आज की बात आपके साथ - विजय निगम


प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹
🌻 नमस्ते।🌻
आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों कादिनांक 03 मई 2020रविवार  की प्रातःकी बेला में हार्दिक वंदन है।अभि
नन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳
 आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मे भारत के सुप्रसिद्व एक भारतीय राष्ट्रवादी,राजनीतिज्ञ,कूटनी
तिज्ञ व्ही.के.कृष्णन का जीवन परिचय
लेख. 
C आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिनजन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधनहुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
 🌻💐🌹🌲🌱💮🌳🌺
💐(A)कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)💐
 💐(A/1)आज से बदल गए ATM,
पेंशन, रेलवे, गैस सिलिंडर सहित ये सात नियम,जान लें वरनाहोजाएगीदिक्कत💐
💐(A/2)काम ना आई मोदी की अपील रिलायंस ने वेतन में 50 फीसदी तक कर दी कटौती, मुकेश अंबानी भी नहीं लेंगे सालभर सैलरी।💐
💐(A/3)'ठाकुर' से लेकर 'टिंगू जी' तक ये 10 साथी कलाकार छोड़ चुके अमिताभ बच्चन का साथ,💐
💐(A/4)'रामायण' बना दुनिया में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला कार्यक्रम, 33 वर्ष बाद बनाया यह वर्ल्ड रिकॉर्ड।💐
💐(A/4-1)चाणक्य नीति: इन 5 लोगों के पास कभी नहीं रुकता पैसा, बचाने के लिए करें ये उपाय।💐
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳
 💐(A)कुछ रोचक
समाचार(विस्तृत)💐
💐(A/1)आज से बदल गए ATM,
पेंशन, रेलवे, गैस सिलिंडर सहित ये सात नियम,जान लें वरनाहोजाएगीदिक्कत💐  
एक मई 2020 यानी आज से भारत में कई बड़े बदलाव हुए हैं। इन बदलावों का आपकी जिंदगी पर सीधा असर पड़ेगा। इन नए नियमों से जहां एक ओर आपको राहत मिलेगी,वहीं अगर आपने कुछ बातों का ध्यान नहीं रखा तो आपको आर्थिक नुकसान भी हो सकता है इनमें पेंशन,
एटीएम,रेलवे, एयरलाइंस,गैस सिलिंडर, 
बचत खातों पर ब्याज और डिजिटल वॉलेट शामिल है। आइए जानते हैं इन महत्वपूर्ण बदलावों के बारे में।     
💐मई से मिलेगी पूरी पेंशन💐
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ग्राहकों के लिए अच्छी खबर है। सरकार ने हाल ही में रिटायरमेंट के 15 वर्ष बाद पूरी पेंशन राशि के भुगतान का प्रावधान फिर से शुरू कर दिया था। इसके तहत अब मई से पूरी पेंशन मिलने लगेगी। इस विकल्प को चुनने वाले लोगों को पूरी पेंशन कुछ समय बाद बहाली के रूप में मिलती है। मालूम हो कि साल 2009 में इस नियम को वापस ले लिया गया था। इसके तहत देश के 6.5 लाख से ज्यादा पेंशनर्स को फायदा होगा।         
 💐ATM से जुड़ा ये नियम 💐
कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार द्वारा लॉकडाउन घोषित किया गया है। ज्यादा सावधानी के लिए अब एटीएम के लिए भी नई व्यवस्था तय होने जा रही है।प्रत्येक व्यक्ति द्वाराएटीएम
केइस्तेमालके बादउसे साफकियाजाएगा। यह व्यवस्था गाजि़याबादऔर चेन्नई में
शुरू हो गई है और सख्ती से इस नियम का पालन हो रहा है। हॉटस्पॉट में अब नगर निगम दिन में दो बार सैनिटाइजेशन होगा
  💐 रेलवे टिकट काउंटर 💐
4 घंटेपहलेतक बदल सकेंगेबोर्डिंग स्टेशन
देशमेंलॉकडाउन की वजह से रेलवे सेवाएं बंद हैं। लेकिन भविष्य में रेल सेवाओं के लिए एक नयानियम लागू हुआ है। इनमें से कुछ नियम1मई से प्रभावी होने जा रहे है,जिसके मुताबिक,अब यात्री चार्टनिकल 
जाने के चार घंटे पहले तक बोर्डिंग स्टेशन को बदल सकेंगे।जबकि पहले यात्रीअपने
बोर्डिंग स्टेशन को यात्रा की तारीख से 24 घंटे पहले ही बदल पाते थेवहीं अगर यात्री बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव करने के बादभी यात्रानहीं करतेऔर टिकट कैंसिल करदेते हैं,तो ऐसेमें उन्हें कोई रिफंड नहीं दिया जाएगा।
