आज की बात आपके साथ - विजय निगम


प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 13 जून 2020 शनिवार की प्रातःबेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मे भारतीय जनता पार्टी के राजनेता और भारत के वर्तमान रेलमंत्री पीयूष गोयल का जीवन परिचय लेख. 
C आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀💐
      (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
🍇(A/1)मुकेश अंबानी की13 बिलियन डॉलर की डील मे रेनमेकरका हाथ है🍇
🍇(A /2)शवों के साथ ये कैसा सलूक,
 अस्पतालों में हालात बदतर', SC में घिरी दिल्ली सरकार।🍇
🍇(A/3)डोनाल्ड ट्रम्प एच -1 बी वीजा निलंबित कर सकते हैं:। रिपोर्ट🍇
🍇(A/4)फिल्मी घरानों से ताल्लुक, फिर भी नहीं चला इन सितारों का बड़े पर्दे पर जादू🍇
🌻💐🌹🌲🌱🌸🍇💮🌳🌺🥀💐
  🍉(A) कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)🍉
🍇(A/1)मुकेश अंबानी की13 बिलियन डॉलर की डील मे रेनमेकरका हाथ है🍇
मनोज मोदी को कई अंदरूनी सूत्रों द्वारा अरबपति मुकेश अंबानी के दाहिने हाथ के रूप में देखा जाता है।उनके पास कोई आकर्षक खिताब नहीं है और भारत के बाहर के कुछ लोग उनका नाम जानते हैं। लेकिन रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के हॉल में , मनोज मोदी चुपचाप एशिया के सबसे अमीर आदमी के कॉर्पोरेट साम्राज्य के पीछे सबसे शक्तिशाली बलों में से एक बन गए हैं।
आरक्षित और ज्यादातर जनता के लिए अदृश्य, मनोज मोदी को भारत के व्यापार जगत के कई अंदरूनी लोगों और अन्य लोगों द्वारा अरबपति मुकेश अंबानी के दाहिने हाथ के रूप में देखा जाता है । उन्होंने अंबानी और उनके बच्चों का समर्थन करते हुए अप्रैल में फेसबुक इंक के साथ $ 5.7 बिलियन के सौदे के लिए बातचीत के दौरान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, क्योंकि उन्होंने सोशल नेटवर्किंग की दिग्गज कंपनी के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जो लोग इस मामले से परिचित थे।
63 साल केमुकेश अंबानी ने पेट्रोकेमिकल
से लेकरइंटरनेटतकनीकोंतक अपनेफैलाव
को ध्यान में रखते हुए मोदी को विशेष रूप से प्रभावशाली आवाज के रूप में देखा।समूह केJio प्लेटफार्मों में फेसबुक का निवेश इसके बाद निजी इक्विटी फंडों के एक समानसौदे के बाद13 बिलियन डॉलर का कारोबार किया और इसे सिलिकॉन वैली के रडार पर मजबूती से रखा।साठवाँ
,कुछ कम, मोदी - जो भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से संबंधित नहीं है - शायद ही कभी साक्षात्कार देता है और अपने निजी जीवन के बारे में सार्वजनिक दायरे में बहुत कम है।फिरभी वह बताता है कि कॉरपोरेट राजवंशों में लंबे समय से चल रहेसंबंधों के साथ भारत में कम जानीमानी हस्तियों का बाहरी प्रभाव कैसे  हो सकता है "यह एक कंपनी नहीं है जो अपने संगठनात्मक ढांचे का विज्ञापनकरती है,लेकिन उद्योग जानता
है किअंबानी और मोदी एक मजबूतबंधुआ
टीम हैं -साथ  में बातचीत और विस्तार के अंतिम स्तर तक अथक निष्पादन का सौदा करते हैं,वाणीकोला,उद्यम केप्रबंधनिदेशक
ने कहा राजधानी फर्म,कलार कैपिटल पार्टनर्स,जिन्होंनेपिछले साल एक सम्मेलन में वीडियो के माध्यम से मोदी को एक दुर्लभ सार्वजनिक उपस्थिति के लिए राजी किया था।रिलायंस के प्रवक्ता ने कंपनी और मोदी की टिप्पणियों के अनुरोध का जवाब नहीं दिया।
💐🌹🌲🌱🌼🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻
🍇(A /2)शवों के साथ ये कैसा सलूक,
 अस्पतालों में हालात बदतर', SC में घिरी दिल्ली सरकार।🍇
दिल्ली सरकार को शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट से फटकार लगी है. अस्पतालों में शवों के रखरखाव, कम टेस्टिंग को लेकर अदालत ने जवाब मांगा है.
