आज की बात आपके साथ - विजय निगम

     ॐ यमाय यमाय धर्मराजाय 
         श्री चित्रगुप्ताय नमो नमः 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 14 अगस्त 2020 शुक्रवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मे प्रसिद्ध लेखक एवम पत्रकार.कुलदीप नैयर का जीवन परिचय लेख. 
C आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
    (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
💐(A/1)आयकर प्रणाली में हुआ बड़ा सुधार, करदाताओं को मिले तीन बड़े अधिकार, पीएम का एलान💐
🌻💐(A/2)💐अब घर बैठे मिलेगी रेलवे कर्मचारियोंको E-पास एवमपीटीओ
की सुविधाएं💐।
🌻💐(A/3)तेजी बच्चन की आवाज सुनकर सबके सामने रो दिए थे अमिताभ बच्चन, जानें क्यों मां के जाने के बाद भी बना रहता है इमोशनल कनेक्शन💐
💐(A/4)सुशांत सिंह की डायरी से खुले कई राज, इस साल हॉलीवुड में रखना चाहते थे कदम; जानें और क्या थी प्लानिंग💐
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻 (A)कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)
💐(A/1)आयकर प्रणाली में हुआ बड़ा सुधार, करदाताओं को मिले तीन बड़े अधिकार, पीएम का एलान💐
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ईमानदारी से कर चुकाने वाले करदाताओं के लिए 'पारदर्शी कराधान - ईमानदार का सम्मान' नामक एक प्लेटफॉर्म का शुभारंभ किया। पीएम मोदी कई मौकों पर ईमानदार करदाताओं की तारीफ तो करते रहे हैं,लेकिन इस बार उन्होंने ऐसे करदाताओं के लिए एक बड़ा प्रोग्राम शुरू किया। इस नए कर प्लेटफॉर्म के तहत करदाता को फेसलेस असेसमेंट, टैक्सपेयर्स चार्टर, फेसलेस अपील की सुविधा मिलेगी। साथ ही अब कर देने में आसानी होगी, तकनीक की सहायता से लोगों पर भरोसा जताया जाएगा।
वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से होने वाले इसआयोजन में केंद्रीय वित्तएवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य राज्य मंत्री अनुराग सिंहठाकुर भी उपस्थित रहे।इसकेअलावा
आयकर विभाग के अधिकारियों एवं पदाधिकारियों केअलावा विभिन्न वाणिज्य मंडलों, व्यापार संघों एवं चार्टर्ड अकाउंटेंट संघोंके साथ-साथ जाने-माने करदाता भी इसआयोजन में शामिल हुए।वहीं, प्रधान
मंत्री ने इस मौके पर लोगों को संबोधित किया और इस योजना के बारे में बताया। 
पढ़ें उनके संबोधन की मुख्य बातें...
देश में चल रहा संरचनात्मक सुधार का सिलसिलाआज एक नए पड़ाव पर पहुंचा है। 'पारदर्शी कराधान - ईमानदार का सम्मान' 21वीं सदी के टैक्स सिस्टम की इस नई व्यवस्था का आज लोकार्पण किया गया है। 
इस प्लेटफॉर्म में फेसलेस एसेसमेंट, फेस
लेस अपील और टैक्सपेयर्स चार्टर जैसे बड़े रिफॉर्म्स हैं। फेसलेस एसेसमेंट और टैक्सपेयर्स चार्टर आज से लागू कर दिया गया है। 
फेसलेस अपील की सुविधा 25 सितंबर यानिदीन दयाल उपाध्याय जी के जन्म
दिन से पूरे देशभर में नागरिकों के लिए उपलब्ध हो जाएगी। अब टैक्स सिस्टम भले ही फेसलेस हो रहा है,लेकिन टैक्स
पेयर को ये फेयरनेस और फेयरलेसनेस का विश्वास देने वाला है।
ईमानदार का सम्मान। देश का ईमानदार टैक्सपेयर राष्ट्रनिर्माणमें बहुत बड़ीभूमिका
