आज की बात आपके साथ - विजय निगम


प्रिय साथियो। 


🌹राम-राम🌹 


🌻 नमस्ते।🌻


आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 10 जून 2020 बुधवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदनहै। अभिनन्दन है।


🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻


आज की बात आपके साथ अंक मे है 


A कुछ रोचक समाचार


B आज के दिन जन्मे प्रसिद्ध उपन्यास


कार वेद प्रकाश शर्मा का जीवन परिचय लेख. 


C आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ


D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    


    व्यक्तित्व


E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।


F आज का दिवस का नाम ।


🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻(A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)


🌺(A/1) स्कूलों का पुन:उद्घाटन, CBSE परीक्षाऔर परिणाम,विश्वविद्यालय परीक्षा


-यहाँ मानव संसाधन विकास मंत्री ने क्या कहा ।🌺


🌺(A/2)क्या सरकार ने रिलायंस इंडस्ट्रीज को 53,000 करोड़ रुपये जुटाने में मदद की?🌺


🌺(A/3)भाजपा नेता ज्योतिरादित्य


सिंधिया और उनकी मां को हुआ कोरोना, मैक्स अस्पताल में हुए भर्ती।🌺


🌺(A/4)मंदिर खुलते ही टीवी के 'श्री राम' ने की लोगों से खास अपील, कहा- 'आपकी सुरक्षा ईश्वर को भी प्यारी है'🌺।


🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻A कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)


🌺(A/1) स्कूलों का पुन:उद्घाटन, CBSE परीक्षाऔर परिणाम,विश्वविद्यालय परीक्षा


-यहाँ मानव संसाधन विकास मंत्री ने क्या कहा ।🌺


केंद्रीय मानवसंसाधनमंत्री रमेशपोखरियाल 


निशंक ने एक विशेष साक्षात्कार मेंCBSE परीक्षा,विश्वविद्यालय परीक्षा,NEET,JEE , UGC दिशानिर्देश, परिणाम आदि से संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तर दिए।


केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री,डॉ-रमेश पोख


-रियाल निशंक ने हाल ही में मीडिया के साथ एक विशेष साक्षात्कार में भारत भर के छात्रों के सभी प्रश्नों का उत्तर दिया है। मानव संसाधन मंत्री ने सीबीएसई बोर्ड परीक्षा, विश्वविद्यालय अंतिम वर्ष की परीक्षाओं, स्कूलों को फिर से खोलने, NEET, JEE के लिए सरकारों की योजना आदि से संबंधित बुनियादी मुद्दों का जवाब दिया।


साक्षात्कार का संचालन मिडिया ने किया था।अंत तक के साक्षात्कार ने हर छात्र को एक महामारी के प्रकोप के दौरान भारत में शिक्षाक्षेत्र के बारे में सरकार की योजनाओं और रणनीतियों का जवाब दिया। जिन महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की गई, वे नीचे सूचीबद्ध हैं।


गृह केंद्रों पर बोर्ड परीक्षा: मंत्री ने कहा कि चूंकिसीबीएसई बोर्ड के केंद्रों की यात्रा


करने और पहुंचने में कोई समस्या है, इस


लिएछात्रअपने स्थान के बारे मेंअपनेस्कूलों


को सूचित कर सकते हैं,जो विद्यालय द्वारा बोर्ड को सूचित किया जाएगा। इस प्रकार एक बच्चेको इस तनावभरे माहौल में यात्रा नहीं करनी होगीऔरउन केंद्रों तक पहुंचना होगा जो जुलाई में होने वाले बोर्डों के लिए प्रदर्शित होने के लिए उनके निकटतम हैं।  


जुलाई में परीक्षा देने वाले छात्रों की सुरक्षा


:यह पूछेजाने पर कि क्या जुलाई में परीक्षा


आयोजित करना सुरक्षित होगाक्योंकि यह COVID 19 का शिखर होगा,मंत्री ने कहा कि सरकार परीक्षा देखेगी,निरीक्षण करेगी और फिर परीक्षा आयोजित करेगी, अब 1 जुलाई से बोर्ड की तारीखें तय की गई हैं, जो आयोजित की जाएंगी। शिक्षा मंत्रालय द्वारा एमएचए और स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों काकड़ाई सेपालनकिया


जाएगा। 


NCERT,UGC टास्कफोर्स जगह में: मंत्री ने कहा कि चूंकि भारत में छात्र आबादी 33 करोड़ से अधिक है, इसलिए UGC और NCERT टास्क फोर्स बहुत मददगार है। मंत्री के अनुसार कक्षाओं के संचालन में शिक्षणकेऑनलाइनमोड में शिफ्टकरना बहुत फलदायी रहा है। उन्होंने दीक्षा, ई पाठशाला, स्वयम, आदि के बारे में बात की जो सहायक मंच हैं। 


 स्कूल को फिर से खोलना : मंत्री से स्कूलकी सुरक्षा और सामाजिक दूर करने के मुद्दों को फिर से खोलने के बारे में पूछा गया। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट है किअभि


भावक अपने वार्ड के बारे में चिंतित होंगे, लेकिन मुख्यरूप से छात्रों की सुरक्षाकरना और सरकार के लिएभी स्वच्छता के तरीके 


से अध्ययन करना महत्वपूर्ण होगा। वह नियमित रूप से राज्य के शिक्षा मंत्रियों के साथ बातचीत कर रहे हैं। राज्यों के स्कूलों कोएमएचए द्वारा जारी किएगए सभीदिशा


निर्देशों का पालन करना होगा। 


प्रवेश परीक्षा में देरी: छात्रों को अपनेप्रवेश 


परीक्षा में देरी होने का बहुत दबाव है।मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि सरकार यहसुनिश्चित करने की पूरीकोशिश 


कर रही है कि छात्रों को महामारी से एक साल भीनहीं गंवानापड़े औरइस तरह केंद्रों


पर सभी सामाजिक दूरियों के मानदंडोंको 


बनाएरखने के लिए प्रवेशपरीक्षाआयोजित


करने का फैसला कियाहै।हालांकिछात्रोंकी


संख्याअधिक है,फिर भीअधिकारी ऐसी 


समस्याओं सेनिपटने के लिए हर समय विज्ञापन केंद्रों पर छात्रों की सुरक्षा बनाए रखेंगे। 


संसाधनों की कमी: जम्मू और कश्मीर के छत्र विशेष रूप से इंटरनेट के मुद्दों का सामना कर रहे हैं क्योंकि क्षेत्र में 2 जी सेवाएं हैं। मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा इस क्षेत्र को कवर करने के लिए टेलीविजन और रेडियो पर कई कक्षाएं शुरू की गई हैं और साथ ही अध्ययन और अध्ययन सामग्री के माध्यम से अध्ययनशालाओं को मूल्यवान शिक्षा प्रदान की गई है। जेके के छात्रों के लिए सीखने में उनके अनुसार कोई तोड़ नहीं है। 


🌹🌲🌱💮🌳🌺🌻🌺🌻🌹🌲🌻


(A/2)क्या सरकार ने रिलायंस इंडस्ट्रीज को 53,000 करोड़ रुपये जुटाने में मदद की?


