आज की बात आपके साथ - विजय निगम

   प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹
🌻 नमस्ते।🌻


      आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 03 अप्रैल 2020 शुक्रवार   की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱@🌸🌻💐💐🎂💐💮🌳🌺


आज की बात आपके साथ  अंक मे है 


 A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मे सुप्रसिद्ध लेखिका मन्नू भंडारी का जीवन परिचय  लेख. 
C आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
💐🎂💐🎂@💐🎂💐@^💐🎂💐🎂🎂💐
     (A) कुछ रोचक समाचार (संक्षिप्त)
🌻(A/1)रामायण-महाभारत ही नहीं ये चार पुराने सीरियल्स आज भी हैं सुपरहिट, दोबारा देखने पर भी नहीं होंगे बोर।🌻
🌻(A/2)कोरोना संदिग्ध को देखने पहुंची थी डॉक्टरों की टीम, भीड़ ने पत्थर-लाठी से किया जानलेवा हमला🌻
🌻(A/3)लॉकडाउन से कोरोना का इंफ्केशन होगा लॉक! सर्वे के जरिए निकलकर आई ये अच्छी खबर।🌻 
🌻 (A/4)ब्याज दर में कटौती के बाद जानिए PPF में 1 करोड़ रुपए जमा करने में लगेंगे कितने साल🌻
💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
    (A) कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)
🌻(A/1)रामायण-महाभारत ही नहीं ये चार पुराने सीरियल्स आज भी हैं सुपरहिट, दोबारा देखने पर भी नहीं होंगे बोर।🌻
कोरोना होने की वजह से चैनल्स ने पुराने
सीरियल का प्रसारण फिर से शुरूकर दिया है।पौराणिकसीरियलरामायण व महाभारत
का दोबाराटेलीकास्ट शुरू हो चुका है। इस दौरान दर्शक कई और सीरियल्स केदोबारा 
प्रसारण की मांग कर रहे हैं।जानिए 90 के दशक के चार सीरियल्स के बारे में 
जिसे दर्शकआज भी दोबारा देखना चाहते हैं। 
                 🌻शक्तिमान🌻
जिनके बचपन का जुड़ाव 90 के दशक से हो,वे शक्तिमान को अब भी नहीं भूले होंगे। शक्तिमान पहला ऐसा सुपर हीरो था जो दुश्मनों का नाश करने के साथ-साथ बच्चों को रोज एक नई सीख देता था।ये शो साल 2005 में खत्म हो गया लेकिन इसके किर
दार आजभी हमसभी के जहन में जिंदा हैं।
इस शोको देखने के लिए बच्चे खेलना तक छोड़ देते थे।
                  🌻चंद्रकांता🌻
'चंद्रकांता' सीरियल डीडी नेशनल पर 1994 से 1996 तक टीवी पर प्रसारित हुआ। इस शो के सभी किरदारों को लोगों ने काफी पसंद किया। इसमें चंद्रकांता का रोल शिखा स्वरूप ने निभाया था। इस शो में शिखा के अलावा शहबाज खान, मुकेश खन्ना, अखिलेंद्र मिश्रा और पंकज कपूर के अलावा अन्य सितारे भी थे। 
                  🌻मोगली🌻
मोगलीसीरियल का गाना'जंगलजंगल बात चली है' आज भी बच्चे गाते नजर आते हैं। इस सीरियल में एक ऐसे बच्चे की कहानी दिखाई गई थी जो कि जंगली जानवरों के साथ रहता है। यह शो बच्चों को बहुत पसंद आया था। 
              🌻विक्रम बेताल🌻
