आज की बात आपके साथ - विजय निगम

      ॐ गम गम गणपतये नमः
      ॐ यमाय यमाय धर्मराजाय 
         श्री चित्रगुप्ताय नमो नमः
  🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻
प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक। 22.अगस्त 2020 शनिवार एवम विनायक गणेश चतुर्थी/ गणेश उत्सव की प्रातः की बेला में हार्दिक  बधाई ,शुभकामनाए ,वंदन है अभिनन्दन है।गणपति बप्पा की कृपादृष्टि सब पर बनी रहे।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
A. कुछ रोचक समाचार
B. आज के दिन जन्मे.प्रसिद्ध साहित्यकार,कवि लेखक.गिरिजाकुमार माथुर का.जीवन परिचय  लेख
C. आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D. आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E. आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F. आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
    (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
💐(A/1#) श्री गणेश उत्सव 2020/विनायक चतुर्थी 2020 : गणेश स्थापना पूजन मुहूर्त, जानें गणपति पूजा शुभ मुहूर्त💐
💝(A/1)पीएम नरेंद्र मोदी ने सुरेश रैना से कहा,'आप 'रिटायर' होने के लिए बहुत युवा हो'।💝
💝(A/2)Gmail Down: सात घंटे बाद शुरू हुई जीमेल की सेवा, अभी भी कई सेवाएं हैं ठप💝
💝(A/3)अयोध्या: भव्य राम मंदिर की दीवारों पर नाम लिखवाने का रामभक्तों के लिए आया पावन मौका, जानें क्या करना होगा💝
💐(A/4)सुशांत प्रकरण; जानें, रिया चक्रवर्ती और महेश भट्ट की कब से हो रही हैं मुलाकातें?💝
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻 (A)कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)
💐(A/1#) श्री गणेश उत्सव 2020/विनायक चतुर्थी 2020 : गणेश स्थापना पूजन मुहूर्त, जानें गणपति पूजा शुभ मुहूर्त💐
    💐:श्री गणेश स्थापना मुहूर्त;-💐
समय 2020 : भाद्र शुक्ल चतुर्थी तिथि आज 22 अगस्त 2020 , दिन शनिवार कोदेशभर में गणपति पूजनकिया जाएगा
 इस चतुर्थी को गणेश पुराण में विनायक चतुर्थीकहा गया है।ऐसी कथा है कि जगत केकल्याण के लिएगणेशजी भगवान शिव 
औरदेवीपार्वती की तपस्या सेप्रसन्न होकर भाद्र मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को कैलासपरशिव पार्वती के पुत्र रुप में प्रकट हुए थे।इसलिए इस चतुर्थी तिथि के दिनभगवानगणेश का जन्मोत्सव मनाया
जाताहै।ऐसीमान्यता है किअन्य किसी भी दिनों की अपेक्षा इस दिन गणेशजी की पूजा और आराधना का फल जल्दी प्राप्त होता है।इस वर्ष कोरोना संकट की वजह से पंडालों मेंबड़े पैमाने पर गणेश उत्सव नहींमनाया जा रहा है लेकिन लोगअपने-
अपने घर में गणेश से कह रहे हैं ‘घर में पधारो गजाननजी मेरे घर में पधारो’।यानी 
लोग अपने घरों पर ही गणेश प्रतिमा की 
स्थापना करके पूजा पाठ की तैयारी कर रहे हैं। इस साल शनिवार के दिन गणेश चतुर्थी  है।साथ ही इस दिन हस्त नक्षत्र होने से कटु योग बना हुआ है।ऐसेमें शुभ
चौघड़िया का ध्यान रखते हुए गणपति का आह्वान और पूजन किया जाए तो यह अति मंगलकारी होगा।
  💐:गणेश स्थापना पूजन राहुकाल;💐-
गणेश चतुर्थी शनिवार के दिन लग जाने की वजह से सुबह 9 बजे से 10 बजकर 30मिनट तक राहु काल रहेगा। यह समय गणेश प्रतिमा स्थापना और पूजन करने के लिए अनुकूल नहीं है। इस समय खंड का त्याग करना शुभ फलदायी होगा।
