आज की बात आपके साथ - विजय निगम

     ।।ॐ गम गम गणपतये नमः।।
     ।ॐ यमाय यमाय धर्मराजाय,
       श्री चित्रगुप्ताय नमो नमः।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक  26 अगस्त 2020 बुधवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
 A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मे.रोमन कैथोलिक 
नन एवम विश्व प्रसिद्ध समाज सेविका डॉक्टर मदर टेरेसा.का.जीवन परिचय लेख
C आज के दिन  की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
    (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
💐(A/1)शिवराज सिंह चौहान सरकार केपासआज आया है एक नया विमान💐
💐(A/2)मध्यप्रदेश के इन जिलों में 27
और28 अगस्त को होगी भारी बारिश,💐
💐(A/3)मध्यप्रदेश में अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए भी बदले नियम, पढ़िए जरूरी खबर।💐
💐(A/4)अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर बताया जीवन का कड़वा सच, बोले- संघर्ष के समय कोई नजदीक नहीं आता और...?💐
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻 (A)कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)
💐(A/1)शिवराज सिंह चौहान सरकार केपासआज आया है एक नया विमान💐
प्रदेश सरकार के पास 2013 में खरीदा हुआ एक हेलीकॉप्टर बचा है. ऐसे में नया विमान आने के बाद सरकारी हवाई बेड़े में एकविमान और एक हेलीकाप्टर होजाएंगे
.10 दिन बाद सरकारी बेड़े में शामिल हो जाएगा.
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जल्द ही नए7 सीटर विमान बीच क्राफ्ट किंग एयर बी-250 जीटी में उड़ान भरेंगे. सरकार ने अ​मेरिकीकंपनी से 65 करोड़ में एकखास विमानखरीदा है.विमानअमेरिका सेदिल्ली
पहुंचा चुका है.विमानको लेने लिएभोपाल
 से पायलट भी दिल्ली पहुंच चुके हैं. शाम 4 बजे तक भोपाल पहुंचने की संभावना है. लेकिन 10 दिन बाद पूरी प्रक्रिया के बादही सीएम इसकी सवारीकरसकेंगे.यह
प्लेन बेहद खास है.यह दुनियाभरकेतमाम 
बड़े बिजनेसमैन की पहली पसंद मानी जाती है.10 दिन में आ जाएगा सरकारी बेड़े मेंडीजीसीए की पूरी प्रक्रिया होने के बाद मुख्यमंत्री नए विमान में उड़ान भरते नजर आएंगे.विमान को भारत में रजिस्टर्ड
कराने से लेकर अन्य प्रक्रिया पूरी करने में करीब 10 दिन का समय लगेगा.अमेरिकी कंपनी को भुगतान भी कर दिया गया था.
तीसरे कार्यकाल में शिवराज लिया था खरीदने का निर्णयशिवराज सिंह ने अपने तीसरे कार्यकाल में 100 करोड़ रुपये का जेट प्लेन खरीदने का निर्णय लिया था. इसके बाद कमलनाथ सरकार आने पर इस निर्णय को बदल दिया गया था. तत्का
लीन सीएम कमलनाथ का कहना था कि जेट बहुत महंगा है इसका उपयोग केवल
भोपाल,इंदौर,ग्वालियरऔर जबलपुर में 
हो सकता है। ऐसे में इसकी जगह एयर किंग 250 प्लेन खरीदने का निर्णय लिया गया, जिसकी कीमत जेट से आधी तो है ही साथ में ये विमान छिंदवाड़ा बिरवा
दतिया, गुना, खरगोन, मंदसौर, नीमच, रतलाम, रीवा, सागर, सीधी, सिवनी, शिवपुरी, उमरिया, झाबुआ और उज्जैन हवाई क्षेत्र से उड़ान भरने में सक्षम होगा.
पुराना विमान 8 करोड़ में बिका राज्य सर
कार नेअपनापुरानाविमानएयरकिंग-200
गुजरात की एक कंपनी को 8 करोड़ में बेचा है. यह विमान अमेरिकी कंपनी से 2002 में खरीदा गया था. इसके पहले सरकार एक हेलीकाप्टर भी बेच चुकी है. प्रदेश सरकार के पास 2013 में खरीदा हुआ एक हेलीकॉप्टर बचा है. ऐसे में नया विमान आने के बाद सरकारी हवाई बेड़े में एकविमान और एक हेलीकाप्टरहोजाएंगे. 