दूरदर्शन के मशहूर सीरियल्स में विक्रम बेताल का भी नाम शामिल है। इस शो में कई रहस्यमी कहानियां दिखाई गई थीं जो कि दर्शकों को कुर्सी से बांधे रखने के लिए मजबूर कर देती थीं। इसमें मुख्य रूप से कहानी राजा विक्रमादित्य और पिशाच बेताल की है।
                🌲🌱🔆🌷🌲
  🌻(A/1/2)दूरदर्शन रामायण शुरू होते ही गलियों में छा जाता था सन्नाटा,लेकिन इतना हिट शो बनाने वाले की जिंदगी थी बेरंग,की चपरासी की नौकरी
रामानंद सागर   का जन्म 29 दिसंबर 1917को लाहौर के पास हुआथा।मशहूर
निर्माता निर्देशक रामानंद सागर का जन्म 29 दिसंबर 1917 को लाहौर केपास हुआ था।उनके जन्म केवक्त उनकानामचंद्रमौली 
चोपड़ा था,लेकिन उनकी दादी ने बदलकर रामानंद कर दिया था। रामानंद का परिवार आर्थिकरुप से संपन्न नहीं थालेकिन उनकी पढ़ने-लिखने में काफी रुचि थी।वे दिन में चपरासी, ट्रक क्लीनर काऔर साबुन बेचने का काम करते और रात में अपनी डिग्री के लिए पढ़ाई करते थे।रामानंद नेपत्रकारिता सेअपनेकॅरियर कीशुरुआत की।इस दौरान उनकी रूचि कविता लिखने मेंभी बढ़ गई। इसके बाद रामानंद अपना फोकस फिल्म मेकिंग की तरफ कर लिया। साल 1932 में साइलेंट फिल्मरायडर्स ऑफ रेल रोड में क्लैपर बॉय बने थे,इस तरह उन्होंनेअपने
फिल्मी कॅरियर की शुरुआतकी।इसके बाद साल1942 मेंउन्हें टीबी की बीमारी से गुज
-रना पड़ा।इस बारेमेंस्टार नेअपनेआर्टिकल 
में भी लिखा था।दोसाल संघर्ष के बाद उन्हें राजकपूर के साथ काम करने का मौका मिला। उन्होंने साल 1949 में राज कपूर की फिल्म बरसात के डायलॉग्सऔरस्क्रीन
प्ले को लिखा था। उन्होंने अगले ही साल सागर आर्ट कॉरपोरेशन नाम की अपनी प्रोडक्शन कंपनी खोल ली थी और इस कंपनी के नाम कई चर्चित फिल्में हैं जिनमें पैगाम, आंखे, ललकार,जिंदगी और आरजू जैसी फिल्मेंशामिल हैं।80 के दशक मेंएक दौर ऐसा भी आया जब देश में दूरदर्शन एंटरटेनमेंट का साधन बनने लगा। रामानंद को एहसास होचला था कि इस दौरमें टीवी 
का जबरदस्त दबदबा होगा। यही कारण है कि उन्होंने रामायण और महाभारत जैसे शोज का निर्माण किया। ये वो दौर था जब रामायण या महाभारत के प्रसारण होने पर सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता था।लोग अपने टीवी से चिपक जाते थे,इस सीरियल के कलाकारोंको कई लोगभगवान समझने लगे थे। 12 दिसंबर, 2005 को उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कह दिया।
💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
🌻(A/2): कोरोना संदिग्ध को देखने पहुंची थी डॉक्टरों की टीम, भीड़ ने पत्थर-लाठी से किया जानलेवा हमला🌻
जब पूरा देश स्वास्थ्य कर्मियों का स्वागत कर रहा है वहीं ऐसे में मध्य प्रदेश के इंदौर से एक ऐसा वीडियो सामने आया है जो शर्मसार कर देने वाला है।
:🌻कोरोना संदिग्ध को देखने पहुंची थी डॉक्टरों की टीम, भीड़ ने पत्थर-लाठी से किया जानलेवा हमला🌻
