आज की बात आपके साथ - विजय निगम


प्रिय साथियो। 


🌹राम-राम🌹 


🌻 नमस्ते।🌻


आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 07 जून 2020 रविवार की प्रातःकाल की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।


🌻🌱💮🌳🌺🥀🌼🌻


आज की बात आपके साथ अंक मे है 


 A कुछ रोचक समाचार


B आज के दिन जन्मे ख़्वाजा अहमद अब्बास का जीवन परिचय लेख. 


C आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ


D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व


E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व


F आज का दिवस का नाम ।


  🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼


(A) कुछ रोचक समाचार


(संक्षिप्त)


💐(A/1)लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर तनाव : भारत और चीन की सेनाओं के बीच शीर्ष स्तर पर आज बातचीत 💐


💐(A/2)मायावतीने किया मोदी सरकार के कदम का स्वागत,साथ ही कहा-गरीबों


को मिलना चाहिए लाभ जो नहीं मिल रहा है।💐


💐(A/3) अंबानी के ड्राइवर सेअमिताभ 


के बॉडीगार्ड तक, IAS-IPS अफसरों से भी ज्यादा है इनकी सैलरी💐


💐(A/4)ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा- झूठी खबरें तेजी से फैलती हैं💐


🌻💐💮🌳🌺🥀🌼🌻


💐 A कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)


 💐(A/1)लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर तनाव : भारत और चीन की सेनाओं के बीच शीर्ष स्तर पर आज बातचीत 💐


तनाव को कम करने की कोशिश के रूप में पहले भी कई बैठकें हो चुकी हैं लेकिन इन बैठकों के नाकाम रहने से अब लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर होने इस बैठक पर सबकी निगाहें लगी हुई हैं.  


भारत-चीन तनाव के बीच आज बातचीत


               💐 खास बातें 💐


💐भारतऔर चीन केबीच तनावसुलझाने


 के लिए बातचीत💐


💐दोनों देशों की सेनाओं के बीच पिछले काफी समय से गतिरोध💐


💐लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर होने वाली बैठक पर सबकी निगाहें💐


नई दिल्ली;-पूर्वी लद्दाख में तनाव केबीचभारतऔर चीन केबीच आज बातचीत चल रही है।दोनों देशों की सेनाओं के बीच पिछले काफी दिनों से तनाव चल रहा है. भारत ने इस बातचीत की पहल की है. भारत और चीन के लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अधिकारियों के बीच चुशूल मोलदो बॉर्डर मीटिंग प्वाइंट पर यह बैठक हो रही है. भारत का प्रतिनिधित्व 14 कोर कमांड के लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करेंगे. बैठक मेंभारत चीन से एलएसी पर अप्रैल की यथास्थिति बरकरार रखने की मांग रखेगा।बातचीत पैंगोंग लेक के फिंगर 4 औरफिंगर8पर फोकस रहेगी।तनाव को कम करने की कोशिश के रूप में पहले भीकई बैठकें हो चुकी हैंलेकिनइन बैठकों के नाकाम रहने सेअब लेफ्टिनेंट जनरल स्तरपर होरही इस बैठ पर सबकी निगाहें लगी हुई हैं.इस बीच, शुक्रवार को पूर्वी लद्दाख में जारीसैन्यगतिरोध के बीचभारत


और चीन ने अपने ‘‘मतभेदों'' को विवाद में नहीं बदलने देने की प्रतिबद्धता जताई और एक- दूसरे की संवेदनशीलता, चिंता एवंआकांक्षाओं का सम्मान करते हुए उन्हें वार्ता के माध्यम से दूर करने पर सहमत हुए.


समाचारएजेंसी पीटीआईके


मुताबिक, वीडियो कांफ्रेंस के जरिये विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्वीएशिया),नवीन श्रीवास्तव और चीनी विदेश मंत्रालय में महानिदेशक वु जिआनघाओ के बीच हुई वार्ता में दोनों देशों ने तनाव को दूर करने में सकारात्मक रूख अपनाने के संकेत दिए. पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच एक महीने से चल रहे गतिरोध को दूर करने के लिए लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की वार्ता होने से एक दिन पहले दोनों राजनयिकों के बीच यह वार्ता हुई है।सैन्यगतिरोध काप्रत्यक्ष रूपसेजिक्र किये बगैर विदेशमंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्षों नेमौजूदा घटनाक्रमों