COVID-19 लॉकडाउन के दौरान भारत सरकार द्वारा नियमों और विनियमों में कई महत्वपूर्ण बदलावों से रिलायंस जियो लिमिटेड द्वारा शेयरों के अधिकारों के मुद्दे को सुविधाजनक बनाया गया।


अबीर दासगुप्ता , परंजॉय गुहा ठाकुरता


मुंबई / दिल्ली, 7 जून, 2020: भारत की सबसे बड़ी निजी कॉर्पोरेट इकाई, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) द्वारा शेयरों का "सबसे बड़ा" अधिकार जारी, 3 जून को बंद हुआ, घोषित मूल्य के 1.59 गुना से अधिक सब्सक्राइब हुआ। 53,124 करोड़ रु। आरआईएल को यह राशि उसके शेयरधारकों से प्राप्त होगी, जब वह ग्राहकों से 2021 के अंत के लिए निर्धारित अपने अधिकार के मुद्दे पर पूर्ण भुगतान प्राप्त करता है।


जैसा कि लेखकों ने 20 मई को के लिए


 पिछले लेख में समझाया था , RIL के अधिकार का मुद्दा शायद कंपनी की रणनीति का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा था कि वह अपने बढ़ते कर्ज का भुगतान करने के लिए पर्याप्त पूंजी जुटा सके। में अगस्त 2019 देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश डी अंबानी, वह कंपनी के प्रमुख हैं बनाने के लिए एक योजना की घोषणा की थी "ऋण से मुक्त हो।"


पूंजी जुटाने की योजना के बड़े तत्वों के बाद-विशेष रूप से आरआईएल के कच्चे तेल शोधन और पेट्रोकेमिकल्स के कारोबार में लगभग 15 बिलियन अमेरिकी डॉलर के निवेश की योजना बनाई गई, इसके बाद के महीनों में कंपनी को चारों ओर एक रास्ता मिल गया। अपने दूरसंचार और मोबाइल इंटरनेट डेटा व्यवसाय, रिलायंस जियो में निवेश के माध्यम से पूंजी जुटाकर बाधा।


सोशल मीडिया दिग्गज फेसबुक इंक द्वारा पिछले दो महीनों में रिलायंस जियो में 43,574 करोड़ रुपये और तीन यूएस-आधारित निजी इक्विटी फर्मों (विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, सिल्वर लेक और जनरल अटलांटिक) द्वारा 22,620 करोड़ रुपये  निवेश करने की घोषणा की गई। , जो 20 मई को खोला गया।


   🌺अद्भुत कोष-स्थापना की होड़🌺


आरआईएल की शानदार पूंजी जुटाने की होड़ जारी रही जबकि उसके अधिकार का मुद्दा जारी था। विदेशी कंपनियों द्वारा निवेश के दो और इरादे हुए। अमेरिका की निजी इक्विटी फर्म केकेआर द्वारा पहला, 22 मई को घोषित किया गया था। यह सौदा रिलायंस जियो के स्वामित्व वाली आरआईएल सहायक कंपनी Jio Platforms में 2.32% हिस्सेदारी के लिए 11,367 करोड़ रुपये का है।


5 जून को घोषित दूसरा, अबु धाबी राज्य निवेश कोष द्वारा नाम है, जिसका नाम मुबाडाला इन्वेस्टमेंट कंपनी है। 9,093.6 करोड़ रुपये का यह निवेश,Jio प्लेटफार्मों में 1.85% हिस्सेदारी का अधिग्रहण करना है। दो दिन पहले, 3 जून को, NDTV ने 


कहा था कि दो और पश्चिम एशियाई संप्रभु धन कोष Jio प्लेटफार्मों में निवेश करने के लिए उन्नत बातचीत में हैं- अबू धाबी के निवेश प्राधिकरण और सऊदी अरब के सार्वजनिक निवेश कोष, सौदों से परिचित स्रोतों का हवाला देते हुए।अन्य रिपोर्टों से 


संकेत मिलता है किआरआईएल, रिलायंस जियो के शेयरों को विदेश में शेयर बाजारों में सूचीबद्ध करने की योजना बना रहा है, केंद्रीय वित्त और कॉर्पोरेट मामलों के मंत्री, निर्मलासीतारमण ने17मई को एकमीडिया 


सम्मेलन में घोषणा की,कि सरकारने भार


तीय कंपनियों को अनुमति देने का फैसला कियाथाविदेशों मेंअपने शेयरों को सूची


बद्ध करने के लिए।इसके बाद, शुक्रवार 5 जून को,रायटर ने बताया कि तीनअमेरिकी निवेशकों में से एक,सिल्वर लेक,Jio प्लेट


फार्मों में $ 601.4 मिलियन या 4,546 करोड़ रुपये का निवेश करेगा, जिसमें RIL की टेलीकॉम विंग Jio Infommomm और उसके संगीत और वीडियो स्ट्रीमिंग एप्लिकेशन हैं। का उपयोग करता है, जिससे उसका उद्यम मूल्य 5,16,000 करोड़ रुपये हो गया है। Jio प्लेटफ़ॉर्म में सिल्वर लेक की होल्डिंग इस प्रकार केवल 1% से थोड़ा अधिक 2% हो जाएगी।लग


भग 40 बिलियनडॉलर की संपत्ति के साथ कैलिफोर्निया स्थित निजी इक्विटी फर्म सिल्वर लेक ने Airbnb,अलीबाबा, अल्फा


बेट (Google,YouTube और Android की मूल कंपनी), ट्विटर,डेलटेक्नोलॉजीज


और फिल्म सहित कई प्रमुख सूचना प्रौद्यो


गिकी कंपनियों में निवेश किया है। थिएटर चेन एएमसी एंटरटेनमेंट होल्डिंग्स।


यह सौदा आरआईएल के 21.4 बिलियन डॉलर के शुद्ध ऋण को पार करने के लिए फंड जुटाने की गतिविधियों की कड़ी में नवीनतम है।रॉयटर्स ने पहले बतायाथा कि आरआईएल ने संयुक्त राज्य अमेरिका में 2021 की सार्वजनिक सूची की खोज करने से पहले तीसरी तिमाही तक अपने निजी धन उगाहने वाले सामान को लपेटने की योजनाबनाई है,जहां यहJio प्लेटफॉर्म के लिए $ 90 बिलियन से $ 95 बिलियन के मूल्यांकन पर नजर गड़ाए हुए है।