क्या है विमान की खासियत
- यह दुनिया का सबसे बेहतरीन बिजनेस क्लास विमान माना जाता है. 
- किंग्स एयर क्राफ्ट विश्व में सबसे ज्यादा प्रचलित है. यह मीडियम रेंज होने के कारण किसी भी जगह आसानी से उतारे जाने के कारण बिजनेसमैन ग्रुप की पहली पसंद है. 
- किंग एयर 250 इंटीरियर और सीटों को बहुत ही तैयार व सुसज्जित किया गया है जिन्हें आसानी से झुकाया, गिराया और वापस खड़ा किया जा सकता है. 
- इसके अंदर की बनावट ऐसी है जो एक आलीशानक्लब मेंतब्दीलहो जाती है,जहां
 बिजनेस मीटिंग्स या दोस्तों के साथ पार्टी हो सकती है.
- किंग एयर 250 और सुपर किंग एयर फैमिली को 1976 से बनाया जा रहा है जो इस क्लास के एयर क्राफट में लगने वाला सबसे लंबा टाइम है.
-इसएयर किंग की खासियत यहभी है कि
यह इस रेंज के अन्य विमानों की तुलना में ज्यादा बड़ा और खूबसूरत दिखता है. 
-किंग एयर 250 बीचक्राफ्ट जैसा दिखता है  जो सभी टॉस्क अपने लेवल के एयर क्राफ्ट की तुलना में बेहतर साबित होता है.
- यह मीडियम रेंज के दूसरे विमानों से ज्यादा पावरफुल माना जाता है.यह कस्ट
मर के आराम को ध्यान में रखकर बनाया गया है. इसका इंटीरीयर बहुत ही ज्यादा खूबसूरत बनाया गया है जो आरामदायक होता है. 
- किंग एयर 250 की एक घंटे की ट्रिप की शुरुआती कीमत 14 सौ डॉलर होती है.
- डुअल फ्लाइट मैनेजमेंट सिस्टम
- ट्रैफिक अलर्ट और भिड़ने की स्थिति से आगाह कर सकता है.
- ऑटोमेटिक फ्लाइट गाइडेंस सिस्टम
- डुअल नेविगेशन एंड कम्युनिकेशन रेडियो
- इंजन इंडिकेटिंग एंड क्रू अलर्ट सिस्टम
- इंटिग्रेटेट टेरेन अवेयरनेस एंड वॉर्निंग सिस्टम 
डायमेंशन
लंबाई- 43 फिट 10 इंच (13.36 मीटर)
ऊंचाई- 14 फिट 10 इंच (4.52 मीटर)
केबिन की ऊंचाई 1.45 मीटर
केबिन की चौड़ाई 1.37 मीटर
केबिन की लंबाई 5.08 मीटर
बैठक क्षमता- 9 लोग
सामान भार क्षमता- 249 किलोग्राम
परफॉर्मेंस
अधिकतम स्पीड- 574 किलोमीटर प्रति घंटा
एक बार उड़ान भरने पर 3185 किलोमीटर का सफर तय कर सकता है.
