आज की बात आपके साथ - विजय निगम


प्रिय साथियो। 
🌹राम-राम🌹
🌻 नमस्ते।🌻


आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों  का दिनांक  24 अप्रैल 2020 शुक्रवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
🌻💐🌹🌲🌱🌸💮🌳🌺🥀🌼🌻
आज की बात आपके साथ  अंक मे है 
A कुछ रोचक समाचार
B आज के दिन जन्मे प्रसीद्ध क्रिकेटर सचिन रमेश तेंदुलकर का जीवन परिचय  लेख. 
C आज के दिन   की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण    
    व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂🎂💐💐
       (A) कुछ रोचक समाचार(संक्षिप्त)
🌸(A/1)सरकारी कर्मचारियों को लगा बड़ा झटका! महंगाई भत्ता (DA) बढ़ाने पर लगी रोक।🏵
💐(A/2)देश में 1 कोरोना मरीज के इलाज में कितना हो रहा है खर्च,यहां
जानिये सब कुछ🌸
🌸(A/2/a )मध्य प्रदेश इन 26 स्थानो में 14 दिनों में एक भी CORONA पॉजिटिव नहीं, अब यहां 'आजादी' के दिन आएंगे🌸
💐(A/3)टीवी के 3 पॉपुलर सीरियल बंद- लॉकडाउनखत्म होने के बाद भी नहीं होगी वापसी, चैनल का बड़ा फैसला🏵
💐(A/4)कोरोना का कहर : अगर लॉक
डाउन बढ़ा तो इन 4 राज्यों की हालत हो जाएगी पतली।🏵
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂🎂💐^💐💐


 🌸 (A) कुछ रोचक समाचार(विस्तृत)💐


🌸(A/1)सरकारीकर्मचारियों
 को लगा बड़ा झटका! महंगाई भत्ता (DA) बढ़ाने पर लगी रोक।🏵
🔆65 लाख पेंशनर पर पड़ेगाअसर 🔆.
🔆 केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनधारियों के लिए DAमहंगाई भत्ता फ्रीज किया गया।🔆
केंद्र सरकार ने अपने केंद्रीय कर्मचारियो के महंगाई भत्ते पर बढ़ाने पर रोक लगा दी  है।एक जनवरी से 31 दिसंबर 2020 तक बढ़ा DA नहीं देने का प्रस्ताव है. सरकार के इस फैसले का असर 54 लाख सरकारी कर्मचारियोंऔर 65 लाख पेंशन भोगियों
पर पड़ेगा।बता दें किपिछले महीने सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्‍ते में 4 फीसदी बढ़ोतरी की घोषणा की थी।डीए को17% सेबढ़ाकर 21%किया गया था।. 
1 जनवरी 2020, 1 जुलाई 2020 और 
1 जनवरी 2021 से बढ़ने वाले महंगाई भत्ते पर रोक लगी है।इसके साथ हीआगे चल-कर ये बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता एरियर के तौर पर भी नहीं मिलेगा.क्या है सरकार का आदेश- सरकार ने बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता (DA) रोकने का आदेश दिया है. केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनधारियों को अब 1 जनवरी 2020, 1जुलाई 2020 और 1जनवरी 2021 से बढ़ने वाला DA नहीं मिलेगा।जो DA रोका जारहा हैउसका एरियर के तौर पर भुगतान भी नहीं होगा।.​
सरकार ने क्यों लिया ये फैसला-कहा जा रहा है कि सरकार का यह फैसला कोरोना वायरस महामारी के चलते लिया गया है।. जिसकी वजहसे सरकारी राजस्व बुरी तरह प्रभावित हुआ है।सरकारके इसफैसले का
असर 54 लाख सरकारी कर्मचारियों और 65 लाख पेंशनभोगियों पर पड़ेगा।इससे
सरकार को होगी 14,595 करोड़ रुपये की बचत।केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर
केलिए महंगाईभत्तेमें 4 %की बढ़ोतरी को
रोके जाने के फैसले सेसरकार को हर माह औसतन1,000करोड़ रुपये बचासकतीहै है।. सरकार ने महंगाई भत्ता बढ़ाने के लिए 14,595 करोड़ रुपये के अतिरिक्त लागत निर्धारित की थी. कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए देश में जारी लॉकडाउन से देश की अर्थव्यवस्था को काफी गहरा नुकसान पहुंचा है.
