियारिपोर्ट्स
केमुताबिक,ड्रग्स मामले मेंफंसीKWAN
टैलेंट कंपनी में सलमान खान की कंपनी की भी हिस्सेदारी है। हालांकि इन दावों कोसलमानकीलीगल टीम नेसिरेसेनकार
दियाहै।क्वान टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसीके कुछकर्मचारियों काड्रग कनेक्शन सामने आयाहै।इस कंपनी के जरिएड्रग्स केकई क्लाइंट्सकी डिमांड पूरी कीजा रही थी। इसी कंपनी से सलमान खान की हिस्से
दारीकी बात भी सामनेआ रही है।लेकिन सलमानखान की लीगल टीम नेइसेसिर्फ एकअफवाह बताया है। उनके द्वारा कहा गयाहैकि सलमान खान काक्वान कंपनी से किसी भी तरह का कोई नाता नहीं है। मीडिया में हमारे क्लाइंट सलमान खान को लेकर गलत खबरें चलाई जा रही हैं। हमारीआपसब से रिक्वेस्ट हैकि सलमान
खान के बारे में झूठी खबरें ना प्रकाशित करें।KWAN के सीईओ ध्रुवचिटगोपेकर सेएनसीबीपूछताछकर रहीहैवहींदीपिका
पादुकोणकी मैनेजर करिश्माप्रकाशसेभी एनसीबीको पूछताछ करनी है।करिश्मा इसीक्वान कंपनी की कर्मचारी है। इसके अलावा जया साहा के फोन से भी कई बड़े खुलासे हुए हैं। जया के फोन से ड्रग चैट में ही दीपिका का नाम सामने आया था।इसके अलावा जैकलिन फर्नांडिज औरसोनमकपूर के नाम का भी खुलासा हुआ है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐 💐(B)आज के दिन जन्मे उच्च कोटि के कवि मौलिक निबंधकारलेखक
साहित्यकार,नाटककार पण्डित प्रताप
नारायण मिश्र का जीवन परिचय लेख।. 
पूरानाम :-पण्डित प्रताप नारायण मिश्र जन्म;- 24 सितम्बर,1856 
जन्मभूमि;- उन्नाव, उत्तर प्रदेश 
मृत्यु;- 6 जुलाई, 1894
 अभिभावक:- पण्डित संकटादीन 
कर्मभूमि;- भारत
 कर्म-क्षेत्र;- हिन्दी साहित्य 
भाषा;- हिन्दी, उर्दू, बंगला, फ़ारसी, अंग्रेज़ी और संस्कृत।
 प्रसिद्धि;- लेखक, कवि, पत्रकार, निबन्धकार, नाटककार। 
नागरिकता;- भारतीय संबंधित लेख भारतेन्दु हरिश्चन्द्र अन्य जानकारी मिश्र जी भारतेन्दु मंडल के प्रमुख लेखकों में से एक थे। उन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध रूपों में सेवा की। वे कवि होने के अतिरिक्त उच्च कोटि के मौलिक निबंध लेखक और नाटककार थे। इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची प्रताप नारायण मिश्र (अंग्रेज़ी: Pratap Narayan Mishra; जन्म- 24 सितम्बर, 1856, उन्नाव, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 6 जुलाई, 1894) को आधुनिक हिन्दी निर्माताओं में से एक माना जाता है। वे हिन्दी खड़ी बोली और भारतेन्दु युगके उन्नायक कहे जाते हैं। प्रताप नारा
यणमिश्र नेएक लेखक,कविऔर पत्रकार के रूप में विशेष प्रसिद्धि पाई थी। मिश्र जी की भारतेन्दु हरिश्चन्द्र में अनन्य श्रद्धा थी।वह स्वयं को उनका शिष्य कहते थे तथादेवता के समान उनका स्मरण करते थे।भारतेन्दु जैसी रचना शैली,विषयवस्तु
और भाषागत विशेषताओं के कारण ही प्रताप नारायण मिश्र को 'प्रतिभारतेन्दु' या द्वितीयचन्द्र'आदि कहाजाने लगा था। मिश्रजी द्वारा लिखे हुए निबंधों में विषय कीपर्याप्त विविधता है।देश-प्रेम, समाज
-सुधार व साधारण मनोरंजनआदि उनके
निबंधों केमुख्य विषय थे।उन्होंने'ब्राह्मण' नामकमासिकपत्र में हर प्रकार केविषयों परनिबंध लिखे थे। 
             जन्म तथा शिक्षा
प्रतापनारायणमिश्र काजन्म24 सितम्बर 1856 ई. में उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले में वैजेगाँव में हुआथा।येकात्यायनगोत्रीय औरकान्यकुब्जब्राह्मणपण्डितसंकटादीन