दिल्ली में शवों के साथ बर्ताव पर SC खफा (PTI)
कोरोना संकट पर दिल्ली सरकार को SC से फटकार
अदालत ने कहा- शवों का रखरखाव सही नहीं
सुप्रीम कोर्ट की ओर से शुक्रवार को दिल्ली सरकार को कड़ी फटकार लगी है. कोरोना वायरस के बढ़ते संकट, अस्पतालों की स्थिति, शवों के साथ बर्ताव को लेकर अदालत ने दिल्ली सरकार से जवाब मांगा है. अदालत का कहना है कि दिल्ली में जिस तरह से शवों का रखरखाव हो रहा है, वो काफी दुख देने वाला है.
सुनवाई के दौरान सर्वोच्च अदालत ने कहा कि दिल्ली में शवों के रख-रखाव की हालत भी काफी खराब है. परिवार के लोगों को मौत की जानकारी नहीं दी जा रही है.
दिल्ली: कोरोना संकट के बीच डॉक्टरों को सैलरी क्यों नहीं, MCD को कोर्ट से लगी फटकार
इसके अलावा अदालत में सॉलिसिटर जनरल ने भी कुछ वीडियो का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि मीडिया रिपोर्ट्स में दिखाया जा रहा है कि शवों के साथ ही मरीजों का इलाज हो रहा है. इसपर दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि LG ने इस मामले में कमेटी बनाई है जो मसला देख रही है.
गौरतलब है कि दिल्ली सरकार को टेस्टिंग के मामले में सर्वोच्च अदालत से फटकार लगी है, दिल्ली में पिछले दिनों में टेस्टिंग कम हुई है जिसपर अदालत ने सवाल खड़े किए हैं.
आपको बता दें कि बीते दिनों दिल्ली से कई ऐसे वीडियो सामने आए हैं, जहां पर शवों को एक साथ जलाया जा रहा है. इसके अलावा एक अस्पताल का वीडियो सामने आया था, जिसमें दिख रहा था कि शवों के साथ ही कोरोना मरीजों का इलाज किया जा रहा है.
इसपर सुप्रीम कोर्ट की ओर से सख्ती बरती गई है और अब सरकार से रिपोर्ट मांगी गई है. शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और बंगाल को नोटिस जारी कर दिया है, जिसमें सरकारी अस्पतालों की स्थिति को लेकर सवाल उठाए हैं. इसके अलावा कई सरकारी अस्पतालों के डायरेक्टरों को नोटिस जारी किया 
🌻💐🌹🌲🌸🌸🌲🌹💐💐🌻💐(A/3)डोनाल्ड ट्रम्प एच -1 बी वीजा निलंबित कर सकते हैं:। रिपोर्ट
संयुक्त राज्य अमेरिका में पहले से ही एच -1 बी वीजा धारकों के प्रभावित होने की संभावना नहीं है
दि ट्रम्प प्रशासन इस कदम से आगे बढ़ता  तो भारतीय आईटी पेशेवर सबसे बुरी तरह
प्रभावित होंगे
नई दिल्ली : हजारों भारतीय आईटी पेशेवरों के 'ग्रेट अमेरिकन ड्रीम' को धता बताते हुए, डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन को सबसे अधिक प्रतिष्ठित एच -1 बी वीजा सहित रोजगार वीजा को निलंबित करने के प्रस्ताव पर विचार करने के लिए कहा जाता है । वॉल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रस्तावित निलंबन अमेरिका से बाहर किसी भी नए H-1B धारक को काम पर आने से रोक सकता है जब तक कि निलंबन हटा नहीं दिया जाता है, हालांकि देश में पहले से ही वीजा धारक प्रभावित होने की संभावना नहीं है।
H-1B भारत के प्रौद्योगिकी पेशेवरों के लिए सबसे प्रतिष्ठित विदेशी कार्य वीजा है। ट्रम्प प्रशासन के इस तरह के फैसले से हजारों भारतीय आईटी पेशेवरों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना है। H-1B वीजा पर पहले से ही बड़ी संख्या में भारतीय अपनी नौकरी खो चुके हैं और कोरोनोवायरस महामारी के दौरान घर वापस आ गए हैं ।
रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रम्प प्रशासन ने तर्क दिया है कि कोरोनोवायरस महामारी को बीमार लोगों को देश में प्रवेश करने से रोकने के लिए आव्रजन की सीमा की आवश्यकता है और यह सुनिश्चित करने के लिए कि अमेरिकियों को पहले अर्थव्यवस्था में छूट के रूप में नौकरी मिले, रिपोर्ट में कहा गया है।
व्हाइट हाउस के प्रवक्ता होगन पिडले ने कहा, "प्रशासन वर्तमान में करियर विशेषज्ञों द्वारा तैयार किए गए विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला का मूल्यांकन कर रहा है, जो अमेरिकी कामगारों और नौकरी चाहने वालों, विशेष रूप से वंचित और अयोग्य नागरिकों की रक्षा के लिए किया गया है, लेकिन किसी भी तरह का कोई निर्णय नहीं किया गया है" 
🌻💐🌹🌲🌱🍉🍇🌸💮🌳🌺
🍇(A/4)फिल्मी घरानों से ताल्लुक, फिर भी नहीं चला इन सितारों का बड़े पर्दे पर जादू🍇
फिल्म इंडस्ट्रमें सक्सेस पाने के कईफॉर्मूले
बताए जाते हैं. लुक्स, टैलेंट,फिजीक,पर्सनै
लिटी अहम माने जाते हैं. लेकिन कई बार देखा गया है कि ये सब क्वॉलिटी होने के बावजूद स्टार्स का करियर नहीं चला. कई बार किस्मत और अच्छे प्रोजेक्ट भी कला
कार को स्टार बनने से रोकते हैं।.बात करें 
फिल्मी घरानों से आने वाले स्टार्स की तो, कई बार टैलेंटेड होने पर भी उन्हें सफलता मिलनी मुश्किल हुई है। बात करते हैं ऐसे एक्टर्सकी जो टैलेंटेडहोने केबावदूजफिल्म
इंडस्ट्री मेंअपने पैरेंट्स जैसी सफलता हासिल नहीं कर सके.किरण खेर के बेटे सिकंदर खेर आज भी फिल्म इंडस्ट्री में अपनीपहचान बनाने में जुटे हुए हैं. टैलेंटेड होने पर भी सिकंदर अपनी मां किरण और पिताअनुपम खेर जैसी सक्सेस व स्टारडम
 हासिलनहीं कर पाए हैं।अब तक कई फिल्मों में सिकंदर ने अहम रोल निभाए हैं. लेकिन उन्हें बड़ा ब्रेक मिलना अभी बाकी है. उनकी अपकमिंग वेब सीरीज आर्या रिलीज को तैयार है.
शर्मिला टैगोर जो कि अपने दौर की नबंर वन एक्ट्रेस में शुमार रहीं. उनकी बेटी सोहा अली खान ने भी इंडस्ट्री में कदम रखा. उन्होंने कई फिल्मों में काम किया. बतौर लीड एक्ट्रेस भी काम किया. लेकिन तब भी दर्शकों को इंप्रेस नहीं कर सकीं. सोहा अपनी मां शर्मिला जितनी बड़ी स्टार नहीं बन पाईं.
दिग्गज एक्टर धर्मेंद्र के बेटे बॉबी देओल और सनी देओल ने पिता की राह पर चलते हुए बॉलीवुड में एंट्री मारी. सनी ने तो अच्छी खासी सफलता हासिल की. लेकिन उनके छोटे भाई बॉबी का फिल्मी करियर फ्लॉप ही रहा. उन्होंने इंडस्ट्री में शुरुआत तो अच्छी की थी. लेकिन धीरे धीरे फ्लॉप हीरो का टैग उनसे जुड़ गया. जो अभी तक बरकरार है.
प्रतीक बब्बर दिग्गज एक्टर स्मिता पाटिल और राज बब्बर के बेटे हैं. प्रतीक-स्मिता अपने दौर के अव्वल कलाकार थे. लेकिन उनके बेटे प्रतीक कई बड़ी फिल्मों में काम करने के बाद भी खुद को अभी तक स्थापित नहीं कर पाए हैं. वे फिल्मों के अलावा वेब सीरीज में भी नजर आते हैं. गुड लुक्स और टैलेंटेड होने के बावजूद वे अपने पैरेंट्स जैसे सफलता नहीं पा सके.