867 मीटर के रनवे में लैंडिंग कर सकता
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/2)मध्यप्रदेश के इन जिलों में 27और28 अगस्त को होगी भारी बारिश,💐 
पढ़िएकही आपककिशहर तो नहींभोपाल मध्यप्रदेश के कई जिलों में बारिश की संभावना मौसम विभाग ने जता दिया है. मौसम विभागने कहा की बंगाल कीखाड़ी 
से दबाव कम बन रहा है और जल्द ही मध्यप्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश होने वाली है. मौसम विभाग ने कहा की 27 और 28 अगस्त को बारिश हो सकती है. मिली जानकारी के मुताबिक मौसम विभाग ने पहले ही कहा था मध्यप्रदेश के कई जिलों में पानी बरसेगा और बरसा भी था. भोपाल और इंदौर में बारिश ने कहर ढा दिया और इंदौर और भोपाल के कई इलाके डूब भी गए. बात अन्य जिलों की करें तो अभी तक रतलाम में 112 मिमी, होशंगाबाद में 72.6 मिमी, झाबुआ में 61.2 मिमी, अलीराजपुर में 52 मिमी, उमरिया में 50 मिमी, मंडला में 33.4 मिमी, सिवनी में 29 मिमी, अनूपपुर में 28.4 और सागर में 27 मिमी, सीधी में 26.4 और जबलपुर जिले में 23 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई।
राजस्थान से आ रही बारिश के कारण मध्यप्रदेश में भी भारी दबाव पड़ रहा है. मध्यप्रदेश के कई जिलों में अभी भारी बारिश हो सकती है. मध्यप्रदेश के सरकार अभी कोरोना के रोकथाम से लड़ रही थी वही दूसरी तरफ बारिश ने भी कहर ढा दिया। 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/3)मध्यप्रदेश में अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए भी बदले नियम, पढ़िए जरूरी खबर।💐
भोपाल मध्यप्रदेश में अधिकारियों और
कर्मचारियोंके लिए भी बदले नियम,पढ़िए
जरूरी खबर
भोपाल:मध्यप्रदेश मेंअधिकारियोंऔरकर्म
चारियों केलिए राहतभरी खबर है.सरकार
jNने बताया की शादी, धार्मिक उत्सव और पारिवारिक आयोजन सहित अन्य अवसर पर 5 हजार मूल्य तक के उपहार लेने के लिए राज्य सरकार को सूचना नहीं देनी होगी. क्योंकि राज्य सरकार अब सिविल आचरण अधिनियम 1976 में बदलाव करने जा रही है. 
सिविल आचरण नियम 1976 के तहत राज्यसरकार के अधिकारीऔरकर्मचारियों को 500 रुपए से अधिक का उपहार लेने पर सरकार को सूचना देनी होती है.
दरअसल, सिविल आचरण नियम 1976 के तहत राज्य सरकार के अधिकारी और कर्मचारियों को 500 रुपए से अधिक का उपहार लेने पर सरकार को सूचना देनी होती है. वहीं, तृतीय श्रेणी के कर्मचारियों को 250 और चुतर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को 100 रुपए से अधिक का 5 लेने पर सरकार को सूचित करना होता है.।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/4)अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर बताया जीवन का कड़वा सच, बोले- संघर्ष के समय कोई नजदीक नहीं आता और...?💐
बॉलीवुड अमिताभ बच्चन ने ट्विटर पर एक विचार साझा किया है, जिसमें उन्होंने जीवन से जुड़ा कड़वा सच बताया है. अमिताभ बच्चन ने अपने ट्वीट में कहा है कि संघर्ष के समय कोई भी नजदीक नहीं आता है.
अमिताभ बच्चन ने बताया जीवन से जुड़ा कड़वा सच
खास बातें
अमिताभ बच्चन ने बताया जिंदगी से जुड़ा कड़वा सच
एक्टर ने कहा कि संघर्ष के समय कोई साथ नहीं आता है...
अमिताभ बच्चन का ट्वीट हुआ वायरल
नई दिल्ली: बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन इन दिनों सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं.वहअकसर सोशलमीडिया
 पर कविताएं, विचार, फोटो और वीडियो साझा कर फैंस से जुड़े रहते हैं. हाल ही में अमिताभ बच्चन ने ट्विटर पर एक विचार साझा किया है, जिसमें उन्होंने जीवन से जुड़ा कड़वा सच बताया है. अमिताभ बच्चन ने अपने ट्वीट में कहा है कि संघर्ष के समय कोई भी नजदीक नहीं आता है. इसके साथ ही बिगबी ने लिखा कि सफलता के बाद किसी को आमंत्रित नहीं करना पड़ता. अमिताभ बच्चन  का यह ट्वीट खूब वायरल हो रहा है, साथ ही लोग इसपर जमकर कमेंट भी कर रहे हैं. 