 🔆क्यों दिया जाता है D.A? कब से शुरू हुई थी महंगाई भत्ता देने की प्रथा।?🔅 
महंगाई भत्ता ऐसा पैसा है,जो देश के सरकारी कर्मचारियों के रहने-खाने के स्तर को बेहतर बनाने के लिए दिया जाता है. पूरी दुनिया में सिर्फ भारत,पाकिस्तान और बांग्लादेश ही ऐसे देश हैं,जिनके सरकारी कर्मचारियों को ये भत्ता दिया जाता है।.
ये पैसा इसलिएदियाजाता है,ताकि महंगाई बढ़ने के बाद भी कर्मचारी के रहन-सहन के स्तर में दिक्कत न हो।ये पैसा सरकारी कर्मचारियों, पब्लिक सेक्टर के कर्मचारियों व पेंशन
धारकों को दिया जाता है।.
इसकीशुरुआतदूसरेविश्वयुद्धकेदौरानहुईथीसिपाहियों को खाने व दूसरी सुविधाओं के लिए उनकीतनख्वाह से अतिरिक्तपैसादिया जाता था। इसपैसे को उस वक्त खाद्य महं
गाईभत्ता या डियर फूडअलाउंस कहाजाता था.जैसे-जैसेवेतन बढ़ता जाता था,इसभत्ते में भी इजाफा होता था।भारत में मुंबई के कपड़ाउद्योग में1972में सबसेपहलेमहंगाई 
भत्ते की शुरुआत हुई थी ।इसके बाद  केंद्र सरकार सभी सरकारी कर्मचारियों कोDA 
महंगाई भत्ता देने लगी थी,ताकि बढ़ती हुई महंगाई काअसर सरकारी कर्मचारी पर न पड़े।इसके लिए 1972में ही कानून बनाया गया,जिससे किऑल इंडिया सर्विस एक्ट 1951 के आनेवाले सरकारी कर्मचारियों
 को महंगाई भत्ता दिया जाने लगे।
 💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂🎂💐💐
💐(A/2)देश में 1 कोरोना मरीज के इलाज में कितना हो रहा है खर्च,यहां
जानिये सब कुछ🌸
🌸एक मरीज पर हो रहे खर्च के बारे में यहां जानिये.🌸
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के मामलों की संख्‍या बुधवार को  हजारो के पार पहुंच गई है. सेकड़ो  लोगों की इस संक्रमण (Covid 19) से मौत हो चुकी है.हालांकि कुछ हजार कोरोना मरीज इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं।देश में करीब80%कोरोना
मरीजों का इलाज सरकारी अस्‍पतालों में कियाजारहा है।निजीअस्‍पतालों मेंभीउनके
इलाज की सुविधा हैलेकिनजोउसके खर्च को वहन कर सकता है या स्‍वास्‍थ्‍य विभाग जिसेअनुमति देता है,वही वहां इलाज करा रहा है।लेकिन क्‍याआप जानते हैंकि भारत में एक कोरोना मरीज के इलाज में कितने रुपये का खर्च आता है?हिंदुस्‍तान टाइम्‍स मेंप्रकाशित खबर केमुताबिक देशमेंमरीजों
के इलाज का खर्च कई कारकों पर निर्भर करता है।जैसे उनकी उम्र,उनको दियाजाने
वाला इलाज, कोरोना वायरस संक्रमण के हमले का भार. लेकिन एक औसत कोरोना पॉजिटिव के इलाज में जो खर्च होता है।. उसके बारे में यहां जानिये...
🌸प्रतिदिन20 से25 हजार रुपये खर्च🌸
तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एक वरिष्ठ चिकित्सक का कहना है कि एकसामान्य कोविड-19पॉजिटिवकेइलाज
पर बिना वेंटिलेटर या अन्य जीवनरक्षक उपकरणों के साथ प्रतिदिन 20,000 और 25,000 रुपये खर्च होते हैं.