दिग्गज फिल्म निर्माता वासु भगनानी के बेटे जैकी भगनानी ने 2009 में फिल्म कल किसने देखा से डेब्यू किया था. फिल्म फ्लॉप रही. इसके बाद आई फालतू से उन्हें लाइमलाइट मिली. हर फिल्म के साथ उनकी एक्टिंग स्किल्स भी निखरती गई. अब तक के करियर में जैकी ने कई तरह के रोल्स किए, लेकिन जैकी को फिल्म इंडस्ट्री में अभी तक सक्सेस हासिल नहीं हुई है.
मशहूर एक्टर राजेंद्र कुमार के बेटे कुमार गौरव ने जब बॉलीवुड में एंट्री की थी, तो सभी को लगा वे लंबी पारी खेलेंगे. शुरुआत में कई हिट फिल्में देने वाला ये चॉकलेटी हीरो बाद में सितारों की भीड़ में कहीं खो गया. अपने पिता जैसी सफलता उनके हाथ नहीं लगी।.
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀💐
  💐(B) आज के दिन जन्मे भारतीय जनता पार्टी के राजनेता और भारत के वर्तमान रेलमंत्री पीयूष गोयल का जीवन           
परिचय  लेख।.     
        🍇 पीयूष गोयल (1964)🍇 
एकभारतीय जनता पार्टी के राजनेता और 
भारत के वर्तमान रेलमंत्री और कोयला 
मंत्रालय, भारत सरकार के प्रमुख मंत्री हैं। वें भूतपूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. वेदप्रकाश गोयल के पुत्र हैं।
               पियूष गोयल
   रेल, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री, 
              भारत सरकार
                  पदस्थ 
कार्यालय ग्रहण;- मई  2019
प्रधानमंत्री:-नरेन्द्र मोदी
पूर्वाधिकारी-सुरेश प्रभु
जन्म;-13 जून 1964 (आयु 55)
जन्म स्थल;;मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
राष्ट्रीयता:-भारतीय
राजनीतिक दल-भारतीय जनता पार्टी
जीवन संगी;-सीमा गोयल
बच्चे;-1 पुत्र, 1 पुत्री
पुत्र का व्यवसाय;-चार्टेड -अकाउंटेंट
पुत्री व्यवसाय;-  मैनेजमेंट कंसल्टेंट
राजनेता
धर्म;-हिन्दू
जालस्थल;-www.piyushgoyal.in


  पीयूष गोयल भारतीय जनता पार्टी के राजनेता और भारत के वर्तमान रेलमंत्री और कोयला मंत्रालय, भारत सरकार के प्रमुख मंत्री हैं। वें भूतपूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. वेदप्रकाश गोयल के पुत्र हैं। 13 जून 1964 को जन्में गोयल मोदी सरकार के हाई प्रोफाइल मंत्री माने जाते हैं। उनके पिता प्रकाश गोयल ने बहुत लंबे समय के लिए भाजपा में खजांची के तौर पर काम किया था। वो 1984 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुए थे। भाजपा के सदस्य के रूप में अपने करियर के दौरान उन्होंने कई महत्वपूर्ण पदों पर काम किया। वह भारतीय जनता युवा मोर्चा के सदस्य भी थे।
पीयूष गोयलः एक बैंकर से रेलमंत्री बनने तक का सफर, इस बार फिर बने कैबिनेट मंत्री
पीयूष गोयल ने एक बैंकर के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की थी। उनके माता-पिता दोनों ही लोग राजनीति में रह चुके हैं। पीयूष गोयल महाराष्ट्र से राज्यसभा के सदस्य हैं।
पिछली बार के बजट के समय वित्त मंत्री अरुण जेटली की अनुपस्थिति में बजट भी पीयूष गोयल ने ही पेश किया था
नई दिल्ली: पीयूष गोयल इस बार फिर मोदी कैबिनेट का हिस्सा बने हैं। गोयल भारतीय जनता पार्टी के नेता और भारत सरकार में रेलमंत्री, कोयला मंत्री और अस्थाई तौर पर वित्त मंत्री का भी काम संभाल चुके हैं। पिछली बार के बजट के समय वित्त मंत्री अरुण जेटली की अनुपस्थिति में बजट भी पीयूष गोयल ने ही पेश किया था। पीयूष गोयल का जन्म 13 जून 1964 को मुंबई में हुआ था। पीयूष गोयल ने माटुंगा के मशहूर डॉन बास्को स्कूल की है। 