अमिताभ बच्चन ने अपने ट्वीट में लिखा, "जीवन का कड़वा सच... संघर्ष के समय कोईभी नजदीक नहीं आताऔर सफलता के बाद किसी को आमंत्रित नहीं करना पड़ता है"एक्टर के इस ट्वीट नेउनके फैंस का खूब ध्यान खींचा है, साथ ही लोग इस परजमकर कमेंटभी कर रहे हैं.इससेपहले
अमिताभ बच्चन ने अहंकार और संस्कार में फर्क अपने ट्वीट के जरिए बताया था. बिग बी ने ट्वीट कर लिखा था"अहंकार और संस्कार में फर्क है. अहंकार दूसरों को झुकाकर खुश होता है. संस्कार स्वयं झुककर खुश होता है."
            अमिताभ बच्चन बीते 11जुलाई
 को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. एक्टर के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद उनके फैंस ने जल्द से जल्द स्वस्थ होने के लिए खूब प्रार्थनाएं भी की थीं. एक्टर के वर्क फ्रंट की बात करें तो अमिताभ बच्चन इन दिनों कौन बनेगा करोड़पति की शूटिंग में बिजी हैं.कोरोना के बीच सभीसावधानियों
कोबरतते हुए केबीसी की शूटिंग शुरू कर दी गई है.इससे इतर अमिताभ बच्चन 
जल्द ही फिल्म झुंड, चेहरे और ब्रह्मास्त्र मेंभी नजरआने वाले हैंझुंड में जहांबिगबी
एक कोच की भूमिका अदा करेंगे तो वहीं चेहरेमें वह इमरान हाशमी के साथ पहली बार बड़े पर्दे पर नजर आएंगे
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐 💐(B)आज के दिन जन्मे.रोमन कैथोलिक 
नन एवम विश्व प्रसिद्ध समाज सेविका मदर टेरेसा.का.जीवन परिचय लेख
          💝 जीवन परिचय  💝. 
मदर टेरेसा (26 अगस्त1910-5सितम्बर 
1997) जिन्हें रोमन कैथोलिक चर्च द्वारा
कलकत्ता की संत टेरेसा के नाम से नवाज़ा गया है,का जन्म अग्नेसे गोंकशे बोजशियु
के नामसे एक ल्बेनीयाईपरिवार में उस्कुब
,उस्मान साम्राज्य (वर्त्तमानसोप्जे,मेसेडो-
निया गणराज्य)मेंहुआथा।मदरटेरसा रोमन
कैथोलिक नन थीं,जिन्होंने1948में स्वेच्छा
से भारतीय नागरिकता ले ली थी। इन्होंने 1950 में कोलकाता में मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी की स्थापना की। 45 सालों तक गरीब, बीमार, अनाथ और मरते हुए लोगों कीइन्होंने मदद की और साथहीमिशनरीज
ऑफ़ चैरिटी के प्रसार का भी मार्ग प्रशस्त किया।
             💝 मदर टेरेसा💝 
अग्नेसे गोंकशे बोजशियम मदर टेरेसाजन्म 26 अगस्त 1910 उस्कुब, उस्मान साम्राज्य (आज का सोप्जे, मेसीडोनिया)में हुआ था।
आप की मृत्यु 5 सितम्बर 1997 को  87 वर्ष  की उम्र मेंकोलकाता, में हुई थी।
भारत की राष्ट्रीयता उस्मान प्रजा (1910–1912)
सर्बियाई प्रजा (1912–1915)
बुल्गारियाई प्रजा (1915–1918)
युगोस्लावियाइ प्रजा (1918–1943)
यूगोस्लाव नागरिक (1943–1948)
भारतीय प्रजा (1948–1950)
भारतीय नागरिक  (1948–1997)
अल्बानियाईनागरिकता(1991–1997)
व्यवसाय ;-रोमन केथोलिक नन,
