आज की बात आपके साथ - विजय निगम

ॐ श्री चित्रगुप्ताय नमः
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹
🌻 नमस्ते।🌻

आजकी बातआपके साथ मे आप सभी साथीयोंकादिनांक28.जुलाई 2020मंगल
वार की प्रातःकी बेला में हार्दिक वंदन है
अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
A. कुछ रोचक समाचार
B.आज केदिन जन्मे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवम भूतपूर्व राज्य-
-पाल रामेश्वर ठाकुर का जीवन परिचय
लेख।
C. आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D. आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E. आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F. आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
    (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
💐(A/1)पाकिस्तान -बांग्लादेश के बीच कश्मीर पर हुई चर्चा? रिपोर्ट से भारत में चढ़ी त्योरियां💐
💐(A/2)मध्यप्रदेश के कटनी जिले में
कोरोना वायरस के चलते जिला प्रसाशन नेआगामी6 दिनोंकेलिए टोटल लॉकडाउन केआदेश प्रसारित किये।💐
💐(A/3)प्रभुश्रीराम सेजुड़े वोदस रहस्य, जिन्हें शायद ही जानते होंगे आप💐
💐(A/4)सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस में आया बड़ा डेवलपमेंट, लगातर ट्रोल हो रहे इस डायरेक्टर से होगी पूछताछ।💐
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻 (A)कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)
💐(A/1)पाकिस्तान -बांग्लादेश के बीच कश्मीर पर हुई चर्चा? रिपोर्ट से भारत में चढ़ी त्योरियां💐
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बांग्लादेश की अपनी समकक्ष शेख हसीना को फोन किया और इसके बाद इस्लामाबाद से बयान जारी किया गया कि इमरान खान ने जम्मू और कश्मीर के बारे में अपनी चिंताओं को शेख हसीना से साझा किया है.
कोलकाता : पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बांग्लादेश की अपनी समकक्ष शेख हसीना को फोन किया और इसके बाद इस्लामाबाद से बयान जारी किया गया कि इमरान खान ने जम्मू और कश्मीर के बारे में अपनी चिंताओं को शेख हसीना से साझा किया है. गौरतलब है कि चीन के साथ लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण पर संघर्ष के मद्देनजर भारत के पड़ोस में इस बदलते समीकरण को अहम माना जा रहा है. जैसा कि नेपाल के साथ रिश्तों में पिछले कुछ महीनों में खटास आई है. बांग्लादेश के पाकिस्तान के करीब आने से बांग्लादेश के भारत का समर्थन करने का रुख कमजोर पड़ता नजर आ रहा है.
ऐसी चिंताएं हैं कि बांग्लादेश में पहले से ही एक मजबूत प्रभाव वाले चीन की फोन कॉल में भूमिका हो सकती है. कश्मीर पर, दोनों देशों के विपरीत बयान सामने आए हैं. बांग्लादेश के बयान में कश्मीर का जिक्र नहीं है, बयान में  कहा गया कि कोरोनोवायरस संकट और बाढ़ पर चर्चा की गई. जबकि पाकिस्तान के बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर पर "पाकिस्तान के नजरिए" और "शांतिपूर्ण समाधान के महत्व पर जोर दिया." 
भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि चिंता का कोई कारण नहीं है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, "बांग्लादेश के साथ हमारे संबंध हर मौके पर परखे हुए और ऐतिहासिक हैं. हम उनके रुख की सराहना करते हैं कि जम्मू-कश्मीर और उसके सारे घटनाक्रम भारत के आंतरिक मामले हैं. यह एक ऐसा स्टैंड है जो उन्होंने हमेशा लिया है." 
लेकिन कुछ विदेश नीति के विशेषज्ञ आश्वस्त नहीं हैं. 