 निभाता है। जब देश के ईमानदार टैक्स
पेयर का जीवनआसान बनता है, वो आगे बढ़ता है, तो देश का भी विकास होता है, देश भी आगे बढ़ता है। 
आज से शुरू हो रहीं नई व्यवस्थाएं, नई सुविधाएं, मिनिमम गवर्मेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूत करती हैं। ये देशवासियों के जीवन से सरकार को, सरकार के दखल को कम करने की दिशा में भी एक बड़ा कदम है। 
भारत के टैक्स सिस्टम में मौलिक और संरचनात्मक सुधार की आवश्यकता इसलिए थी क्योंकि हमारा आज का ये सिस्टम गुलामी के कालखंड में बना और फिर धीरे धीरे विकसित हुआ। आजादी के बाद इसमें शामिल होने के लिए बहुत कुछ किया गया था, लेकिन सबसे अजीब प्रणाली का चरित्र यही रहा। आजादी के बाद इसमें यहां वहां थोड़े बहुत परिवर्तन किए गए, लेकिन बड़े तौर पर सिस्टम का ढांचा वही रहा। 
प्रक्रियाओं की जटिलताओं के साथ-साथ देश में कर भी कम किया गया है। 5 लाख रुपए की आय परअब टैक्स जीरो हैबाकी
स्लैब में भी टैक्स कम हुआ है। कारपोरेट कर के मामले में हम दुनिया में सबसे कम कर लेने वाले देशों में से एक हैं। टैक्स
 प्रणाली को निर्बाध, निर्जीव, फेसलेस करने पर जोर दिया गया है। निर्बाध, यानि कीआयकर विभाग हर करदाता को उल
झाने के बजाय समस्या सुलझाने के लिए काम करे। इसमें सभी नियम सरल होंगे। 
टैक्सपेयर्स चार्टर भी देश की विकासयात्रा
 में बहुत बड़ा कदम है। अब टैक्सपेयर को उचित, विनम्र और तर्कसंगत व्यवहार का भरोसा दिया गया है। यानि आयकर विभाग को अब टैक्सपेयर के गौरव का संवेदनशीलता के साथ ध्यान रखनाहोगा। 
वर्ष 2012-13 में जितने टैक्स रिटर्न्स होते थे, उसमें से 0.94 फीसदी की स्क्रूटनी (जांच) होती थी। वर्ष 2018-19 में ये आंकड़ा घटकर 0.26 फीसदी पर आ गया है।यानि केस की स्क्रूटनी, करीब
-करीब 4 गुना कम हुई है। 
बीते 6- साल में इनकम टैक्स रिटर्न भरने वालों की संख्या में करीब ढाई करोड़ की वृद्धि हुई है।लेकिन ये भी सही है कि 130 करोड़ के देश में ये अभी भी बहुत कम है। इतने बड़े देश में सिर्फ डेढ़ करोड़साथीही इनकम टैक्स जमा करते हैं।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/2)💐अब घर बैठे मिलेगी रेलवे कर्मचारियोंको E-पास एवमपीटीओ
की सुविधाएं💐। 
अभी तक रेलवे कर्मचारियों को फ्री पास एवम PTO की सुविधाएं  रेलवे के आरक्षित टिकिट की सुवीधा प्राप्त करने के लिए कार्यालय में जाकर आवेदन देकर स्वीकृति प्राप्त करना पड़ती थी किन्तु अब रेलवे ने या सभी सुविधाएं न लाइन प्रारम्भ कर दी है।अब फ्री पास एव PTO को ऑन लाइन आवेदन कर EModule के तहत आवेदन देकर जेनरेट किया जा सकेगा एवम प्राप्त किया जा सकेगा इस योजनासे रेलवे विभाग के लाखों कर्मचारी एव पेंशनर को लाभ मिल सकेगा।
आइये जानते है इस बाबद रेलवे ने क्या परिवर्तन किए है।
💐सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम ने किया तैयार💐