अधिकार के मुद्दे के साथ मिलकर, कंपनी अंततः20बिलियनअमेरिकीडॉलर से


अधिक जुटाएगी,जो वर्तमान में प्रचलित विनिमय दरों पर 1.50 लाख करोड़ रुपये से अधिक है। इन सभी फंड जुटाने की योजनाओं कीयोजना पहले की जा सकती थी, लेकिन उन महीनों के दौरान निष्पादित कीगई थीजब भारतCOVID-19 महामारी के कारण बंद था।


मुकेश अंबानी ने कहा कि उन्होंने भारतीय अर्थव्यवस्थाकी आंतरिक मजबूती में घरेलू निवेशकों,विदेशीनिवेशकों और छोटे खुदरा शेयरधारकों दोनों द्वारा अधिकारों के मुद्दे को "विश्वास मत के रूप में देखा"।


इस लेख में हम विश्लेषण करते हैं कि अब तक क्या रिपोर्ट नहीं की गई है, कैसे इस "विश्वास के वोट" को देश के सबसे अमीर आदमी और RIL के समान 'वोट ऑफ कॉन्फिडेंस' से पहले भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों और एजेंसियों द्वारा दिया गया था। , जिनके कार्यों ने अधिकार-मुद्दे को सुविधाजनक बनाया।


   🌺सरकार द्वारा नियमों में बदलाव🌺


आरआईएल ने 16मई को अपनेअधिकारो


की घोषणा की। दिलचस्प बात यह है कि यह घोषणाभारतीय प्रतिभूतिऔर विनिमय बोर्ड (सेबी) और केंद्रीय कारपोरेट मामलों के मंत्रालय (एमसीए) द्वारा एक पखवाड़े से भी कम समय के बाद की गई, जिसमें कंपनियों के लिए नियामक आवश्यक


ताओं में महत्वपूर्ण ढील की घोषणा की गई थी। शेयरों का ऐसा अधिकार जारी करना।


देश के वित्तीय बाजारों के नियामक सेबी ने 6 मई को घोषणा की कि उसने अधिकारों के मुद्दों के लिए कुछ अनुपालन आवश्यकताओं में ढील दी है। विशेष रूप से, यह कहा गया है कि राइट्स इश्यू की घोषणा और विज्ञापन पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से संचालित किया जा सकता है-ऑनलाइन और टेलीविज़न पर- और पंजीकृत डाक, स्पीड पोस्ट या कूरियर सेवा के माध्यम से कोई भौतिक सूचना की आवश्यकता नहीं थी ।


यह "पूंजी और प्रकटीकरण आवश्यकताओं के मुद्दे" की "एकमुश्त" ढील थी, जिसके लिए आमतौर पर अधिकार जारी करने से पहले एक कंपनी द्वारा इस तरह के भौतिक नोटिस की आवश्यकता होती है। सेबी ने घोषणा की कि वह COVID-19 महामारी के कारण अखिल भारतीय तालाबंदी के दौरान सामाजिक-दूरगामी आवश्यकताओं के मद्देनजर यह छूट दे रहा था।


एक हफ्ते से भी कम समय के बाद, 11 मई को, MCA ने SEBI की घोषणा को प्रमाणित करते हुए एक परिपत्र जारी किया । एमसीए के परिपत्र ने घोषणा की कि मंत्रालय को "कई प्रतिनिधित्व ... प्राप्त हुए थे ... नोटिस जारी करने के तरीके पर स्पष्टीकरण प्रदान करने के लिए ... सूचीबद्ध कंपनियों द्वारा अधिकारों के मुद्दों के लिए।परिपत्र ने स्पष्ट किया किअधिकार के मुद्दे जो 31 जुलाई, 2020 तक खुल रहे थे,और जो सेबी की6 मईकीघोषणाओं 


काअनुपालन करते थे, उन्हें अनुमति दी जाएगी,और उन्हें कंपनीअधिनियम,2013 का उल्लंघन नहीं माना जाएगा।17 मई को,वित्त मंत्री सीतारमण ने आर्थिक


उपायों के सरकार के "राहत पैकेज" पर एक मीडिया सम्मेलन में समान आराम की घोषणा की। उसने घोषणा की कि MCA "(कंपनी) अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के तहत अनुपालन के बोझ को कम करने के लिए" समय पर कार्रवाई करने के लिए समय परकार्रवाई के भाग के रूप में डिजि


टल रूप से संचालित करने के लिए अधि


कारों के मुद्दों की अनुमति दे रहा था।


ऐसा प्रतीत होता है कि अब तक के नियमों में इन परिवर्तनों से लाभान्वित होने वाली एकमात्र कंपनी RIL है।बिजनेस स्टैंडर्ड ने 


बताया हैकि रिलायंस जियोअपनी लिस्टिंग के लिए स्थान के रूप में संयुक्त राज्य अमे


रिका के शेयर बाजार नैस्डैक पर विचार कर रही है। 17 मई को सीतारमण ने 17 मई को होने वाले मीडिया सम्मेलन में यह घोषणा करते हुए कि भारतीय कंपनियों 


को सीधेअनुमति देने योग्य विदेशी न्याया


-लयों मेंअपनी प्रतिभूतियों को सीधे सूची


बद्ध करने की अनुमति दी है।


इसके लिए एक संक्षिप्त सिक्यूरिटीज के सौदागर स्वचालित कोटेशन प्रणाली के राष्ट्रीय संघ, है एक इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंज जहां शेयरों एक ट्रेडिंग फ्लोर के बजाय कंप्यूटर के लिए एक स्वचालित नेटवर्क के माध्यम से कारोबार कर रहे हैं। यह बाजार पूंजीकरण के मामले में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। 


3 जून को, इस लेख (परंजॉय) के लेखकों में से एक ने वित्त मंत्री सीतारमण को वित्त सचिव अजय भूषण पांडे और कंपनी मामलों के सचिव, इंकजेट श्रीनिवास, और वित्त मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ताओं की प्रतियों के साथ एक प्रश्नावली ईमेल की। सरकार की प्रेस सूचना ब्यूरो। ये छह सवाल उठाए गए:


राइट्स इश्यू के तहत शेयरधारकों को नोटिस देने से पहले 11 मई को एमसीए ने किन कंपनियों और / या उद्योग निकायों से अपने प्रतिनिधित्व को स्पष्ट किया था?


यह आरोप लगाया जाता है कि MCA के स्पष्टीकरण से केवल एक कंपनी (Reliance Industries Limited) को फायदा हुआ है। मैं आपकी टिप्पणियों का समाधान करता हूं।


एमसीए और वित्त मंत्रालय (MoF) में भारतीय कंपनियों को सीधे अपनी प्रतिभूतियों को सीधे सूचीबद्ध करने की अनुमति देने से पहले क्या विचार-विमर्श और परामर्श प्रक्रियाएं की गईं? क्या प्रतिनिधित्व और किन कंपनियों, उद्योग निकायों और / या वकालत समूहों को दो मंत्रालयों द्वारा प्राप्त किया गया था?