''सहित द्विपक्षीय


संबंधों की स्थिति की समीक्षा की. विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘‘दोनों पक्ष इस बात पर सहमतहुए किदोनों देशों के नेतृत्वों केमार्गदर्शन केतहतदोनों देशों को अपनेमतभेदोंको शांतिपूर्ण चर्चा के जरिये दूर करनाचाहिए.'' उसने कहा कि इन मतभेदों को दूर करने वाली चर्चा के दौरान दोनों पक्ष एक दूसरे की संवेदनशीलता, चिंताओं और आकांक्षाओं का सम्मान करेंगे और इन्हें विवाद नहीं बनने देंगे.बीजिंग में चीन के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को दोनों देशों केवरिष्ठ राजनयिकों केबीच हुई वार्ता काजिक्र करते हुए कहा कि दोनों देशों को एक दूसरे के लिये खतरा पैदा नहीं करना चाहिए और अपने मतभेदों को विवाद में में तब्दील नहीं होने देना चाहिए. बयान में कहा गया है कि दोनों पक्ष दोनों देशों के नेतृत्वों द्वारा मुहैया किये गये दिशानिर्देशों के मुताबिकमतभेदों को दूर करने पर सहमत हुए हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीऔर चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच हुई दो अनौपचारिक शिखर बैठकों में लिये गये फैसलों केसंदर्भ मेंयह कहागया।आधिकारिक सूत्रों ने बताया किभारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करेंगे. सिंह लेह स्थित 14वीं कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग हैं. चीनी पक्ष का नेतृत्व तिब्बत सैन्य जिला कमांडर करेंगे.लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर वार्ता के बारे में पूछे जाने पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बीजिंग में प्रेस वार्ता में कहा, ‘‘हमारे पास सीमा संबंधी पूर्ण तंत्र है और हमसैन्य एवं राजनयिक माध्यमों सेकरीबी


संचार कायम रखते हैं.''सूत्रों ने कहा कि भारत को बैठक से किसी ठोस नतीजे की उम्मीद नहीं है लेकिन वह इसे महत्वपूर्ण मानता हैक्योंकि उच्च-स्तरीय सैन्य संवाद गतिरोध के हल के लिए मार्ग प्रशस्त कर सकता है.दोनों पक्षों के मध्य पहले हीस्थानीयकमांडरों के बीच कम से कम 12 दौर कीतथा मेजर जनरल स्तरीय अधिकारियों के बीच तीन दौर की बातचीत हो चुकी है. लेकिन चर्चा से कोई सकारात्मक नतीजा नहीं निकला.एक शीर्ष सैन्य अधिकारी ने पीटीआई


-भाषा से कहा,बातचीत में हमारे लिये एकसूत्री एजेंडा वास्तविक नियंत्रण रेखा(एलएसी)पर शांतिएवं स्थिरतावापस


लाना है। हम इसे हासिल करने के लिये विशेष उपाय का सुझाव देंगे, जिनमें पांच मई से पहले की स्थिति में लौटना शामिल होगा।.'यहगतिरोध पांच मई को पैंगोंगत्सो में दोनोंपक्षों के बीच हिंसक झड़पें होने के बाद शुरू हुआ था. पिछले महीने गतिरोध शुरू होने के बाद भारतीय सैन्य नेतृत्व ने फैसला किया किभारतीय सेना पैंगोंगत्सो, गलवान घाटी, डेमचोक और दौलत बेग ओल्डी के सभी विवादित क्षेत्रों में चीनी सैनिकों की आक्रामक मुद्रा से निपटने के लिए दृढ़ दृष्टिकोण अपनाएगी। दोनों देशों के सैनिक गत पांचमई को पूर्वी लद्दाख के पैंगोंगत्सो क्षेत्र में लोहे की छड़ और डंडे लेकरआपस में भिड़ गए थे।उनके बीच पथराव भी हुआ था।इस घटना में दोनों पक्षों के सैनिक घायल हुए थे। पांच मई की शामकोचीनऔरभारत के250सैनिकोंके बीच हुई


 यह हिंसा अगले दिन भीजारी


रही.इसके बाद दोनों पक्ष ‘‘अलग'' हुए. इसी तरह की एक घटना में नौ मई को सिक्किम सेक्टर में नाकूला दर्रे के पास लगभग 150 भारतीय और चीनी सैनिक आपस में भिड़ गए थे।इससे पहले 2017 मेंभारत और चीन केसैनिकों के बीच डोक