लॉकडाउन के बीच आज आम जनता के लिए राहतभरी खबर आई है।आज से 19 किलोग्राम और 14.2 किलोग्राम वाले गैर-सब्सिडी एलपीजी सिलिंडर के दाम सस्ते हो गए हैं। तेल कंपनियां हर महीने की शुरुआत में एलपीजी सिलिंडर केदामों की समीक्षा करती है। हर राज्य में टैक्स अलग-अलग होता है और इसके हिसाब से एलपीजी के दामों में अंतर होता है। 
💐इतना सस्ता हुआ गैर-सब्सिडी वाला सिलिंडर💐
दिल्ली में 14.2 किलोग्राम वाला गैर-सब्सिडी एलपीजी सिलिंडर 162.50 रुपये सस्ता हो गया है। इसके बाद इसकी कीमत 581.50 रुपये हो गई है,जो पहले 744 रुपये थी।कोलकाता में इसका दाम 774.50 रुपये से घटकर 584.50 रुपये हो गया है,मुंबई में यह 714.50 रुपये से कमहोकर579 रुपये हो गया है।वहींचेन्नई मेंयह पहले 761.50 रुपये का था, जो आज से 569.50 रुपये का हो गया है। 
💐इतना सस्ता हुआ 19 किलोग्राम वाला सिलिंडर💐
दिल्ली में 19 किलोग्राम वाला सिलिंडर 256 रुपये सस्ता हो गया है। इसके बाद इसकी कीमत 1029.50 रुपये हो गई है, जो पहले 1285.50 रुपये थी। कोलकाता में इसका दाम 1348.50 रुपये से घटकर 1086 रुपये हो गया है, मुंबई में यह 1234.50 रुपये से कम होकर 978 रुपये हो गया है। वहीं चेन्नई में यह पहले 1402 रुपये का था, जो आज से 1144.50 रुपये का हो गया है। 
          💐एसबीआई💐
बचत खातोंपरमिलेगा कम ब्याजभारतीय 
स्टेट बैंक (SBI) ने 1 मई 2020 से बचत खातोंपर मिलनेवाले ब्याज में बदलाव कर दिया हैअबग्राहकों कोएक लाख सेअधिक बचत जमा खातों पर कम ब्याज मिलेगा। एक लाख तक  जमा  राशि पर  आपको सालाना 3.50 % व एक लाख से ज्यादा जमा राशि पर आपको सालाना 2.75 % ब्याज मिलेगा, जो पहले 3.25 % था।
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अप्रैल के महीने में रेपो रेट में 25 आधार अंकों की कटौती की थी। यह 6.25 % से 6 % हो गया है। इसके बाद सेविंग्स डिपॉजिट पर एसबीआई ने ब्याज दरें कम की। SBI ने एक्सटर्नल बैंचमार्क रूल्स को लागू करते हुए बचत जमा एवं अल्पावधि कर्ज की दरों को रेपो रेट के साथ जोड़ा है।
💐एयर इंडिया में नहीं लगेगा कैंसिलेशन चार्ज💐
इसके साथ ही सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया ने भी नियम में बदलाव किया है। एयर इंडिया 1 मई से यात्रियों को एक बड़ी सुविधा देने जा रहा है। इसके तहत अब यात्रियों को टिकट कैंसिल कराने पर कोई एक्स्ट्रा चार्ज नहीं देना होगा। टिकट बुकिंग के 24 घंटों के भीतर उसे कैंसिल करनेयाबदलाव किए जाने पर कैंसिलेशन चार्ज नहीं लगेगा। 24 अप्रैल को कंपनी ने इसकी जानकारी दी 
        💐पीएनबी किटी💐
बंद हुआ PNB का डिजिटल वॉलेट आज से पंजाब नेशनल बैंक ने अपना डिजिटल वॉलेट बंद कर दिया है। पीएनबी ग्राहक, जो पीएनबी किटी वॉलेट सुविधा का इस्ते
माल कर रहे थे, वो अब लेन-देन के लिए अन्य डिजिटल मोड जैसे आईएमपीएस का इस्तेमाल कर सकते हैं। मालूम हो कि ग्राहकअपना वॉलेट अकाउंटतभी बंद कर सकतेहैंजबउनके खाते में जीरो बैलेंस हो। इस संदर्भ में पीएनबी ने कहा है किअगर आपके खाते में पैसे हैं,तो आपको या तो उसे खर्च करना होगा, या आईएमपीएस के जरिए उसे किसीअन्य खाते में ट्रांसफर करना होगा।
 🌻💐🌹🌲🌱💮🌳
💐(A/2)काम ना आई मोदी की अपील रिलायंस ने वेतन में 50 फीसदी तक कर दी कटौती, मुकेश अंबानी भी नहीं लेंगे सालभर सैलरी।💐
रिलायंस कंपनी के ज्यादातर कर्मचारियों के वेतन में कटौती करने का फैसलाकिया 
गया है, ये कटौती पे ग्रेड के अनुसार 10 से 50 फीसदी तक की जायेगी…
जनज्वार। कोरोना की भयावहता के बीच आर्थिकीपर गहरा असर पड़ा है।इससंकट
का असर प्रधानमंत्री मोदी के खासमखास मानेजानेवालेरिलायंस इंडस्ट्रीजकेमालिक
मुकेश अंबानी के तमाम कारोबारों परभी हुआ है।कारोबार पर इस संकट का असर इतना गहरा पड़ा है कि मुकेश अंबानी ने अपना पूरेसाल का वेतनछोड़ने काफैसला
किया है।साथ ही कंपनी के ज्यादातर कर्म