रेलवे बोर्ड के चैयरमेन विनोद कुमार यादव ने जिस ई पास मॉड्यूल का लांच किया है, उसे सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम द्वारा विकसित किया गया है। इस दौरान रेलवे बोर्ड के वित्त सदस्य समेत अन्य सभी सदस्य, आईआरसीटीसी के प्रबंध निदेशक, क्रिस के प्रबंध निदेशक और सभी जोन के प्रमुख भी उपस्थित थे। रेलवे के अधिकारी ने बताया कि रेलवे के ई पास मॉड्यूल को एचआरएमएस परियोजना के तहत सीआरआईएस द्वारा विकसित किया गया है।
इस सुविधा के साथ रेलवे कर्मचारी को न तो पास के लिए आवेदन करने के ऑफिस आने की जरूरत होगी और न ही पास जारी होने का इंतजार करना पड़ेगा। रेलवे कर्मचारी कही से भी ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे और ई-पास ऑनलाइऩ प्राप्त भी कर सकेंगे।
💐IRCTC सेभी करासकेंगेरिजर्वेशन💐
रेलवे बोर्ड के मुताबिक ई पास के आवेदन से लेकर जारी होने तक की पूरी प्रक्रिया अपडेटेड एप्लिकेशन पर तैयार की गई है, इसलिए पासधारी कर्मचारी या अधिकारी इस पर रिजर्वेशन खिड़की के अलावा आईआरसीटीसी की साइट से भी ऑनलाइऩ रिजर्वेशन करा सकेंगे
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/3)तेजी बच्चन की आवाज सुनकर सबके सामने रो दिए थे अमिताभ बच्चन, जानें क्यों मां के जाने के बाद भी बना रहता है इमोशनल कनेक्शन
तेजीबच्चन की जयंतीपर हम लाए हैं एक
किस्सा जब मां की आवाज सुन अमिताभ बच्चन की आंखें भर आई थीं। साथ ही में हम लाए हैं जानकारी कि आखिर क्यों बड़े होकर भी मां के लिए बच्चा ज्यादा इमोशनल बना रहता है।
तेजी बच्चन को गुजरे कई साल हो चुके हैं, लेकिन उनकी हर पुण्यतिथि और जयंती पर अमिताभ उन्हें जरूर याद करते हैं। हर बार वह ऐसे भावुक पोस्ट्स लिखते हैं, जो उनके फैंस को भी इमोशनल कर देते हैं। हालांकि, एक बार खुद अमिताभ सबके सामने अपने आंसू नहीं रोक पाए थे और वजह थी उनकी मां की आवाज।
दरअसल, KBC शो करने के दौरान जब ऐक्टर का बर्थडे पड़ा, तो उन्हें सरप्राइज देने के लिए शो के मेकर्स ने शूटिंग के दौरान ही अमिताभ को उनकी मां तेजी बच्चन का एक पुराना इंटरव्यू सुनाया। इसमें वह अपने बेटे अमिताभ की तारीफ करती और पति हरिवंश राय बच्चन की कविता गाती सुनाई दी थीं। इस आवाज को सुनते ही अमिताभ भावुक हो गए थे और उनकी आंखें भीग गई थीं।
ऐसे आपने अपनी निजी जिंदगी में भी कई लोगों को देखा होगा, जिनकी उम्र भले ही कितनी हो, लेकिन मां को लेकर उनका सबसे इमोशनल साइड सामने आ ही जाता है। आखिर ऐसा क्या है जो बच्चे को मां से भावनात्मक रूप से इतना मजबूती से जोड़ता है? चलिए जानते हैं।
बचपन से लेकर बड़े होने तक मां से बना रहता है कनेक्शन
साल 2019 में ब्रिटेन की एक प्रसिद्ध वेबसाइट द्वारा 2000 लोगों पर सर्वे किया गया था। इनमें से उन पार्टिसिपेंट्स का पर्सेंट ज्यादा रहा, जो अपनी मां के ज्यादा करीब थे। स्टडी में सामने आया कि जिस तरह बचपन में बच्चे को अपनी मां से इमोशनल सपोर्ट की जरूरत होती है,उसी तरह बड़े होने पर जब वे रिलेशन
शिप मेंआते हैं या किसी अन्य भावनात्मक मुद्दे से जूझते हैं, तो इसके लिए वे मां से ही सलाह लेना पसंद करते हैं।
        अमिताभ मां के साथ
 बच्चों के केस में यह और बढ़ जाता है। इस कारण बच्चे भी उनसे ज्यादा गहरा बॉन्ड शेयर करते हैं और उनके ना होने पर उनकी कमी उन्हें सबसे ज्यादा खलती है।