लाम में आमना-सामना हुआ था, जिसके बाद दोनों देशों के बीच युद्ध की आशंका बढ़ गई थी।भारतऔरचीन के बीच 3488 किलोमीटर वास्तविक नियंत्रण रेखा है


🌻💐💮🌳🌺🥀🌼🌻


💐(A/2)मायावतीने किया मोदी सरकार के कदम का स्वागत,साथ ही कहा-गरीबों


कोमिलना चाहिए लाभ,जोनहीं मिल रहा है।💐


उत्तर प्रदेश कीपूर्व मुख्यमंत्रीऔरबीएसपी


सुप्रीमो मायावती ने केंद्र सरकार के उस फैसलेकास्वागतकिया है जिसकेमुताबिक एक साल


नई योजनाओं में पैसा खर्च नहीं किया जाएगा।केवल पीएम गरीबकल्याणपैकेज और


 आत्मनिर्भर भारत अभियान पैकेजपर हीखर्च किया जाएगा.मायावती


ने कहा कि केंद्र के कदम का लाभ गरीबों को नहीं मिल रहा है।


नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री औरबीएसपी सुप्रीमो मायावतीने केंद्र सरकारके


उस फैसले का स्वागत


कियाहैजिसके


मुताबिक एक साल नई योजनाओं में पैसा खर्चनहीं 


किया जाएगा.केवल पीएमगरीकल्याणपैकेजऔरआत्मनिर्भरभारतअभियानपैकेजपर ही खर्च कियाजाएगा.बीएसपी सुप्रीमो


ने कहा कि यह कदम स्वागत


योग्य है,लेकिन इसका लाभ


गरीबों,मजदूरोंऔर बेरोजगारों 


को मिलना चाहिए जो कि नहीं रहा है।मीडिया के मुताबिकमायावती ने कहा कि जब प्रवासी मज़दूर आ रहे थे तब खासकर उत्तर प्रदेश के सरकार नेइस बात पर जोर दिया था की प्रवासी लोगों का उनकी योग्यता के हिसाब से पंजीयन होना


चाहिए और इन्होंने पंजीयन कराया भी।उन्होंने कहा, 'लेकिन उसके बावजूद भी देखने को मिल रहा है कि जो लोग बड़ी-बड़ी डिग्री लेकर प्रदेश में आए हैं आज वो मनरेगा के तहत गड्डे खोद रहे हैं।सरकार को सोचनाचाहिएकिजब लोग


बड़ी-बड़ी डिग्रीलेकर गड्डे खोदेंगे तोइसका शिक्षा पर कितना 


बुरा प्रभाव पड़ेगा।


 कोरोना वायरस के संकटऔर लॉकडाउन के वित्तीय असर से जूझ रहे वित्त मंत्रालके डिपार्टमेंटऑफ़ एक्सपेंडी


चरनेशुक्रवार को एक अप्रत्याशित आदेश जारीकर दियापीएम गरीब कल्याणपैकेज


और आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत ऐलान कीगई योजनाओं को छोड़करसभी


नई योजनाओं केख़र्च पर1साल के लिए रोकलगादी गई है।शुक्रवार को जारी मंत्रा


-लय केआदेशमेंकहा गया है कि कोविड-19 महामारी 


की वजह से पब्लिक फाइनेंसियल रिसोर्सेज


 पर अप्रत्याशित दबाव बढ़ गया है जिसके मद्देनज़र ये फैसला लेना पड़ा है.।


🌻💐🌹🌱💮🌳🌺💐(A/3) अंबानी के ड्राइवर सेअमिताभ के बॉडीगार्ड तक, IAS-IPS अफसरों से भी ज्यादा है इनकी सैलरी💐


हर किसी की ख्वाहिश होती है कि उसे नौकरी में ज्यादा से ज्यादा सैलरी मिले। इसके लिए कोई आईएएस-आईपीएस बनता है तो कोई डॉक्टर-


इंजीनियर। हालांकि आपको ये जानकर हैरानी होगी कि कुछऐसेभी ड्राइवर, नैनीऔर बॉडीगार्ड हैं जिनकीमंथली सैलरी अच्छे खासे पढ़े लिखेनौकरीपेशा लोगों से कई गुना ज्यादा है। इसमें अंबानी के ड्राइवर से अमिताभ केबॉडीगार्डतक का नाम शामिलहै। आइए देखते हैं कितनी मिलती है इन्हें सैलरी। 


