प्राइवेट डॉक्टर चला सकेंगे अपना क्लिनिक, सोशल डिस्टेंसिंग का करना होगा पालन

  • प्रायवेट डॉक्टर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए क्लिनिक चला सकेंगे –कमिश्नर

  • सभी बैंक प्रात: 10 बजे से 4 बजे तक खोले जायेंगे

  • गांवों के व्यापारी शहर आकर लोडर वाहन से माल उठा सकेंगे



      उज्जैन। उज्जैन संभाग कमिश्नर आनन्द कुमार शर्मा ने सोमवार को आयोजित बैठक में कोरोना वायरस को लेकर और ज्यादा जन-जागृति अभियान चलाने के निर्देश दिये और कहा कि  अभी भी लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का महत्व बताने की आवश्यकता है। उन्होंने बैठक में सर्दी, खांसी एवं जुकाम के बढ़ते मरीजों को देखते हुए उन्हें उपचार की सुविधा प्रदान करने के निर्देश दिये और कहा कि प्रायवेट डॉक्टर अपने प्रायवेट क्लिनिक में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए क्लिनिक चला सकेंगे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी प्रायवेट चिकित्सकों को भी एन-95 मास्क उपलब्ध करायें। कमिश्नर ने निर्देश दिये कि लॉकडाउन की अवधि के दौरान लोगों को पैसों की आवश्यकता है। इसको दृष्टिगत रखते हुए सभी बैंक प्रात: 10 बजे से सायं 4 बजे तक खोले जायेंगे। बैंक में सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन कराया जायेगा। कमिश्नर ने निर्देश दिये कि जो इलाके कंटेनमेंट घोषित हो चुके हैं, वहां बैंक बन्द रहेंगे। कंटेनमेंट एरिया में बैंक अपने बीसी के द्वारा लोगों को पेंशन एवं अन्य राशि उपलब्ध करायेंगे। बीसी के सम्बन्ध में कमिश्नर ने निर्देश दिये कि बीसी को एक वाहन उपलब्ध कराया जायेगा। वाहन के माध्यम से कंटेनमेंट इलाके में एनाउंसमेंट किया जायेगा, ताकि लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पैसे प्राप्त कर सकें। कमिश्नर ने एलडीएम को निर्देश दिये कि जिले के सभी एटीएम लगातार चालू रहे। कोई भी एटीएम बन्द न रहे। आवश्यकता पड़ने पर लोग एटीएम से राशि निकाल सकेंगे।
      कमिश्नर ने निर्देश दिये कि गांवों के व्यापारी अपने लोडर वाहन से शहर आकर आवश्यक वस्तुओं एवं माल का उठाव कर सकेंगे। इसके लिये इन व्यापारियों को परमिट किया जायेगा। कॉर्डिनेशन के लिये दो एएसओ भी नियुक्त किये जायेंगे। उल्लेखनीय है कि कमिश्नर को अवगत कराया गया था कि अब गांव में भी आवश्यक किराना वस्तुओं की कमी परिलक्षित हो रही है। कमिश्नर ने अपर कलेक्टर श्री क्षितिज सिंघल को निर्देश दिये कि वे आईएमए के अध्यक्ष से बात कर सर्दी, खांसी के विशेष चिकित्सकों को बुलायें, ताकि कंटेनमेंट एरिया में जाकर उक्त चिकित्सक सर्दी, खांसी एवं जुकाम का उपचार कर सकें। कमिश्नर ने कहा कि कोरोना वायरस से सावधानी बरतने की आवश्यकता है। इसके लिये सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य है। जिन परिवारों में कोरोना वायरस के लक्षण पाये गये हैं, वे होम क्वारेंटाईन हैं। इस दौरान उन्हें समझाईश दी गई है कि वे आवश्यक साफ-सफाई का ध्यान रखें, लोगों से न मिलें एवं आवश्यक दूरी बनाकर रखें। ऐसे परिवारों के पड़ौसियों की भी विशेष स्वास्थ्य निगरानी की जा रही है। कमिश्नर ने आयुक्त नगर निगम को निर्देश दिये कि वे कोरोना वायरस के प्रति और ज्यादा सावधानी बरतने के लिये पेम्पलेट छपवाकर एवं ऑडियो मैसेज द्वारा इसका पर्याप्त प्रचार-प्रसार करायें।
कमिश्नर ने बताया कि बड़े कंटेनमेंट एरिया में छोटे-छोटे कंटेनमेंट बनाकर लोगों के सेम्पल लिये जा रहे हैं। उद्देश्य यह है कि अब जो भी व्यक्ति कोरोना से प्रभावित होगा, उसकी जानकारी तत्काल मिल जाये। उन्होंने बताया कि पीपीई किट की मांग लगातार आ रही थी। इसके चलते पीपीई किट की संख्या बढ़ाई जा रही है। अब आरडी गार्डी अस्पताल में भी सेम्पलिंग कराई जायेगी। पहले चरण में 200 से 300 सामान्य सर्दी-जुकाम से पीड़ित लोगों के सेम्पल लेकर जल्द ही जांच के लिये भेजा जायेगा, ताकि समय रहते प्रभावितों की जानकारी सामने आ सके और उनका उपचार संभव हो सके। अपर कलेक्टर श्रीमती बिदिशा मुखर्जी ने बताया कि लगभग 1250 व्यक्तियों में सामान्य सर्दी-खांसी के लक्षण दिखाई दिये थे, जिन्हें होम क्वारेंटाईन कराया गया है। ओल्ड सिटी ज्यादा प्रभावित है।
      कमिश्नर श्री शर्मा ने निर्देश दिये कि सब्जी मंडी में प्रात:काल अनावाश्यक भीड़ न हो, इस हेतु मंडी सचिव अपने कर्मचारियों की ड्यूटी लगायें। उन्होंने आयुक्त नगर निगम को निर्देश दिये कि हर चार से पांच दिन में सब्जी वालों की भी टेस्टिंग की जाये। उन्हें साबुन एवं सेनीटाइजर प्रदान किया जाये तथा उन्हें समझाईश दी जाये कि सब्जी बेचते समय वे सार्वजनिक नल या हैण्ड पम्प से हाथ धोते रहें। कमिश्नर ने माधव नगर अस्पताल में आऊटसोर्स से लगे कर्मचारियों को विगत दो माह से वेतन न दिये जाने को गंभीरता से लेते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिये कि वे तत्काल कर्मचारियों को वेतन दिलाना सुनिश्चित करें। बताया गया कि पीडीएस के राशन की भी होम डिलेवरी घर-घर करवाई जा रही है। प्रत्येक डिलेवरी के पश्चात कर्मचारी अपने आप को सेनीटाइज करते हैं। कमिश्नर ने सफाईकर्मियों एवं पुलिसकर्मियों का भी रेगुलर चैकअप कराने के निर्देश दिये।
      बैठक में पुलिस महानिरीक्षक श्री राकेश गुप्ता, कलेक्टर श्री शशांक मिश्र एवं पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर ने भी अपने सुझाव दिये। बैठक में अपर कलेक्टर श्री आरपी तिवारी, श्री जीएस डाबर, श्री क्षितिज सिंघल एवं श्री एसएस रावत सहित सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।