क्या सरकार के फैसले भारत के शेयर बाजारों में विश्वास की कमी नहीं दिखाते हैं?


ऐसे समय में जब भारतीय सरकार रुपए के मूल्य पर प्रतिभूतियों के लिए देश के भीतर एक मजबूत वातावरण बनाने का प्रयास कर रही है, जिसे भारतीय बाजारों में तरलता के साथ कारोबार किया जाएगा, क्या भारतीय कंपनियों को विदेशी स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध करने की अनुमति होगी जो इस नीति को पतला नहीं करते हैं?


क्या भारतीय कंपनियों को पूर्ण पूंजी खाता परिवर्तनीयता की दिशा में अधिक आसानी से अपने इक्विटी शेयरों को सूचीबद्ध करने की अनुमति है?


उसी दिन, एक प्रश्नावली, अजय त्यागी, अध्यक्ष, सेबी को भेजी गई, जिसकी एक प्रति बोर्ड के संचार प्रभाग के प्रमुख को दी गई। निम्नलिखित प्रश्नावली का पाठ है:


“ 6 मई 2020 को, सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने तनावग्रस्त कंपनियों में निवेश के मामले में अधिमान्य शेयर आवंटन और अधिग्रहण के लिए एक खुली पेशकश करने वाले निवेशकों के लिए मूल्य निर्धारण दिशानिर्देशों में छूट का प्रस्ताव रखा। इसी विषय पर 22 अप्रैल को जारी एक चर्चा पत्र में, सेबी ने कहा कि उसे 'कई प्रतिनिधित्व मिले थे कि शेयरों के तरजीही आवंटन के लिए मूल्य निर्धारण दिशानिर्देश वित्तीय निवेशकों के लिए बेहतर थे'।


इस संबंध में, मैं आपके द्वारा लिखित लेख में शामिल किए जाने के लिए निम्नलिखित प्रश्नों के लिए आपकी प्रतिक्रिया चाहता हूं।


आईपीओ (प्रारंभिक सार्वजनिक प्रसाद) और अधिकार के मुद्दों के माध्यम से 6 मई, 2020 को प्राथमिक फंड जुटाने के नियमों में ढील देने के प्रस्ताव से पहले सेबी और कंपनियों या उद्योग निकायों ने कौन से प्रतिनिधित्व प्राप्त किए?


🌺6 मई कीछूटके बाद से, किन कंपनियों


ने छूट की शर्तों के तहत अधिकारों के मुद्दों और आईपीओ के माध्यम से फंड जुटाने की कवायद की है?🌹


यह दावा किया जाता है कि SEBI की छूट से केवलएक कंपनी (Reliance Indus


tries Limited या RIL) 


को फायदा हुआ है। क्या ये सही है? यदि हाँ, तो आपकी टिप्पणी की याचना की जाती है।क्या सेबी को लगता है कि उसके पास सिक्योरिटीज और एक्सचेंजएसईसी


जैसे पर्याप्त दांत हैं जो प्रतिभूतियों के सौदे में धोखाधड़ी के मामलों से निपटने में संयुक्त राज्य अमेरिका के हैं? इस संदर्भ में, सेबी ने अपनी अर्ध-न्यायिक शक्तियों को बढ़ाने के लिए सरकार को लिखा है? और यदि हाँ, तो क्या यह संचार साझा किया जा सकता है?


आरआईएल का "ड्राफ्ट लेटर ऑफ ऑफर" सेबी की वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है। क्या आरआईएल को शेयरों के हाल ही में जारी अधिकारों के लिए सेबी के साथ "ड्राफ्ट लेटर ऑफ ऑफर" दाखिल करने से छूट दी गई थी?


सेबी, अपनी वेबसाइट में, कंपनियों के फाइलिंग प्रदान करता है इससे पहले कि वे अधिकार शेयर जारी कर सकें। यह अनिवार्य रूप से दो-चरण की प्रक्रिया है: पहले सेबी के साथ ड्रॉफ्ट लेटर ऑफ ऑफर दायर किया जाता है और उसके बाद सेबी के अंतिम पत्र की पेशकश की जाती है जो स्टॉक एक्सचेंजों के साथ दायर किया जाता है। उदाहरण के लिए, अरविंद फैशन लिमिटेड के मामले में, सेबी के साथ फाइलिंग 19 दिसंबर, 2019 को हुई थी और स्टॉक एक्सचेंजों के साथ फाइलिंग 11 मई, 2020 को की गई थी।


क्या SEBI के साथ फाइलिंग से अधिकार शेयर जारी करते समय SEBI ने RIL जैसी बड़ी कंपनियों को छूट दी है, और उन्हें सीधे स्टॉक एक्सचेंजों के साथ अंतिम पत्र की पेशकश करने की अनुमति देता है? ”


दोसमान प्रश्नावली नेशनल स्टॉक एक्स


चेंज के प्रबंध निदेशकऔर मुख्यकार्यकारी अधिकारी, विक्रम लिमये और एक्सचेंज केसंचारविभाग केप्रतिनिधियों केसाथ-साथ बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के सीईओ आशीष चौहान को भेजे गए थे।निम्नलिखित तीन प्रश्न पूछे गए थे:


केंद्र सरकार नेहाल ही में डिजिटलमाध्यमों


सेभारतीय कॉरपोरेटों की इक्विटीऔरऋण


उपकरणों की बिक्री की अनुमति दी है।इसके अलावा सरकार ने भारतीयकंपनियों


को विदेशीक्षेत्राधिकार मेंअपनीप्रतिभूतियों 


को सूचीबद्ध करने की अनुमति दी है। इन फैसलों पर आपकी क्या टिप्पणियां हैं?


🌺क्या सरकार के फैसले भारत के शेयर बाजारों में विश्वास की कमी नहीं दिखाते हैं?🌺


ऐसे समय में जब भारतीय सरकार रुपए के मूल्य पर प्रतिभूतियों के लिए देश के भीतर एक मजबूत वातावरण बनाने का प्रयास कर रही है, जिसे भारतीय बाजारों में तरलता के साथ कारोबार किया जाएगा, क्या भारतीय कंपनियों को विदेशी स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध करने की अनुमति होगी जो इस नीति को पतला नहीं करते हैं?


लेखन के समय तक, लेखकों को किसी भी व्यक्ति से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली थी, जिनसे प्रश्नावली ईमेल की गई थी। इस लेख को अपडेट किया जाएगा और जब प्रतिक्रियाएं आएंगी।


        🌺अब नियम क्यों बदला?🌺


सेबी की प्राथमिक बाजार सलाहकार समिति के एक पूर्व सदस्य ने नाम न छापने की शर्त पर NewsClick से बात करते हुए पूछा कि इस मुद्दे को ऑनलाइन लेने की अनुमति देने के निर्णय की आवश्यकता क्या है, जब देश (और दुनिया) गुजर रहा हो। अभूतपूर्व आर्थिक संकट जिसने वंचितों के जीवन और आजीविका को तबाह कर दिया है, था।


इस व्यक्ति ने कहा: “भारतीय कॉरपोरेट्स को डिजिटल माध्यम से अपने इक्विटी और डेट इंस्ट्रूमेंट्स को बेचने की अनुमति देने का यह मुद्दा कई वर्षों से चल रहा है-वास्तव में, सेबी के एक पैनल ने दिसंबर 2018 में इस कदम की सिफारिश करते हुए एक रिपोर्ट रखी थी। विभिन्न लॉबी समूह काफी वर्षों से इस विषय पर चर्चा कर रहे हैं। सवाल यह नहीं है कि यह एक अच्छा निर्णय है या नहीं। बड़ा सवाल है 'अब क्यों?'


