आज की बात आपके साथ - विजय निगम


प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹 
🌻 नमस्ते।🌻


      आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 20 अप्रेल 2020 सोमवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 


 A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मेचंद्रबाबू नायडू का जीवन परिचय लेख . 
C आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻


🔆(A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त )🔆


🔅(A/1) राष्ट्रीय बैडमिंटन टीम के कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी से मजबूर लॉकडाउन सभी को प्रभावित करने वाला है व लोगों को इसके माध्यम से सकारात्मक  रहने की आवश्यकता है।🔅
🔆(A/2)लॉकडाउन : 20 अप्रैल के बाद काफी कुछ जाएगा बदल, देखें छूट की पूरी लिस्ट।🔅
🔆(A/3)अब शुरू होगी उत्तर रामायण श्रीराम राज्याभिषेक से लेकर जलसमाधि तक,जानिएक्याखास देखने को मिलेगा🔆
🔆(A/4)जब राम ने किया था सीता का त्याग, दीपिका ने बताया- क्यों पसंद है ये सीन।🔆
 🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻


🔆(A) कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)🔆


🔅(A/1) राष्ट्रीय बैडमिंटन टीम के कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा किकोरोना वायरस महामारी से मजबूर लॉकडाउन सभी को प्रभावित करने वाला है व लोगों को इसके माध्यम से सकारात्मक  रहने की आवश्यकता है।🔅