पीयूष गोयल के पिता का नाम वेदप्रकाश गोयल और माता का नाम चंद्रकांता गोयल है। उनकी मां महाराष्ट्र से तीन बार भारतीय जनता पार्टी की विधायक थीं और उनके पिता ने 2001 से 2003 तक  वाजपेयी सरकार में शिपिंग मंत्री के रूप में काम किया था। इनकी पत्नी का नाम सीमा गोयल है। वे भाजपा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष भी रहे हैं। पीयूष गोयल ने भाजपा की सूचना संचार अभियान समिति का नेतृत्व किया और आम चुनाव 2014 के लिए सोशल मीडिया आउटरीच सहित पार्टी के प्रचार और विज्ञापन अभियान की देखरेख की। ऊर्जा नीति में विशिष्ट योगदान के लिए गोयल 2018 कार्नोट पुरस्कार प्राप्तकर्ता हैं।
गोयल ने एक निवेश बैंकर के रूप में अपने करियर की शुरुआत की और भारत के सबसे बड़े वाणिज्यिक बैंकों, भारतीय स्टेट बैंक 2001-2004 और बैंक ऑफ बड़ौदा 2002-2004 के बोर्ड में सरकारी कर्मचारी के तौर पर कार्य कर चुके हैं। पीयूष वित्त मंत्रालय की स्थायी समिति और रक्षा मंत्रालय के लिए सलाहकार समिति के सदस्य थे। भारतीय व्यापारियों के चैंबर की प्रबंध समिति के एक सक्रिय सदस्य रहे हैं। वे आदिवासी शिक्षा और शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के कल्याण जैसे विभिन्न क्षेत्रों में गैर सरकारी संगठनों से भी जुड़े हैं।
गोयल 2014 में मोदी मंत्रालय में ऊर्जा, कोयला, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा और खान राज्य मंत्री बने और उन्होंने अपने कार्यकाल में कई पहल कीं। उन्होंने सभी घरों में 24X7 विश्वसनीय बिजली प्रदान करने के मिशन को तेज किया और स्वच्छ ऊर्जा को अपनाने की दिशा में कदम बढ़ाया।5 जुलाई 2016 को, मोदी मंत्रालय के दूसरे कैबिनेट फेरबदल के दौरान, उन्हें कैबिनेट में शामिल किया गया और नरेंद्र सिंह तोमर से खान राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में पदभार संभाला। 3 सितंबर 2017 को सुरेश प्रभु से रेल मंत्री का कार्यभार ग्रहण किया। 
मई 2018 से अगस्त 2018 के बीच, अरुण जेटली की अनुपस्थिति में उन्हें अस्थायी रूप से वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार दिया गया था। गोयल ने 1 फरवरी 2019 को लोकसभा में 2019 का अंतरिम-यूनियन बजट भी पेश किया
💐  पीयूष जी के उद्योग मंत्रालय के कार्य संबंधी विचार💐
 भारतीय उद्योग चीन को टक्कर देने में पूरी तरह सक्षम हैं और आने वाले समय में घरेलू उद्योग चीन के उद्योग को पीछे छोड़ने वाले हैं। ये भरोसा जताया है वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने। केंद्रीय मंत्री ने मोदी सरकार के एक साल पूरे होने के मौके पर इंडिया टीवी के विशेष कार्यक्रम में सरकार की योजनाओं और उपलब्धियों पर चर्चा की इसी दौरान उन्होने साफ कहा कि चीन से मुकाबले के लिए भारत सरकार घरेलू उद्योगों को हर संभव मदद देगी।
केंद्रीय मंत्री के मुताबिक सरकार राज्य व उद्योग के साथ  मिलकर
काम कर रही है। उनकी हर जरू
रत को सरकार पूरा करने के लिए तैयार है भले ही टेक्नोलॉजी देनी पड़े तो टेक्नोलॉजी लाकर दी जाएगी, बिजली या जमीन की जरूरत होगी तो वह भी उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होने साफ कहा कि मिल जुलकर केंद्र और राज्य सरकारें उद्योग की जरूरतों को पूरा करने के लिए काम करेंगी। विश्वास है कि बाकी देशों के मुकाबले भारत ज्यादा बेहतर सामान, सेवाएं देगा जो कि कम कीमत पर होंगी, जिससे भारतीय प्रोडक्ट की मांग दुनिया भर में बढ़ेगी।