💐गणेश चतुर्थी स्थापना पूजन शुभ मुहूर्त चौघड़िया💐
गणेश चतुर्थी का आरंभ 21 अगस्त की   रात 11 बजकर 4 मिनट से।
गणेशचतुर्थीतिथि का समापन 22 अगस्त
 शाम 7 बजकर 58 मिनट।
शुभ चौघड़िया सुबह 7 बजकर 58 से 9 बजकर 30 तक।
लाभ चौघड़िया दोपहर 2 बजकर 17 मिनट से 3 बजकर 52 मिनट तक।
अमृत चौघड़िया शाम 3 बजकर 53 मिनट से 5 बजकर 17 मिनट तक।
शुभ लाभ और अमृत चौघड़िया के दौरान पूजन करना शास्त्रों के अनुसार लाभकारी रहेगा।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐💐💐💝(A/1)पीएम नरेंद्र मोदी ने सुरेश रैना से कहा,'आप 'रिटायर' होने के लिए बहुत युवा हो'।💝
15 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने वाले क्रिकेटर सुरेश रैना को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पत्र लिखकर उनके जीवन की दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं दी हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही मेंसंन्यास
लेने वाले पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर सुरेश रैना  को पत्र लिखकर जीवन की दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं दी हैं। सुरेश रैना ने महेंद्र सिंह धोनी के साथ ही 15 अगस्त को अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। 33 साल के रैना के इस फैसले ने क्रिकेट जगत को हैरान कर दिया था।
मोदी ने रैना के खेल की तारीफ की है और उन्हें एक शानदार क्रिकेटर बताया है। मोदी ने रैना की फील्डिंग की खूब तारीफ की है और कहा है कि गेंद से भी रैना पर कप्तान का भरोसा कायम था। रैना ने भी मोदी के इस पत्र पर आभार व्यक्त किया है और कहा है कि देश के प्रधानमंत्री से इस तरह के प्रेरक शब्द वाकई बहुत बड़ी बात है।
बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने मध्यक्रम में भारत के लिए कई उपयोगी पारियां खेली थीं। इसके अलावा उनकी गिनती दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फील्डर्स में भी की जाती थी।
मोदी ने लिखा, '15 अगस्त को आपने अनपे जीवन का सबसे मुश्किल फैसला लिया। मैं 'रिटायरमेंट' का शब्द इस्तेमाल नहीं करना चाहता हूं क्योंकि आप 'रिटायर' होने के लिए बहुत ही छोटे और ऊर्जावान हो। क्रिकेट के मैदान पर एक बहुत यादगार सफर के बाद आप अपने जीवन की दूसरी पारी के लिए तैयारी कर रहे हो।'
मोदी नेअपनेपत्र में रैना को लिखा,पीढ़ियां
 न सिर्फ आपको एक अच्छे बल्लेबाज के रूप मेंयाद करेंगी बल्किएक उपयोगी गेंद
बाज के तौर पर भी आपकी भूमिका को भुलायानहीं जा सकेगा।आप एक ऐसे गेंद
बाज रहे जिस पर मौका पड़ने पर कप्तान भरोसा कर सकता है। आपकी फील्डिंग शानदारथी।इस दौर के कुछ सर्वश्रेष्ठअंतर
राष्ट्रीय कैचों पर आपकी छाप नजर आती है।आपने जितने रन बचाए उनका हिसाब लगानेमेंतोकई दिन लग जाएंगे।'पीएम ने
 लिखा, 'खिलाड़ियों की प्रशंसा मैदान पर तो होती ही है,मैदान के बाहर भी होती है। आपकाजुझारूपन कईयुवाओं को प्रोत्सा
हितकरेगा।अपनेक्रिकेट करियर केदौरान, आपने चोट और अन्य परेशानियों का सामना किया लेकिन हर बार चुनौतियों से पार पाया।'