1197  में वे NG० तक वे गरीबों और असहायों के लिए अपने मानवीय कार्यों के लिए प्रसिद्द हो गयीं, माल्कोम मुगेरिज के कई वृत्तचित्र और पुस्तक जैसे समथिंग ब्यूटीफुल फॉर गॉड में इसका उल्लेख किया गया। इन्हें 1RQ2 में नोबेल शांति पुरस्कार और 1989में भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न प्रदान किया गया। मदर टेरेसा के जीवनकाल में मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी का कार्य लगातार विस्तृत होता रहा और उनकी मृत्यु के समय तक यह 123 देशों में  मिशन नियंत्रित कर रही थीं। इसमें एचआईवी/एड्स, कुष्ठ और तपेदिक के रोगियों के लिए धर्मशालाएं/ घर शामिल थे और साथ ही सूप, रसोई, बच्चों और परिवार के लिए परामर्श कार्यक्रम, अनाथालय और विद्यालय भी थे। मदर टेरसा की मृत्यु के बाद इन्हें पोप जॉन पॉल द्वितीय ने धन्य घोषित किया और इन्हें कोलकाता की धन्य की उपाधि प्रदान की।
दिल के दौरे के कारण 5 सितम्बर 1997 के दिन मदर टैरेसा की मृत्यु हुई थी।
            💝 प्रारंभिक जीवन💝
मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त, 1910 को स्कॉप्जे (अब मेसीडोनिया में) मेंवेड्सR  हुआ था। इनके पिता निकोला बोयाजू एक साधारण व्यवसायी थे। मदर टेरेसा का वास्तविक नाम ‘अगनेस गोंझा बोयाजिजू’ था।अलबेनियन भाषा में गोंझा 
का अर्थ फूल की कली होता है। जब वह मात्रआठ साल की थीं तभी इनके पिता का निधनहो गया,जिसके बाद इनके लालन-
-पालन की सारी जिम्मेदारी इनकी माता द्राना बोयाजू के ऊपर आ गयी। यह पांच भाई-बहनों में सबसे छोटी थीं। इनके जन्म के समय इनकी बड़ी बहन की उम्र 7 साल और भाई की उम्र 2 साल थी,बाकीदो बच्चे बचपन में ही गुजर गए थे।यह एक सुन्दर, अध्ययनशील एवं परिश्रमी लड़की थीं। पढ़ाई के साथ-साथ, गाना इन्हें बेहद पसंद था।यहऔर इनकी बहन पास के गिरजाघर में मुख्य गायिकाएँ थीं। ऐसा माना जाता है कि जब यह मात्र बारह साल की थीं तभी इन्हें ये अनुभव हो गया था कि वो अपना सारा जीवन मानव सेवा में लगायेंगी और 18 साल की उम्र में इन्होंने ‘सिस्टर्स ऑफ़ लोरेटो’में शामिल होने का फैसला ले लिया
तत्पश्चात यह आयरलैंड गयीं जहाँ इन्होंने अंग्रेजीभाषासीखी।अंग्रेजी सीखनाइसलिए
जरुरी था क्योंकि ‘लोरेटो’ की सिस्टर्स इसी माध्यम में बच्चों को भारत में पढ़ाती थीं।।   
      💝आजीवन सेवा का संकल्प💝
1981ई में आवेश ने अपना नाम बदलकर टेरेसा रख लियाऔर उन्होने आजीवन सेवा का संकल्पअपना लिया।इन्होने स्वयंलिखा
है -वह सितम्बर1 का दिन था जब मैं अपने वार्षिकअवकाश पर दार्जिलिंग जा रही थी
। उसी समय मेरी अन्तरात्मा से आवाज़ उठी थी कि मुझे सब कुछ त्याग कर देना चाहिए और अपना जीवन ईश्वर एवं दरिद्र नारायण की सेवा कर के कंगाल तन को समर्पित कर देना चाहिए।"
     💝समभाव से पीड़ित की सेवा💝 
मदर टेरेसा दलितों एवं पीडितों की सेवा में किसी प्रकार की पक्षपाती नहीं है।उन्होनें सद्भाव बढाने के लिए संसार का दौरकिया
है।उनकी मान्यता है कि'प्यार की भूख रोटी की भूख से कहीं बड़ी है।' उनके मिशन से प्रेरणा लेकर संसार के विभिन्न भागों से स्वय्ं-सेवक भारत आये तन, मन, धन से गरीबों की सेवा में लग गये। मदर टेरेसा क कहना हैकिसेवा का कार्य एक कठिन कार्य है,इसके लिए पूर्णसमर्थन की आवश्यकता
है।वही लोग इस कार्य को संपन्न कर सकते हैंजोप्यार एवं सांत्वना की वर्षा करें - भूखों को खिलायें, बेघर वालों को शरण दें, दम तोडने वाले बेबसों को प्यार से सहलायें, अपाहिजों को हर समय ह्रदय से लगाने के लिए तैयार रहें।
        💝पुरस्कार व सम्मान💝