के पुत्र थे। पिता युवावस्था में ही कानपुर मेंआकर बस गए थे और एक ज्योतिषी केरूप मेंअपनी जीविकाचलाते थे। मिश्र जी अक्षरारंभ के पश्चात् अपने पिता से हीज्योतिष पढ़ने लगे। किंतु उधर रुचि न होने से पिता ने उन्हें अंग्रेज़ी पाठशाला में भर्तीकरादियातबसेकई स्कूलोंकाचक्कर
लगानेपर भी वह पिताकी लालसाकेविप
रीत पढ़ाई-लिखाई से विरत ही रहे और पिता की मृत्यु के पश्चात् 18-19 वर्ष की अवस्थामें उन्होंने स्कूली शिक्षा से अपना पिंडछुड़ा लिया।इस प्रकार मिश्र जी की शिक्षा अधूरी ही रह गई। किंतु उन्होंने प्रतिभा और स्वाध्याय के बल से अपनी योग्यता पर्याप्त बढ़ा ली। वे हिन्दी, उर्दू औरबंगलातो अच्छी जानते ही थे, इसके साथ ही फ़ारसी,अंग्रेज़ी और संस्कृत में भी उनकी अच्छी गति थी  ।
           हिन्दी के प्रति अनुराग
प्रताप नारायण मिश्र छात्रावस्था से ही "कविवचनसुधा" के गद्य-पद्य-मय लेखों कानियमित पाठ करते थे, जिससे हिन्दी केप्रतिउनकाअनुरागउत्पन्न हुआ।लावनौ
गायकोंकी टोली में आशुरचनाकरने तथा
ललित जी की रामलीला में अभिनय करते हुए उनसे काव्य रचना की शिक्षा ग्रहण करने से वह स्वयं मौलिक रचना का अभ्यास करने लगे। इसी बीच वह भारतेन्दु हरिश्चन्द्र के संपर्क में आए। उनका आशीर्वाद तथा प्रोत्साहन पाकर वे हिन्दी गद्य तथा पद्य रचना करने लगे। 1882 केआस-पास"प्रेमपुष्पावली"प्रका
शित हुआऔरभारतेंदु जीनेउसकीप्रशंसा
की तो प्रताप नारायण मिश्र का उत्साह बहुत बढ़ गया।
          मासिक पत्र का सम्पादन
15 मार्च, 1883 को ठीक होली के दिन अपने कई मित्रों के सहयोग से मिश्र जी ने 'ब्राह्मण' नामक मासिक पत्र निकाला। यह अपने रूप-रंग में ही नहीं विषय और भाषा-शैली की दृष्टि से भी भारतेंदु युग का विलक्षण पत्र था। सजीवता, सादगी बाँकपन और फक्कड़पन के कारण भारतेंदु कालीन साहित्यकारों में जो स्थान प्रताप नारायण मिश्र जी का था, वही तत्कालीन हिन्दी पत्रकारिता में इस पत्र का था, किंतु यह कभी नियत समय पर नहीं निकलता था। दो-तीन बार तो इसके बंद होने तक की नौबत आ गई थी। इसका कारण मिश्र जी का व्याधिमंदिर शरीर ओर अर्थाभाव था। किंतु रामदीन सिंह आदि की सहायता से यह किसी-न-किसी प्रकार संपादक के जीवन काल तक निकलता रहा। उनकी मृत्यु के बाद भी रामदीन सिंह के संपादकत्व में कई वर्षों तक निकला, परंतु पहले जैसा आकर्षण वे उसमें नहीं ला पाये थे।[1]
                संपादक
आगे के समय में सन 1889 में प्रताप नारायण मिश्र 25 रुपया मासिक के वेतन पर "हिन्दीस्थान" के सहायक संपादक होकर कालाकाँकर आए। उन दिनों पण्डित मदनमोहन मालवीय उसके संपादक थे। यहाँ बालमुकुंद गुप्त ने मिश्र जी से हिन्दी सीखी। मदनमोहन मालवीय के हटने पर मिश्र जी अपनी स्वच्छंद प्रवृत्ति के कारण वहाँ न टिक सके। कालाकाँकर से लौटने के बाद वह प्राय: रुग्ण रहने लगे। फिर भी सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक कार्यों में पूर्ववत् रुचि लेते और "ब्राह्मण" के लिये लेख आदि प्रस्तुत करते रहे। 1891 में उन्होंने कानपुर में "रसिक समाज" की स्थापना की। कांग्रेस के कार्यक्रमों के अतिरिक्त 'भारतधर्ममंडल', 'धर्मसभा', 'गोरक्षिणी सभा' और अन्य सभा समितियों के सक्रिय कार्यकर्ता और सहायक बने रहे। कानपुर की कई नाट्य सभाओं और गोरक्षिणी समितियों की स्थापना प्रताप नारायण मिश्र जी के प्रयत्नों से ही हुई थी।।
             💐रचनाएँ💐