उन्होंने आगे लिखा, सुरेश रैना हमेशा टीम स्प्रिट के साथ चले।आप निजी रेकॉर्ड के लिए नहीं बल्कि टीम और भारत के गौरव के लिए खेले।मैदान पर आपका जुझारू
पन कमाल रहता था और हमने देखा भी किविपक्षी टीम के विकेटपर आपका जश्न अलग ही होता था।'
पीएम मोदी ने लिखा, 'समाज सेवा में भी आपका योगदान सराहनीय है। महिला सशक्तिकरण,स्वच्छभारत और जरूरत
मंदों की मदद के लिए आप हमेशा आगे रहे। भारत को खेल की दुनिया में लीडर बनाने के लिए आपने जो कुछ किया, उसके लिए शुक्रिया।'
रैना ने पीएम का शुक्रिया अदा करते हुए लिखा, 'जब हम खेलते हैं तो देश के लिए अपना खून-पसीना बहाते हैं। इस देश के लोगों के प्यार से बड़ी और कोई दूसरी प्रेरणा नहीं और जब देश के प्रधानमंत्री आपके लिए ऐसा कहें तो यह और बड़ी बात होती है।मोदी जी आपके प्रेरक शब्दों और शुभमकानाओं के लिए शुक्रिया। मैं इसे तहेदिल से स्वीकार करता हूं। जय हिंद।'
इससेपहलेगुरुवार को पीएमने पूर्वकप्तान
महेंद्र सिंह धोनीकोभी खत लिख कर भारतीय क्रिकेट में उनके योगदान की तारीफ की थी।मोदीने धोनी को लिखा था किउन्होंने छोटे शहर से आने वाले युवाओं को बड़ा सपना देखने की प्रेरणा दी। मोदी ने धोनी को भारतीय क्रिकेट में एकघटना बताया था जिसने उस परिपाटी को बदल दिया कि कामयाबी सिर्फ बड़े शहरोंमेंरहने वालेऔर महंगी शिक्षा हासिल करने वालों 
को ही मिल सकती है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻💝(A/2)Gmail Down: सात घंटे बाद शुरू हुई जीमेल की सेवा, अभी भी कई सेवाएं हैं ठप💝
       💝गूगल जीमेल सर्वर डाउन💝
 गूगल के जीमेल  का सर्वर डाउन हो गया है जिसके कारण भारत समेत कई देशों के यूजर्स ईमेल नहीं भेज पा रहे हैं।कई यूजर्सनेअटैचमेंटफेलहोने की भीशिकायत
की है।जीमेल केअलावागूगलड्राइव, गूगल डॉक्स,गूगल कीप, गूगल चैट और गूगल
मीट मेंभी लोगों को दिक्कत आ रही है।
अपडेट:: करीब सात घंटे तक बंद रहने के बाद गूगल के जीमेल की सेवाएं शुरू हो गई हैं। ई-मेल सेंड और रिसीव हो रहे हैं,हालांकि अभी भी अटैचमेंट और ड्राइव में लोगों को दिक्कत आ रही है। 
इस परेशानी के बारे में गूगल को भी जान
कारी हो गई है और गूगल ने कहा है कि वह जल्द-से-जल्द इस एरर को फिक्स करने के लिए काम कर रहा है।वहीं डाउन
डिटेक्टर के मुताबिक Youtube के सर्वर में भी समस्या है जिसके कारण लोगों को वीडियो अपलोड करने में परेशानी हो रही है। 
गूगल ने कहा था कि जीमेल की समस्या 1.30बजे तक ठीक करदी जाएगी लेकिन
तीनबजे शामतक भी समस्या जस कीतस बनीहुई है, हालांकि गूगल का कहना हैकि उसकीटीम फिक्स करने के लिए लगातार काम कर रही है।
डाउनडिटेक्टर के मुताबिक Gmail में यह एरर सुबह 9.50 मिनट पर आया है और खबर लिखे जाने तक बना हुआ है। जीमेल में 62 फीसदी लोगों को अटैचमेंट में, 30 फीसदी लोगों को लॉगिन में और 10 फीसदी लोगों को ई-मेल प्राप्त करने में दिक्कत का सामना करना है।गूगलडैश
बोर्ड केमुताबिक जीमेलगूगल ड्राइव,गूगल
डॉक्स, गूगल ग्रुप, गूगल चैट, गूगल मीट, गूगल कीप और गूगल वॉयस  की सेवाएं ठप हैं। 
गूगल के मुताबिक जीमेल में ई-मेलभेजने
 में दिक्कत आ रही है, वहीं गूगल मीट में रिकॉर्डिंग और ड्राइव में फाइल बनाने में लोगों को परेशानी हो रही है। वहीं एडमिन कंसोल में अपलोडिंग की समस्या है और गूगल चैट में मैसेज पोस्ट करने में दिक्कत आ रही है।