🌸14दिन केइलाजमें3.50 लाख🏵
इसका मतलब है कि एक मरीज के14दिन के इलाज पर 2,80,000 से 3,50,000 रुपये खर्च होते हैं.आमतौरपर लगातारतीन से पांच परीक्षण नकारात्मक होने के बाद रोगियों को छुट्टी दे दी जाती है.कुछ मामलों में एक निश्चित परिणाम जानने केलिएआठ
से दसबार जांच कीजातीहैं.बॉलीवुडगायक 
कनिका कपूर का लगातार छह परीक्षणों के बाद रिजल्‍ट नेगेटिव आया था.
  🔆टेस्‍ट की कीमत 4500 रुपये🔅
कोविड 19 की जांच के लिए व्‍यक्ति के गले या नाक से लिए गए सैंपल (स्‍वैब) या फ्लूड टेस्‍ट के मामले में खर्च के तहत टेस्‍ट की कीमत 4,500 रुपये है (सुप्रीम कोर्ट ने विशेषज्ञों और अन्य लोगों की सुनवाई के बाद निजी लैब के लिए यह शुल्क निर्धारित किया है).सिर्फजांचकिट की कीमत3,000 रुपये है. अगर किसी व्‍यक्ति में कोविड 19 के लक्षण दिखते हैं तो उसे सरकारी खर्च पर एंबुलेंस से अस्‍पताल पहुंचाया जाता है.
कोरोना पॉजिटिवमरीज केएक बारआइसो
-लेशन वार्ड मेंचले जाने केबाद वहां केलिए कुछविशेष निर्देश होते हैं।जैसे प्रत्येककमरे में एक अलग शौचालय होना चाहिए और आमतौर पर किसी अन्य बेड की अनुमति नहीं होती है. यदि मरीज बुजुर्ग है या गंभीर है तो वेंटिलेटर आवश्यक है।.
कोट्टायम में 94 साल के व्यक्ति औरउसकी 88 साल की पत्नी एक सप्ताह से अधिक समय से वेंटिलेटर पर थेकुछ निजी अस्प
ताल वेंटिलेटर के लिए प्रतिदिन 25,000 से 50,000 रुपये के बीच पैसेलेते हैं.कमरे का किराया अस्पतालों केआधार पर निर्भर करता है. सबसे सस्ता अस्‍पताल प्रतिदिन 1,000 रुपये से 1,500 रुपये के बीच पैसे वसुलता है.
 💐PPE और दवा 1000 रुपये तक💐
कोविड19अस्पतालकेएक नर्सिंगअधीक्षक
केअनुसार,100बेड वालेकोविड-19अस्प
ताल में कम से कम 200 PPE किट की आवश्यकता होती है. डॉक्टरों और नर्सों को हर चार घंटे में अपनी किट बदलनी होती है. अगर मरीज वायरस के भारी भार के साथ गंभीर रूप से बीमार है, तो नर्सिंग स्टाफ के पीपीई किट को अक्सर बदलना पड़ता है.' एक स्‍टैंडर्ड पीपीई किट की कीमत 750 से 1,000 रुपये के बीच होती है.दवाओं की कीमत एक मरीजों केहिसाब 
से अलग-अलग होती है.एंटीबायोटिक्स, एंटी-विट्रियॉलऔर अन्य दवाओं कीकीमत एक मरीज के लिए 500 से 1,000 रुपये के बीच होती है।
🌻🌱🍁💐🔆🌸🍁🌻🌺💐🌹🌻       (A/2/a )मध्य प्रदेश इन 26 स्थानो में 14 दिनों में एक भी CORONA पॉजिटिव नहीं, अब यहां 'आजादी' के दिन आएंगे🏵
प्रदेश के इन 26 स्थानो  में बीते 14 दिनों में एक भी कोरोना के नए मामले सामने नहीं आएं हैं।
भोपाल. मध्य प्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। इन सब के बीच एक अच्छी खबर ये है कि प्रदेश के तीन जिलों में बीते 14 दिनों में एक भी कोरोना के नए मामले सामने नहीं आएं हैं। ऐसे में इन जगहों पर अब सरकारी ऑफिस खुल सकते हैं। दरअसल, स्वास्थ्य मंत्रालय ने पहले ही साफ कर दिया था कि जिन जिलों में बीते 14 दिन में एक भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला हो वहां थोड़ी सी रियायत दी जा सकती है।