किसानों को एसएमएस भेजकर होगी गेहूं खरीदी

पंजीकृत किसानों से एसएमएस भेजकर 22 अप्रैल से होगी गेहूं खरीदी


      उज्जैन। विपणन वर्ष 2020-21 में जिले में गेहूं पंजीयन 98749 किसानों ने करवाये है। गेहूं पंजीकृत किसानों से जिले में 22 अप्रैल से एसएमएस भेजकर किसानो से खरीदी प्रारंभ की जा रही है। प्रारंभ में सीमांत एवं छोटे किसानों को एनआईसी भोपाल द्वारा एसएमएस भेजे जा रहे है। 22 अप्रैल को जिले में लगभग एक हजार किसानों को एसएमएस भोपाल से भेजे जायेंगे। समर्थन मूल्य 1925 रूपये प्रति क्विंटल पर पंजीकृत किसानों से एसएमएस भेजकर गेहूं खरीदी की जावेगी। जिले में विगत वर्ष गेहूं उपार्जन के 123 केन्द्र बनाये गये थे, इस वर्ष किसानों की सुविधा को दृष्टिगत रखते हुयें 178 गेहूं उपार्जन केन्द्र बनाये गये है ताकि किसानों से सुविधापूर्वक गेहूं खरीदी नियत समय में पूर्ण की जा सके। 
      कलेक्ट शशांक मिश्र ने जिला उपार्जन समिति एवं समस्त अनुविभागीय अधिकारी राजस्व से वीडियो कांफ्रेन्स के माध्यम से गेहूं खरीदी की आवश्यक तैयारी की समीक्षा की एवं आवश्यक दिशा निर्देश दिये। कलेक्टर द्वारा स्पष्ट एवं सख्त निर्देश दिये गये है कि एसएमएस प्राप्त किसानों को उपार्जन केन्द्र के संस्था प्रबंधक द्वारा किसानों को मोबाईल पर फोन लगाकर एफएक्यू गेहूं उपज लाने के लिये व्यक्तिश: किसानों को सूचना दी जाये। एसएमएस की सूची पंचायत सचिव को भेजकर गांव में पंचायत सचिव, कोटवार द्वारा पृथक से किसानो को एसएमएस दिनांक अनुसार उपज लाने के लिये सूचना प्रतिदिन नियमित दी जाये। खरीदी केन्द्रों पर किसानो को बैठने के लिये छाया टेन्ट, पीने का स्वच्छ पानी मटके, अस्थाई शौचालय, फर्स्ट एड बाक्स आवश्यक दवाईयां, केन्द्र पर पर्याप्त सेनेटाईजर, मास्क की उपलब्धता, हम्माल तुलावटी, किसानो के हाथ धुलाने के लिये पर्याप्त साबून पानी की बाल्टियां, केन्द्र पर संस्था प्रबंधक, प्रशासक, केन्द्र प्रभारी, सर्वेयर स्वयं उपस्थित रहकर एसएमएस प्राप्त किसानो से नियमानुसार शासन निर्देशानुसार खरीदी करायेंगे। खरीदी स्थल गोदाम, मण्डी (उज्जैन, नागदा मण्डी छोडकर) मैदान में 200 मीटर दूरी पर ड्रापगेट बेरीकेडिंग करके किसानों को मास्क सेनिटाईजर, हाथ धुलाकर परिसर में तौल हेतु प्रवेश दिया जावे, किसान का एफएक्यू मात्रा का परिक्षण सर्वेयर द्वारा करने के उपरांत पर्याप्त तौलकांटे हम्माल, सिलाई मशीने, छापा, धागा, टैग की पर्याप्त व्यवस्था कराकर, अविलम्ब तौल किया जाकर, किसान को खरीदी की ऑनलाईन प्रिन्ट रसीद देकर किसान को अपने गंतव्य के लिये भेजा जाये। खरीदी केन्द्र पर सख्ती से सोशल डिस्टेसिंग एवं कोरोना कोविड-19 की गाईड लाईन का पालन सुनिश्चित कराया जावे। उपार्जित स्कंध के स्टेक लगाकर सुरक्षित रखने हेतु पर्याप्त तिरपाल इत्यादि की व्यवस्था की जाये।