इंटरनेट पर मौजूदा जानकारी और कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सलमान खान अपने बॉडीगार्ड शेरा को हर महीने 16 लाख रुपए बतौर सैलरी देते हैं। इस हिसाब से शेरा की सालाना सैलरी करीब 2 करोड़ है।


सैफ अली खान और करीना कपूर ने अपने बेटे तैमूर की देखभाल के लिए नैनी रखी हुई है।तैमूर की नैनी का नाम सविति है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक करीना कपूर सवितिको 1.5 लाखरुपए हर महीने बतौर सैलरी देती हैं। अगर सविति ओवर टाइम करती हैं तो यह रकम 1.75 लाख हो जाती है।


शाहरुख खान के बॉडीगार्ड अजय सिंह पिछले कई सालों से उनके साथ साए की तरहलगेहुए हैं।बताया जाता हैकिशाहरुख अपने बॉडीगार्ड को सालाना 2.5 करोड़ रुपए सैलरी देते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें कोअजय सिंह बॉलीवुड सेलेब्स को गार्ड करने वालों में सबसे महंगे बॉडीगार्ड हैं।सदी के महा


नायक सुपरस्टार अमिताभ बच्चन केपर्सनल बॉडीगार्ड कानाम जितेंद्र शिंदे है। मीडिया की कुछ रिपोर्ट्स में इस तरह की जानकारी उपलब्ध है कि शिंदे अमिताभ से सालाना 1.5 करोड़ रुपए बतौर सैलरी लेते हैं।अंबानी 


परिवार का ड्राइवर बनना इतना आसान नहीं है। ड्राइवर बनने के लिए काफी लंबे परीक्षण से भी गुजरना पड़ता है।ड्राइवर के चुनाव केलिए निजीकंपनियों


 कोठेका दिया जाता है। ये कंपनियां लंबी प्रक्रिया के बाद ड्राइवर का चयन करती हैं।यह भी देखा जाता हैकि किसी परे


-शानीको ड्राइवर किस तरह हैंडल कर सकता है। चयनित ड्राइवर को कंपनी की तरफ सेबेहतरीन ट्रेनिंग दी जाती है।अंबानी परिवार के ड्राइवरों को मोटी पगार मिलती है। 2017 की कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुता


बिक इन ड्राइवरों की सैलरी 2 लाख प्रतिमाह सेभी ज्यादा है।


🌻💐🌹🌳🌺🥀🌼🌻


💐(A/4)ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा- झूठी खबरें तेजी से फैलती हैं💐


कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल होने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया एक बार फिर चर्चा में हैं. इस बार चर्चा उनके ट्विटर के बायो यानि परिचय को लेकर है 


भोपाल: बीजेपी के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया एक बार फिर चर्चा में हैं. सोशल मीडिया में खबर उड़ी है कि उन्होंने अपने ट्विटर हैंडलका बायो यानि परिचय बदल लिया है।इस परिचय में उन्होंने बीजेपी का जिक्रनहीं कर सिर्फजनसेवक और क्रिकेट प्रेमी लिखा है. इससे ये आहट मिल रही है किशायदवो बीजेपी से नाराज हैं और अब पार्टी छोड़ने की तैयारी कर रहे हैं. ये बात इतनीफैली कि सिंधिया तोनहीं मगरउनके समर्थकों को आगे आना पड़ा और इस बात का खंडन करनापड़ा.।.दरअसल,


मध्यप्रदेश में जिस तरीके से बीजेपी में तनातनी चल रही हैउससे कांग्रेस छोड़कर बीजेपी मेंआये सिंधिया समर्थक खुश नहीं हैं।.सिंधिया के साथ जिन पूर्व मंत्रियों ने इस्तीफा दिया था वो अब तक मंत्री बनने का इंतजार कर रहे हैं मगर मंत्रिमंडल का गठन है कि लगातार टलता जा रहा है. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री हर कुछ दिनों में एक नयी तारीख विस्तार की बता देते हैं जिससे ऐसा लगता है कि मंत्रिमंडल का गठन उनकी प्राथमिकता में नहीं है.इससे


पूर्वमंत्रियों और सिंधिया के समर्थकों में बैचेनी है.इन सबको आने वाले दिनों में चुनाव भी लड़ना है और मंत्री नहीं बनने पर ये सब अपने इलाकों में उस शान से नहीं जा पा रहे है.ऐसे में सिंधिया ने अपने ट्विटर हैंडल का एक फोटो बदल दिया जिसमें वो कांग्रेस के पट्टे में नजर आ रहे थे।.बसयहीं से इस खबर को पंख लगगए किउन्होंनेट्विटर सेअपनेपरिचयसेबीजेपी


को हटा दिया।.