                 🌻मुख्य बातें🌻
पूरा देश स्वास्थ्य कर्मियों का स्वागत कर रहा और इंदौर में बरसाए पत्थर और लाठी
जांच करने गए डॉक्टरों पर पथराव, भागकर बमुश्किल से बचाई जान
इंदौर: देश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और ऐसे में स्वाथ्य कर्मियों की चुनौतियां भी बढ़ रही हैं। कोरोना संकट से निजात दिलाने के लिए स्वास्थ्य कर्मी दिन रात  लगे हुए हैं और हर कोई उन्हें सलाम कर रहा है। लेकिन महामारी के दौर में मध्य प्रदेश के इंदौर से जो तस्वीरें सामने आ रही हैं वो शर्मसार कर देने वाली हैं। यहां कोरोना योद्धाओं पर भीड़ ने लाठी, पत्थर और डंडों से प्रहार किया और स्वास्थ्यकर्मियों ने बमुश्किल से भागकर अपनी जान बचाई। 
        🌻वायरल हुआ वीडियो🌻
एक तरफ डॉक्टर अपनी जान हथेली पर रखकर लोगों की जान बचा रहे हैं वहीं कुछ लोग ऐसे हैं जो उन्ही की जान लेने की कोशिश कर रहे हैं।मामला इंदौर के टाट
-पट्टी भाखल का है जहां स्वस्थ्य विभाग की टीम तब पहुंची थी जब उसे पता चला कि एक महिला कोरोना संदिग्ध के संपर्क में आई है। जैसे ही विभाग की टीम वहांपहुंची तो लोगों ने उनका घेराव कर दियाऔरइसके
बाद तो पत्थऱ और डंडों से वार करना शुरू कर दिया। बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने इसका वीडियो अपने ट्वीटर पर साझा किया है।
             🌻 दो डॉक्टर घायल🌻
इस हमले में दो डॉक्टर घायल हुए हैं।  पथराव की खबर पाते ही भारी पुलिस बल मौके पर पहुंच गया है। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुआ है और लोग इन हमलावरों पर मुख्यमंत्री से कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं। जहां डॉक्टरों पर हमला हुआ यह एक मुस्लिम बाहुल इलाका है।पुलिस ने फिलहाल अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। लेकिन ये तस्वीरें वाकईं में विचलित कर देने वाली हैं और लोग आखिर क्यों समझ नहीं पा रहे हैं कि डॉक्टर अपनी जान हथेली पर रखकर हमारी जान बचाने के लिए ड्यूटी पर लगे हुए है।
           🌻अचानक हुआ हमला🌻
एक डॉक्टर ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'मैं अभी बहुत डरी हुई हूं और कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं हूं। हम लोग स्वास्थ्य विभाग के कहने पर वहां गए हुए थे स्क्रीनिंग के लिए। हमें वहां को लेकर एक कोरोना पॉजिटिव की हिस्ट्री की सूचना मिली थी जिसके बाद हम वहां गए थे। हम लोगों ने जैसे ही पूछना शुरू किया तो उन लोगों ने हम पर हमला कर दिया। हम डॉक्टर्स के अलावा दो और लोग थे। साथ में तहसीलदार और पुलिस फोर्स भी मौजूद थे जिसकी वजह से हम बच पाए थे।'
💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
🌻(A/3)लॉकडाउन से कोरोना का इंफ्केशन होगा लॉक!सर्वे के जरिए निकलकरआई येअच्छी खबर🌻 
 