      कलेक्टर ने तौलकांटो का, धरम कांटो का नापतौल द्वारा नियमित निरीक्षण करने एवं तौल की किसी प्रकार की गडबडी न करते हुए मानक अनुसार किसानों की जाये। खरीदी केन्द्र पर तौलकांटे के परीक्षण हेतु 50 किलो का सत्यापित बाट रखा जावे एवं प्रातः तौल प्रांरभ के पूर्व किसानों के समक्ष तौलकांटे का 50 किलो के बाट से परीक्षण कर प्रतिदिन मौका पंचनामा बनाकर रिकार्ड संधारित किया जावे। नियुक्त नोडल अधिकारी द्वारा प्रतिदिन केन्द्रों पर उपस्थित रहकर समस्त समस्याओं का निराकरण किया जावे एवं उपस्थिति पंजी में प्रतिदिन उपस्थिति, समय, दिनांक सहित हस्ताक्षर किये जावे। उपार्जित गेहूं का जिला विपणन अधिकारी द्वारा पर्याप्त संख्या में ट्रक वाहन लगाकर यथासमय परिवहन करके सुरक्षित भण्डारण किया जावे। खरीदी केन्द्रों पर पर्याप्त निगरानी, नोडल अधिकारी की उपस्थिति, पुलिस पेट्रोलिंग, स्वास्थ्य चेकअप के लिए टीम भी लगाई जावे। गेहूं उपार्जन केन्द्रों पर ग्राम/नगर सुरक्षा समिति का भी सहयोग लिया जा सकता है। खरीदी केन्द्रों पर किसानों को उपज लाने, विक्रय करने किसी प्रकार की कठिनाई न हो इस हेतु समस्त समुचित कदम उठाये जाये। जिन किसान भाईयों को एसएमएस भेजा गया है एवं यदि वे बीमार है या उन्हे सर्दी/जुकाम है तो उन्हे पंचायत सचिव कोटवार द्वारा केन्द्रों पर उपज नही लाने हेतु समझाईश दी जाये एवं उन्हे पुनः एसएमएस की अन्य तिथि दी जायेगी, इसकी सूचना भी दी जायेगी।
      कलेक्टर द्वारा जिला उपार्जन समिति में यह भी निर्देश दिये गये है कि संबंधित समस्त जिला अधिकारी खरीदी केन्द्रों का जिला स्तर से नियमित एवं संघन निरीक्षण कर गेहूं उपार्जन का कार्य सूचारू रूप से संचालित कराए एवं अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को निर्देश दिये गये है कि अनुविभागीय उपार्जन समिति अनुसार समस्त समस्याओं, विवादों, एफएक्यू इत्यादि का निर्धारण अनुविभाग स्तर पर किया जावे एवं जिला उपार्जन समिति को केवल ऐसे प्रकरण प्रेषित किये जावे, जिनका निराकरण जिला स्तर या उच्च स्तर से किया जाना है। जिले में प्रारंभिक अनुमान अनुसार 4 लाख मे.टन संभावित उपार्जन अनुसार पर्याप्त बारदाना, भडारण इत्यादि की समस्त तैयारियां पूर्ण कर ली गई है।
किसान भाईयों को सूचित किया गया है कि एसएमएस प्राप्त होने पर एसएमएस में उल्लेखित समय पर केन्द्रों पर अपनी उपज लेकर आए एवं केन्द्रों पर गम्छा, तौलिया, मास्क अनिवार्यतः लगाकर पहुॅचे, अपनी उपज लेजाते समय टैक्टर इत्यादि वाहन में अन्य किसी व्यक्ति को न बिठाया जावे। किसी प्रकार की समस्या होने पर जिला स्तरीय कंट्रोल रूम नम्बर 0734-2526194 पर किसान भाई अपनी समस्या दर्ज करा सकते है। कंट्रोल रूम प्रभारी ओम प्रकाश गुप्ता, उपायुक्त सहकारिता, उज्जैन मो-8319810317 को प्रभारी अधिकारी नियंत्रण कक्ष बनाया गया है। किसानों को उनकी उपज लाने के लिए 3 दिन पूर्व एनआईसी भोपाल द्वारा एसएमएस भेजकर उपज लाने की सूचना दी जायेगी।


Comments
Popular posts
मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी, सोशल मीडिया पर लोग दे रहे श्रद्धांजलि
Image
लोगों की बुनियादी समस्याएं हमारी प्राथमिकता - अपना दल (एस) समर्थित निर्दलीय महापौर प्रत्यासी कैलाश गावंडे
Image
महापौर एवं पार्षद पद उम्मीदवारों की सूची; देखें कौन–कौन उम्मीदवार है, जिन्होंने नामांकन वापिस नहीं लिया
Image
पार्षद प्रत्याशियों की अधिकृत सूची जारी, सूची में देखें किस वार्ड से कौन है भाजपा का प्रत्याशी
Image
आसुस ने जयपुर में एक्सक्लूसिव स्टोर के लॉन्च के साथ पैन इंडिया रिटेल स्ट्रेटेजी को मजबूत किया
Image