कोलकाता स्थित विश्लेषक और समाचार पोर्टल ईस्टर्न लिंक के संपादक सुबीर भौमिक ने कहा, "बेशक भारत को चिंतित होना चाहिए.जिस तरह से कूटनीतिक संबंधों की बहाली बांग्लादेश और पाकिस्तान के बीच हुई है. विशेष रूप से एक ऐसे समय में जब भारत को लद्दाख में चीन से परेशानी हो रही है. विशेष चिंता की बात यह है कि, प्रधानमंत्री शेख हसीना के कार्यालय में पाकिस्तान समर्थक आवाज़ें हैं जिसके चलते कश्मीर मुद्दे को उठाया जा रहा है।.''
पूर्व विदेश सचिव कृष्णन श्रीनिवासन ने कहा, "दो क्षेत्रीय प्रधानमंत्रियों का बात करना असामान्य नहीं है. दो इस्लामिक देशों के प्रधानमंत्रियों के रूप में, यह आश्चर्यजनक नहीं है कि कश्मीर उनकी बातों में शामिल है." 
बता दें कि जब धारा 370 के तहत दिए गए  जम्मू और कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म कर दिया गया था, तब ढाका ने कहा था कि यह भारत का आंतरिक मामला है. यही ढाका ने नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के बारे में भी कहा था. लेकिन उसके विदेश मंत्री अब्दुल मूमन ने दिसंबर की भारत यात्रा को रद्द कर दिया।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/2)मध्यप्रदेश के कटनी जिले में
कोरोना वायरस के चलते जिला प्रसाशन नेआगामी6 दिनोंकेलिए टोटल लॉकडाउन केआदेश प्रसारित किये।💐
मध्य प्रदेश के जिला कटनी में भी टोटल लॉकडाउन कर दिया गया है. जिला प्रशासन ने ये आदेश जारी करते हुए कहा है कि मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है, ऐसे में 26 जुलाई यानी आज रात 8 बजे से 2 अगस्त सुबह 5 बजे तक पूरी तरह से लॉकडाउन रहेगा. 6 दिनों के लिए लॉकडाउन किया गया है. जिलाधिकारी शशिभूषणसिंह ने इसे लेकर आदेश जारी किया है. 
1. आदेश के अनुसार, टोटल लॉकडाउन में सामान्यतः किसी भी व्यक्ति को अपने घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं होगी. 
2. सामान्यतः कटनी जिले की सीमा क्षेत्र के अंसार आवागमन व जिला और नगर निगम सीमा क्षेत्र में बाहर से आने जाने के लिए आवागमन प्रतिबंधित रहेगा. 
3. सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठान, दुकानें, सभी हाट बाज़ार भी बंद रहेंगे.
4. किसी भी तरह के वाहनों को अनुमति नहीं होगी. टैक्सी, ई रिक्शा भी बंद रहेंगे.
5. सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग बंद रहेंगे.
6. सिनेमा हॉल, जिम, स्विमिंग पूल, पार्क, या नहीं कोई भी ऐसी जगह जहां लोग जमा होते होंगे, पहले की ही तरह बंद रहेगी.
7. धार्मिक, राजनैतिक, सामाजिक कार्यक्रम नहीं होंगे.
8. निर्माण कार्य नियमों के साथ जारी रहेंगे.
9. लोग अति ज़रूरी काम से घर के आस-पास ही जा सकते हैं.
10. अस्पताल जैसी सेवाएँ जारी रहेंगी.