चारियों के वेतन में भारी कटौती करने की बात सामने आ रही है।भारत में कोरोना 
वायरस कीभयावहता के बीच संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए 25 मार्च से देश
व्यापी लॉकडाउनजारी है, जिसको1महीने 
से भी ज्यादा वक्त हो चुका है। इस बीच दिहाड़ी मजदूर और प्रवासियों की हालत तो सोशल मीडिया के माध्यम से सामने आ ही रही है, अब इसका असर बड़े कारो
बारियों परभी पड़ने लगा है।ये बात अलग
है कि भगौड़ों और पूंजीपतियों का हजारों हजार करोड़ हमारी मोदी सरकार ने इसी बीच माफ किया है।लॉकडाउन की वजह
से पिछलेसवाल महीने सेभी ज्यादा समय से तमाम उद्योग-धंधे और कारोबार पूरी तरह से बंद पड़े हुए हैं। न सिर्फ मजदूरों, बल्कि उद्योगपतियों पर भी इसका गहरा असर हुआ है। अब तक कई छोटे और मझोले उद्योगों के लॉकडाउन के चलते संकट में आनेकी खबरआ चुकी हैं,लेकिन 
अब इस संकट का असर देश के सबसे अमीर आदमी और रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी पर भी पड़ने की खबर सामने आ रही है।मीडिया मेंआ रही 
खबरों केमुताबिक कोरोनासंकट काअसर रिलायंस इंडस्ट्रीज के तमाम कारोबारों पर गहरेहुआ है।लॉकडाउन के चलतेकंपनियों
को हो रहा नुकसान इतना ज्यादा है कि कंपनी के प्रमुख मुकेश अंबानी ने पूरेसाल
भर वेतन न लेने का फैसला कियाहै।लोगों
की नजर में खुद एक आदर्श कायम कर यानी एक सालकीसेलरी छोड़नेका निर्णय
लेकर मुकेशअंबानी ने सबका मुंह भी बंद करवानका काम किया हैज्यादातरमीडिया 
उनकी वाहवाही कर रही है,मगर उन मज
दूरों-कर्मचारियों का क्या जिनकी कमाई पूरे महीनेभरका खर्च चलाने के लिए न्यून
तम होती थीऔरअब कटौती के बादउनके
सामनेएकबड़ा संकट खड़ा होगाजानकारी
के मुताबिक रिलायंस कंपनी के ज्यादातर कर्मचारियों के वेतन में कटौती करने का फैसला किया गया है। ये कटौती पे ग्रेड के अनुसार 10 से 50 % तक की जायेगी
       गौरतलब है कि मुकेश अंबानी का सालाना वेतन 15 करोड़ रुपये है,जिसे उन्होंनेलॉकडाउन से आई मंदी के चलते छोड़नेका फैसला किया हैकंपनी के कार्य
कारीनिदेशक,कार्यकारी समिति केसदस्यों
समेतरिलायंस केनिदेशक मंडल कसदस्यों
के वेतन मेंभी30 से 50 %तक कीकटौती
का फैसला लिया गया है।रिलायंस कंपनी
में जिन कर्मचारियों का पैकेज 15 लाख रुपये से कम हैउनके वेतन में कोईकटौती
 नहीं करने की बात प्रबंधन की तरफ से कही जा रही है,मगरयह अभी बहुत ठीक.
-ठीक नहीं कहा जा सकता, क्योंकि इसे लेकर कर्मचारी ही आशंकित हैं। लॉकडाउन के चलते कंपनी ने कर्मचारियों का सालाना बोनस भी कंपनी प्रबंधन ने टाल दिया है। गौरतलब है कि रिलायंस में हरवित्तवर्ष कीपहली तिमाहीमेंकर्मचारियो
को बोनस मिलता था।रिफाइनरी से लेकर
दूरसंचार क्षेत्र तक के कारोबारपर काबिज 
रिलायंस इंडस्ट्रीज का रिफाइनरीकारोबार 
इस संकट से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। रिफाइनरी कंपनी की कई इकाइयों के प्रमुखों ने कर्मचारियों को भेजे गए वेतन कटौतीके संदेश में कहा हैकि हमारेहाइड्रो
कार्बन कारोबार पर काफी दबाव है। हमें अपनी लागत को युक्तिसंगत बनाना होगा और इसके लिए हम सभी क्षेत्रों में लागत में कटौती कर रहे हैं। वर्तमान हालात की मांग है किहमअपनी तमाम को युक्तिसंगत बनाएंऔरइसके लिए सभी को इसमें योग
दान करने की जरूरत है। कंपनी लगातार आर्थिकऔर कारोबारी हालात कीसमीक्षा 
करेगी और अपनी आय बढ़ाने के जरिये तलाशेगी।’कंपनी प्रबंधन ने जो बयान दिया है उसकेमुताबिक,रिफाइंड प्रोडक्ट्स
और पेट्रोकेमिकल की डिमांड कम होने के कारण इसके हाइड्रोकार्बन बिजनेस पर बहुत बुरा असर पड़ा है। लिहाजा इस बिजनेस पर दबाव बढ़ गया है जिसकी वजह से कॉस्ट कटिंग की जा रही है।”