ऐसे में मध्‍यप्रदेश में लागू लॉकडाउन के बीच उन जिलों में 33 फीसद कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ सरकारी दफ्तर खोले जा सकेंगे, जहां बीते 14 दिन में एक भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। सामान्य प्रशासन विभाग ने सभी संभाग आयुक्त और कलेक्टरों को निर्देश दिए हैं कि जिला आपदा प्रबंधन समूह बैठक कर तय करेंगे कि कौन सा कार्यालय जिले में किस क्षमता के साथ खोला जाना है। इसके अलावे जो जिले कोरोना संक्रमण से मुक्त होते जाएंगे,वहां जिलास्तरपर कार्या
लय खोले जाने को लेकर निर्णय लिया जा सकता है।इसके अलावे विभाग ने यह भी साफ किया है कि लॉकडाउन अवधि में अनावश्यक बैठकें नहीं की जाएगी। जन
सुनवाई जैसे कार्यक्रम नहीं किए जाएंगे। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाएगा और सभी मास्क अनिवार्य रूप से लगाना होगा।इसके अलावा कर्मचारियों को बदल
-बदलकर बुलाया जाएगा।
इन जिलों में 14 दिन में कोई कोरोना संक्रमित नहीं।मध्य प्रदेश के शिवपुरी, 
ग्वालियर और छिंदवाड़ा जिले में बीते 14 दिनों से एक भी नया केस सामने नहीं है। इसके अलावे इन जिलों में कोरोना के एक भी मामले सामने नहीं आए हैं।.भिंड, गुना, अशोकनगर,दतिया,नीमच,झाबुआ,सीहोर, बुरहानपुर, हरदा, दमोह, पन्ना, छतरपुर, कटनी, सीधी, नरसिंहपुर, सिवनी, मंडला, बालाघाट, रीवा,सिंगरौली, सतना,उमरिया, डिंडौरी, शहडोल, अनूपपुर और निवाड़ी।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂🎂💐💐
💐(A/3)टीवी के 3 पॉपुलर सीरियल बंद- लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी नहीं होगी वापसी, चैनल का बड़ा फैसला।🌸
 कोरोना की वजह से हुए इस लॉकडाउन में इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री को काफी नुकसान सहना पड़ा है। ना सिर्फ फिल्में और टीवी शोज पोस्टपोन हुए हैं, बल्कि सभी शोज और फिल्मों की शूटिंग भी रूकी हुई है। सभी सिनेमाघर बंद हैं। जाहिर है निर्माताओं को इससे भारी नुकसान हो रहा है। सभी चैनलों पर शोज के रिपीट टेलीकास्ट दिखाए जा रहे हैं।
बता दें, इसी दौरान सोनी टीवी ने अपने तीन शोज- 1.बेहद 2, .इशारों इशारों में
3.पटियाला बेब्स
को ऑफ एयर करने का फैसला लिया है। जी हां, लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी ये तीन शोज वापस नहीं आएंगे। बॉम्बे टाइम्स को दिए बयान में चैनल ने कहा- इन तीन फिक्शन शोज का नेचर और नैरेटिव टाइम बाउंड है। मार्च से शूटिंग रुकी हुई है। हम जिस स्थिति में हैं, उसके कारण हम इन शोज की लॉजिकल एंडिंग शूट नहीं कर सकते।
               उन्होंने आगे कहा, 'ये तीनों शोज काफी अच्छे और पॉप्युलर रहे। अगर शूट चलता रहता है तो ये नैरेशन में जरूर कुछ नया लेकर आते। लेकिन सभी के हितों को ध्यान में रखते हुए और प्रड्यूसर्स के साथ सह- सहमति में फैसला किया गया है कि इन तीनों शोज को हमेशा के लिए बंद कर दिया जाए।' 