 पुलेला गोपीचंद ने तालाबंदी के बाद के महत्व पर जोर दिया।
1    पुलेला गोपीचंद ने कहा कि लोगों को एक कड़वी गोली के रूप में लॉकडाउन लेना होगा
2     उन्होंने कहा कि लोगों को मानसिक और शारीरिक रूप से फिट रहने के तरीके खोजने होंगे
3     उन्होंने कहा कि इन कठिन समय के दौरान लोगों को सकारात्मक रहना चाहिए
मुख्य राष्ट्रीय बैडमिंटन टीम के कोच बेलेला गोपीचंद का मानना ​​है कि जॉब लॉस और पे कट्स निगलने के लिए "कड़वी गोलियां" हैं, लेकिन आम आदमी को अभी भी शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहने के तरीकों का पता लगाने की जरूरत है। COVID-19 महामारी, जिसने भारत में  सेकड़ो लोगों और दूनिया मे हजारो लोगों को यमलोक भेज दिया है। पूरी दुनिया को एक ठहराव में ला दिया है क्योंकि देशों में घातक बीमारी को रोकने के लिए लॉकडाउन में चला गया, जिससे अर्थव्यवस्था पर एक बड़ा सेंध लग गया।
गोपीचंद, जिन्होंने हाल ही में यूके में ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप से आने के बाद अपना तीन सप्ताह का अलगाव पूरा किया, ने कहा कि खेल इस वैश्विक मंदी का हिस्सा होगा लेकिन लोगों से इसे सकारात्मकता के साथ लड़ने का आग्रह किया।
गोपी ने कहा"मुझे लगता हैकिदुनिया बहुत कुछ कर रही है और हर किसी का करियर उनके लिए महत्वपूर्ण है,चाहेआप छात्र हों, पत्रकार हों या खिलाड़ी।लेकिन यह लॉक
-डाउन एक खास वजह से है और मुझे लगता है कि हमें इसका अनुसरण करना चाहिए।
"यह निश्चित रूप से आबादी के हर वर्ग को अकेले नहीं खेलता है। हर कोई इस कठिन समय से गुजर रहा है।हमेंखुद कोमानसिक
और शारीरिक रूप से फिट और संतुलित रखने के लिए सकारात्मक रहने और संसा
धन खोजने की जरूरत है।"
"आपको इस तथ्य को स्वीकार करना होगा कि यह वहतरीका है जो एककारण से होने वाला है और इसे एक कड़वी गोली के रूप में लेना है और उम्मीद है कि चीजें बेहतर हो जाएंगी।"
फ़ुटबॉल,क्रिकेटरों के साथ दुनिया भर में खेलपर इस लॉकडाउन से आर्थिकगिरावट
के बारे में एक बढ़ती हुई डर है, दूसरों के बीच वेतन कटौती और राजस्व की कमी पर बातचीत।वक्र को समतल करने के लिए भारत में लागू 21-दिवसीय लॉक
डाउन भी लोगों को ले-ऑफ और पे-कट से गुजरते हुए दिखाई देगा। गोपीचंद ने 
कहा कि खेल भी इसका एक हिस्सा होगा लेकिन हमें पहले जीवित रहना होगा और फिर हम आगे आने वाली हर दूसरी चीज़ का पता लगा सकते हैं।
"खेल इसका हिस्सा बनने जा रहा है, लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ रहा है, लोगों को वेतन कटौती से गुजरना पड़ रहा है। केंद्र सरकार और राज्य सरकार ने वेतन कटौती की घोषणा की है और मुझे लगता है कि हम सभी को यह करना होगा, यह कठिन समय है और सभी को समझने की जरूरत है उन्होंने कहा, "उन्होंने कहा।
"हर किसी को बस यह कहने की ज़रूरत है कि हमारे जीवन के यह छह महीने नहीं हैं और हम बस इसके माध्यम से जाते हैं जो कुछ भी हम कर सकते हैं, चाहे वह पढ़ रहे हों या ध्यान कर रहे हों, और सकारात्मक रहें और एक बार जब आप खत्म हो जाएं तो फिर से वापस आ जाएं।"
"सौ वर्षों में हमारे पास इस तरह का परिदृश्य कभी नहीं था, लोगों के लिए समझाना मुश्किल है। अतीत में भी विश्व स्तर पर चीजें खराब हुई हैं और हमें बस इसे सहना होगा।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻
  🔆  (A/2)लॉकडाउन : 20 अप्रैल के बाद काफी कुछ जाएगा बदल, देखें छूट की पूरी लिस्ट।🔅