सर श्रीपीयूश गोयल जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई, एव शुभकामनाए।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀💐
     (C) आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
1420 - जलालुद्दीन फ़िरोजशाह दिल्ली की गद्दी पर बैठा। 
1940 - जलियाँवाला बाग़ हत्या
कांड के समय पंजाब के गवर्नर रहे माइकल ओ डायर की हत्या
कर  हत्याकांड का बदला  लेने
वाले भारतीय ऊधमसिंह  को लंदन में फाँसी दे दी गई। 
1993 - किम कैंपबेल कनाडा की पहली महिला प्रधानमंत्री बनीं। 
1997 - दिल्ली के उपहार सिनेमाघऱ में आग लगने से 59 लोगों की मृत्यु हो गई तथा 100 से अधिक लोग घायल हो गए। 2001 - नेपाल शाही परिवार हत्याकांड में दीपेन्द्र की प्रेमिका देवयानी का जांच आयोग के समक्ष गवाही से इन्कार।
 2002 - 1972 के एंटी बैलिस्टिक मिसाइल समझौते की समय सीमा समाप्त।
 2003 - डेनियल अखमितोव कजाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री नियुक्त। 
2004 - लोकतांत्रिक गणराज्य कांगो में राष्ट्रपति जोसेफ़ कबीला के ख़िलाफ़ तख्ता पलट का प्रयास विफल। ईराक के विदेश उपमंत्री बासम सालिह कुन्बा की हत्या। 
2005 - ईरान 2009 के अन्त से 25 वर्षों के लिए भारत को तरल प्राकृतिक गैस का निर्यात करने पर सहमत। 
2006 - नाइजीरिया और कैमरून ने सीमा विवाद पर समझौता किया। 
2008 - टेलिकॉम मलेशिया (टीम) ने आइडिया सेलुलर कम्पनी की 15% हिस्सेदारी ख़रीदी। चीन और ताइवान ने विमान सेवा शुरू करने के सम्बन्ध में एक ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर किये। 
 🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀💐
      (D) आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण  व्यक्तित्व
1964 - पीयूष गोयल - भारतीय जनता पार्टी के राजनेताओं में से एक हैं। 
1944 - बान की मून - संयुक्त राष्ट्र संघ के आठवें महासचिव थे।
 1923 - प्रेम धवन, हिंदी सिनेमा जगत् के मशहूर गीतकार 
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀💐
     (E)आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
2016-मुद्राराक्षस भारत केप्रसिद्ध लेखक
उपन्यासकार, नाटककार, आलोचक तथा व्यंग्यकार थे।
2012-मेहदी हसन -प्रसिद्ध ग़ज़ल गायक
2008 - कीर्ति चौधरी - तीसरे सप्तक की एकमात्र कवयित्री
1999 - मेजर मनोज तलवार - भारतीय सेना के जाबांज सैनिकों में से एक थे।
1719 - रफ़ीउद्दाराजात - दसवाँ मुग़ल 
बादशाह था।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀💐
      (F) आज का दिवस का नाम ।
1.पीयूष गोयल - भारतीय जनता पार्टी के राजनेताओं में से एक हैं का जन्मदिवस ।
2.बान की मून - संयुक्त राष्ट्र संघ के आठवें महासचिव थे का जन्मदिवस।
3. प्रेम धवन, हिंदी सिनेमा जगत् के मशहूर गीतकार का जन्मदिन.।
4.मुद्राराक्षस भारत केप्रसिद्ध लेखक
उपन्यासकार, नाटककार, आलोचक तथा व्यंग्यकार थे का पुण्यतिथि दिवस
5मेहदी हसन- प्रसिद्ध ग़ज़ल गायक थेका 
पुण्यतिथि दिवस।
2008 - कीर्ति चौधरी - तीसरे सप्तक की एकमात्र कवयित्री का पुण्यतिथि दिवस।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀💐
       आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐
💐  निवेदक;-💐
 💐 चित्रांश ;-विजय निगम।