🔆टेलीविजन ठप्प🔆
कोरोना की वजह से इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का काम ठप पड़ चुका है। ना तो फिल्में बन रही हैं, ना किसी सीरियल की शूटिंग हो पा रही है। ऐसे में टेलीविजन पर कई शो का रिपीट दिखाया जा रहा है।
🔆दूरदर्शनकोलाइमलाइट🔅
वहीं दूरदर्शन ने 90 के दशक के सारे सीरियलों को री-टेलीकास्ट कर लाइमलाइट ले ली है। टेलीविजन का उपभोग 37 % तक बढ़ चुका है। और मुख्य तौर पर यह लॉकडाउन के 3 दिनों के बाद बढ़ना शुरु हुआ है। नॉन प्राइमटाइम में दर्शकों का 70 प्रतिशत तक इजाफा देखा गया है।
 🔆फिल्मे पोस्टपोन होने से नुकसान🔆
अक्षय कुमार- कैटरीना कैफ की सूर्यवंशी और अर्जुन कपूर- परिणीति चोपड़ा स्टारर संदीप और पिंकी फरार, रणवीर सिंह की '83.. आदि फिल्में पोस्टपोन हो चुकी है। फिलहाल इन फिल्मों की नई रिलीज की घोषणा नहीं की गई है। वहीं, आने वाले महीने में भी फिल्म की रिलीज पर प्रश्न चिन्ह बना हुआ है।
   🔆शूटिंग रूकी🔆
वहीं, सभी फिल्मों और सीरियलों की शूटिंग भी लगभग एक महीने से रूकी हुई है। जिस वजह से निर्माताओं को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। 
   🔆दिहाड़ी मजदूरों की मुश्किल🔆
टीवी इंडस्ट्री में तकरीबन 5 लाख से लोग करते हैं, जिनमें से ज्यादा संख्या दिहाड़ी मजदूरों की है। लाइटमैन, स्पॉटबॉय जैसे लोगों को भी इस लॉकडाउन में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि सलमान खान, राजू हिरानी, एकता कपूर, ऋतिक रोशन समेत कई बॉलीवुड, टीवी सितारे और निर्माता, निर्देशक मदद के लिए सामने आए हैं।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂🎂💐🌸💐
💐(A/4)कोरोना का कहर : अगर लॉक
डाउन बढ़ा तो इन 4 राज्यों की हालत हो जाएगी पतली।🌸
  नयी दिल्ली। वित्त वर्ष 2020-21 के बजट के आधार पर चार राज्यों, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, राजस्थान और उत्तर प्रदेश, के निकट भविष्य में दबाव का सामना करने की संभावना है। दरअसल अगर लॉकडाउन 3 मई के बाद आगे बढ़ा तो इन चारों राज्यों के लिए भुगतान करना मुश्किल हो सकता है। भले ही इन राज्यों को मदद मिले मगर इनकी हालत पतली हो सकती है। इस बात का खुलासा रिसर्च फर्म इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने किया है। इंडिया रेटिंग्स ने 18 राज्यों के मासिक खर्च की गणना की है। इंडिया रेटिंग्स का इन राज्यों के बारे में अनुमान कंसोलिडेटेड सिंकिंगफंड (सीएसएफ),गारंटी रिडेम्पशन फंड (जीआरएफ), ऑक्शन ट्रेजरी बिल्स (एटीबी) और सरकारी सिक्योरिटीज, वित्त वर्ष 2020-21 का मार्केट लोन और बढ़े हुए वेज एंड मीन्स एडवांसेज (डब्लूएमए) में मौजूद लिक्विडिटी पर आधारित है। इंडियारेटिंग्स की रिपोर्ट के मुताबिकराज्यों के अपने स्रोतों से महत्वपूर्ण राजस्व सूख गया है और यदि लॉकडाउन जारी रहता है तो कई राज्यों को भुगतान करना मुश्किल होगा।
🌸कई राज्य काट चुके कर्मचारियों का वेतन🌸
