रतलाम में कोरोना का पहला मरीज, मौत के बाद परिजनों ने गुपचुप दफनाया शव

      रतलाम। इंदौर के एमवाय अस्पताल में मौत के बाद शनिवार को हाट की चौकी कब्रिस्तान में दफनाए गए एक बुजुर्ग की रिपोर्ट बुधवार को कोरोना पॉजिटिव आने के बाद शहर में हड़कंप मच गया है। लापरवाही यह रही कि कोरोना संदिग्ध होने के बाद एमवाय अस्पताल प्रबंधन ने शव को परिवार को दे दिया।


      परिजनों ने प्रशासन को चकमा देकर दफ़नाया शव - परिजन जानकारी छुपाते हुए तमाम सरकारी इंतजाम को चकमा देकर एंबुलेंस से शव लेकर रतलाम पहुंच गए और दफना दिया। इसके बाद हरकत में आए प्रशासन ने पहले तो ताबड़तोड़ लोहार रोड सील कर दिया। परिवार सहित जनाजे में शामिल सभी 28 व अन्य लोगों पर प्रकरण दर्ज कर लिया। देर रात तक इन सभी के साथ इनके संपर्क में आए 50 लोगों को मेडिकल कॉलेज में क्वारेंटाइन किया जा चुका है। इसके अलावा भी स्वास्थ्य विभाग अन्य की तलाश कर रहा है।


      रतलाम के मूल निवासी बुजुर्ग सालभर से इंदौर में रह रहे थे। किडनी की बीमारी के कारण उन्हें एमवाय अस्पताल में भर्ती किया गया था। वहां कोरोना संक्रमण के लक्षण सामने आने के बाद 4 अप्रैल को उनकी मौत हो गई थी।


Comments