कोरोना संकट को खत्म करने के लिए देश में 3 मई तक लॉकडाउन लगाया गया हैं. हालांकि, केंद्र सरकार कह चुकी है कि हालात की समीक्षा करने के बाद 20 अप्रैल से चुनिंदा क्षेत्रों में राहत दी जा सकती है. अब गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन के दौरान कुछ और सेवाओं को अनुमति देने के लिए दिशानिर्देश जारी किया है. इनमें ग्रामीण क्षेत्रों में निर्माण गतिविधियां, जलापूर्ति, सफाई के कार्य और गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थानों और को-ऑपरेटिव क्रेडिट सोसायटीज का संचालन ऑनलाइन शॉपिंग शामिल है.
केंद्रीय गृह सचिव ने राज्यों में अनुसूचित जनजातियों और वन क्षेत्रों में वनों पर निर्भर लोगों से माइनर फॉरेस्ट और नॉन टिंबर फॉरेस्ट प्रोड्यूस को खरीदने व अन्य व्यवस्था करने को कहा है. तीन मई तक चलने वाले लॉकडाउन के दौरान इन गतिविधियों की मंजूरी रहेगी. गृह मंत्रालय ने ग्रामीण क्षेत्रों में निर्माण गतिविधियों को प्रारंभ करने, जलापूर्ति एवं सफाई, पावर ट्रांसमिशन लाइन बिछाने और टेलीकॉम ऑप्टिकल फाइबर व केबल बिछाने के काम करने की भी अनुमति दी है.
हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों समेत विभिन्न गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थानों और माइक्रो फाइनेंस संस्थानों को भी न्यूनतम स्टाफ के साथ काम करने की मंजूरी होगी. बांस, नारियल, कोको और मसालों की खेती, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, बिक्री व मार्केटिंग को भी लॉकडाउन के दौरान अनुमति रहेगी. गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने कहा कि डाक विभाग ने राज्य के भीतर और एक से दूसरे राज्य तक डाक पहुंचाने की दिशा में भी पूरे समर्पण से काम किया है.
इससे पहले द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 20 अप्रैल से खोल जा रही सेवाओं की एक लिस्ट जारी थी. उस लिस्ट के अनुसार ये सेवाएं भी 20 अप्रैल से खुली रहेंग
सभी स्वास्थ्य सेवाएं (आयुष सहित)
सभी कृषि और बागवानी गतिविधियाँ
मछली पकड़ने (समुद्री / अंतर्देशीय) जलीय कृषि उद्योग का संचालन
वृक्षारोपण गतिविधियाँ जैसे कि चाय, कॉफी और रबर के बागान, अधिकतम 50 प्रतिशत श्रमिकों काम कर सकेंगे
           🌻पशुपालन गतिविधियाँ🌻
             🔆सामाजिक क्षेत्र🔅
मनरेगा के कार्य- सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क अनिवार्य तौर पर पहनना होगा
सार्वजनिक सुविधायें
माल / कार्गो (इंटर और इंट्रा) राज्य को लोड करने और उतारने की अनुमति
ऑनलाइन शिक्षण / दूरस्थ शिक्षा
आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति
वाणिज्यिक और निजी प्रतिष्ठानों को संचालित करने की अनुमति दी जाएगी
उद्योग / औद्योगिक प्रतिष्ठान (सरकारी और निजी दोनों)
        🔆निर्माण गतिविधियाँ🔆
चिकित्सा और पशु चिकित्सा सहित आपातकालीन सेवाओं के लिए निजी वाहन
आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए और राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश के स्थानीय प्राधिकरण के निर्देशों के अनुसार छूट श्रेणियों में काम के लिए यात्रा करने वाले सभी कर्मियों को अनुमति
भारत सरकार और राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों के कार्यालय खुले रहेंगे।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻


🔆(A/3)अब शुरू होगी उत्तर रामायण 
श्रीराम राज्याभिषेक से लेकर जलसमाधि तक,जानिएक्याखास देखने को मिलेगा🔆


उत्तर रामायण;-रामायण भारतीयसंस्कृति
का एक महाकाव्य है जिसमें धर्म के साथ संस्कारों का समावेश किया गया है। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम को आदर्शपुरूष
और सनातन संस्कृति का आराध्य देव माना गया है। जिनकी विशेषताओं का गुणगान महर्षि वाल्मीकि ने रामायण में गोस्वामी तुलसीदासजी ने रामचरित मानस में किया है। दोनों ही प्रभु श्रीराम के अनन्य भक्त थे और उनकी कृपा से उन्होंने महाकाव्यों की रचना की।
  💐सात कांडों में विभक्त है रामायण💐
इन दोनोंमहाकाव्योंकोसातभागों मेंविभक्त
किया गया है।रामायण ,रामचरित मानस दोनों का पहला कांड बालकांड है। इसके बाद क्रम से अयोध्याकांड, अरण्यकांड, किष्किंधाकांड, सुंदरकांड, लंकाकांड और उत्तरकांड है।इसमें उत्तरकांड की यदि हम बात करें तोइसमें भगवान श्रीराम के लंका विजय के बाद अयोध्या वापसी का वर्णन किया गया है। उत्तरकांड में 111 सर्ग एवं  3,432 श्लोक हैं।बृहद्धर्मपुराण केअनुसार
इस काण्ड का पाठ आनंद उत्सव केकार्यों 
जैसे यात्रा आदि के लिए किया जाता है।
💐श्रीराम की अयोध्या वापसी का है वर्णन💐
उत्तरकांड में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम केअयोध्यावापसी के बाद केघटना
क्रम का वर्णन कियागया है इसमेंभगवान।
 श्रीराम के राज्याभिषेक से लेकर काकभुशुण्डितक की घटनाओंका विस्तार
 से वर्णन किया गया है। लंकापति रावण के वध के बाद भगवान श्रीराम अयोध्या वापस आते हैं। यहां पर वनवास के बाद उनका भाई भरत से मिलाप होता है। इसमेम राम-भरत मिलाप का मनमोहक वर्णन किया गया है। अयोध्या में श्रीराम के आगमन ने चारों तरफ आनंदोत्सव छाया हुआ है। श्रीराम और माता सीता का भव्य स्वागत होता है।
🌻रामदरबार में नारदजी श्रीराम की करते हैं स्तुति🌻
अयोध्या आगमन के बादश्रीराम का राज्या
-भिषेक होता है,जिसमें ऋषि मुनि वेदोक्त
मंत्रों के साथ भगवान श्रीराम का राज्या
भिषेक  करते हैं। अयोध्या का राजपाट  संभालने के बाद श्रीराम वानरों और निषाद का भावभीनी विदाई देते हैं।उत्तरकाण्ड में रामराज्यकावर्णन किया गया है।प्रभुश्रीराम
के राज्य में उनकी प्रजा सुखी है, संपन्न है और सभी तरह के सुख उनको प्राप्त है। अपराध से मुक्त है रामराज्य। श्रीराम को दो पुत्रों की प्राप्ति का वर्णन हैऔरअयोध्या
की भव्यता और विशालता का इसमें बेहद खूबसूरत वर्णन किया गया है।
सनकादिक का आगमन और उनसे हुए संवाद के संबंध में बताया गया है। हनुमानजी के द्वारा भरतजी का प्रश्न पूछना और श्रीराम के उपदेश का वर्णन है। उत्तरकांड में श्रीराम अयोध्यावासियों को उपदेश देते हैं। श्रीराम का महर्षि वशिष्ठ के साथ संवाद है और उनका अपने भाइयों के साथ अमराई में जाने का वर्णन है। नारदमुनि का रामदरबार में आना और श्रीराम की स्तुति कर ब्रह्मलोक लौट जाने का वर्णन है।
🔆काकभुशुण्डि की रामकथा 
का है वर्णन🔅
शिव-पार्वती के संवाद के साथ गरुड़जी का काकभुशुण्डि से रामकथा और राम महिमा सुनने का वर्णन है। काकभुशुण्डि अपने पूर्व जन्म की कथा सुनाते हैं और कलि की महिमा कहते हैं। गुरुजी के अपमान और शिवजी के शाप की बात सुनाते हैं। गुरुजी का शिवजी से अपराध की क्षमायाचना और इसके बाद काकभुशुण्डि की आगे की कथा सुनाते हैं। काकभुशुण्डिजी के लोमशजी के पास जाने और शाप और अनुग्रह पाने का वर्णन किया गया है। काकभुशुण्डि , गरुड़जी के द्वारा पूछे गए सात प्रश्नों के उत्तर देते हैं। उत्तरकांड में श्रीराम के जलसमाधि और माता सीता के धरती में समाने का वर्णन है अंत में रामायण का माहात्म्य, तुलसी विनय और फलस्तुति और रामायण की आरती है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻
🔆(A/4)जब राम ने किया था सीता का त्याग, दीपिका ने बताया- क्यों पसंद है ये सीन।🔆
रामानंद सागर की रामायण का हर सीन दर्शकों के दिल में घर करता है और उन्हें बार-बार देखने के लिए प्रेरित. सीरियल के हर किरदार ने लोगों के मन में गहरी छाप छोड़ी है. लेकिन खुद रामायण की सीता दीपिका चिखलिया को शो का कौन सा सीन सबसे ज्यादा पसंद है?
दीपिका ने एक इंटरव्यू में बताया है कि उन्हें रामानंद सागर की रामायण का कौन सा सीन सबसे ज्यादा पसंद है. उनके मुताबिक जब भगवान राम ने सीता का त्याग कर दिया था, उन्हें वो सीन काफी पसंद है.
दीपिका की माने तो उस सीन में राम और सीता के बीच जिस तरह आमना-सामना होता है वो काफी खूबसूरत है. वो कहती हैं- मुझे त्याग वाला सीन इसलिए पसंद है क्योंकि उस में सीता और राम का आमना-सामना काफी अद्भुत है.
बता दें कि जिस सीन की दीपिका बात कर रही हैं वो भगवान राम के वनवास के बाद का है. जब माता सीता रामचंद्र के साथ अयोध्या लौट आती हैं, तब प्रजा में सीता के चरित्र को लेकर कई तरह के सवाल उठाए जाते हैं.
जब सीता को इस बारे में पता चलता है, वो खुद भगवान राम को कहती हैं कि वो उनका त्याग कर दें. इसके बाद राजधर्म का पालन करते हुए राजा राम सीता का त्याग कर देते हैं और सीता वन चली जाती हैं. दीपिका को यही सीन काफी भाता है
अभी जब देश में लॉकडाउन लगा है तब दूरदर्शन पर फिर रामायण का प्रसारण शुरू हुआ है. इतने सालों बाद भी इस सीरियल के लिए दर्शकों का प्यार देखते ही रहा है।
रामायण के चलते दूरदर्शन की टीआरपी में भी जबरदस्त इजाफा देखने को मिला है. रामायण ने सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए ऐतिसाहिसक टीआरपी अपने नाम की है. इसको देखते हुए चैनल पर महाभारत और शक्तिमान जैसे पुरानी सीरियल भी फिर शुरू कर दिए गए हैं।.
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼
💐(B)आज के दिन जन्मे चंद्रबाबू नायडू का जीवन परिचय लेख💐
    चंद्रबाबू का जन्म चित्तूर जिले के नारावारिपल्ली नामक गाँव में 20 अप्रैल 1950 को हुआ था। उन्होंने श्री वेंकटेश्वर  विश्व विद्यालय तिरुपति से 
अर्थशास्त्र में मास्टर्स की उपाधि हासिल की और आजकल इसी विश्वविद्यालय से पीएचडी के लिए अपना शोध कार्य कर रहे हैं।
        💐 राजनैतिक जीवन💐 