कई राज्यों ने पहले ही राज्य सरकार के कर्मचारियों के वेतन में कटौती कर दी है। ऐसी स्थिति में इंडिया रेटिंग्स का मानना है कि केंद्र सरकार को पैसे जुटाने का भारी काम करना होगा और इसे खर्च के लिए राज्य को देना होगा। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने 17 अप्रैल को राज्य सरकारों और केंद्रशासित प्रदेशों के लिए डब्ल्यूएमए सीमा बढ़ाकर 60 प्रतिशत कर दी है ताकि वे कर्ज लेने की बेहतर योजना बना सकें। रिपोर्ट में कहा गया है कि डब्ल्यूएमए राहत मदद करने के लिए बहुत कम है, क्योंकि इसका मतलब सिर्फ 19,335 करोड़ रुपये की अतिरिक्त लिक्विडिटी है।
🌸आरबीआई राज्यों को देता है खास सुविधा🌸
आरबीआई सीएसएफ, जीआरएफ, एटीबी और सरकारी प्रतिभूतियों को गिरवी रखने पर राज्य सरकारों को विशेष लोन सुविधा देता है।इससुविधा पर लीजाने वाली।ब्याज दर रेपो दरसे 200 बेसिस पॉइंट कम होती है।29 फरवरी 2020 तक सभी राज्यों की मिलकर सीएसएफ में 12.88 लाख करोड़ रुपये, जीआरएफ में 7,407 करोड़ रुपये, सरकारी प्रतिभूतियों में 662 करोड़ रुपये और एटीबी में 48,102 करोड़ रुपये यानी कुल मिलाकर18.5 लाख करोड़ रुपये थे।
    🔆ऐसे होती है राज्यों की कमाई🔆
राज्य सरकारें एसओटीआर (जिसमें बिक्री कर, राज्य उत्पाद शुल्क,एसजीएसटी,भूमि राजस्व, टिकट और पंजीकरण आदि), केंद्रीय टैक्स में हिस्सा और केंद्र सरकार से प्राप्त अनुदान के माध्यम से अपना राजस्व कमाती हैं मगर लॉकडाउनअवधि केदौरान एसओटीआर मेंकाफी गिरावटआई हैइससे राज्यों को झटका लगा है।
💐🎂💐🎂💐🎂🏵^💐🎂🎂💐💐
 💐(B)आज के दिन जन्मे सुप्रसिद्ध भारतीय गॉड ऑफ क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर का जीवन परिचय लेख💐


भारत रत्न’ सचिन रमेश तेन्दुलकर का जन्म 24 अप्रैल, 1973 को मुम्बई में राजा
पुर के एक मराठी ब्राह्मण मध्यमवर्गीय परिवारमें हुआ था।उन्होंनेअपनी प्रारम्भिक
शिक्षा मुम्बई के ही श्रद्धाश्रम विद्या मन्दिर स्कूलमें पूरी की।इसी स्कूल की क्रिकेटटीम में खेलतेहुए उनके क्रिकेटजीवन की शुरू
आत हुई थी।उन्हें प्रसिद्ध क्रिकेट प्रशिक्षक रमाकान्तअचरेकर का सान्निध्य प्राप्तहुआ, जिन्होंने छोटी उम्र में ही न केवल सचिनकी प्रतिभा को पहचाना, बल्कि उन्हें तराशने में भीअपना पूरा योगदान दिया । शुरूआत में सचिन एक तेज गेंदबाज बनना चाहते थे औरइसकेलिए वे एमआरएफपेसअकादमी
भी गए,परन्तुवहाँ केतत्कालीन कोचडेनिस
लिली ने उन्हें बैटिंग पर ध्यान केन्द्रित करने की नसीहत देकर वापस भेज दिया सचिन ने डेनिस के सुझाव पर अमल किया और उसकेबाद जो कुछ हुआ,वहखेलकीदुनिया 
का इतिहास बन गया । सचिन ने दाएँ हाथ के बल्लेबाज के रूप में अपने अन्तर्राष्ट्रिय कैरियर की शुरूआत 15 नवम्बर, 1989 को तथाएक-दिवसीय कैरियर कीशुरूआत 18 दिसम्बर,1989 को पाकिस्तान के विरुद्ध की थी ।
उसके बादइस महानखिलाड़ी नेपीछे मुड़
करनहींदेखाऔररिकॉर्ड-पर-रिकॉर्ड बनाता चला गया।सचिन कितनेमहान् क्रिकेटर हैं, इसकाअनुमानइस बातसे लगायाजासकता