         पॉजिटिव सपोर्ट सिस्टम
मां से बच्चों को हमेशा ही पॉजिटिव वाइब्स और सपोर्ट मिलता है। आपने भी देखा होगा कि पिता जब बुरी तरह डांटते हैं,तो मां बीच में आकर स्थिति को संभालती है और बच्चे को प्यार से काम को बेहतर करने के लिए मोटिवेट करती है।साइंसकेमुताबिक,पॉजिटिव मोटिवेशन 
मिलने पर व्यक्ति उन लोगों के मुकाबले ज्यादा बेहतर परफॉर्म करता है, जिनसेडांट याडराकर काम करवायाजाता
 है। ऐसा ही कुछ अमिताभ की जिंदगी में भी था। वे भी अपनी सक्सेस का क्रेडिट अपनी मां और उनकी परवरिश को देते हैं। इस पॉजिटिविटी के कारणही हमेशा मां-बेटे के बीच का रिश्ता प्यार से बरकरार रहता है।
श्वेताबच्चन को खल रही है पापाअमिताभ
 की कमी, वो पिता ही है जो बिन बोले समझ जाते हैं बेटी के मन की बात
                  मां का त्याग
आप जब किसी व्यक्ति को परोपकार करते देखते हैं, तो उसके प्रति मन में कोमल भाव आ जाते हैं। मां को बच्चा बचपन से ही परिवार के खातिर त्याग करते देखता है, जिस वजह से ज्यादातर बच्चे उन्हें लेकर ज्यादा इमोशनल भी होते हैं। अमिताभ बच्चन ने भी एक इंटरव्यू में अपनी मां और बाबूजी को याद करते हुए कहा था, 'मेरी मां ने मेरे पिता के लिए काफी बलिदान दिए हैं', जो इसका सबूत था कि उनकी मां ने उनके और परिवार के लिए जो किया, उसे बिग बी कभी नहीं भुला सकेंगे।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/4)सुशांत सिंह की डायरी से खुले कई राज, इस साल हॉलीवुड में रखना चाहते थे कदम; जानें और क्या थी प्लानिंग💐
💐सुशांत सिंहराजपूत कीएक डायरी💐 सामने आई है। इसमें लिखे हर शब्द इस बात की ओर इशारा करते हैं कि सुशांत डिप्रेशन में नहीं थे,बल्कि वे जीवन मेंआगे
बढ़नाचाहते थे।बॉलीवुड सेलेकर हॉलीवुड
 तक अपने नाम का डंका बजता देखना चाहते थे। 
उन्होंने बाकायदा इसके लिये तैयारी भी करनी शुरू कर दी थी।एक प्रोजेक्ट तैयार कर लियाथा।सुशांत ने प्रोजेक्ट भी बिल
कुल प्रोफेशनल अंदाज में बनाया, लेकिन वक्त को कुछ और ही मंजूर था। बहरहाल इसडायरी के सामनेआने के बाद यह बात भी स्पष्ट हो गई है कि वे अपनी बहनों के बेहदकरीब थे। प्रोडक्शन हाउस बनाने के इसप्रोजेक्टमेंवेअपनी बहन को भीशामिल 
करनाचाहतेथे।ऐसे में उन लोगोंपर सवाल
उठने शुरू हो गए हैं, जो अब तक सुशांत कोउनके परिवार से दूरहोने की बात करते थे।सुशांत कभी अपनों को खोना नहीं चाहते थे। उनकी डायरी पढ़ने के बाद यह पता चलता है कि वे सकारात्मक और उर्जावान युवा थे, जिसमें रोज आगे बढ़ते रहने की चाहत थी। 
सुशांत की डायरी में लिखी बातों के कुछ अंश;-मैं सोचना चाहता हूं स्वयं के बारे में, अपने परिवार के बारे में, किसी को खोना नहीं चाहता हूं। मैं सुरक्षित महसूस करना चाहता हूं।स्नेह चाहता हूं।लोग मुझे समझें मैं यह चाहता हूं। मुक्कु मेरी जरूरत पूरी करता है। सामाजिक व्यक्तित्व के रूप में मैं बिना लालच वाला व्यक्ति बनना चाहता हूं।स्नेहीबनना चाहता हूंलोगमुझेबलिदानी
 की तरह जानें, ऐसा चाहता हूं। बिंदा को मुझेयह अहसास दिलाना चाहिए किमुक्कु