नई दिल्ली:  वैज्ञानिकों का मानना है कि देश में 21 दिन के लॉकडाउन की वजह से कोरोना वायरस के संभावित मामलों में बंद के 20वें दिनतक 83 % कमी लाने में मदद मिल सकती है।उत्तर प्रदेश के शिव नादर विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं के अध्ययन ने इस बंद को लेकर उम्मीद की किरण जगाई है क्योंकि लक्षण दिखने वाले लोगों को इस वजह से एक या दो दिन में ही अलग किया जा रहा है।
अध्ययन में यह बात भी कही गयी है कि अगर बंद के रूप में हस्तक्षेप नहीं किया जाता तो संक्रमित लोगों की अनुमानित संख्या बहुत अधिक हो जाती और बहुत से लोगों की मौत हो जाती।शिव नादर विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर समित भट्टा-चार्य ने कहा कि हम यह भी मानते हैं कि इससे 80 से 90%लोग सामुदायिक दूरी में रह रहे हैं।भट्टाचार्य ने कहा कि  इस तरह की
आशावादी स्थितिमें हमने अनुमान लगाया है कि लॉक
डाउन के पहले दिनसे लेकर 20वें दिन में लक्षण दिखने वाले 83% मामलेकम हो सकते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनु”सार देशमें बृहस्पतिवार कोकोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या चारअंको मे पहुंच गई है जबकि मरने वालों की संख्या दो अंको मे है।अनुसंधान कर्ताओं  का  मानना है कि देश में बंद की वजह से संक्रमण का एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में संचार होने कीगति धीमी होगी और संक्रमण के मामले कम होंगे।
💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐
🌻 (A/4)ब्याज दर में कटौती के बाद जानिए PPF में 1 करोड़ रुपए जमा करने में लगेंगे कितने साल🌻
पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) की ब्याज दर में कटौती कर दी गई है।नई दर पर एक करोड़ तक पहुंचने कितना समय लगेगा।
पीपीएफकी ब्याजदर में कटौती से सेविंग्स पर पड़ा असर।
                🌻मुख्य बातें🌻
वित्त वर्ष 2020-21की अप्रैल-जूनतिमाही
के लिएछोटी बचत योजनाओंपरब्याज दरों में बड़ीकटौती की घोषणाकी गई कटौती के बाद 2020-21की प्रथम तिमाही
पहली तिमाही में PPF पर ब्याज 7.1% मिलेगा,पहले7.9% की दर से मिलता था
दर में कटौती के बाद पीपीएफ में 1 करोड़ रुपए जमा करने में ज्यादा वर्ष लगेंगे
दिल्ली: सरकार ने मंगलवार को वित्त वर्ष 2020-21 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में बड़ी कटौती की घोषणा की। ब्याज दर में हालिया गिरावट के साथ, लोकप्रिय पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) पर अब 7.1% की दर से ब्याज मिलेगा। जो पहले की 7.9% की दर से 80 आधार अंक नीचे है। इसी तरह, सीनियर सिटिजंस सेविंग्स स्कीम में 8.6% की तुलना में सालाना ब्याज दर 1.2% कम होकर 7.4% तक रह जाएगी। एक से तीन साल तक की डाकघर के समय की जमा राशि अब 6.9% के बजाय 5.5% ब्याज दर मिलेगी। पांच-वर्षीय सावधि जमा पर दर को 6.7% दी जाएगी। पांच-वर्षीय आवर्ती जमा के लिए,ब्याज दर 7.2% से घटाकर 5.8% कर दीगई है।राष्ट्रीय बचतप्रमाणपत्र NSC
पर ब्याज दर पहले के 7.9% से 6.8% तक गिर गई है और किसान विकास पत्र पर 7.6% से घटाकर 6.9% कर दी गई है। किसान विकास पत्र 113 महीने पहले के बजाय 124 महीनों में मेच्योर होगा।इन 
योजनाओं की ब्याज दर में गिरावट PPF और सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) जैसी दीर्घकालिकबचत योजनाओं की मेच्योरिटी राशि को करीब10% तक प्रभावित करेगी। अब देखते हैं कि हाल में किए गए दर में कटौती के बाद पीपीएफ में 1 करोड़ रुपए जमा करने में आपको कितने साल लगेंगे। 15 साल के लिए हर महीने की शुरुआत में 7.9% पर 12,500 रुपए निवेश करने से पीपीएफ 42,14,190 रुपए होता।लेकिन, प्रति वर्ष 7.1% की कम ब्याज दर पर, 15 वर्षों के बाद पीपीएफ में समान निवेश पर राशि बढ़कर 39,44,599 रुपए होगा। यह राशि जो 6.4% कम है। जो आपने 7.9% की ब्याज दर से अर्जित किया होता। 
15 वर्षों में मैच्योर होता है PPF खाता
अगर आपका लक्ष्य पीपीएफ में 1 करोड़ रुपए जमा करना है, तो आपको अपने योगदान की अवधि को 15 साल से आगे बढ़ाना होगा क्योंकि आप एक साल में पीपीएफ में 1.5 लाख रुपए से अधिक का निवेश नहीं कर सकते हैं। यद्यपि PPF खाता 15 वर्षों में मैच्योर होता है। आपके पास योगदान के साथ या बिना पांच साल के ब्लॉक करके मैच्योरिटी को बढ़ाने का विकल्प है।
पीपीएफ खाते में 1 करोड़ रुपए जमा कराने में लगेंगे 25 वर्ष
यदि आप पीपीएफ खाते में 12,500 रुपए हर महीने 20 साल के लिए (पहले विस्तार का लाभ उठाने के बाद) 7.1% पर निवेश करते हैं, तो यह राशि 20 वर्षों के बाद बढ़कर 64,55,980 रुपए हो जाएगी। अपने स्वयं के योगदान के रूप में 30 लाख रुपए और 20 वर्षों में 34.56 लाख रुपए ब्याज के रूप में। हालांकि, यदि आप अपनी पीपीएफ मैच्योरिटी को अगले पांच वर्षों तक बढ़ाते हैं तो आप 25 वर्ष के अंत तक 99,94,812 रुपए जमा कर सकते हैं। इसलिए, ब्याज दर में कटौती के बाद, पीपीएफ खाते में 1 करोड़ रुपए जमा करने के लिए आपको 25 वर्षों की आवश्यकता है, यह मानते हुए कि आप पूरे 25 वर्षों के लिए हर महीने की शुरुआत में 12,500 रुपए का निवेश करते हैं और ब्याज की दर पूरे कार्यकाल के लिए 7.1% पर स्थिर रहती है।
💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐


  💐 (B) आज केदिन जन्मी सुप्रसिद्ध लेखिका मन्नू भंडारी का जीवन परिचय लेख💐
            💐 मन्नू भंडारी💐
मन्नूभंडारी (जन्म 3अप्रैल 1931) हिन्दी की सुप्रसिद्ध कहानीकार हैं।मध्यप्रदेश में 
03 अप्रैल 1931 जिले के भानपुरा गाँव में जन्मीमन्नू का बचपन का नाम महेंद्रकुमारी
था।लेखन के लिएउन्होंने मन्नू नामका चुनाव किया।उन्होंने एम ए तक शिक्षा पाई और वर्षों तक दिल्ली के मिरांडा हाउस में अध्यापिका रहीं। धर्मयुग में धारावाहिक रूप से प्रकाशित उपन्यास आपका बंटी से लोकप्रियता प्राप्त करने वाली मन्नू भंडारी 
विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में प्रेमचंद सृजनपीठ की अध्यक्षा भी रहीं। लेखन का संस्कार उन्हें विरासत में मिला।उनके पिता 
सुख सम्पतराय भी जाने माने लेखक थे।
              💐  प्रमुख कृतियाँ💐
                    🌻 कहानी🌻
एक प्लेट सैलाब (1962)
मैं हार गई (1957),
तीन निगाहों की एक तस्वीर,
यही सच है (1966),
त्रिशंकु
आंखों देखा झूठ
🌻अकेली - यह कहानी सोमा बुआ नाम के पात्र को केंद्र में रखकर लिखी गई है। सोमा अपने पास पड़ोस से घुलने-मिलने के प्रयासों के बावजूद अकेली पड़ जाती है। वह अकेली इसलिए है क्योंकि वह परित्यक्ता है, बूढ़ी हो चली है तथा उसका पुत्र भी उसे छोड़कर जा चुका है। अपने परिवेश के साथ घुलने मिलने के उसके प्रयास भी एक तरफा हैं।
            💐 उपन्यास💐
🌻आपका बंटी (1971) - यह उपन्यास विवाह विच्छेद की त्रासदी में पिस रहे एक बच्चे को केंद्र में रखकर लिखा गया है🌻।
🌻एक इंच मुस्कान(1962) - लेखक और पतिराजेंद्र यादव के साथलिखा गया उनका उपन्यासएक इंचमुस्कानपढ़ेलिखेआधुनिक
लोगों की एक दुखांत प्रेमकथा है जिसका एक-एक अंक लेखक-द्वय ने क्रमानुसार लिखा।🌻
🌻महाभोज(1979)यह उपन्यास नौकर
शाही राजनीति में व्याप्त भ्रष्टाचार के बीच आमआदमीकी पीड़ा को उद्घाटित करता है।इस उपन्यास पर आधारित नाटक अत्या
-धिक प्रिय हुआ था।इसी प्रकार यही सच
है पर आधारित रजनीगंधा नामक फिल्म अत्यंत लोकप्रिय हुई थीऔर उसको1974 की सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार भी प्राप्त हुआ था।
          💐पुरस्कार और सम्मान💐
हिन्दीअकादमी, दिल्ली का शिखर सम्मान, 
बिहारसरकार,भारतीय भाषापरिषद, कोल
काता,राजस्थान संगीत नाटक अकादमी,
व्यास सम्मान व उत्तर-प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा पुरस्कृत।
                💐नाटक💐
🌻`बिना दीवारों का घर' (1966)🌻
💐🎂🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂                 