काव्य - 'कानपुर माहात्म्य', 'तृप्यन्ताम्‌', 'तारापति पचीसी', 'दंगल खण्ड', 'प्रार्थना शतक', 'प्रेम पुष्पावली', 'फाल्गुन माहात्म्य', 'ब्रैडला स्वागत', 'मन की लहर', 'युवराज कुमार स्वागतन्ते', 'लोकोक्ति शतक', 'शोकाश्रु', 'श्रृंगार विलास', 'श्री प्रेम पुराण', 'होली है', 'दीवाने बरहमन' और 'स्फुट कविताएँ'।[2]
उपर्युक्त रचनाओं में से 'तृप्यन्ताम्‌', 'तारापति पचीसी', 'प्रेम पुष्पावली', 'ब्रैडला स्वागत', 'मन की लहर', 'युवराजकुमार स्वागतन्तें', 'शोकाश्रु', 'प्रेम पुराण' तथा 'होली' 'प्रताप नारायण मिश्र कवितावली' में संग्रहीत हैं।
नाट्य-साहित्य - 'कलि कौतुक' (रूपक), 'जुआरी खुआरी' (प्रहसन, अपूर्ण), 'हठी हमीर', 'संगीत शाकुन्तल' ('अभिज्ञान शाकुन्तलम्' के आधार पर रचित गीति रूपक), 'भारत दुर्दशा' (रूपक), 'कलि प्रवेश' (गीतिरूपक), 'दूध का दूध और पानी का पानी' (भाण, अपूर्ण)।
निबन्ध - 'प्रताप नारायण ग्रंथावली भाग एक' - इसमें मिश्र जी के लगभग 200 निबन्ध संग्रहीत हैं।
आत्मकथा - 'प्रताप चरित्र' (अपूर्ण) - यह प्रताप नारायण ग्रंथावली भाग एक में संकलित है।
उपन्यास (अनूदित) - 'अमरसिंह', 'इन्दिरा', 'कपाल कुंडला', 'देवी चौधरानी', 'युगलांगुलीय' और 'राजसिंह राधारानी' - सभी उपन्यास प्रसिद्ध कथाकार बंकिम चन्द्र के उपन्यासों के अनुवाद हैं।
कहानी (अनूदित) - 'कथा बाल संगीत', 'कथा माला', 'चरिताष्टक'।
संग्रहीत रचनाएँ - 'मानस विनोद' (पद्य), 'रसखान शतक' (पद्य), 'रहिमन शतक' (पद्य), और 'सती चरित' (गद्य)।
समालोचना
मिश्र जी भारतेन्दु मंडल के प्रमुख लेखकों में से एक थे। उन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध रूपों में सेवा की। वे कवि होने के अतिरिक्त उच्च कोटि के मौलिक निबंध लेखक और नाटककार थे। हिन्दी गद्य के विकास में मिश्र जी का बड़ा योगदान रहा है। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने पण्डित बालकृष्ण भट्ट के साथ मिश्र जी को भी महत्व देते हुए अपने हिन्दी साहित्य के इतिहास में लिखा है- "पण्डित प्रताप नारायण मिश्र' और पण्डित बालकृष्ण भट्ट ने हिन्दी गद्य साहित्य में वही काम किया, जो अंग्रेज़ी गद्य साहित्य में एडीसन और स्टील ने किया।
🌻💐🌹🌲🌸🌲🌹💐💐🌻(C) आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ💐
 1688 - फ्रांस ने जर्मनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा की। 
1726 - ईस्ट इंडिया कंपनी को बम्बई, कलकत्ता और मद्रास में नगर निगम और महापौर अदालतों को बनाने के लिए अधिकृत किया गया।
 1789 - अमेरिका में अटॉर्नी जनरल का कार्यालय बनाया गया।
1932-डॉभीमराव अंबेडकरऔरमहात्मा
गांधी केबीच पुणे की यरवडा सेंट्रल जेल में‘दलितों’केलिएविधानसभाओंमेंसीटें सुरक्षित करने को लेकर एक विशेष सम
झौता हुआ। 
1932 - बंगाल की क्रांतिकारी राष्ट्रवादी प्रीतिलता वाडेदार देश की आजादी के लिए प्राण न्यौछावर करने वाली पहली महिला बनी।
1948 होंडा मोटर कंपनी की स्थापना। 1965 - यमन को लेकर सऊदी अरब और मिस्र के बीच समझौता।
1968 - दक्षिण अफ्रीकी देश स्वाजीलैंड संयुक्त राष्ट्र में शामिल हुआ।
1971 - ब्रिटेन ने जासूसी के आरोप में 90 रूसी राजनयिकों को निष्कासित किया। 
1978 - पूर्व सोवियत संघ ने भूमिगत परमाणु परीक्षण किया। 
1979 - घाना ने संविधान अपनाया। 1990 - पूर्वी जर्मनी ने खुद को वारसा संधि से अलग किया।
1996 - अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन नेसंयुक्त राष्ट्र में व्यापक परमाणु परीक्षण