चंद्रबाबू नायडू का जन्म 20 अप्रैल 1950 को आंध्र प्रदेश के रायलसीमा क्षेत्र के चित्तूर जिले में एक किसान परिवार में हुवा था | इनके माता पिता का नाम कर्जूरा और अम्मानम्मा था | नायडू भाई बहनों में सबसे बड़े है एवं इनकी दो छोटी बहनें और एक छोटा भाई है | चंद्रबाबू ने शेशापुरम ग्राम पंचायत और चंद्रगिरी जैसे विभिन्न विद्यालयों में अध्ययन प्राप्त किया | उसके बाद नायडू ने तिरुपति के एस वी आर्ट्स कोल्लाते से अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के बाद, स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त की | नायडू अपने कॉलेज के दिनों से सामजिक और राजनयिक मुद्दों की यो ध्यान देने लगे थे, नायडू के साथ एस वी विश्वविद्यालय के समकालीन राजनीतिक व्यक्तियों में के एस नारायण और पिलेरू आर रेड्डी शामिल थे |
    💐चंद्रबाबू की हत्या का प्रयास💐
1अक्टूबर2003आंध्र प्रदेश के तत्कालीन
मुख्यमंत्रीचंद्रबाबूअपने मंत्रिमंडलसहयोगी
 बी गोपाल कृष्णन रेड्डी और दो विधायकों संग तिरुपति के वेंकटेश्वर मंदिर जा रहे थे इसीदौरान नायडू पर माओवादियोंनेउनके
काफिले पर बमसेहमला किया,नायडू बम बिस्फोटमेंबच गएपरन्तु इस हमलेमेंउनकी
कालरबोन की दो हड्डियाँ टूटगयी थी|इस
मामले में पुलिस ने 33 लोगो को आरोपी बनाया,जिसमे से चारव्यक्ति गिरफ्तार हुए  माओवादी नेता व मुख्य साजिशकर्ता 
पी.सुधाकर रेड्डी वर्ष 2009 में वारंगल
जिले में पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया |
🌻💐🌹🌲🌱💮🌳🌺🥀🌼🌻
 