वहीं डाउनडिटेक्टर के मुताबिक यूट्यूब में अपलोडिंग की समस्या सुबह 9 बजे से शुरू हुई है, वहीं 11.52 मिनट पर सबसे ज्यादा दिक्कत हुई है। 60 फीसदी लोगों को वीडियो देखने, 30 फीसदी लोगों को अपलोडिंग और 10 फीसदी को साइट खुलने में परेशानी हुई हैं।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻💝(A/3)अयोध्या: भव्य राम मंदिर की दीवारों पर नाम लिखवाने का रामभक्तों के लिए आया पावन मौका, जानें क्या करना होगा💝
अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के बाद अब मंदिर निर्माण की कवायद तेज हो गई है। अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर की दीवारों पर सदियों के लिए नाम लिखवाने का एक बड़ा मौका है। बस इसलिए आपको तांबा दान करना होगा। रामजन्मभूमि ट्रस्ट ने इसलिए भक्तों से तांबे की पत्तियां दान करने को कहा है। उन्होंने कहा है कि तांबे की पत्तियों में लोग अपने या अपने परिवार के लोगों का नाम भी लिखवा सकते हैं।
दरअसल, राम मंदिर निर्माण में किसी प्रकार के लोहे या सरिया का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। ट्रस्ट ने बताया है कि लोहे की जगह मंदिर निर्माण में तांबे की छडें प्रयोग होंगी, जिससे मंदिर सदियों तक खड़ी रहेगी। 
राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, ' मंदिर निर्माण में लगने वाले पत्थरों को जोड़ने के लिए तांबे की पत्तियों का उपयोग किया जाएगा। निर्माण कार्य हेतु 18 इंच लम्बी, 3 एमएम गहरी और 30 एमएण चौड़ी 10,000 पत्तियों की आवश्यकता पड़ेगी। श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र श्रीरामभक्तों का आह्वान करता है कि तांबे की पत्तियां दान करें।'
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए रामभक्तों से मांगी जा रहीं तांबे की पत्तियां, जानें वजह।
ट्रस्ट ने आगे कहा कि 'इन तांबे की पत्तियों पर दानकर्ता अपने परिवार, क्षेत्र अथवा मंदिरों का नाम गुदवा सकते हैं। इस प्रकार से ये तांबे की पत्तियां न केवल देश की एकात्मता का अभूतपूर्व उदाहरण बनेंगी, अपितु मन्दिर निर्माण में सम्पूर्ण राष्ट्र के योगदान का प्रमाण भी देंगी।'
ट्रस्ट ने कहा कि श्री रामजन्मभूमि मंदिर का निर्माण भारत की प्राचीन निर्माण पद्धति से किया जा रहा है ताकि वह सहस्त्रों वर्षों तक न केवल खड़ा रहे, अपितु भूकम्प, झंझावात अथवा अन्य किसी प्रकार की आपदा में भी उसे किसी प्रकार की क्षति न हो। मंदिर के निर्माण में लोहे का प्रयोग नही किया जाएगा।
ट्रस्ट ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि श्री राम जन्मभूमि मन्दिर के निर्माण हेतु कार्य प्रारंभ हो गया है। CBRI रुड़की और IIT मद्रास के साथ मिलकर निर्माणकर्ता कम्पनी L&T के अभियंता भूमि की मृदा के परीक्षण के कार्य में लगे हुए हैं। मंदिर निर्माण के कार्य में लगभग 36-40 महीने का समय लगने का अनुमान है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐💐(A/4)सुशांत प्रकरण; जानें, रिया चक्रवर्ती और महेश भट्ट की कब से हो रही हैं मुलाकातें?💝
जानें, रिया चक्रवर्ती और महेश भट्ट की कब से हो रही हैं मुलाकातें?