“ क्या सरकार और वित्त मंत्री को गरीबों की मदद करने पर ध्यान नहीं देना चाहिए? क्या यह भारत की सबसे बड़ी निजी कॉर्पोरेट इकाई की मदद करने के बजाय समय की आवश्यकता नहीं है? ”


एक बाजार विश्लेषक, इस शर्त पर भी बोल रहे हैं कि उनकी पहचान नहीं होगी, उन्होंने कहा कि “ऐसे समय में जब भारत सरकार रुपए के मूल्य पर प्रतिभूतियों के लिए देश में एक मजबूत वातावरण बनाने का प्रयास कर रही है, जिसे भारतीय बाजारों में तरलता के साथ कारोबार किया जाएगा। विदेशी स्टॉक एक्सचेंजों पर भारतीय कंपनियों को सूचीबद्ध करने की अनुमति नहीं है, इस नीति को पतला नहीं करता हैऔर क्या इससेभारतीय शेयर बाजारों में विश्वासकी कमीनहीं दिखती है? "उन सौदों के विपरीत, जिन्हें PIPE कहा जाता है-पब्लिक इनवेस्टमेंट में प्राइवेट इनवेस्टमेंट –– मार्केट पार्लियामेंट में, अब तक जो निवेश रिलायंस जियो में किए गए हैं, वे असूचीबद्ध संस्थाओं में हैं। विश्लेषक ने कहा, "कई उदाहरणों में, लेकिन यह नहीं है कि असूचीबद्ध सहायक कंपनियों में निवेश की घोषणा तब ही की जाती है, जब संबंधित निवेशक ने पैसे चुकाए हों और कंपनी ने शेयर जारी किए हों।"


उन्होंने कहा कि "आरआईएल स्वयं वर्तमान में सभी संभावित 'नेट फ्री कैश फ्लो नेगेटिव' में है, जो कि प्रति वर्ष 15,000 करोड़ रुपये के करीब है और जो कंपनी की सकल रिफाइनिंग मार्जिन को देखते हुए बहुत अधिक लगने लगेगी। जामनगर रिफाइनरी-जिसमें उच्च स्तरीय परिचालन जटिलता है — पिछले एक साल में बेहद गिर गई है और हालिया तिमाही में काफी महत्वपूर्ण है। ”


फिर भी, भारत की सबसे बड़ी निजी कंपनी ने अपने स्वयं के शेयरधारकों और विदेशी निवेशकों को आश्वस्त किया है कि उन्हें इस बात की थोड़ी भी चिंता नहीं है कि दुनिया की अर्थव्यवस्था भयानक स्थिति में है या नहीं। यूएस-आधारित निवेशकों का स्पष्ट रूप से मानना ​​है कि उनके निवेशों को न केवल पुनर्निर्मित किया जाएगा, बल्कि यह कि रिलायंस जियो के शेयर नैस्डैक पर सूचीबद्ध होने के बाद वे सुंदर रिटर्न कमाएंगे।


🌻💐🌹🌲🌱💮🌳🌺🥀🌼🌻💐🌺(A/3)भाजपानेता ज्योतिरादित्य


सिंधिया और उनकी मां को हुआ कोरोना, मैक्स अस्पताल में हुए भर्ती।🌺


कोरोना वायरस का संक्रमण देश में तेजी से बढ़ता ही जा रहा है।रोज नए-नएमामले


बढ़ रहे हैं।अब इस वायरस के संक्रमण की चपेट मेंभाजपा नेता ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया और उनकीमां भी आ गए हैं।मध्य प्रदेश के गुना से पूर्व सांसद और भाजपा के वरिष्‍ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां को कोरोना हो गया है।उन्‍हें इलाज के लिए मैक्‍स अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। अस्‍पताल ने उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव होने की पुष्‍टि कर दी है।दिल्‍ली के साकेत मैक्‍स अस्पताल में फिलहाल इनका इलाज चल रहा है।बता दें कि साकेत का मैक्‍स अस्‍प


ताल कोविड-19 अस्पताल में तब्‍दील है, ताकि यह कोरोना की जंग में और बेहतर तरीके से अपनी सेवा दे।


🌺ग्‍वालियर में समर्थकों को है ज्‍योति


रादित्‍य सिंधिया का इंतजार🌺


मिली जानकारी के अनुसार भाजपा की ओर से राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन भरने केबाद ज्योतिरादित्य सिंधियाभोपाल


 से सीधे दिल्ली आ गए थे। इसके बाद जब लॉकडाउन की घोषणा हुई तब से वेदिल्ली 


में ही हैं। भाजपा में शामिल होने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर नहीं आए थे। मध्‍य प्रदेश में उपचुनाव को लेकर चल रही तैयारियों के लिए भी समर्थक उनका इंतजार कर रहे थे। 


      🌺 हो रही कॉन्टैक्‍ट ट्रेसिंग🌺


ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां माधवी राजे सिंधिया को कोरोना के बाद डॉक्‍टर उनकी कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग में लग गए हैं।उनके पूरे परिवार की स्वास्थ जांचकराई


 जा रही है।डॉक्‍टर यह पता लगा रहे हैं कि वे कैसे इस वायरस की चपेट में आ गए हैं।दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल का होगा कोरोना टेस्‍ट🌺


🌻💐🌹🌲🌱💮🌳🌺🥀🌼🌻💐🌺(A/4)मंदिर खुलते ही टीवी के 'श्री राम' ने की लोगों से खास अपील, कहा- 'आपकी सुरक्षा ईश्वर को भी प्यारी है'🌺।


लंबे लॉकडाउन के बाद अब धीरे-धीरे देश अनलॉक की तरफ बढ़ रहा है। आज से पूरे देश में अनलॉक वन शुरू हो गया है। इसके तहत कुछ शर्तों के साथ धार्मिक स्थल, रेस्टोरेंट और शॉपिंग मॉल्स खुल सकेंगे। इस बीच मशहूर कलाकार अरुण गोविल ने अनलॉक वन लागू होने पर लोगों से बेहद खास अपील की है, जिसकी चर्चा सोशल मीडिया पर हो रही है। 