प्रबंधनकेमुताबिक,हाइड्रोकार्बनडिविजनमें जिनकी सैलरी सालाना 15 लाख रुपए से कम है उनके वेतन में कोई कटौती नहीं होगी। हालांकि जिनकी सैलरी 15 लाख रुपए से ज्यादा है, उनकी फिक्स्ड सैलरी में 10 % की कमी की जाएगी।एनुअल बोनस और परफॉर्मेंस लिंक्ड इनसेंटिव्स जोआमतौर पर पहली तिमाही में दीजाती है,उसे अब टाल दिया गया है।
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳
💐(A/3)'ठाकुर' से लेकर 'टिंगू जी' तक ये 10 साथी कलाकार छोड़ चुके अमिताभ बच्चन का साथ,💐  
पिछली सदी के महानायक अमिताभ बच्चन उन कुछ अभिनेताओं में से एक हैं जिन्होंने हिंदी सिनेमा को पांच दशक से ज्यादा का समय दिया है। उनके कई करीबी दोस्तों ने अब तक उनके फिल्मी सफर में उनका साथ छोड़ दिया है जिसमें बीते बृहस्पतिवार को गुजरे अभिनेता ऋषि कपूर भी शामिल हो गए हैं। अमिताभ ने बहुत सी मल्टीस्टारर फिल्मों में काम किया है जिनमें उनके कुछ अजीज दोस्त उनके साथ नजर आए। आज हम आपको बताते हैं कि अमिताभ बच्चन के साथ काम करने वाले वे कौन से बड़े अभिनेता रहे जो अब इस दुनिया का हिस्सा नहीं हैं। 
💐 (1).संजीव कुमार💐
अमिताभ बच्चन और संजीव कुमार की फिल्में तो आज की पीढ़ी ने भी बहुत देखी होंगी। इन दोनों महान कलाकारों ने एक साथ त्रिशूल, ईमान धर्म, फरार, शोले, खुद्दार जैसी तमाम फिल्मों में काम किया। संजीव कुमार का जन्म 9 जुलाई 1938 को सूरत में हुआ था। यह एक ऐसे कलाकार थे जिन्होंने रोमांटिक, ड्रामा और थ्रिलर से लेकर लगभग सभी जॉनर की फिल्मों में काम किया। उन्हें अपनी उम्र से ऊंचे किरदार निभाने में कोई दिक्कत नहीं थी। 6 नवंबर 1985 को उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।
     💐(2)अमजद खान💐
अमजद खान ने हिंदी सिनेमा को अपनी महानकलाकारी के लगभग 20 सालदिए। उनकीअमिताभ बच्चनके साथबहुत गहरी
दोस्ती थी और बाद के दिनों में थोड़ी बहुत खटपट भी दोनों में हुई। इन दोनों ने एक साथ शोले,याराना,सत्ते पे सत्ता,लावारिस, द ग्रेट गैंबलर जैसी कई बेहतरीन फिल्मों में काम किया।अमजद खान का जन्म12 नवंबर1940 कोपाकिस्तान के पेशावर शहर में हुआ था। उन्होंने मात्र 52वर्ष की आयु में22 जुलाई1992 को हीइसदुनिया
को  अलविदा कह दिया।
      💐(3)अशोक कुमार💐
अशोक कुमार का जन्म 13 अक्टूबर 1911 में हुआ था और वह 1936 से ही हिंदी सिनेमा में सक्रिय हो गए थे। इसके बाद लगातार काम करते-करते उन्होंने हिंदी सिनेमा को छह दशक तकसुशोभित 
किया। इसी बीच उन्होंने और अमिताभ बच्चन ने'मिली', छोटी सी बातऔर महान' जैसी कुछ शानदार फिल्मों में कामकिया। अमिताभ ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वह जितने अच्छे अभिनेता थे, उतने ही अच्छे एक डॉक्टर भी थे। वह देख कर ही लोगों की मर्ज बता दिया करते थे।अशोक कुमार का निधन 10 दिसंबर 2001 को मुंबई में हुआ।
         💐(4)सुनील दत्त💐
सुनील दत्त भी अमिताभ बच्चन के गहरे मित्रों मेंसे एक रहे।सुनील का जन्म 6 जून 1929कोपंजाब मेंहुआउन्होंनेहिंदीसिनेमा
में अभिनय की शुरुआत 1955 में आई फिल्म 'रेलवे प्लेटफार्म' से की थी। उसके बाद वह लगातारफिल्मों में काम करते रहे और लगभग पांच दशक से ज्यादा तक फिल्मों में सक्रिय रहे। हालांकि बीच में उन्होंने 10 साल तक आराम भी किया। इसी बीच उन्होंने और अमिताभ बच्चन ने शान जैसबड़ीफिल्म में काम किया।सुनील
दत्त ने अमिताभ बच्चन को अपनी फिल्म रेशमाऔर शेरा में भी मौका दिया था। 25 मई 2005 कोउनका हार्ट अटैक केकारण अपने घर पर ही निधन हो गया।
      💐(5)शम्मी कपूर💐
शम्मी कपूर का जन्म 21 अक्टूबर 1931 को मुंबई में हुआ था। शम्मी कपूर भले ही कपूर खानदान का हिस्सा रहे लेकिन सिनेमा में इनकी शुरुआत काफी लेट हुई। इन्हें अपनी डेब्यू फिल्म 'जीवन ज्योति' 1953 में जाकर मिली। शम्मी कपूर ने अमिताभ बच्चन के साथ कई फिल्मों में काम किया जिनमें से बटवारा, परवरिश, देश प्रेमी, अजूबा और जमीर मुख्य हैं। 14 अगस्त 2011 को शम्मी कपूर इस दुनिया को छोड़ कर चले गए।