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/3)प्रभुश्रीराम सेजुड़े वोदस रहस्य, जिन्हें शायद ही जानते होंगे आप💐
जन्मभूमि अयोध्या में भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर बनने जा रहा है। अगले महीने की 5तारीख को मंदिर का भूमिपूजनहोगा
।भगवान श्रीराम हिन्दुओं की आस्था के महान प्रतीक हैं। आइए जानते हैं उनसे जुड़े ऐसे दस रहस्य जिनसे शायद ही आप रूबरू होंगे।  
💐क्या श्रीराम ने किया था माता सीता का परित्याग?💐
उत्तर रामायण(उत्तरकांड)मेंयेवर्णनमिलता 
हैकिभगवान राम नेमातासीताकापरित्याग
कर दिया था।कहते हैं रामायण का उत्तर
कांड बौद्धकाल में जोड़ा गया है। क्योंकि मूल रामायण में उत्तरकांड का जिक्र नहीं मिलता है।शहर-शहर होने वालीरामलीला
में भीलंकाविजय के बाद रामायण समाप्त 
होजाती है। रामकथा पर सबसे प्रामाणिक शोध करने वाले फादर कामिल बुल्के का स्पष्ट मत है कि 'वाल्मीकि रामायण का 'उत्तरकांड' मूल रामायण के बहुत बाद में जोड़ा गया है।
💐ये था भगवान श्रीराम का वंश💐
हिंदू धार्मिक शास्त्रों के अनुसार वैवस्वत मनु के दस पुत्र थे- इल,इक्ष्वाकु,कुशनाम, अरिष्ट, धृष्ट, नरिष्यन्त, करुष, महाबली, शर्यातिऔर पृषध।श्रीरामकाजन्म इक्ष्वाकु के कुल में हुआ था। जैन धर्म के तीर्थंकर निमि भी इसी कुल के थे।
   💐श्रीराम राजा थे या भगवान💐
हमारे शास्त्रों में लिखा है कि मर्यादा पुरुषो
त्तम श्रीराम भगवान विष्णु के अवतार थे। हालांकि उन्होंने अयोध्या में राजा दशरथ के यहां एकआम इंसान के रूप मेंही जन्म लियाथा।लेकिन व्यक्तिअपनेकर्मोंसे महान बनता है और उनकी महानता उनके उच्च आदर्श, वचनबद्धता और कर्तव्यनिष्ठा है। इसलिए वे हिन्दू आस्था के बड़े केन्द्र हैं जिन्हें भगवान के रूप में पूजा जाता है।
लोककथा के अनुसार, शांता राजा दशरथ और कौशल्या की पुत्री थी। लेकिन माता कौशल्या ने उसे अपनी बहन वर्षिणी को गोद दे दिया था, जिसकी कोई संतान न थी। बाद में राजा रोमपाद ने श्रंगी ऋषि से उनका विवाह हुआ। कर्नाटक के श्रंगेरी में श्रंगी ऋषि के नाम पर ही श्रंगेरी शहर का नाम रखा गया है। 
💐श्रीराम ने अपने प्राण से प्रिय भाई लक्ष्मण को दिया मृत्युदंड💐
संपूर्ण रामायण का सार मर्यादा में रहकर वचन और कर्तव्यों का पालन करना है। इसके मुख्य किरदार भी भगवान श्रीराम हैं। कहते हैं भगवान श्रीराम ने अपने वचन का पालन करते हुए अपने प्राण से प्रिय भाई लक्ष्मण को मृत्युदंड का आदेश दे दिया था।
💐इस कारण कैकयी ने मांगा था श्रीराम को 14 वर्षों का वनवास💐
कैकेयी राजा अश्वपति की बेटी थी और श्रवण कुमार के पिता रत्नऋषि राजा अश्वपति के राजपुरोहित थे और रत्नऋषि ने ही कैकेयी को सभी शास्त्र वेद पुराण की शिक्षा दी थी। उन्होंने कैकेयी को बताया कि राजा दशरथ की कोई संतान राज गद्दी पर नहीं बैठ पायेगी और साथ ही ज्योतिष गणना के आधार पर बताया कि दशरथ की मृत्यु के पश्चात यदि चौदह वर्ष के दौरान कोई संतान गद्दी पर बैठ भी गया तो रघुवंश का नाश हो जाएगा। 
💐माता सीता को लेकर लक्ष्मण ने कही थी ये बात💐
माता सीता का अपहरण होने के बाद सीता को खोजते-खोजते दोनों भाई को जंगल में माता सीता के कुछ आभूषण मिले। राम ने उन आभूषणों में से कर्णफूल को दिखाकर लक्ष्मण से पूछा कि यह तो सीता के कर्णफूल हैं लेकिन यह घने वन में कैसे आए। इस पर लक्ष्मण ने कहा कि हे भाईया राम! कर्णफूल भाभी के ही हैं यह मैं कैसे बता सकता हूं, मैंने तो कभी भाभी के मुख की ओर देखा ही नहीं। मैं तो सेवक और पुत्र भाव से सदा भाभी के चरणों को देखा है इसलिए मैं सिर्फ उनकी पायल को पहचानता हूं। 