 है किउन्होंने टेस्ट क्रिकेट में चार बार ‘मैन ऑफ द सीरीज’ एवं ग्यारह बार ‘मैन ऑफ द मैच’ का खिताब प्राप्त किया है।वे टेस्ट
क्रिकेट में 51 शतक एवं 68 अर्द्धशतकों के साथ 15,921 रन बनाने बाले दुनिया के प्रथम बल्लेबाज हैं।टेस्टक्रिकेट मेंउनका
अधिकतम स्कोर 248 रन रहा है। अन्तर्राष्ट्रीय एक-दिवसीय मैचों में उन्होंने 49शतकों एवं 96 अर्द्धशतकों केसाथ 18,426 रन बनाए हैं और ऐसा करने वाले वे दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज हैं ।
वर्ष 2003 के क्रिकेट विश्वकप में 673 रन बनाकर किसी भी विश्वकप में ऐसा करने वाले वे विश्व के प्रथम बल्लेबाज बने । उस विश्वकप में उन्हें ‘प्लेयर ऑफ द दूर्नामेंट’ का पुरस्कार प्राप्त हुआ।उन्होंने 24फरवरी
2010 को 442 वें मैच में दक्षिण अफ्रीका 
के खिलाफ दूसरेएक-दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय 
क्रिकेट मैच में 147 गेंदों में 25 चौकों और तीन छक्कोंकी मदद से नाबाद200रनबना
कर वनडे क्रिकेट इतिहास में पहला दोहरा
 शतक बनाने की उपलब्धि हासिल की ।
सचिन की इन उपलब्धियों का नतीजा है कि आज रिकॉर्ड एवं सचिन एक-दूसरे के पर्यायबनचुके हैं।क्रिकेटजगत् मेंबल्लेबाजी
के क्षेत्र के कुछ ही ऐसे रिकॉर्ड हैं, जिन पर सचिनका नाम नहीं लिखा गया है यासचिन जिनके बहुत नजदीक नहीं है ।स्थिति यह है कि समय-समय पर सचिन को दिए गए उपनाम;जैसे- रनमशीन’,लिटिल चैम्पियन’, ‘मास्टरब्लास्टर’आदि सचिन के कदकेआगे बौने लगते हैं।एक-दिवसीय क्रिकेट में 18,000 रनों के आँकड़े को छूकर और अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 32,000 रनों के आंकड़े को पार कर उन्होंने इस बात को सिद्ध कर दिया है ।अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 32,000 से अधिक रन बनाने बाले वे विश्व के प्रथम बल्लेबाज हैं । वे 200 टेस्ट एवं 463एक-दिवसीय मैचों केसाथ कुल663 अन्तर्राष्ट्रीय मैचखेलनेवाले दुनिया के पहले बल्लेबाज हैं।वे भारत कीओर से सर्वाधिक समयतक(20साल से
अधिक)अन्तर्राष्ट्रीय
क्रिकेट खेलने बाले खिलाड़ी भी हैं।हमेशाहीअपनी टीम के लिएऔरउससेभी अधिक
अपने देश के लिए खेलने बाले ‘भारत रत्न’ सचिनतेन्दुलकर ने 23 दिसम्बर,2012 को एक-दिवसीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की, किन्तु उससे भी बड़ा दिन तब आयाजब उन्होंने टेस्ट क्रिकेट सेभीसंन्यास लेनेकी घोषणा की ।इस अवसर पर उन्होंने कहा-“देश का प्रतिनिधित्व करना और पूरी दुनिया में खेलना मेरे लिए बड़ा सम्मान था । मुझे घरेलू जमीन पर 200वाँ टेस्ट खेलने का इन्तजार है,जिसके बाद संन्यास लेलूँगा ।”उनकी इच्छा के अनुसार उनका अन्तिम टेस्ट मैच वेस्टइण्डीज के विरुद्ध मुम्बई के ‘वानखेड़े स्टेडियम’ में ही खेला गया।16 नवम्बर,2013 को खेले गए इस मैच में