प्रतिबंध संधि पर हस्ताक्षर किये।
1996 - व्यापक परीक्षण प्रतिबंध संधि पर हस्ताक्षर होने शुरू, सं.रा. अमेरिका संधिपरहस्ताक्षर करने वाला पहला देश। 2003 - फ़्रांस के राष्ट्रपति जैक्स शिराक ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की दावेदारी का समर्थन किया।
 2005 - आई.ए.ई.ए. ने ईरानी परमाणु कार्यक्रम के मुद्दे को सुरक्षा परिषद को सौंपने का निर्णय लिया। 
2007 - म्‍यांमार की सैन्‍य सरकार के ख़िलाफ़ राजधानी यांगून में एक लाख से अधिक लोग सड़कों पर उतरे। 
2008 - चीन और नेपाल ने दूरसंचार के क्षेत्र में एक अहम अनुबन्‍ध पर हस्‍ताक्षर किया। 
2008 कपिल देव, भारतीय क्रिकेटर को थलसेनाध्यक्ष जनरल दीपक कपूर ने एकसमारोह में प्रादेशिक सेना में लेफ़्टि
नेंट कर्नल की मानद पदवी प्रदान की।
2009 मद्रास उच्च न्यायालय ने राजीव गांधी हत्याकांड में नलिनी और दो अन्य दोषियों की समय पूर्व रिहाई सम्बन्धी याचिका खारिज की।
2009 - देश के पहले चन्द्रयान-1 ने चाँद की सतह पर पानी खोज निकाला। 2013-पाकिस्तान केबलूचिस्तान में 7.7 तीव्रताके भूकंप से 515 लोगों की मौत।
2014 -भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के उपग्रह मंगलयान ने मंगल ग्रह की कक्षा में सफलतापूर्वक प्रवेश किया
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(D)आजके दिनजन्मलिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
1856 - प्रताप नारायण मिश्र - हिन्दी खड़ी बोली और 'भारतेन्दु युग' के उन्नायक। 
1861 - भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में राष्ट्रवादी आन्दोलन की प्रमुख नेता मैडम भीकाजी कामा का जन्म।
1925 - औतार सिंग पैंटल, भारतीय, चिकित्साशास्त्र के वैज्ञानिक। 
1940-आरती साहा -भारत की प्रसिद्ध महिला तैराक
1950 - मोहिन्दर अमरनाथ - भूतपूर्व प्रसिद्ध भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी। 
1963-पंकज पचौरी वरिष्‍ठ टेलीविज़न पत्रकार।
1971 - लिम्बा राम - भारत के प्रथम प्रसिद्ध तीरंदाज हैं, जिन्होंने विश्व स्तर पर तीरंदाजी के क्षेत्र में सफलता प्राप्त की। 
🌻💐🌹🌲🌸🌲🌹💐💐🌻💖(E)आज के दिन निधन हुवे महत्व
पूर्ण व्यक्तित्व।💖
1859 नाना साहब सैन्य विद्रोह में सक्रिय रहे नाना साहब उर्फ धुंदु पंत का नेपाल में निधन।
2006-पद्मिनी दक्षिण भारतीयअभिनेत्री
 व मशहूर भरतनाट्यम नृत्यांगना। नृत्य की महान् रोशनी (नृत्यापेरोली) के नाम से मशहूर
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(F) आज का दिवस का नाम
1 - प्रताप नारायण मिश्र - हिन्दी खड़ी बोली और 'भारतेन्दु युग' के उन्नायक थे उनका जयन्ति दिवस।
 2- भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में राष्ट्रवादी आन्दोलन की प्रमुख नेता मैडम भीकाजी कामा का जन्म उनका जयन्ति दिवस।
3.औतार सिंग पैंटल,भारतीय,चिकित्सा
शास्त्रकेवैज्ञानिक थेउनका जयन्तिदिवस
4.आरती साहा-भारत की प्रसिद्धमहिला
तैराक उनका जन्म दिवस।
5. नाना साहब सैन्य विद्रोह में सक्रिय रहे नानासाहब उर्फ धुंदु पंत थेउनका पुण्यतिथि दिवस।
6.पद्मिनी दक्षिण भारतीय अभिनेत्री व मशहूर भरतनाट्यम नृत्यांगना। नृत्य की महान् रोशनी (नृत्यापेरोली) के नाम से मशहूर थी उनका पुण्यतिथि दिवस।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐   
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐
💐  निवेदक;-💐
💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