  💐(C) आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ 💐


1999 - जर्मन के पूर्व चांसलर हेल्मुट कोल अमेरिकी सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'द प्रेसिडेंशियल मेडल आफ़ फ़्रीडम' से सम्मानित।
 2006 - भारत ने अपना पहला विदेशी सैन्य अड्डा ताजिकिस्तान में स्थापित करने की घोषणा की।
 2008 - महाराष्ट्र भाजपा के नेता व राष्ट्रीय महासचिव गोपीनाथ मुण्डे ने अपने पद से इस्तीफ़ा दिया। अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर नौ दिन बिताने के बाद पहला दक्षिण कोरियाई अंतरिक्ष यात्री यीसोयओन पृथ्वी पर सकुशल लौटे। 2011 - भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के उपग्रह प्रक्षेपण यान 'पीएसएलवी' ने 20 अप्रॅल, 2011 बुधवार को तीन उपग्रहों को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में स्थापित कर दिया।
 2012- अमेरिकी मीडिया ने भारत के अग्नि-5 मिसाइल के सफल परीक्षण पर कहा है कि इससे भारत को उसके पड़ोसी देश चीन के बराबर में खड़ा कर दिया है। 2011- भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के उपग्रह प्रक्षेपण यान 'पीएसएलवी'ने20अप्रॅल,2011 बुधवार को तीन उपग्रहों को सफलता पूर्वक
अंतरिक्ष में स्थापित कर दिया।
🌻💐🌹🌲🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺


💐(D)आज के  दिन जन्मे 
                  -  महत्वपूर्ण व्यक्ति💐


1914 - गोपीनाथ मोहंती, उड़िया भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार। 
1920 - जुथिका रॉय, प्रसिद्ध भजन गायिका। 
1924 - चन्द्रबली सिंह, एक लेखक होने के साथ-साथ उत्कृष्ठ कोटि के अनुवादक। 1936 - करिया मुंडा - सोलहवीं लोकसभा में सांसद रहे हैं।
 1950 - चंद्रबाबू नायडू, प्रसिद्ध राजनेता एवं आंध्र प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री हैं। 1965 - मुकुल संगमा - मेघालय के मुख्यमंत्री।
1972 - ममता कुलकर्णी, भारतीय अभिनेत्री 
1895 - मलिक ग़ुलाम मोहम्मद - पाकिस्तान के तीसरे गवर्नर-जनरल थे


💐🎂💐🎂💐^🎂💐🎂💐🎂💐


  💐(E)आज के दिन निधन हुवे    
           महत्वपूर्ण व्यक्तित्व💐


1947 - गौरीशंकर हीराचंद ओझा, भारत के प्रसिद्ध इतिहासकार थे।
1960 - पन्नालाल घोष - भारत के प्रसिद्ध बाँसुरी वादक। 
1970- शकील बदायूँनी, भारतीय गीतकार और शायर
 2004 - कोमल कोठारी - राजस्थान के ऐसे व्यक्ति, जो राजस्थानी लोक गीतों व कथाओं आदि के संकलन एवं शोध हेतु समर्पित थे।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐
  
💐(F)आज के दिन उत्सव का नाम💐
 
1.फ़ायर सर्विस सप्ताह डॉक्टर हैनीमैन जन्म दिवस (होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति के जन्मदाता)
 2.चंद्रबाबू नायडू, प्रसिद्ध राजनेता एवं आंध्र प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री हैं का जन्मदिवस 
3. मुकुल संगमा - मेघालय के राजनेता  मुख्यमंत्री का जन्म दीवस
4 .ममता कुलकर्णी, भारतीय अभिनेत्री का  जन्मदिन
5.मलिक ग़ुलाम मोहम्मद - पाकिस्तान के तीसरे गवर्नर-जनरल थे का जन्मदिन
6.गौरीशंकर हीराचंद ओझा, भारत के प्रसिद्ध इतिहासकार थे।आपका पुण्यतिथि दिवस
7.पन्नालाल घोष - भारत के प्रसिद्ध बाँसुरी वादक का पुण्यतिथि दिवस
8.शकील बदायूँनी, भारतीय गीतकार और शायर का पुण्यतिथि दिवस
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻


       आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