💐ऐसे मिले थे प्रभु राम और भक्त हनुमान💐
हनुमान जी ब्राह्मण का रूप धारण कर प्रभु श्रीराम और लक्ष्मण के पास पहुंचे। जब उन्होंने प्रभु श्रीराम और लक्ष्मण को देखा तो वे उनके तेज से बेहद प्रभावित हो गए। वे समझ गए थे कि ये दोनों वीर कोई आमजन नहीं, बल्कि साक्षात किसी देवता के रूप हैं। हनुमान जी अपने आराध्य देव को पहचान गए और उन्होंने अपने नाथ के चरणों में गिरकर उन्हें दंडवत प्रणाम किया। 
💐इस कारण श्रीराम को सहना पड़ा माता सीता का वियोग💐
भगवान श्रीराम को माता सीता का वियोग सहना पड़ा था। लेकिन यह वियोग उन्हें एक श्राप के कारण सहना पड़ा था। वह श्राप किसी और ने नहीं, बल्कि देव ऋषि नारद मुनि ने दिया था।
💐ऐसे हुई थी भगवान राम की मृत्यु💐
अयोध्या आगमन के बाद राम ने कई वर्षों तक अयोध्या का राजपाट संभाला और इसके बाद गुरु वशिष्ठ व ब्रह्मा ने उनको संसार से मुक्त हो जाने का आदेश दिया। एक घटना के बाद उन्होंने जल समाधि ले ली थी
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/4)सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस में आया बड़ा डेवलपमेंट, लगातर ट्रोल हो रहे इस डायरेक्टर से होगी पूछताछ।💐
एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत को एक महीने से ज्यादा हो गया है लेकिन मुंबई पुलिस की कार्रवाई अभी भी जारी है। पुलिस लगातार कई लोगों से पूछताछ कर रही है। इस बीच अब महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने बड़ा बयान दिया है। अनिल देशमुख ने सुशांत मामले में फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट से पूछताछ करने की बात कही है उन्होंने कहा है कि इस मामले में महेश भट्ट का स्टेटमेंट रिकॉर्ड किया जाएगा अनिल देशमुख ने ये भी कहा है कि इस केस में अब करण जौहर के मैनेजर से भी सवाल-जवाब किए जाएंगे उनके मुताबिक अगर जरूरत लगी तो खुद करण जौहर को भी हाजिर होने को कहा जा सकता है। अब सुशांत मामले में महेश भट्ट से पूछताछ होना बड़ी डेवलपमेंट के रूप में देखा जा रहा है। सुशांत की मौत के बाद से ही महेश भट्ट को सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल किया जा रहा है. उन पर नेपोटिज्म को बढ़ावा देने का आरोप लगा रहा है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐 💐(B)आज केदिन जन्मे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवम भूतपूर्व राज्य-
-पाल रामेश्वर ठाकुर का जीवन परिचय
लेख💐
रामेश्वर ठाकुर (अंग्रेज़ी: Rameshwar Thakur; जन्म- 28 जुलाई, 1927, गोड्डा ज़िला, झारखण्ड) 'भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस' के वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं। इन्होंने देश के कई प्रतिष्ठित संस्थानों में महत्त्वपूर्ण पदों पर कार्य किया है। रामेश्वर ठाकुर भारत के कई राज्यों में राज्यपाल के पद पर भी रह चुके हैं। आप वर्ष 2004 से 2006 तक उड़ीसा, 2006 से 2007 तक आंध्र प्रदेश, 2007 से 2009 तक कर्नाटक और 2009 से 2011 तक मध्य प्रदेश राज्य के राज्यपाल रहे। रामेश्वर ठाकुर शिक्षा के उत्थान, समाज सेवा और ग्रामीण विकास जैसे कार्यों नें सदैव संलग्न रहे। आदिवासियों, हरिजनों और अन्य सामाजिक रूप से पिछड़े वर्गों के कल्याणार्थ भी इन्होंने काफ़ी कार्य किया। जन्म तथा शिक्षा रामेश्वर ठाकुर का जन्म 28 जुलाई, 1927 को झारखण्ड में गोड्डा ज़िले के 'ठाकुर गांगटी' नामक ग्राम में हुआ था। इन्होंने भागलपुर, पटना विश्वविद्यालय में अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की। उसके बाद 'कोलकाता विश्वविद्यालय' से एम.