दरअसल अनलॉक वन होने पर अरुण गोविल ने ट्विटर पर लोगों से खास अपील है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, 'आज से धार्मिक स्थल खुल गए हैं, आपकी सुरक्षा ईश्वर को भी प्यारी है, इसलिए सुरक्षा नियमों का पालन करें'। सोशल मीडिया पर अरुण गोविल का यह ट्वीट वायरल हो रहा है। उनके फैंस और कई सोशल मीडिया इस पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।


 आपको बता दें कि अरुण गोविल ने राष्ट्रीय चैनल दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले मशहूर पौराणिक सीरियल रामायण में श्री राम का किरदार निभाया था। उन्हें इस किरदार में दर्शकों ने काफी पसंद किया। इस सीरियल का निर्देशन रामानंद सागर ने साल 1987 में किया था। वहीं गौरतलब है कि सोमवर को देशभर के ज्यादातर धर्मस्थल को खोल दिया गया है।बंगलूरू में बासावानागुडी के श्री डोडा गणपति मंदिर के बाहर भी श्रद्धालुओं की भीड़ दिखी। गृह मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार कर्नाटक में भी धार्मिक स्थल खोल दिए गए हैं। वहीं उत्तर प्रदेश के लखनऊ में ईदगाह मस्जिद में लोगों ने नमाज अदा की। हालांकि इस दौरान सभी को सामजिक दूर और अन्य चीज को छूने को मना किया गया। 


इनके अलावा पंजाब के अमृतसर में स्वर्ण मंदिर को भी श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है। सामाजिक दूर और कुछ नियमों के तहत की लोगों को अंदर जाने दिया गया। गुजरात के द्वारका में द्वारकाधीश मंदिर में भी लोगों ने दर्शन करने पहुंचे। मंदिर के बाहर सुबह से ही श्रद्धालुओं की लंबी कतारें दिखीं। आंध्र प्रदेश का तिरुपति बालाजी मंदिर को भी खोल दिया गया है। हालांकि पहले दिन सिर्फ कर्मचारियों और स्थानीय लोगों को दर्शन की अनुमति होगी। 11 जून से यह सभी के लिए खुल जाएगा।


🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻(B)आज के दिन जन्मे प्रसिद्ध उपन्यास


कार वेद प्रकाश शर्मा: का जीवन परिचय लेख।


          💐वेद प्रकाश शर्मा:💐


वेद प्रकाश शर्मा: बिगड़ा तो बड़ा बन गया


डेढ़ सौ से ज्यादा उपन्यास रच चुके एक पल्प फिक्शन लेखक ने अब आमिर खान के साथ एक फिल्म पर काम शुरू किया


इस बात पर बहस हो सकती है कि लेखक जन्मजात होते हैं या नहीं पर इतना तय है कि कुछ लोग लिखने के लिए ही पैदा होते हैं औरपाठकों का मिजाज जाननेकी वजह सेवेमकबूलहो जातेहैंजिस टारगेटऑडिएंस को पहचानने में बड़े-बड़े पत्रकार और संपादक हार गए, जिस कॉपी को लिखने में धांसू लिक्खाड़ हांफ गए, उस पाठक को पहचानने की गुत्थी मेरठ में बैठे एक शख्स की मुट्ठी में पिछले चार दशकों से बंद है. शास्त्रीनगर स्थित अपनी कोठी के एक शांत कमरे में बैठकर अधमुंदी आंखों से जब वे स्टोरी का प्लॉट जमाते हैं और कहानी के तार जोड़ते हैं तो किसी साधक से कम नहीं लगते. कैरेक्टर और वेद प्रकाश शर्मा के बीच कोई खटपट, जरा-सी आहट और यहां तक कि चाय का कप लिए बीवी मधु शर्मा को भी आने की इजाजत नहीं होती.।


        💐लिखने पर बजा लट्ठ💐


मगर इस साधना की शुरुआत घर छोडऩे से नहीं बल्कि घर से ही हुई. वे कहते हैं, ‘‘उपन्यास लिखने की कहानी बड़ी विचित्र है.’’ वे ओम प्रकाश शर्मा, गुलशन नंदा, इब्ने शफी, सबको पढ़ते थे, लेकिन पसंद वेद प्रकाश कांबोज को करते थे, जिन्हें वे गुरु मानते हैं.कांबोज के दो अहम किरदार थेरू विजय और रघुनाथ.कांबोज को पढ़कर उन्हें हमेशा लगता था कि वे इससे बेहतर लिख सकते हैं।


1972 में हाइस्कूल का पेपर देने के बाद गर्मी कीछुट्टियों में उन्हें उनके अपने पैतृक गांव बिहराभेज दिया गया. वे अपने साथ कोई एक दर्जन उपन्यास ले गए थे लेकिन ‘दो घंटे में एक नॉवेल पढ़ डालने वाले’ वेद प्रकाश का वहां न कोई दोस्त था न कोई


फ्रेंड सर्कल।.उन्होंनेलिखना शुरू किया और लिखते-लिखते एक कॉपी, दो कॉपी, कई कॉपी भर गईं. मेरठ पहुंचने पर यह बात उनके पिता को मालूम हुई. ‘‘वे शाम को घरआए और दे लट्ठ,दे लट्ठ,मुझ पर लट्ठ बजानाशुरू कर दिया।मांनेपिटाई की वजह पूछीतो जवाब था:अब तक तो पढ़ै था,अब


इस नै लिख दिया.इसनै तो उपन्यास लिख दिया.यह लड़का तो बिगड़ गया.’फिरपिता


ने बोला,क्या लिखा है,तैने?मुझै ला के दे।


किशोर वेदप्रकाश नेकॉपियांउन्हें लाकर दे दीं.और इसके बाद तो मानो उनके लिए उपन्यासकार बनने कारास्ता ही खुल गया.


         💐उपन्यासों की झड़ी


पिता ने सुबह कहा, ‘‘बहोत अच्छा लिखा है तैने.यह दिमाग में कहां सेआ गई?’’पिता


स्क्रिप्टलेकर प्रेस में कंपोजिंग सिखाने ले 


गए.वहांमानो उनकीकिस्मतउनका इंतजार


कर रही थी. नामी उपन्यासकारों के नकली उपन्यास छापने वाले लक्ष्मी पॉकेट बुक्स के मालिक जंग बहादुर वहां अपने किसी उपन्यास का प्रूफ देखने आए थे.थोड़ी देर इंतजारकरने के बाद वे पास में रखीस्क्रिप्ट


कोपढऩे लगे।चंद पन्ने पढ़कर बोले कि यह ठीक-सा लग रहा है,इसे पूरी पढऩे के लिए ले जाऊं?’’ वे तीन-चार घंटे बाद लौटे और वेद प्रकाश के पिता से पूछा,‘लिखा किसने है? बहुत बढिय़ा लिखा है.’जब उन्हें हकी-


कत बताई गई तो बोले, ‘‘पहले बता देते तो पढ़ता ही नहीं.।’’