सेमेरे संबंध में स्वार्थ छिपा है जो परेशानी उत्पन्नकरेगा।इसलिए मुझे उसको दरकिनार करना चाहिए। मैं हार मानता हूं। मुक्कु को ऐसे परेशान होते नहीं देख सकता। मुझे अभिनय में उत्कृष्ट करना चाहिए। भाषा, संस्कृति पर पकड़ बनानी चाहिए।हॉलीवुड की एजेंसी के साथसंपर्क
बनाना चाहिए।उत्कृष्ट खिलाड़ियों के साथ संपर्क बनाना चाहिए। खुद को सिनेमा, शिक्षा और पर्यावरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट करना चाहिए। भविष्य की योजना 
रेप्युटेशन बनाना, ब्रांड बनना, आय के स्रोत तलाशना, मनी मैनेजमेंट विजन :
हॉलीवुड में कदम (2020)
10 उच्च विचारक प्लानर 
संपत्ति बनाना 
1. 50 करोड़
2. मेरे खर्च - सीमित आय 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐 💐(B)आज के दिन जन्मे पूर्व उच्चायुक्त
,मनोनीत सांसदभारत केप्रसिद्ध लेखक एवं पत्रकार.रहे कुलदीप नैयर का जीवन
परिचय लेख. 
                कुलदीप नैयर
(भारत के प्रसिद्ध लेखक एवं पत्रकार थे )
जन्म : 14 अगस्त 1924, 
जन्मस्थान;-सियालकोट(अब पाकिस्तान) शिक्षा : स्कूली शिक्षा सियालकोट में।विधि की डिग्री लाहौर से।
यू॰एस॰ए॰ से पत्रकारिता की डिग्री ली।एवम दर्शनशास्त्र में पी॰एच॰डी॰। 
कार्यअनुभव:भारत सरकार के प्रेससूचना
अधिकारी के पद पर कई वर्षों तक कार्य
करने के बाद यू॰एन॰आईपी॰आई॰बी॰
द स्टैट्समैन', ‘इण्डियन एक्सप्रेस' के साथ लम्बे समय तक जुड़े रहे। वे पच्चीस वर्षों तक ‘द टाइम्स' लन्दन के संवाददाता भी रहे।
          --- -कुलदीप नैयर----
जन्म;-14 अगस्त 1923
सियालकोट (अब पाकिस्तान)
मृत्यु;-22 अगस्त 2018
मृत्युस्थल;-दिल्ली
राष्ट्रीयता;-भारतीय
शिक्षा;-पत्रकारिता की डिग्री
व्यवसाय;-लेखक एवं पत्रकार
वेबसाइट;-
http://www.kuldipnayar.com/
               💐करियर💐
शुरूआत में नायर एक उर्दू प्रेस रिपोर्टर थे। वह दिल्ली के समाचार पत्र द स्टेट्समैन के संपादक थे।और उन्हें भारतीयआपातकाल
(1975-77) केअंत में गिरफ्तारकिया गया था। वह एक मानवीय अधिकार कार्यकर्ता और शांति कार्यकर्ता भी थे। वह 1996 में संयुक्तराष्ट्र के लिएभारत के प्रतिनिधिमंडल के सदस्य थे।1990 में उन्हें ग्रेट ब्रिटेन में उच्चायुक्त नियुक्त किया गया था,अगस्त 1997में राज्यसभा मेंनामांकित किया गया था। वह डेक्कन हेराल्ड (बेंगलुरु),द डेली स्टार, द संडे गार्जियन,द न्यूज,द स्टेट्समैन,द एक्सप्रेस
ट्रिब्यून पाकिस्तान,डॉन पाकिस्तान,
प्रभासाक्षी सहित 80 सेअधिक समाचार
पत्रों के लिए 14 भाषाओं में कॉलम और 
ऐप-एड लिखते थे।
                💐 रचनाएँ 💐
‘बिटवीन द लाइन्स', ‘डिस्टेण्ट नेवर : ए टेल ऑफ द सब काॅनण्टीनेण्ट', ‘इण्डिया आफ्टर नेहरू', ‘वाल एट वाघा, इण्डिया पाकिस्तान रिलेशनशिप', ‘इण्डिया हाउस', ‘स्कूप' (सभी अंग्रेज़ी में)।दडे लुक्स ओल्ड
के नाम सेप्रकाशित कुलदीपनैयरकीआत्म
कथा भी काफी चर्चित रहीहै सन्1985 से उनकेद्वारा लिखे गये सिण्डिकेट कॉलम
विश्व के अस्सी से ज्यादा पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे हैं।
             💐विवाद💐
कुलदीप नैयर पर छद्म धर्मनिपेक्ष होने के साथसाथहिंदू विरोधी होने केकाभीआरोप