मदर टेरेसा को उनकी विविध प्रकार की सेवाओं के लिये विविध पुरस्कारों एवं सम्मानों से विभूषित किय गया है। 1931 में उन्हें पोपजान तेइसवें का शांति पुरस्कार औरधर्मकी प्रगत के टेम्पेलटन फाउण्डेशन पुरस्कार प्रदान किय गया। विश्व भारती विध्यालय ने उन्हें देशिकोत्तम पदवी दी जो कि उसकी ओर से दी जाने वाली सर्वोच्च पदवी है।अमेरिका के कैथोलिक विश्वविद्या
-लय नेउन्हे डोक्टोरेटकीउपाधिसे विभूषित
किया। भारत सरकार द्वारा 1962 में उन्हें 'पद्मश्री' की उपाधि मिली। 1988 में ब्रिटेन द्वारा 'आईर ओफ द ब्रिटिश इम्पायर' की उपाधिप्रदान कीगयी।बनारसहिंदूविश्वविद्या
-लय नेउन्हें डी-लिट की उपाधिसे विभूषित किया।19 दिसम्बर 1979 को मदर टेरेसा कोमानव-कल्याण कार्यों के हेतु नोबल पुर
-स्कारप्रदान कियागया।वह तीसरीभारतीय
नागरिक है जो संसार में इस पुरस्कार से सम्मानित की गयी थीं। मदर टेरेसा के हेतु नोबलपुरस्कार की घोषणा नेजहां विश्व की पीडित जनता में प्रसन्नत का संछार हुआ है, वही प्रत्येक भारतीय नागरिकों ने अपने को गौर्वान्वित अनुभव किया। स्थान स्थान परभव्यभव्य स्वागत किया गया नार्वेनियन नोबल पुरस्कार के अध्यक्श प्रोफेसर जान सेनेस ने कलकत्ता में मदर टेरेसाको सम्मा-
-नित करते हुए सेवा के क्षेत्र में मदर टेरेसा से प्रेरणा लेने का आग्रह सभी नागरिकों से किया।देश की प्रधान्मंत्री तथा अन्य गण-
मान्यव्यक्तियों नेमदर टेरेसा काभव्यस्वागत 
किया।अपनेस्वागत में दिये भाषणों में मदर टेरेसानेस्पष्टकहाहै कि शब्दों से मानवजाति
कीसेवा नहीं होती,उसके लिएपूरी लगन से कार्य में जुट जाने कीआवश्यकता है।"
            💝संत की उपाधि💝
09 सितम्बर 2016 को वेटिकन सिटी में पोप फ्रांसिस ने मदर टेरेसा को संत की उपाधि से विभूषित किया। 
                💝 आलोचना💝
कईव्यक्तियों,सरकारोंऔर संस्थाओंकेद्वारा
उनकीप्रशंसाकीजाती रही है,यद्यपिउन्होंने आलोचना का भी सामना किया है। इसमें कई व्यक्तियों,जैसे क्रिस्टोफ़रहिचेन्स, माइ
कल परेंटी, अरूप चटर्जी (विश्व हिन्दू परि
-षद)द्वारा की गईआलोचना शामिल हैं, जो उनके काम (धर्मान्तरण) के विशेष तरीके के विरुद्ध थे। इसके अलावा कई चिकित्सा पत्रिकाओं में भी उनकी धर्मशालाओं में दी जाने वाली चिकित्सा सुरक्षा के मानकों की आलोचना की गई और अपारदर्शी प्रकृति के बारे में सवाल उठाए गए,जिसमें दानका धन खर्च किया जाता था।ये सभी कार्यअमे
रिकाद्वाराधर्म परिवर्तन के लिए कियाजाता
था जो हमारे वैज्ञानिक राजीव दीक्षित जी भी बताये। राजीव दीक्षित जी को इसीलिए मरवा दिया गया जो सन्देह में है। राजीव दीक्षित के रिसर्च और व्याख्यान जरूर सुने
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(C) आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ💐
1303 - अलाउद्दीन ख़िलजी ने चित्तौड़गढ़ पर क़ब्ज़ा किया
1910- नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित मदर टेरेसा का युगोस्लाविया में जन्म
1914- बंगाल के क्रांतिकारियों ने कलकत्ता में ब्रिटिश बेड़े पर हमला कर 50 माउजर और 46 हज़ार राउंड गोलियाँ लूटी।
1920 - अमेरिका में महिलाओं को मताधिकार मिला।