💐(C)आज के दिन की प्रमुख घटनाएँ💐
 
1325– चिश्ती सम्प्रदायचौथे संत निजामुद्दीन औलिया का निधन।
1680 पश्चिम भारत में मराठा सम्राज्य की
नींव रखने वाले छत्रपति शिवाजी का राय
-गढ में निधन।
1903-समाजसुधारक व स्वतंत्रता सेनानी 
कमलादेवी चट्टोपाध्याय का जन्म।
1914 भारतीय सेना के भूतपूर्वअध्यक्ष
मानेकशॉ का जन्म।
1918 -प्रसिद्ध यूक्रेनी लेखक व उपन्यास कार ओलेसगोनचार का जन्म।
1922-जोसेफ स्टालिन को सोवियत कम्यु
निस्टपार्टी की केंद्रीय समितिका महासचिव नियुक्त किया गया।
1929-मशहूर हिन्दी साहित्यकार निर्मल
वर्मा का जन्म
1931–प्रसिद्ध साहित्यकार मन्नू भंडारी का जन्म।
1942-जापान ने द्वितीय विश्वयुद्ध में अमेरिका पर आखिरी दौर की सैन्य कार्यवाई शुरू की।
1954-राजनेता और फिजिशियन डॉ. के. कृष्णास्वामी का जन्म।
1955 भारत के प्रसिद्धगायक हरिहरन का जन्म।
1962 भारत की मशहूर अभिनेत्री
जयाप्रदा का जन्म।
2000 – ब्रिटेन में एक विवादास्पद नियम
लागू किया गया, जिसमें यह कहा गया कि ब्रिटेन में शरण लेने वालों को कपड़े और खाने की चीजें खरीदने के लिए सरकार से 
कूपन खरीदने होंगे।
2001-संयुक्त राज्यअमेरिका के पूर्व राष्ट्र
पति बिल क्लिंटन भारत यात्रा पर पहुँचे।
2001 – भारत और डेनमार्क के बीच चार वर्ष के बाद पुन: वार्ता।
2002 – पाकिस्तान के राष्ट्रपति परवेज
मुशर्रफ़ की जनमत संग्रह की योजना को 
मंत्रिमंडल की मंजूरी मिली।
2006 – नेपाल में माओवादियों ने संघर्ष
विराम की घोषणा की।
2007नईदिल्ली में14वां सार्क सम्मेलन 
शुरू।
2008 –प्रकाश करात को माकपा का पुन: महासचिव चुना गया।
2008– मेधा पाटकर को राष्ट्रीय क्रांतिवीरअवार्ड, 2008 से अलंकृत किया गया।
 2010- सेना की वर्दी पहने एक बंदूक
धारी द्वारा बग़दाद के बाहरी इलाक़े में सूफ़िया गांव में किए गए हमले में सुन्नी समुदाय के 5 महिलाएँ और 20 पुरुषों मारे गए।
2010 – एप्पल का पहला आईपेड मार्केट में आया।
2010 – भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के छह संस्थापक सदस्यों में से एक अनंत लागू का निधन।
2017 –जयपुर घराने की अग्रणी गायिका किशोरी अमोनकर का निधन।
2017- उत्‍तराखण्‍ड की राजधानी देहरादून के वन अनुसंधान संस्‍थान में 19वां राष्‍ट्रमंडल वानिकी सम्‍मेलन शुरू हुआ।
2017- सोमालिया के समुद्री डाकुओं ने भारत के कॉमर्शियल जहाज को अगवा कर लिया ।
2017- रूस के सेंट पीटर्सबर्ग शहर के भूमिगत मेट्रो में हुए विस्‍फोट में कम से कम दस लोग मारे गए और लगभग पचास लोग घायल हो गए।
2017- भारत में शैक्षि‍क संस्‍थानों की जारी की गई  रैंकिंग- 
2017- में इंजीनियरिंग श्रेणी में आई आई टी मद्रास ने पहला स्‍थान प्राप्‍त किया है, दूसरा स्‍थान आई आई टी बम्‍बई और तीसरा स्‍थान खड़गपुर को मिला है। 
2017-प्रबंधन श्रेणी में भारतीय प्रबंधन संस्‍थान-आई आई एम, अहमदाबाद को पहला स्‍थान मिला है। विश्‍वविद्यालय श्रेणी में भारतीय विज्ञान संस्‍थान, बंगलौर शीर्ष पर रहा है। दूसरे स्‍थान पर जवाहर लाल नेहरू विश्‍वविद्यालय रहा। फॉर्मेसी संस्‍थानों में दिल्‍ली के जामिया हमदर्द ने पहला स्‍थान पाया है।भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान आई आई टी पटना को तिरासीवां स्थान मिला है।
2017- बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स अब तक के सबसे उच्चतम स्तर 29 हजार 910 पर जा पहुंचा, जबकी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी नौ हजार 238 के अब तक के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। 
💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
 