      💐(6)राजेश खन्ना💐
अमिताभ बच्चन और राजेश खन्ना में कोई गहरी दोस्ती तो नहीं थी लेकिन इन दोनों ने आनंद, नमक हराम, बावर्ची जैसी कुछ फिल्मों में एक साथ काम जरूर किया। कहा जाता है कि राजेश खन्ना को अमिताभ बच्चन कभी पसंद नहीं थे। उन्हें अंदेशा हो गया था कि अमिताभ बच्चन अगर सिनेमा में आगे बढ़ गए तो उन्हें अपनी सुपरस्टार की कुर्सी को छोड़ना पड़ेगा। हुआ भी कुछ ऐसा ही। 18 जुलाई 2012 को हिंदी सिनेमा के पहले सुपरस्टार ने इस दुनिया को छोड़ दिया।
           💐 (7) प्राण 💐
प्राण औरअमिताभ बच्चन की गहरीदोस्ती आखिर क्यों ना होती?ये दोनों शुरुआत से ही एकदूसरे के साथ रहे।अमिताभ बच्चन को जब अपनी पहली हिट फिल्म 'जंजीर' मिली तोउसमेंभी प्राण नेअमिताभ केसाथ
बेहतरीन काम किया। बाद में यह दोनों एक साथनास्तिक,गंगा की सौगंध,मजबूर, दोस्ताना,अंधाकानून,कालिया,कसौटीडॉन जैसी कई फिल्मों में नजर आए। प्राण का जन्म12 फरवरी 1920 को दिल्ली मेंहुआ था।उन्होंनेअपनेफिल्म करियरकीशुरुआत 
40 के दशक में की थी औरउनकाकरियर
 सफलतापूर्वक छह दशक से भी ज्यादा चला। 12 जुलाई 2013 को इन्होंने 93 साल की उम्र में दुनिया छोड़ दी।
       💐(8)विनोद खन्ना💐
विनोद खन्ना ने भी 27 अप्रैल 2017 यानी अब से तीन साल पहले ही इस दुनिया को छोड़ा है। अमिताभ बच्चन और विनोद खन्ना के बीच गहरी मित्रता थी। उन्होंने एक साथ परवरिश, रेशमा और शेरा, मुकद्दर का सिकंदर, खून पसीना, जमीर, हेरा फेरी, अमर अकबर एंथनी, जैसी बेहतरीन फिल्मों में काम किया। विनोद खन्ना ने अपने करियर की शुरुआत 1969 में आई फिल्म 'मन का मीत' से की थी। फिल्मी दुनिया में उनका सफर शाहरुख खान की 2015 में रिलीज हुई फिल्म 'दिलवाले' तक चला।
          💐(9)शशि कपूर💐
अमिताभ बच्चन जिस एक अभिनेता के सबसे बड़े फैन हुआ करते थे, वे थे शशि कपूर। इनका जन्म 18 मार्च 1938 को कोलकाता में हुआ था और अपने जन्म के सात साल बाद ही शशि फिल्मों में बाल कलाकार के रूप में सक्रिय हो गए थे। बचपन में ही पर्दे पर कलाकारी शुरू कर देने के कारण शशि ने हिंदी सिनेमा में पांच दशक तक सफलतापूर्वक काम किया। इसी बीच उन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ सुहाग, त्रिशूल, रोटी कपड़ा और मकान, दीवार, नमक हलाल, दो और दो पांच, काला पत्थर, शान जैसी 10 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया। लंबी बीमारी के चलते 4 दिसंबर 2017 में शशि कपूर ने मुंबई के कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में अपना दम तोड़ दिया।
      💐 (10)ऋषि कपूर💐
अमिताभ और ऋषि कीजोड़ी उनजोड़ियों
में से एक है जिन्होंने 20वीं सदी मेंतोसाथ काम किया ही,इसकेअलावा येदोनों21वीं सदी में भीएक साथ फिल्मों मेंनजर आए। ऋषि की मृत्यु ऐसे समय पर हुई जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस से जूझ रही है। इस संकट की घड़ी में उनके करीबी दोस्त अमिताभ बच्चन उन्हें अस्पताल में देखने भी नहीं जा पाए। अमिताभ बच्चन को इस बात का बहुत अफसोस है।ये दोनों अमरअकबर एंथनी,अजूबा, कुली,नसीब, 102 नॉट आउट के अलावा कुछऔर फिल्मों में भी एक साथ नजर आए। ऋषि कपूर के निधनकीसार्वजनिक सूचनाअमि
ताभ बच्चन को ही 30 अप्रैल 2020 को जगजाहिर करनी पड़ी।
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳
💐(A/4)'रामायण' बना दुनिया में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला कार्यक्रम, 33 वर्ष बाद बनाया यह वर्ल्ड रिकॉर्ड।💐
दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले 'रामायण'  को रिलीज हुए 33 वर्ष हो चुके हैं लेकिन कार्यक्रम ने  इस  बार टीवी की दुनिया में धमाल मचाकर रख दिया है।इतनाहीनहीं, 
रामायण का रिटेलीकास्ट दुनिया में सबसे ज्यादा देखे जाने वाला कार्यक्रम बन चुका है.