सच्चाई ये है कि कांग्रेस छोड़ने के बाद भी उन्होंने बीजेपी का जिक्र अपने परिचय में नहीं किया था. कांग्रेस के सोशल मीडिया ने मुहिम चला दीऔर लोगों ने इसको हवा दी कि महाराज फिर नाराज हो गये हैं। कांग्रेस छोड़ने के पहले 25 नबंवर 2019 को भी सिंधिया ने ऐसा ही अपना परिचय बदलाथाऔर कांग्रेस महासचिव की जगह जनसेवक लिख लिया था।अब सिंधिया ने अपनी चुप्पी तोड़ी है और ट्विटर पर ही लिखाहैकि झूठी खबरें तेजीसे फैलती हैं।.


🌻💐💮🌳🌺🥀🌼🌻


 💐 (B)आज के दिन जन्मे ख़्वाजा अहमद अब्बास का जीवन परिचय💐


 पूरा नाम :-ख़्वाजा अहमद अब्बास


 जन्म ;-7 जून 1914 


जन्मभूमि;- पानीपत, हरियाणा 


मृत्यु;- 1 जून 1987 


मृत्यु स्थान ;-मुंबई, महाराष्ट्र 


अभिभावक:-ग़ुलाम-उस-सिबतैन और मसरूर ख़ातून पति/पत्नी मुज़्तबी बेगम कर्मभूमि ; मुम्बई कर्म-क्षेत्र


फ़िल्म निर्देशक,;- पटकथा लेखक और उर्दू लेखक:- मुख्य फ़िल्में नया संसार, नीचा नगर,आवारा, श्री 420, 


डॉ. कोटनिस की अमर कहानी, धरती के लाल, आज और कल, सात हिंदुस्तानी आदि। शिक्षा बी.ए., एल.एल.बी विद्यालय अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय पुरस्कार-उपाधि पद्म श्री, ग़ालिब पुरस्कार, फ़िल्म 'नीचा नगर' के लिए अंतरराष्ट्रीय कान्स फ़िल्म समारोह में पाल्मे डी'ओर पुरस्कार, फ़िल्मफेयर पुरस्कार नागरिकता भारतीय पुस्तकें इंकलाब, 'आई एम नॉट ऍन आयलैंड: ऍन एक्सपैरीमेंट इन ऑटो बायोग्राफ़ी' अन्यजानकारी 


बॉम्बे क्रॉनिकल में ये लंबे समय तक बतौर संवाददाता और फ़िल्म समीक्षक रहे। इनका स्तंभ 'द लास्ट पेज' सबसे लंबा चलने वाले स्तंभों में गिना जाता है। ख़्वाजा अहमद अब्बास (अंग्रेज़ी: Khwaja Ahmad Abbas, जन्म: 7 जून 1914 – मृत्यु: 1 जून 1987) प्रसिद्ध फ़िल्म निर्देशक, पटकथा लेखक और उर्दू लेखक थे। वे उन कुछ गिने चुने लेखकों में से एक थे, जिन्होंने मुहब्बत, शांति और मानवता का पैगाम दिया। एक पत्रकार के रूप में उन्होंने 'अलीगढ़ ओपिनियन' शुरू किया। 'बॉम्बे क्रॉनिकल' में ये लंबे समय तक बतौर संवाददाता और फ़िल्म समीक्षक रहे। इनका स्तंभ 'द लास्ट पेज' सबसे लंबा चलने वाले स्तंभों में गिना जाता है। यह 1941 से 1986 तक चला। अब्बास इप्टा के संस्थापक सदस्य थे। जीवन परिचय ख़्वाजा अहमद अब्बास साहब का जन्म 7 जून 1914 को हरियाणा राज्य के पानीपत में हुआ। वे 'ख़्वाजा ग़ुलाम अब्बास' के पोते थे जो 1857 के विद्रोह के शहीदों में से एक थे। उनके पिताग़ुलाम-उस-सिबतैन' थे जो उन्हें पवित्र क़ुरान पढ़ने के लिए प्रेरित करते, जबकि 'मसरूर ख़ातून' उनकी माँ थीं। उनके ख़ानदान का बखान अयूब अंसारी तक जाता है जो पैगंबर मुहम्मद के साथी थे। अपनी प्रारंभिक शिक्षा के लिए, अब्बास साहब 'हाली मुस्लिम हाई स्कूल' गये जिसे उनके परदादा यानी प्रसिद्ध उर्दू शायर ख़्वाजा अल्ताफ़ हुसैन हाली और मिर्ज़ा ग़ालिब के शागिर्द; द्वारा स्थापित किया गया था। पानीपत में उन्होंने 7वीं कक्षा तक अध्ययन किया, 15 वर्ष की आयु होने पर मैट्रिक समाप्त की और बाद में, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से अंग्रेज़ी साहित्य में बी.ए. (1933) और एल.एल.बी (1935) पूरी की। वह अपने जीवन में अधिकांश कार्यों में सफल रहे थे। उनके सुकोमल प्रेमप्रसंग के परिणाम