एकहीइंडस्ट्रीमें काम करने के कारण रिया
चक्रवर्ती और महेश भट्ट  के बीच कई बार मुलाकातें हुई थीं.
मुंबई: दिवंगत अभिनेता सुशांतसिंह राज
पूत की गर्लफ्रेंड रहीं रिया चक्रवर्ती और महेश भट्ट  के बीच संबंधों की बात  साल 2018 में आई फिल्म जलेबी' से कही जा रहीहै,लेकिनअगर संबंधोंकी बात कीजाए
तो रियाऔर महेश भट्ट के बीच फिल्म के
शुरू होने से पहले भी कई बार मुलाकातें हुई थीं.एक ही इंडस्ट्री में काम करने के कारणदोनों केबीच कई बार मुलाकातें हुई थीं.रिहा ने अपने-बयानों में कहा कि वो महेश भट्ट से सलाह लिया करती थीं।जन
वरी 2020मेंमहेश भट्ट ने सुशांत से उनके घरपर मुलाकात की थी।सुशांतऔर महेश भट्ट की मुलाकात कराने के पीछे रिया का ही नाम सामने आ रहा है. इसके साथ ही सुशांतसिंह नेएक बार महेश भट्ट से उनके ऑफि में मुलाकात कीथीऔर इसके पीछे भी रिया का ही हाथ था।महेशभट्टकी एसो
सिएट सुहित्रा सेनगुप्ता ने रिया चक्रवर्ती को लेकर एक फेसबुक पोस्ट किया था, जिसमेंउन्होंने क्या कहा था.आइएआपको
बताते हैं. 
सुहित्रा सेनगुप्ता ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा था किउन्होंने रिया के स्ट्रगल को देखाहै,जब सुशांत क्लिनीकल डिप्रेशन से गुजर रहे थे और रिया उन्हें लेकर परेशान थीं. वह बार-बार महेश भट्ट के ऑफिस में काउंसिल करने के लिए कई बार आती थीं.कई बार महेश भट्ट को फोन करती थीं और बात करती थीं.अपने इस पोस्ट में सुहित्रा सेनगुप्ता ने उस घटना का भी जिक्र किया था, जिसमें उन्होंने बताया कि किस तरह जब एक बार सुशांत सिंह राज
पूत केघरकी छत पर हम सब मिले थेऔर
महेशभट्टकोसुशांत की स्थिति कोदेखकर
उन्हेंपहले ही लग गया था कि कुछ गड़बड़ है. सुशांत की स्थिति देखकर महेश भट्ट को उन्हें अपने गुरु की बात याद आ गई थी, जो उन्होंने परवीन बॉबी को लेकर भविष्यवाणी. करते हुए कहाथा कि अलग होजाओ वरना ये तुम्हारे लिए डाउन फॉल की शुरुआत होगी. वही बात उन्होंने तुम्हें भी कही थी.|. 
हालांकि इस पोस्ट पर हंगामा होने के बाद सुहित्रा सेनगुप्ता ने बाद में इसे डिलीट कर दिया था, लेकिन मुंबई पुलिस ने न तो इस पोस्ट को अपनी जांच का हिस्सा बनाया और न ही महेश भट्ट से कोई इसके बारे में पूछताछ की.  
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐 💐(B)आज के दिन जन्मे.प्रसिद्ध साहित्यकार,कवि लेखक.गिरिजाकुमार माथुर का.जीवन परिचय  लेख. 