'💐रामायण' (Ramayan) ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड💐
           💐खास बातें💐
'💐रामायण' ने विश्वस्तर पर बनाया रिकॉर्ड💐
💐विश्व में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला कार्यक्रम बना 'रामायण'💐
'💐रामायण' ने दर्ज की 7.7 करोड़ की व्यूअरशिप💐
नई दिल्‍ली:दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले 'रामायण' को रिलीज हुए 33 वर्ष हो चुके हैं लेकिन कार्यक्रम ने  इस बार  टीवी की दुनिया में धमाल मचाकर रख दिया है।. इतना ही नहीं,रामायण का रि-टेलीकास्ट दुनियामेंसबसे ज्यादा देखेजानेवाला कार्य
क्रम बन चुका है।इस बात की जानकारी खुद दूरदर्शन नेअपनेट्वीट केजरिए दी है. इसकेसाथ ही रामानंद सागर की रामायण ने 33 वर्षबाद भी बीते16 अप्रैल को 7.7 करोड़ की व्यूवरशिप दर्ज की है।रामायण कोलेकर दूरदर्शन का यह ट्वीट खूब सुर्खियां बटोर रहा है,साथ ही दर्शक इस
पर खूब कमेंट भी कर रहे हैं. 
     💐डीडी इंडिया का ट्वीट💐  'रामायण' के रिकॉर्ड दर्ज करने की जान
कारी देते हुए लिखा,दूरदर्शन पर रामायण के रिब्रॉडकास्ट ने विश्वस्तर पर व्यूवरशिप के जरिएरिकॉर्ड कायम किया है.यह कार्य
क्रम 16 अप्रैल को 7.7 करोड़ दर्शकों के साथ वैश्विक स्तर पर सबसे ज्यादा देखे जाने वाला शो बन चुका है."बता दें कि रामायण का प्रसारण दूरदर्शन पर पहली बार 1987 में हुआ था।. इस कार्यक्रम में अरुण गोविल ने राम की भूमिका, सुनील लहरी ने लक्ष्मण की भूमिका और दीपिका चिखलियाने सीता कीभूमिकाअदा कीथी. वहीं, कार्यक्रम में रावण का रोल अरविंद त्रिवेदी ने निभाया था। रामानंद सागर की 'रामायण' ने पहले प्रसारन के समय ऐसा करिश्मा कायम किया था,जिसकी चर्चा आज भी होती है। इस सीरियल के आने के दौरानलोग टीवी के सामने बैठ जाते थे और सड़के एवं गलियां सुनसान हो जाती थी।कई लोगश्रद्धा के कारणहाथ जोड़कर शो को देखते थे।लोग सीरीयल में काम करने वाले कलाकार अरुण गोविल(राम), दीपिका(सीता)कोभगवान की तरह पूजते
थे. इस धारावाहिक में दारा सिंह हनुमान की भूमिका में थे।
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳
💐(A/4-1)चाणक्य नीति: इन 5 लोगों के पास कभी नहीं रुकता पैसा, बचाने के लिए करें ये उपाय।💐
चाणक्य नीति आनंद से भरे जीवन के लिए पैसे का होना आवश्यक है. लेकिन वर्तमान में कई लोग पैसा खूब कमाते हैं फिर भी उनके पास लक्ष्मी का ठहराव नहीं होता. चाणक्य अपने नीति शास्त्र में उन लोगों के बारे में बताते हैं जिनके पास कभी पैसा नहीं रुकता, जिनके पास लक्ष्मी नहीं ठहरती. आइए जानते हैं उन लोगों के बारे में।
    💐 1.कड़वा वचन बोलने वाले💐
 चाणक्य अपने नीति शास्त्र में कहते हैं कि कड़वा वचन बोलने वाले  इंसान के पास पैसा नहीं रुक पाता. सत्य और मीठा बोलने वाले व्यक्ति पर लक्ष्मी की कृपा होती है. कहा भी गया है कि 'मीठी वाणी बोलिए मन का आपा खोए...' व्यक्ति को जहां तक हो सके मीठी वाणी ही बोलनी चाहिए।.
  💐2.जरूरत से ज्यादा खाना खाने💐
    जरूरत से ज्यादा खाना खाने वाला व्यक्ति भी पैसे को लेकर परेशान रहता है. लक्ष्मी को ऐसे लोग नहीं भाते जो ज्यादा भोजन करते हैं. इसलिए मनुष्य को जरूरत भर खाना चाहिए।
   💐3.गंदगी रखने वालो के पास💐
 चाणक्य नीति में कहा गया है कि अगर लिबास मैला हो तो लक्ष्मी भी दूर रहती है. गंदा रहने वाले इंसान के पास पैसा नहीं रुकता. गरीब इंसान भी अगर साफ रहता है तो उसके पास लक्ष्मी का ठहराव होता है।
   💐4.सूर्योदय व सूर्यास्त के बीच सोने    
      वालों के पास लक्ष्मी नही रहती 💐
सोनेके लिए रात केसमय को सबसेउचित 
माना गया है।चाणक्य के मुताबिक दिन निकलने केबादयानी सूर्योदयऔर सूर्यास्त के बीच के समय में सोने वाले इंसान के पास पैसा नहीं रुकता,उनके पास  लक्ष्मी नहीं ठहरती.
 💐5.मैले दांत वाले व्यक्तियों के पास लक्ष्मी नहीं ठहरती💐
 लक्ष्मी के ठहरने के संदर्भ में चाणक्य नीति में मैले दांत वाले व्यक्ति का भी जिक्र किया गया है. चाणक्य के मुताबिक मैले दांत वाले लोगों के पास भी लक्ष्मी नहीं ठहरती।.