समय समय पर लगता रहता है। नैयरनेतो यहाँतक कह डाला था की।वर्तमान प्रधान
मंत्री को ऐसा कानून बनाना चाहिए जो किसी राष्ट्रीय स्वयं सेवक को उच्च पद के लिए अयोग्य बनाये।
एक प्रतिष्ठित राष्ट्रीय दैनिक में अन्ना हजारे के अन्दोलन के लिए नैयर ने यह कहा की इसआन्दोलन को अनशन से अलग रखते 
तोअच्छा होता और इसका ठीकरा उन्होंने टीम अन्ना के सदस्यों पर फोड़ा। उन्होंने कहाकि ये लोग ध्यान खींचने के लिए इस नाटकीय कदम कोउठाना चाहतेथे विदित
रहे कि अन्ना ने स्वयं ही यह स्वीकारा था कि अनशन करना उनकी स्वयं की इच्छा थी,न कि किसी और की।अन्ना यह कह चुकेहैं किवे कोईबच्चे नहीं हैं।वे वही कार्य
करते हैं जिसकी गवाही उनकी आत्मा देती है।
            💐 सम्मान/पुरस्कार💐
नॉर्थवेस्ट यूनिवर्सिटी द्वारा ‘एल्यूमिनी मेरिट अवार्ड' (1999)। सन् 1990 में ब्रिटेन के उच्चायुक्त नियुक्त किये गये। सन् 1996 में भारत की तरफ से संयुक्त राष्ट्र संघ को भेजेगये प्रतिनिधि मण्डल के सदस्य भी रहे।अगस्त,1997 में राज्य
सभाकेमनोनीत सदस्यके रूप मेंनिर्वाचित हुए।
सरहद संस्था की और से दिया जाने वाला संत नामदेव राष्ट्रीय पुरस्कार 2014 ज्येष्ठ पत्रकारकुलदीप नैय्यर को मिला है। इससे
पहले ये पुरस्कार विजयकुमार चोपडा, एस॰ एस॰ विर्क, गुलजार, यश चोपड़ा, माँटेक सिंह अहलुवालिया, जतिंदर पन्नू, सत्यपाल सिंह, के॰ पी॰ एस॰ गिल को दिया गया है।
23 नवम्बर, 2015 को वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक कुलदीप नैयर को पत्रकारिता में आजीवनउपलब्धि के लिए रामनाथ गोयनका स्मृ़ति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हें यह पुरस्कार दिल्ली में आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह में केद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने प्रदान किया।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(C) आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
1862 - बंबई उच्च न्यायालय की स्थापना की गयी। 
1908 - इंग्लैंड के फोकेस्टोन में पहली सौंदर्य प्रतियोगिता आयोजित की गयी। 1917 - चीन ने जर्मनी और आस्ट्रिया के खिलाफ युद्ध की घोषणा की।
 1920 - बेल्जियम के एंटवर्प में ओलंपिक खेलों की शुरूआत हुयी। 
1936 - बर्लिन में पहला ओलम्पिक बास्केटबॉल खेल हुआ।
 1938 - बीबीसी की पहली फीचर फिल्म (स्टूडेंट ऑफ प्राग) टेलीविजन पर प्रसारित हुई। 
1947 - भारत का विभाजन हुआ और पाकिस्तान पृथक् राष्ट्र बना। 
1968 - मोरारजी देसाई पाकिस्तान के सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-पाकिस्तान से सम्मानित किए गए। 
1971 - बहरीन को 110 वर्ष के बाद ब्रिटिश शासन से आजादी मिली। 
1975 - पाकिस्तानी सेना ने राष्ट्रपति मुजीब उर-रहमान का तख्तापलट किया। 2001 - मेसेडोनिया सरकार व अल्बानियाई विद्रोहियों में समझौता, आयरिश रिपब्लिकन आर्मी द्वारा निशस्त्रीकरण से इन्कार।
 2002 - पाकिस्तान के राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ़ ने कश्मीर के चुनावों को ढोंग करार दिया।