ए. की डिग्री ली और एल.एल.बी. भी किया। रामेश्वर ठाकुर ने 'इंस्टीट्यूट ऑफ़ चार्टर्ड एकाउंटेंट', नई दिल्ली से एफ़.सी.ए. किया। विवाह इनका विवाह नर्मदा ठाकुर से हुआ था। रामेश्वर ठाकुर दो पुत्रों तथा दो पुत्रियों के पिता हैं। व्यवसायिक शुरुआत रामेश्वर ठाकुर ने एक व्याख्याता के रूप में 'कोलकाता विश्वविद्यालय' से अपनी सेवाएँ प्रारंभ कीं। इन्होंने प्रबंध अध्ययन विभाग, दिल्ली में अतिथि प्रोफेसर के रूप में अपने दायित्व का निर्वाहन किया।
राष्ट्रीय आन्दोलन में सहभागिता रामेश्वर ठाकुर ने सक्रियता से 'भारत छोड़ो आन्दोलन', 1942 में भाग लिया और संथाल परगना में राजमहल पहाड़ियों में लगभग छह महीने के लिए भूमिगत रहे। बाद में इन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया और कोलकाता की सेंट्रल जेल में रखा गया। रामेश्वर ठाकुर 1946 में भी राष्ट्रीय आन्दोलन से सम्बद्ध रहे। उन्होंने सामाजिक सुधार के कार्यों में भी पूरी सक्रियता से भाग लिया था, विशेष रूप से संथाल परगना में पुनर्निर्माण गतिविधियों के कार्यों में योगदान दिया। विदेश यात्रा रामेश्वर ठाकुर ने कई देशों की यात्राएँ कीं, जिनमें रूस, पोलैण्ड, बेल्जियम, फ़्राँस, पश्चिमी जर्मनी, इटली, ब्रिटेन, स्विट्जरलैण्ड, मिस्र, संयुक्त राज्य अमरीका, मैक्सिको और श्रीलंका आदि शामिल हैं। अभिरुचि शिक्षा, समाज सेवा और ग्रामीण विकास के कार्यों में रामेश्वर ठाकुर की विशेष रुचि थी। इन्होंने आदिवासियों, हरिजनों और अन्य सामाजिक रूप से पिछड़े वर्गों के उत्थान के लिए भी महत्त्वपूर्ण कार्य किए। राज्यपाल रामेश्वर ठाकुर 17 नवंबर, 2004 को उड़ीसा के राज्यपाल बनाये गए। 29 जनवरी, 2006 से 22 अगस्त, 2007 तक इन्होंने आंध्र प्रदेश के राज्यपाल का अतिरिक्त कार्यभार ग्रहण किया। आप 21 अगस्त, 2007 से 29 जून, 2009 तक कर्नाटक के राज्यपाल रहे। 30 जून, 2009 से 8 सितम्बर, 2011 तक रामेश्वर ठाकुर मध्य प्रदेश के राज्यपाल रहे। रामेश्वर ठाकुर को 24 जून, 2009 को भारत की राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवी पाटिल ने मध्य प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया था। रामेश्वर ठाकुर ने अपने से पूर्व के राज्यपाल बलराम जाखड़ का स्थान लिया। बलाराम जाखड़ का कार्यकाल 30 जून, 2009 को समाप्त हुआ था। रामेश्वर ठाकुर ने 30 जून, 2009 को दोपहर 11:50 पर हिन्दी में शपथ ग्रहण की। इन्हें मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश ए. के. पटनायक ने एक गरिमामय समारोह में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(C) आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ💐
1995 - वियतनाम आसियान का सदस्य बना। 
2001 - पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री मोहम्मद सिद्दकी ख़ान कंजू की हत्या की गई।