 💐 (D)  आज के दिन जन्मे महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व💐


1903 में   स्वतंत्रता सेनानी एवं समाजसुधारक कमला 
देवी चट्टोपाध्याय का  जन्म।
1914 केभारत के प्रथम फील्ड मार्शल एस एच एफ जे मानेकशॉ का  में जन्म।
1918 मेंप्रसिद्ध उक्रेनी लेखक तथा उपन्यासकार ओलेस गोनचार का  जन्म हुआ।
1922में कनाडाई सीनेटर मौरिस रील का  जन्म हुआ।
1922 में अमेरिकी गायिका और अभिनेत्री डोरिस डे का  जन्म हुआ।
1929 में  प्रसिद्ध साहित्यकार निर्मल वर्मा का जन्म  हुआ।
1931 में प्रसिद्ध साहित्यकार मन्नू भंडारी का जन्म  हुआ।
1954 में राजनेता व फिजीशियन डॉ.के. कृष्णास्वामी का  जन्म हुआ।
1955 में   मशहूर गायक हरिहरन का  जन्म हुआ।
1325 में  भारत की मशहूर अभिनेत्री जया प्रदा का कि जन्म।
💐🎂💐🎂💐@🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
 
💐(E)आज दिन  निधन हुवे महत्वपूर्ण  व्यक्तित्व💐 


 1325 में  .चिश्ती सम्प्रदाय के चौथे संत निज़ामुद्दीन औलिया का निधन  हुआ था। 
1680 में भारत में मराठा सम्राज्य की नींव रखने वाले छत्रपति शिवाजी महाराज की  रायगढ में मृत्यु।
1987 में प्रसिद्ध साहित्यकार एस. एच. वात्स्यायन अज्ञेय का  को नई दिल्ली में निधन।
2010  में  भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के छह संस्थापक सदस्यों में से एक अनंत लागू का निधन 
को हुआ था।
2017 में हिंदुस्‍तानी शास्‍त्रीय परंपरा की प्रमुख गायिकाओं में से एक किशोरी अमोनकर का निधन  को हुआ था।
💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂           
            (F) आज का दिवस का नाम । 
 1.स्वतंत्रता सेनानी एवं समाजसुधारक कमला 
     देवी चट्टोपाध्याय की जयंती दिवस
2.  फील्ड मार्शल एस एच एफ जे मानेकशॉ  की    
     जयंती दिवस
3.  प्रसिद्ध साहित्यकार मन्नू भंडारी का जन्मदिवस
4. प्रसिद्ध अभिनेत्री जयाप्रदा का जन्मदिवस
5. मराठा सम्राज्य की नींव रखने वाले छत्रपति 
     शिवाजी महाराज की पुण्यतिथि दिवस
6 .हिंदुस्‍तानी शास्‍त्रीय परंपरा की प्रमुख गायिकाओं में 
     से एक किशोरी अमोनकर का निधन



🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻


       आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐


Comments