फिर जंग बहादुर ने उन्हें अपने ऑफिस बुलाया और टेबल पर 100 रु. रखते हुए कहा,‘और लिख,मैं तुझे हर नॉवेल के 100 रु. दूंगा.’’ उन्होंने सोचा कि राइटर को और क्या चाहिए, उपन्यास छपेगा, नाम के साथ फोटो छपेगी. लेकिन जंग बहादुर ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया, ‘‘फोटू-वोटू की कोई बात नहीं,यह जो है तेरे नाम से नहीं छपने वाला. यह वेद प्रकाश कांबोज के नाम से छपेगा.’’ उन्होंने टेबल से स्क्रिप्ट सरकाई और घर चले गए।


साल दिसंबर, 1972 में उन्हें लगा कि जंग बहादुर सही कह रहे थे.सीक्रेट फाइल नामक उपन्यास वेद प्रकाश कांबोज के नाम से छपा. एक के बाद एक उपन्यास से ‘नकली’ कांबोज की लोकप्रियता बढऩे लगी. माधुरी प्रकाशन ने नाम छापा लेकिन  पूरा नहीं. उधर जंग बहादुर ने आग के बेटे (1973) के मुखपृष्ठ पर वेद प्रकाश शर्मा का पूरा नाम छापा लेकिन फोटो फिर भी नहीं छपी. लेकिन उसी साल ज्योति प्रकाशन और माधुरी प्रकाशन दोनों ने नाम के साथ  फोटो भी छापना शुरू कर दिया. धीरे-धीरे उनके उपन्यास 50,000 और फिर एक लाख छपने लगे. उनके सौवें नॉवेल कैदी नं. 100 की 2,50,000 प्रतियां छपीं.इसके बादउन्होंने 1985 में खुद अपना प्रकाशन


 शुरू किया: तुलसी पॉकेट बुक्स. उनके कुल 176 उन्यासों में से 70 इसी ने छापे हैं. लेकिन उन्हें सबसे ज्यादा लोकप्रियता 1993 में वर्दी वाला गुंडा से मिली जिसके बारे में उनका दावा है कि 15 लाख प्रतियां पहली बार छापी गई थीं. इस उपन्यास ने तहलका मचा दिया था.पाठकों की नब्ज पर पकड़ और आम बोलचाल की भाषा में लिखने वाले वेद प्रकाश शर्मा देश में सबसे ज्यादा बिकाऊ लेखक बन गए. वे कहते हैं, ‘‘अखबारों और अपने इर्द-गिर्द की घटनाओं से विषय चुनता हूं.’’ एक बार वे मेरठ में बेगमपुल के पास घूम रहे थे, ‘‘तभी एक दारोगा को कुछ लोगों पर ऐसे डंडे बरसाते देखा, मानो कोई गुंडा हो.’’ इस तरह वर्दीवाला गुंडा का विचार पनपा. एक बार पत्नी के साथ कश्मीर के पहलगांव में शाम को सन्नाटे में बीवी का हाथ थामकर जा रहे थे. डर लग रहा था और इस तरह हत्या एक सुहागिन की का प्लॉट सूझा.


अपनी इसी सूझ-बूझ की वजह से वे हिंदीभाषी क्षेत्र में युवाओं के पसंदीदा लेखक हैं. अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों में उनके दर्जनों नॉवेल पढ़ चुके मेरठ के डीएम नवदीप रिणवा कहते हैं, ‘‘उन्होंने हमें थ्रिल किया है.’’ उन्होंने अपने उपन्यासों में कहीं सेक्स का इस्तेमाल नहीं किया है, जिसकी वजह से बड़े-बूढ़े नॉवेल पढऩे से मना करते थे. मुंशी प्रेमचंद के प्रशंसक इस उपन्यासकार का कहना है, ‘‘हमें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम सस्ता साहित्य या पल्प लिटरेचर लिखते हैं. मैं विभिन्न सामाजिक मुद्दों को मनोरंजक तरीके से उठाकर उनका समाधान पेश करता हूं.’’


युवाओं और महिलाओं को उनका यह तरीका बेहद पसंद है और इतने बड़े वर्ग तक पहुंच रखने वाले इस उपन्यासकार को बॉलीवुड भला कैसे नजरअंदाज कर सकता था? 1985 में उनके उपन्यास बहू मांगे इंसाफ पर शशिलाल नायर के निर्देशन में बहू की आवाज फिल्म बनी. इसके दस साल बाद सबसे बड़ा खिलाड़ी (उपन्यास ‘‘लिल्लू’’) और 1999 में इंटरनेशनल खिलाड़ी बनी. मजेदार बात यह कि उन्होंने बाद की दो फिल्मों का स्क्रीनप्ले और डायलॉग खुद लिखे लेकिन सिर्फ फिल्म के लिए कोई कहानी कभी नहीं लिखी. बालाजी टेलीफिल्म्स का सीरियल केशव पंडित इसी नाम के नॉवेल पर आधारित है. हाल में उनका एक उपन्यास डायन आया है, जिसके बारे में उनका स्पष्ट कहना है कि इसका एकता की फिल्म एक थी डायन से कोई वास्ता नहीं है, हालांकि वे एकता की कंपनी के आइडिएटर हैं. सामाजिक मुद्दों पर फिल्म बनाने वाले आमिर खान ने हाल में उनसे मुलाकात की है और दोनों एक फिल्म पर काम कर रहे हैं.


    लेकिन इस कहानी में दर्द भी है


6 जून, 1955 को मेरठ में जन्मे वेद प्रकाश शर्मा के पिता पं. मिश्रीलाल शर्मा मूलत: मुजफ्फरनगर जिले के बिहरा गांव के रहने वाले थे. एक बहन और सात भाइयों में सबसे छोटे वेद प्रकाश के बचपन की यादों में मुफलिसी और दर्द के पैबंद लगे हुए हैं. एक भाई और बहन को छोड़कर सबकी प्राकृतिक-अप्राकृतिक मौत हो गई. 1962 में बड़े भाई की मौत हुई और उसी साल इतनी बारिश हुई कि किराए का मकान टूट-टाट गया. फिर गैंगरीन की वजह से पिता की एक टांग काटनी पड़ी. घर में कोई कमाने वाला नहीं था, सारी जिम्मेदारी मां पर आ गई.


अपनी कोठी की बगल में फैंसी लाइट्स के शोरूम बेसमेंट में तुलसी पॉकेट बुक्स के दफ्तर में बैठे वेद प्रकाश यादों में खो जाते हैं: ‘‘मेरे मामा ने मां से कहा कि तू किन चक्करों में पड़ी है? तू इन लड़कों को किसी हलवाई की दुकान पर भेज. वहां कमाएंगे तो दो पैसे लाएंगे,तो परिवार चलेगा. मां ने मामा को डांटकर भगा दिया, यह मेरा परिवार है मैं देख लूंगी. मेरे बच्चे पढ़ेंगे-लिखेंगे और मैं काम करूंगी.’’ उनकी मां गांव से आई अनपढ़ महिला थीं, लेकिन उनकी हिम्मत-हौसले को याद कर वेद प्रकाश की आंखें कुछ नम हो जाती हैं. वे कहते हैं, ‘‘मुझे मदर इंडिया फिल्म सबसे अच्छी लगती है.’’