 2004 - इराक के बाकूबा शहर में एक पुलिस भर्ती केन्द्र में विस्फोट से 68 लोगों की मृत्यु। 
2005 - सौरमंडल के दसवें ग्रह की खोज करने का दावा। 
2007-पाकिस्तान सरकार ने विवादास्पद लाल मस्जिद को अनिश्चितकाल तक बन्द करने की घोषणा की। 
2008-निर्गुट देशों की मंत्री स्तरीय बैठक में भाग लेने के लिए भारत के विदेशमंत्री प्रणव मुखर्जी तेहरान रवाना हुए।           
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐(D)आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व।
1165 - इबने अरबी - अरबी के प्रसिद्ध सूफ़ी कवि, साधक और विचारक।
1909 - कासू ब्रह्मानंद रेड्डी - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे, जो आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। 
1927 - रामेश्वर ठाकुर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता और उड़ीसा, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक तथामध्य प्रदेश के भूतपूर्व राज्य
-पाल। 
1957-अनिल जनविजय हिन्दी के कवि, लेखक और रूसी तथा अंग्रेज़ी भाषाओं के साहित्य अनुवादक। 
1983-सुविज्ञ शर्मा भारतीय कलाकार, चित्रकार और उद्यमी।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻(E)आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
1972 चारूमजूमदार भारतीय कम्यूनिस्ट
पार्टी' के नेता, जिन्होंने1967 में सत्ता के विरुद्ध एक नक्सलवादी आन्दोलन की शुरुआत की थी। 
2016 - महाश्वेता देवी - भारत की सामाजिक कार्यकर्ता और लेखिका।
 2017 - इंद्र कुमार - भारतीय हिन्दी सिनेमा के प्रसिद्ध सहायक अभिनेताओं में से एक थे।
 
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻  (F) आज का दिवस का नाम
1  विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस
2. वर महोत्सव दिवस
3. विश्व हेपेटाइटिस दिवस
4- इबने अरबी - अरबी के प्रसिद्ध सूफ़ी कवि, साधक और विचारक थे उनका जयंति दिवस
5 कासू ब्रह्मानंद रेड्डी - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे, जो आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे उनका जयन्ति दिवस
6 रामेश्वर ठाकुर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता और उड़ीसा, आंध्र प्रदेश,कर्नाटक
तथा मध्य प्रदेश के भूतपूर्व राज्यपाल का
जन्म दिवस। 
7.चारूमजूमदार भारतीय कम्यूनिस्ट
पार्टी' के नेता, जिन्होंने1967 में सत्ता के विरुद्ध एक नक्सलवादी आन्दोलन की शुरुआत की थी,उनका आज पुण्यतिथि दिवस है।
8. महाश्वेता देवी - भारत की सामाजिक कार्यकर्ता और लेखिका थी उनका आज पुण्यतिथि दिवस है।
9. इंद्र कुमार - भारतीय हिन्दी सिनेमा के प्रसिद्ध सहायक अभिनेताओं में से एक थे,उनका आज पुण्यतिथि दिवस है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐   
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐
💐  निवेदक;-💐
 💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐


Popular posts
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
“कॉमेडी मेरे लिए एक नया क्षेत्र है” : मनोज बाजपेयी
Image
पियाजियो व्ही।कल्सऔ ने जयपुर में राजस्था न के अपनी तरह के पहले इलेक्ट्रिक व्हीजकल (ईवी) एक्सेपीरियेंस सेंटर का उद्घघाटन किया
Image
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image