1977 - जर्मनी के म्यूनिख शहर में 20वें ओलंपिक खेलों की शुरूआत।
1982- नासा ने टेलीसेट-एफ का प्रक्षेपण किया।
1999 - माइकल जाॅनसन ने 400 मीटर दौड़ में विश्व रिकार्ड बनाया।
2001 - बांग्लादेश के पूर्व प्रधानमंत्री जेल भेजे गए।
2002 - दक्षिण अफ़्रीका के जोहानिसबर्ग शहर में दस दिवसीय पृथ्वी सम्मेलन शुरू।
2007 - पाक-अफ़ग़ान सीमा पर अमेरिकी नेतृत्व वाली सेना ने 12 तालिबानियों को मार गिराया।
2008- तेलगु फ़िल्मों के सुपर स्टार चिरंजीवी ने अपनी नई पार्टी प्रजा राज्यम का उद्घाटन किया।
2013 - फिलीपींन्स में विकास सहायता कोष घोटाले को लेकर विरोध प्रदर्शन।
2015 - अमेरिका के वर्जीनिया में दो पत्रकारों की गोली मारकर हत्या कर दी गई।    
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(D)आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व        
1891 - चतुरसेन शास्त्री - हिन्दी साहित्य
 के एक महान् उपन्यासकार
1910 - मदर टेरेसा, भारत रत्न सम्मानित
1927 - बंसीलाल - हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और स्वतन्त्रता सेनानी।
1928 - आेम प्रकाश मुंजल - हीरो साइकिल्स के सह संस्थापक भारतीय व्यापारी और समाज-सेवी।
1956 - मेनका गाँधी- प्रसिद्ध राजनेत्री
भारत के पूर्व प्रधानमंत्रीसंजय गाँधी की पत्नी एवं पशु-अधिकारवादी।
1964-दिनेश रघुवंशी प्रसिद्ध साहित्यकार (गीत, ग़ज़ल)लेखक।
1972 - इंद्र कुमार - भारतीय हिन्दी सिनेमा के प्रसिद्ध सहायक अभिनेताओं में से एक थे।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(E)आज केनिधन हुवे महत्वपूर्णव्यक्तित्व।
1910 - विलियम जेम्स - प्रसिद्ध अमरीकी दार्शनिक तथा मनोवैज्ञानिक का निधन।
1975 - एन. एस. हार्डिकर - प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी तथा 'हिन्दुस्तानी सेवादल' के संस्थापक.का निधन ।
2012- कोआज ही के दिन  श्री ए. के. हंगल - प्रसिद्ध अभिनेता और दूरदर्शन कलाकार.का निधन। 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻     (F) आज का दिवस का नाम
1  नेत्रदान पखवाड़ा दिवस
2  महिला समानता दिवस 
3.चतुरसेन शास्त्री - हिन्दी साहित्य
 के एक महान् उपन्यासकार थे उनका जयंती दिवस।
4 प्रसिद्ध समाज सेविका,कैथोलिक नर्स  डॉक्टर मदर टेरेसा,भारत रत्नसे सम्मानित
महिला थी उनका जयंती दिवस 
5. बंसीलाल - हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री
और स्वतन्त्रता सेनानी थे उनका जयंती दिवस।
6.आेम प्रकाश मुंजल - हीरो साइकिल्स के सह संस्थापक भारतीय व्यापारी और समाज-सेवी थे उनका जयंती दिवस।
विलियम जेम्स - प्रसिद्ध अमरीकी दार्शनिक तथा मनोवैज्ञानिक का निधन।
7. एन. एस. हार्डिकर - प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी तथा 'हिन्दुस्तानी सेवादल' के संस्थापक थे उनका पुण्यतिथि दिवस।
8.श्री ए. के. हंगल - प्रसिद्ध अभिनेता और दूरदर्शन कलाकार थे उनका पुण्यतिथि दिवस।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐   
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐
💐  निवेदक;-💐
💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