जीवन और समाज को करीब से देखने वाले वेदप्रकाश की तीन बेटियां (करिश्मा, गरिमा और खुशबू) और उपन्यासकार बेटा शगुन शादीशुदा हैं. उनके उपन्यासों की पहली पाठक उनकी पत्नी मधु का कहना है, ‘‘बच्चे मुझसे ज्यादा उन्हीं से अटैच्ड हैं.वे इतनालिखनेके बावजूद बहुत


 सोशल हैं.’बहू राधा भी इसकी तस्दीक करती हैं.वेद प्रकाश चाहते हैं कि उन्हें ऐसे लेखक के रूप में याद किया जाए जोलोगों कामनोरंजन करते हुए उन्हें सामाजिक संदेश पहुंचा सकाआम लोगों की बोलचाल में सहजसंवाद ही उनकी सबसे बड़ीपूंजी है।.


🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻 (C)आज के दिन की महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाए।🎂


1246- नसिरुद्दीन मुहम्मद शाह दिल्ली की गद्दी पर आसीन हुआ।


1786- चीन के सिजुआन प्रांत में भूकंप के कारण दादू नदी पर बना बाँध टूट गया जिसमें एक लाख लोग मारे गए थे।


1829- ऑक्सफोर्ड और कैंब्रिज विश्वविद्यालय में पहली बार नौका दौड़ प्रतियोगिता हुई।


1924- फासिस्टों ने रोम में इतालवी समाजवादी नेता जायकोमो मटीओटी का अपहरण कर हत्या कर दी।


1940- द्वितीय विश्व युद्ध,इटली ने फ़्रांस के विरुद्ध युद्ध की घोषणा की।


जनरल अरविन रॉनल के नेतृत्व में जर्मन सेना इंगलिश चैनल तक पहुँच गई।


1957- इजरायल और सीरिया के बीच युद्ध विराम संधि होने के साथ 6 दिवसिय युद्ध समाप्त हो गया।


1960- नासिक में रूसी युद्धक विमान मिग का उत्पादन शुरु हुआ।


1972- मुम्बइ के मडगाँव बंदरगाह से पूर्ण वातानुकुलित पोत हर्षवर्धन का जलावतरण हुआ।


1994- चीन ने लोकनोर इलाके में गुप्त रूप से परमाणु परीक्षण किया।


1995- यूरोप के विक्सलेट इलाके में दुनिया की सबसे बजनी 5,100 किलोग्राम की घड़ी स्थापित की गई।


1999- युगोस्लावियाइ सेना कोसोवो से वापस लौटी।


2018 राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी एन आई ए के पूर्व प्रमुख शरद कुमार को केन्‍द्रीय सतर्कता आयोग में सतर्कता आयुक्‍त नियुक्‍त किया गया।


🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻(D)आज के दिन जन्मे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व💐


1323 ई.पू.- सिकंदर, मकदूनिया का विश्वविजेता बादशाह


1921 में जाने-माने भारतीय कवि शिवदीन राम जोशी  का जन्म हुआ था।


1922 रॉबर्ट एलन ऑरथॉर, अमेरिकी पटकथा लेखक (मृ. 1978)


1922-जूडी गार्लंड, अमेरिकी गायिका और अभिनेत्री (द वीजर्ड ऑफ ऑस) (मृ. 1969)


1922- जूडी गार्लिंड, अमेरिकी अभिनेत्री और गायिका का जन्म हुआ।


1922 में रूपकुमार राठौर, हिंदी चलचित्र गायक का जन्म हुआ।


1928 भारत के प्रसिद्ध सैनिक धन सिंह थापा का जन्म हुआ।


1931 में प्रसिद्ध वायलिन वादकों में से एक एम. एस. गोपालकृष्णन  का जन्म मद्रास में हुआ था।


1955 भारत के प्रसिद्ध लेखक,उपन्यास


कार ,साहित्यकार वेद प्रकाश शर्मा का जन्म हुआ।


1958 में साहित्यकार एवं जनसेवक अनूप सेठी का जन्म हुआ था 


1999 में अमेठी जिले के मुसाफिर खाना तहसील के नेवादा गांव मे जन्मे ठा0 अवनीश सिंह राणा "भालेसुल्तान" 10 जून मे हुआ था।


1982 में दिल्ली विधानसभा में दिल्ली में AAP सरकार के मंत्री सतेंद्र जैन के भृष्टाचार के खिलाफ पर्चे फेंककर एक महीने के लिए जेल जाने वाले राजन कुमार मदान का जन्म पंजाब के जिला जालंधर के


 कस्बा भोगपुर में हुआ था ।


🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻


 


(E)आज के दिन निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व💐


1957 - भाई वीर सिंह आधुनिक पंजाबी काव्य और गद्य के निर्माता के रूप-मेंप्रसिद्ध कवि थे।


1987 -जीवन - हिन्दी फ़िल्मों के प्रसिद्ध अभिनेता थे।


2019 - गिरीश कर्नाड - कवि, रंगमंच कर्मी, कहानी लेखक, नाटककार, फ़िल्म निर्देशक और फ़िल्म अभिनेता थे।


🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐 💐


(F)आज के दिन/दिवस का नाम💐


1.पुर्तगाल दिवस (पुर्तगाल)।


2.विश्व भूगर्भ जल दिवस।


3• सिकंदर, मकदूनिया का विश्वविजेता बादशाह का जयन्ति दिवस।


4.जाने-माने भारतीय कवि शिवदीन राम जोशी  का जयंती दिवस।


5. रॉबर्ट एलन ऑरथॉर, अमेरिकी पटकथा लेखक का जयन्ति दिवस।


6. भाई वीर सिंह आधुनिक पंजाबी काव्य औरगद्य केनिर्माता केरूप-में प्रसिद्ध कविथे का पुण्यतिथि दिवस।


7.हिन्दी फ़िल्मों के प्रसिद्ध अभिनेता थे। जीवन का जयन्ति दिवस 


8 गिरीश कर्नाड - कवि, रंगमंच कर्मी, कहानी लेखक, नाटककार, फ़िल्म निर्देशक और फ़िल्म अभिनेता का जयंति दिवस।


🌻💐🌹🌲🌱💮🌳🌺🥀🌼🌻


       आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।


      आज जन्म लिये सभी व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई। बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।


💐।जय चित्रांश।💐


💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐


💐।जय हिंद जय भारत💐


💐 निवेदक;-💐


  💐 चित्रांश ;-विजय निगम