 2006 - संयुक्त राष्ट्र की पहल पर इस्रायल और दक्षिणी लेबनान में पांच सप्ताह से जारी संघर्ष थमा। इराक के कहतानिया में बमबारी में 400 लोग मारे गये।
 2007 - पाकिस्तानी राष्ट्राध्यक्ष परवेज मुशर्रफ़ तथा पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर के मध्य समझौता हुआ।
 2013 - मिस्र में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प में 638 लोग मारे गये।
  🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(D)आज के दिन जन्म लिएमहत्त्वपूर्ण    
   व्यक्तित्व
1900 - एस. के. पाटिल - मुंबई के प्रमुख नेता और केंद्र सरकार में अनेक विभागों में मंत्री रहे थे।
1924 - कुलदीप नैयर - भारत के प्रसिद्ध लेखक एवं पत्रकार। 
1956 - जॉनी लीवर, भारतीय अभिनेता। 1968 - प्रवीण आमरे, भारतीय क्रिकेटर।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(E)आज केनिधन हुवे महत्वपूर्ण
व्यक्तित्व।
1941 - केसरी सिंह बारहट - प्रसिद्ध राजस्थानी कवि तथा स्वतंत्रता सेनानी। 
1984 - खाशाबा जाधव - भारत के ऐसे पहले कुश्ती खिलाड़ी थे, जिन्होंने हेलसिंकी ओलम्पिक में कांस्य पदक जीता था। 
1988 - कैलाश नाथ वांचू - भारत के दसवें मुख्य न्यायाधीश थे।
1996 - अमृतराय - प्रसिद्ध उपन्यासकार, निबन्धकार, समीक्षक तथा अनुवादक थे
2000 - हवा सिंह - भारत के सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाजों में से एक थे। 
 2007 - दुनिया की सर्वाधिक उम्रदराज़ महिला जापान की येनो मीनागावा 
2011- शम्मी कपूर, प्रसिद्ध हिन्दी फ़िल्म अभिनेता
 2012 - विलासराव देशमुख - भारतीय राजनीतिज्ञ और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनेता थे। 
2017 - चंद्रकांत देवताले - प्रसिद्ध भारतीय कवि एवं साहित्यकार
 2018 - बलरामजी दास टंडन - छत्तीसगढ़ के राज्यपाल थे।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(F) आज का दिवस का नाम
1.विश्व युवक दिवस
2.एस. के. पाटिल - मुंबई के प्रमुख नेता और केंद्र सरकार में अनेक विभागों में मंत्री रहे थे उनका जयंती दिवस है।
3.कुलदीप नैयर - भारत के प्रसिद्ध लेखक एवं पत्रकार जयंती दिवस  है। 
4.जॉनी लीवर,प्रसिद्ध भारतीय फ़िल्म अभिनेता है उनका जन्मदिवस है। 
5.शम्मी कपूर, प्रसिद्ध हिन्दी फ़िल्म अभिनेता थे उनका पुण्यतिथि दिवस है
6.विलासरावदेशमुख -भारतीय राजनीतिज्ञ औरभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेसके राजनेता थे।
उनका पुण्यतिथी दिवस है। 
7.चंद्रकांत देवताले - प्रसिद्ध भारतीय कवि एवं साहित्यकार थे उनका पुण्यतिथि दिवस है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐   
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐



💐  निवेदक;-💐
💐 चित्रांश ;-विजय निगम।


Popular posts
श्रमजीवी पत्रकार संघ उज्जैन सम्भाग मिडिया प्रभारी बने भरत शर्मा
Image
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
पियाजियो व्ही।कल्सऔ ने जयपुर में राजस्था न के अपनी तरह के पहले इलेक्ट्रिक व्हीजकल (ईवी) एक्सेपीरियेंस सेंटर का उद्घघाटन किया
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image