पूरा नाम:- गिरिजाकुमार माथुर 
जन्म;- 22 अगस्त, 1919
जन्मभूमि;- गुना ज़िला, मध्य प्रदेश 
मृत्यु;- 10 जनवरी, 1994 
मृत्युस्थान- नई दिल्ली 
अभिभावक:- श्री देवीचरण माथुर और श्रीमती लक्ष्मीदेवी
पति/पत्नी;- शकुन्त माथुर
 कर्मभूमि;- भारत
मुख्यरचनाएँ ;-'नाश और निर्माण', 'मंजीर', 'शिलापंख चमकीले', 'जो बंध नहीं सका', 'साक्षी रहे वर्तमान', 'मैं वक्त के हूँ सामने' आदि। 
भाषा:- हिन्दी
 विद्यालय ;-लखनऊ विश्वविद्यालय
शिक्षा:- एम.ए. पुरस्कार-
उपाधि; -व्यास सम्मान, शलाका सम्मान, साहित्य अकादमी पुरस्कार 
नागरिकता;- भारतीय 
हम होंगे कामयाब अन्य जानकारी भारतीय सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद की साहित्यिक पत्रिका 'गगनांचल' का संपादन करने के अलावा इन्होंने कहानी, नाटक तथा आलोचनाएँ भी लिखी हैं। इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची गिरिजाकुमार माथुर (अंग्रेज़ी: Girija Kumar Mathur, जन्म: 22 अगस्त, 1919; मृत्यु: 10 जनवरी, 1994) एक कवि, नाटककार और समालोचक के रूप में जाने जाते हैं। लम्बे अरसे तक इन्होंने आकाशवाणी की सेवा की। इनकी कविता में रंग, रूप, रस, भाव तथा शिल्प के नए-नए प्रयोग हैं। मुख्य काव्य संग्रह हैं, 'नाश और निर्माण', 'मंजीर', 'धूप के धान', 'शिलापंख चमकीले, 'जो बंध नहीं सका', 'साक्षी रहे वर्तमान', 'भीतर नदी की यात्रा', 'मैं वक्त के हूँ सामने' तथा 'छाया मत छूना मन' आदि। इन्होंने कहानी, नाटक तथा आलोचनाएं भी लिखी हैं। गिरिजाकुमार माथुर की 'मैं वक़्त के हूँ सामने' नामक काव्य संग्रह साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित है। जीवन परिचय गिरिजाकुमार माथुर का जन्म मध्य प्रदेश के गुना ज़िले में 22 अगस्त, 1919 को हुआ। शिक्षा झांसी और लखनऊ में हुई। इनके पिता देवीचरण माथुर स्कूल अध्यापक थे तथा साहित्य एवं संगीत के शौकीन थे। वे कविता भी लिखा करते थे। सितार बजाने में प्रवीण थे। माता लक्ष्मीदेवी मालवा की रहने वाली थीं और शिक्षित थीं। गिरिजाकुमार की प्रारम्भिक शिक्षा घर पर ही हुई। उनके पिता ने घर ही अंग्रेजी, इतिहास, भूगोल आदि पढ़ाया। स्थानीय कॉलेज से इण्टरमीडिएट करने के बाद 1936 में स्नातक उपाधि के लिए ग्वालियर चले गये। 1938 में उन्होंने बी.ए. किया, 1941 में उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय में एम.ए. किया तथा वकालत की परीक्षा भी पास की। इस बीच सन 1940 में उनका विवाह दिल्ली में कवयित्री शकुन्त माथुर से हुआ।  · 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(C) आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
1320 - नसीरूद्दीन खुसरू को गाजी मलिक ने हराया
1639 - ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई (तत्कालीन मद्रास) की स्थापना की। 
1848 - अमेरिका ने न्यू मैक्सिको पर कब्जा किया। 
1849 - इतिहास का पहला हवाई हमला- ऑस्ट्रिया ने इटली के शहर वेनिस में चालक रहित गुब्बारों से हमला किया। 
1851 - ऑस्ट्रेलिया में सोने की खानों के इलाके की खोज हुई।
1894 - नेटाल भारतीय कांग्रेस की स्थापना महात्मा गाँधी द्वारा 22 अगस्त को की गई थी। 
1910 - जापान ने पांच साल तक कोरिया का संरक्षण करने के बाद उस पर कब्जा किया। 
1914 - ब्रिटिश और जर्मन सैनिकों के बीच बेल्जियम में पहली मुठभेड़ हुई। ।
1921 - राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने विदेशी वस्त्रों की होली जलाई 
1978 - केन्या के पहले राष्ट्रपति जोमो केन्याता का 83 साल की उम्र में निधन हुआ। 