स्वरूप मुज़्तबी बेगम के साथ विवाह का अति सुंदर वर्णन उनकी आत्मकथा 'आई एम नॉट आइलैंड' में किया गया है। यह एक सफल प्रेम विवाह था। कहा जाता है कि उनकी समस्त उल्लेखनीय उपलब्धियों के पीछे उनकी पत्नी का बड़ा था। सन 1958 में पत्नी की मृत्यु के उपरांत अकेले रह गये।


🌻💐🌹🌳🌺🥀🌼🌻


   (C)आज के दिन की प्रमुख घटनाएँ


1539- बक्सर के निकट चौसा की लड़ाई में अफगान शेरशाह सूरी ने मुगल बादशाह हुमायु को हराया।


1631- मुगल बादशाह शाहजहां की बीबी मुमताज बेगम की बुरहानपुर में 39 वर्ष की आयु में मृत्यु हो गई।


1692- जमैका में भूकंप में तीन हजार लोगों की मृत्यु हो गई।


1893- महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रिका में प्रथम बार सविनय अवज्ञा का प्रयोग किया।


1928- बेटिकन सिटी पूर्ण संप्रभु राष्ट्र बना।


1966- पूर्व अभिनेता रोनल्ड रीगल ने राजनीति में प्रवेश किया और कैलिफोर्निया के गवर्नर निर्वाचित हुए। बाद में वे अमेरिका के राष्ट्रपति बने।


1989- भारत के दूसरे उपग्रह भास्कर प्रथम का सोवियत रॉकेट से प्रक्षेपण किया गया।


1999- इंडोनेशिया में 1955 के बाद पहली बार लोकतांत्रिक चुनाव हुआ।


2008- अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज बुश ने स्टेम सेल के अनुसंधान को मंजूरी देने के विरुद्ध दूसरी बार विटो का प्रयोग किया।


🌻💐🌸💮🌳🌺🥀🌼


      (D)आज के दिन जन्मे महत्वपुर्ण व्यक्तित्व 


1914 - ख़्वाजा अहमद अब्बास - फ़िल्म निर्देशक, पटकथा लेखक और उर्दू लेखक


1974 - महेश भूपति - भारत के टेनिस खिलाड़ी


🌻💐🌸💮🌳🌺🥀🌼


  (E) आज के दिन निधन हुवे महत्वपुर्ण व्यक्तित्व 


1954 - एलेन ट्यूरिंग, अंग्रेज़ गणितज्ञ और कम्प्युटर वैज्ञानिक


2002 - बासप्पा दनप्पा जत्ती, भारत के उपराष्ट्रपति और कार्यवाहक राष्ट्रपति


 🌻💐🌸💮🌳🌺🥀🌼


         (F)आज का दिवस का नाम


1.ख़्वाजा अहमद अब्बास फ़िल्मनिर्देशक


पटकथा लेखक और उर्दू लेखक का जयंति दिवस


2.महेश भूपति - भारत के टेनिस खिलाड़ी का जन्मदिवस


3.एलेन ट्यूरिंग, अंग्रेज़ गणितज्ञ और कम्प्युटर वैज्ञानिक का पुण्यतिथि दिवस


4.बासप्पा दनप्पा जत्ती, भारत के उपराष्ट्रपति और कार्यवाहक राष्ट्रपति का पुण्यतिथी दिवस


🌻💐🌹🌸🌲🌹💐💐


            आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।


      आज जन्म लिये सभी व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई। बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।


💐।जय चित्रांश।💐


💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐


💐।जय हिंद जय भारत💐


💐 निवेदक;-💐


💐 चित्रांश ;-विजय निगम।