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳🌺
   (B) आज के दिन जन्मे                             
                जीवन परिचय  लेख. 
     वेंङालिल कृष्णन कृष्ण मेनोन 
3 मई 1896 - 6 अक्टूबर 1974),
जिन्हें सामान्यतःकृष्ण मेनोन कहाजाता है
,एकभारतीयराष्ट्रवादी,राजनीतिज्ञ,कूटनीतिज्ञ,तथा सन्1957 से 1962तक भारत
 के रक्षा मंत्री थे।
     💐 वी के कृष्ण मेनन💐
   💐भारत के रक्षा मंत्री💐
पद बहाल:- 1957 – 1962
                💐सांसद💐
पद बहाल-. 1957 – 1974
जन्म:-.       03 मई 1896
जन्म स्थान;-कालीकट, ब्रिटिश भारत
मृत्यु;-       6 अक्टूबर 1974 (उम्र 78)
मृत्युस्थल;- दिल्ली, भारत राष्ट्रीयता;- भारतीय
राजनीतिक दल;-भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
जीवनसंगी;-अविवाहित 
स्रोत;-        भारतीय संसद
 💐प्रारंभिक जीवन और शिक्ष
मेनन का जन्म कोजीकोड,केरल में पन्नि
-यंकरा में ब्रिटिश मालाबार के वेंगालिल परिवार में हुआ था। उनकी माता 1815 से 1817 के दौरान त्रावणकोर के दीवान रहे रमन मेनन की पौत्री थीं व गौरी पार्वती बाई कीसेवाकरती थीं।उनके पिताकोमाथु 
कृष्ण कुरुप कदाथनाडु के राजा के पुत्र थे और एकधनी तथा प्रभावशालीवकील थे। मेनन कीप्रारंभिकशिक्षा थालास्सेरी में हुई व बी.ए.कीउपाधि उन्होंनेचेन्नईकेप्रेसीडेंसी
कॉलेज से प्राप्त की थी।
मद्रास लॉ कॉलेज में अध्ययन के दौरान वे ब्रह्मविद्या में शामिल हो गए थेऔर सक्रिय रूप से एनीबीसेंट तथा होमरूलआंदोलन के साथ संबद्ध रहे.वे एनी बीसेंट, जिन्होंने उनकी प्रतिभा को पहचाना और 1924में
इंगलैंड की यात्रा करने में उनकी सहायता की थी के द्वारा स्थापित'ब्रदर्सऑफसर्विस' के अग्रणी सदस्य थे।
जीवन और इंग्लैंड में गतिविधियांसंपादित करें लंदन में, मेनन नेआगे की शिक्षालंदन 
स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्सतथा यूनिवर्सिटी
कॉलेज, लंदन में पूर्ण की और इसी समय में वे भारत की स्वतंत्रता के अति भावुक समर्थक बन गए।
इंग्लैंड में, उन्होंने एक पत्रकार औरइंडिया 
लीग के सचिव (1929-1947) के रूप में कार्य किया और साथीभारतीय राष्ट्र
वादी नेता जवाहरलाल नेहरू से जुड़ गए। 1934 में उन्हें अंग्रेजी बार में शामिल कर लिया गया और लेबर पार्टी में शामिल होने के बाद वे सेंट पैंक्रास,लंदन के नगरपार्षद
 चुने गए। बाद में सेंट पैंक्रास द्वारा उन्हें फ्रीडम ऑफ बरो सेसम्मानित किया गया, यह सम्मान पाने वाले बर्नार्ड शॉ के बाद वे मात्र दूसरे व्यक्ति थे।1932में उन्होंने लेबर
 सांसद एलन विल्किंसन के नेतृत्व में एक तथ्य-खोज प्रतिनिधिमंडल को भारत की यात्रा के लिए प्रेरित किया था।मेनन इसके सचिव थेऔरउन्होंने भारतमेंपरिस्थितियां' शीर्षक वाली इसकी रिपोर्ट का संपादन किया था।तीस के दशक के दौरान उन्होंने एलेन लेन के साथ पेंगुइन और पेलिकन पेपर बैक पुस्तकों की स्थापना की थी। उन्होंनेबोडली प्रमुख,पेंगुइन और पेलिकन
बुक्स तथा ट्वंटीयथ सेंचुरी लाइब्रेरी में संपादक के रूप में काम किया था।
   💐कूटनीति और विदेशी मामले💐
1947 मेंभारत कोस्वतंत्रता मिलनेकेबाद,
 मेनन को युनाइटेड किंगडम में भारत का उच्चायुक्त नियुक्त किया गया था जिस पद पर वे 1952 तक रहे. ब्रिटेन में उच्चायुक्त के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान उन पर 1948 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान ब्रिटेन से इस्तेमालशुदा सैन्य जीपों को खरीद कर भारतीय सेना को आपूर्ति करने के मामले में भ्रष्टाचार के घोटाले का आरोप लगाया गया था लेकिन कुछ भी साबित नहीं हुआ।इसकेबाद उन्होंनेसंयुक्त
राष्ट्र संघ के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया, जहां उन्होंने अमेरिका
कीतीव्रआलोचनाकरते हुए गुटनिरपेक्षता 
की नीति अपनाई. 23 जनवरी 1957 को उन्होंनेकश्मीर परभारत के रुख का बचाव करते हुए 8 घंटे तक अप्रत्याशित भाषण दिया.कृष्णा मेनन द्वारा दिया गया भाषण
 संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में दिया गया आज तक का सबसे लंबा भाषण है।[1]
             💐 रक्षा मंत्री💐
1953 में कृष्ण मेननराज्य सभाके सदस्य बने।3 फ़रवरी 1956 को,उन्हें केंद्रीयमंत्रि
मंडल में बिना विभाग के मंत्री के रूप में शामिलकिया गया।1957 में वे मुंबई से 
लोक सभा के लिए चुने गए थे और उसी वर्ष अप्रैलमेंउन्हें प्रधानमंत्रीनेहरूकेअधीन
रक्षामंत्री नामित किया गया था। सैनिक स्कूल सोसाइटी जोअभी भारतवर्ष में कुल 24 स्कूल चला रही है, के तत्वावधान में भारत में सैनिक स्कूलों की अवधारणा के पीछे वे ही थे। हालांकि,1962 के भारत
-चीन युद्ध में भारत की हार केबाद उन्होंने देश की सैन्य तैयारियां न होने के कारण अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था। 1967 में वेअपनासंसदीयचुनावहार गएथे,लेकिन
फिर1969मेंमिदनापुरसेपुनःनिर्वाचितहुए. वेतिरुवनंतपुरमसे संसदकेलिए दुबारा चुने गए थे। उनका निधन 6 अक्टूबर 1974 को नई दिल्ली में हुआ था।
वे पद्म विभूषण पुरस्कार पाने वाले पहले मलयाली थे।
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳   
💐 (C) आज के दिनकी महत्त्वपूर्ण घटनाएँ 💐
1919 - अमानुल्ला खान द्वारा ब्रिटिश भारत पर आक्रमण।
1998 - 'यूरो' को यूरोपीय मुद्रा के रूप में स्वीकार करने का यूरोपीय नेताओं का ऐतिहासिक फैसला।
 2002 - अमेरिकी मीडिया ने परवेज मुशर्रफ़ के जनमत संग्रह को 'शर्मनाक जनमत संग्रह' बताया।
 2003 - आस्ट्रेलिया के स्टीव वॉ टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज बने।
 2004 - वेस्टइंडीज ने छठे एक दिवसीय मैच में इंग्लैंड को चार विकेट से परास्त किया।
2006 - पाकिस्तान और ईरान ने 3 देशों की गैस पाइप लाइन परियोजना से भारत को अलग करने के उद्देश्य से द्विपक्षीय गैस पाइप लाइन करार पर दस्तखत किए। शिक्षाविद कमलेश पटेल को ब्रिटेन के हाउस आफ़ लार्ड्स में ग़ैर दलीय पीयर नियुक्त किया गया।
 2008 - टाटा स्टील लिमिटेड को ब्रिटेन में कोयला खनन करने का पहला लाइसेंस प्राप्त हुआ। पाकिस्तानी जेल में सज़ा काट रहे भारतीय क़ैदी सरबजीत सिंह की फाँसी की सज़ा अनिश्चित समय तक टाली गई। नेपाली प्रधानमंत्री गिरिजा प्रसाद कोइराला संविधान सभा के लिए चुने गये। दक्षिणी चिली के लास लगासे क्षेत्र में हज़ारों साल से निष्क्रिय पड़ा एक ज्वालामुखी फटा। 
2016- 63वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्‍कारों की घोषणा; मनोज कुमार, अमिताभ बच्चन और कंगना रानौत हुए सम्मानित।
 🌻💐🌹🌲🌱💮🌳🌺        
  💐(D)आज के दिन जन्मे प्रमुख   व्यक्तित्व💐
1896 - वी. के. कृष्ण मेनन - भारतीय राष्ट्रवादी, राजनीतिज्ञ,कूटनीतिज्ञ 
 और भारत के पूर्व रक्षा मंत्री। 
1935 - सी. के. जैन - भूतपूर्व लोकसभा       
            महासचिव हैं। 
1930 - सुमित्रा सिंह - राजस्थान की   
            प्रसिद्ध महिला राजनीतिज्ञ। 
1951- अशोकगहलोत प्रसिद्ध
           राजनीतिज्ञ
1955 - उमा भारती - प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ 1955 - रघुवर दास - झारखण्ड के छठवें 
           मुख्यमंत्री 
1977 - मरियम मिर्ज़ाख़ानी - गणित की 
            दुनिया का प्रतिष्ठित सम्मान '       
            फील्ड्स मेडल' पाने वाली पहली 
            महिला गणितज्ञ थीं।
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳
  (E) आज के दिन निधन हुए प्रमुख  व्यक्तित्व
1969 - डाक्टर ज़ाकिर हुसैन - भारत के 
            तीसरे राष्ट्रपति 
1981 - नर्गिस - भारतीय सिनेमा की 
            प्रसिद्ध अभिनेत्री
2005 - जगजीत सिंह अरोड़ा, भारतीय 
            सेना के कमांडर
2006 - प्रमोद महाजन - भारत के   
            राजनीतिज्ञ। 
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳🌺🥀🌼🌻
💐(F)आज के दिन/उत्सव का नाम💐
    अंतरराष्ट्रीय प्रेस स्वतंत्रता दिवस
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌲🌹💐💐🌻
 आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