1979 - राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने लोकसभा भंग की 
2002 - काठमांडू में सार्क विदेश मंत्रियों का सम्मेलन सम्पन्न, नेपाल में हवाई दुर्घटना में 16 व्यक्ति मारे गये। 
2007 - मिस्र के पुरातत्त्वविदों ने पश्चिम रेगिस्तान के सिवा क्षेत्र में लगभग 20 लाख साल पुराने मानव के पद-चिह्नों का पता लगाया। अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन की मरम्मत के लिए दो सप्ताह के मिशन पर गया अंतरिक्ष यान एण्डेवर फ़्लोरिडा में कैनेडी स्पेस सेंटर पर सुरक्षित उतरा।
 2008 - मध्य प्रदेश सरकार ने बनवासियों के लिए साधारण वन अपराध मामले और मुआवजा वसूली खत्म करने का निर्माय लिया। 
2012 - सीरिया के गृहयुद्ध में 47 लोग मारे गए । केन्या में दो जनजातीय समूह के बीच युद्ध में 48 लोग मारे गए । 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(D)आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व।
1877 - आनन्द कुमार स्वामी - भारत के सुविख्यात कलामर्मज्ञ तथा चिन्तक।
1915 - सोंभु मित्रा - फ़िल्म और रंगमंच अभिनेता, निर्देशक और नाटककार थे।
1919 - गिरिजाकुमार माथुर - प्रसिद्ध कवि एवं नाटककार। 
1924 - हरिशंकर परसाई ।
1934 - इलियास आज़मी - ग्यारहवीं लोकसभा के सदस्य।
1955 - चिरंजीवी, प्रसिद्ध फ़िल्म अभिनेता और राजनीतिज्ञ 
 🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(E)आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
 1818 - वॉरेन हेस्टिंग भारत के प्रथम गवर्नर जनरल
1993 - आर. गुंडु राव - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे, जो कर्नाटक के भूतपूर्व मुख्यमंत्री थे।
2014 - यू. आर. अनंतमूर्ति - 'ज्ञानपीठ पुरस्कार' से सम्मानित कन्नड़ भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार, आलोचक और शिक्षाविद थे।
2018 - गुरुदास कामत - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनेता तथा प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ थे।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(F) आज का दिवस का नाम
1.गणपति स्थापना दिवस/ 10 दिवसीय गणेश उत्सव का प्रथम दिवस।
2.आनन्द कुमार स्वामी - भारत के सुविख्यात कलामर्मज्ञ तथा चिन्तक थे उनका जयंती दिवस।
3.सोंभु मित्रा - फ़िल्म और रंगमंच अभिनेता, निर्देशक और नाटककार थे।उनका जयन्ति दिवस।
4.गिरिजाकुमार माथुर - प्रसिद्ध कवि एवं नाटककार थे उनका जयन्ति दिवस।
5.आर. गुंडु राव - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे, जो कर्नाटक के भूतपूर्व मुख्यमंत्री थे। उनका पुण्यतिथि दिवस।
6.यूआर.अनंतमूर्ति-ज्ञानपीठ पुरस्कार' से सम्मानित कन्नड़ भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार, आलोचक और शिक्षाविद थे  उनका पुण्यतिथि दिवस।
7- गुरुदास कामत - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनेता तथा प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ थे।उनका पुण्यतिथि दिवस।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐   
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन  विनायक चतुर्थी गणपति स्थापना दिवस एवम 10 दिवसीय गणेश उत्सव के प्रथम दिवस की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल  एवम शिव पुत्र सिद्धि विनायक गणपति बप्पा से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐
💐  निवेदक;-💐
💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