मध्यप्रदेश की रिकवरी रेट अब 53 प्रतिशत

किसान चिंता न करें उनका पूरा गेहूँ खरीदेंगे, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की


उज्जैन। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में बड़ी संख्या में कोरोना के मरीज स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं। प्रदेश की कोरोना रिकवरी रेट अब 53 प्रतिशत हो गई है। देश की रिकवरी रेट 41.8 प्रतिशत है। इसी प्रकार मध्यप्रदेश में कोरोना की डबलिंग रेट 21 दिन हो गई है। वहीं देश की कोरोना डबलिंग रेट 15.4 दिन है।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसान चिंता न करें उनका पूरा गेहूँ खरीदा जायेगा। उन्होंने निर्देश दिये कि जिन जिलो में अभी पंजीकृत किसान समर्थन मूल्य पर गेहूँ नहीं बेच पाये हैं, उन ज़िलों में गेहूँ उपार्जन की व्यवस्था सुचारू रहे। प्रदेश में अभी तक 116 लाख 82 हजार एम.टी. गेहूँ की खरीदी की जा चुकी है। वहीं 11 लाख 56 हजार किसानों के खातों में 15 हजार 134 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चुका है। 


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गत दिवस मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री संजय शुक्ला आदि उपस्थित थे।


पुलिस कर्मियों का मनोबल बढ़ाएं


स्वास्थ्य एवं गृह मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोरोना कार्य में लगे पुलिसकर्मियों सहित पूरे अमले का मनोबल बढ़ाया जाये। बहुत से पुलिस एवं स्वास्थ्य कर्मी कोरोना की ड्यूटी के कारण अपने परिवार से अलग रह रहे हैं। इनके परिवारों का भी ध्यान रखा जाये।


12वीं की परीक्षाओं की व्यवस्था करें


मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने निर्देश दिए कि आगामी 8 से 16 जून तक 12वीं की परीक्षाएं होनी है, इस संबंध में कलेक्टर्स आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें।


श्रम सिद्धि अभियान में डेढ़ लाख से अधिक जॉब कार्ड बनाये गये


अपर मुख्य सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि प्रदेश में चलाये जा रहे श्रम सिद्धि अभियान के अंतर्गत डेढ़ लाख से अधिक मजदूरों के जॉब कार्ड बनाये गये हैं। मनरेगा के अंतर्गत अभी तक 23 लाख 26 हजार 964 व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। प्रदेश में कुल 1 लाख 95 हजार 989 कार्य प्रारंभ किये जा चुके हैं, जिनमें 1235 करोड़ रूपये का भुगतान मजदूरों को कर दिया गया है।


पाँच लाख 45 हजार मजदूर वापस आये


अपर मुख्य सचिव श्री आईसीपी केशरी ने बताया कि मध्यप्रदेश में अभी तक 5 लाख 45 हजार प्रवासी मजदूर वापस आ गये हैं। इनमें से बसों द्वारा 3 लाख 83 हजार तथा ट्रेनों के द्वारा 1 लाख 62 हजार मजदूर वापस आये हैं। अभी तक 129 ट्रेन प्रदेश वापस आ गयी हैं। प्रमुख सचिव श्री संजय दुबे ने बताया कि जम्मु कश्मीर में अभी प्रदेश के कुछ मजदूर फँसे हुए हैं, जिनके लिये दो ट्रेन चलायी जाने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा तुरंत इसके लिये अनुमति प्रदान की गयी।