उन्होंने74 रनों की पारी खेली।मैच का परिणाम भारत के पक्ष में हुआ और साथ ही इस महान् क्रिकेटर ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया।संन्यास के संकल्पके बाद भारत सरकार ने उन्हें देश का सबसे बड़ा नागरिक सम्मान भारत रत्न’देनेकीअधिका
-रिक घोषणा कर दी ।4 फरवरी, 2014 को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उन्हें राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया।वे 40 वर्ष की आयु में इस सम्मानको प्राप्त करने बाले सबसे कम उम्र केव्यक्ति औरप्रथमखिलाड़ीहैं। वर्तमान में ‘भारत रत्न’ सचिन तेन्दुलकर राज्यसभा के सदस्य हैं,जिन्हें वर्ष 2012 में राज्यसभा के सदस्य के रूप में नामित किया गया था 
सचिन की उपलब्धियों कोदेखते हुए भारत सरकारनेउन्हें वर्ष 1994 मेंअर्जुनपुरस्कार, वर्ष 1997-98 में ‘राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार’एवं वर्ष 1999 में ‘पद्मश्री’सेसम्मा
-नित किया । वर्ष 1997 में उन्हें ‘विज्डन क्रिकेटर ऑफद ईयर’ चुना गया।वर्ष2001
में महाराष्ट्र सरकार ने उन्हें ‘महाराष्ट्र भूषण अवार्ड’ प्रदान किया।वर्ष 2006 में ‘टाइम’ पत्रिकानेउन्हेंएशिया मेसर्वकालिक नायकों
में से एक माना।उसी वर्ष उन्हें ‘स्पोर्ट्स पर्सन ऑफ द ईयर’ का भी पुरस्कार प्राप्त हुआ । वर्ष 2008 में भारत सरकार ने उन्हें ‘पद्म विभूषण’ से सम्मानित किया । इसके बाद देश-विदेश के कई संस्थानों ने उन्हें विभिन्न पुरस्कारों एवं सम्मानों से सम्मानित एवं विभूषितकिया ।वर्ष 2010मेंआईसीसी
ने उन्हें ‘क्रिकेटर ऑफ द ईयर’ चुना । इसी वर्षभारतीय
वायुसेना ने उन्हें ग्रुप कैप्टन का सम्मान दिया। विश्व के सर्वाधिक लोकप्रिय क्रिकेटर बन चुके सचिन अत्यन्त सरल एवं साधारण इंसान के रूप में जीते हैं ।उनकी पत्नी अंजलि पेशे से एक डॉक्टर हैं।सचिन 
अपना खाली समय अपनी पत्नी एवं बच्चों के साथ बिताना पसन्द करते हैं।युवाओंका आदर्श बन चुके सचिन का कैरियर बेदाग एवं विवादों से परे है। यह भी उनकी एक बड़ीउपलब्धि हे।विज्ञापन में अपारधन एवं चकाचौंध ने जब हर खिलाड़ी का ईमान हिलाकर रख दिया है, ऐसे समय में शराब के विज्ञापन के लिए उन्होंने सीधे शब्दों में मना कर एक मिसाल कायम की।इससे पता चलता है कि वे समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी को भी बखूबी समझते हैं और यही बात उन्हें अन्य खिलाड़ियों से अलग करती है । सचिन तेन्दुलकर जैसे होनहार खिलाड़ी धरती पर कभी-कभी ही जन्म लेते हैं । आने वाली पीढ़ियों के लिए उनका जीवन प्रेरणा का अमूल्य एवं विशाल स्रोत है । वे निश्चय ही भारत के   गौरव  मास्‍टर ब्‍लास्‍टर सचिन तेंदुलकर 44 साल के हो गए हैं।सचिन नेभले हीक्रिकेट कोअलविदा कह दिया हो,लेकिनआज भी उनकी उम्‍दा बल्‍लेबाजी के गवाह क्रिकेट के मैदान और उनके फैन्‍स,उन्‍हेंभूल नहीं पाए हैं।सचिनतेंदुलकर नेक्रिकेटके सभी फॉर्मेटपरअपनी
छाप छोड़ी है. उनकी बल्‍लेबाजी का लोहा केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी माना जाता है।.
100 अंतर्राष्ट्रीय शतक: टेस्‍ट में 51 और वनडे मैचों में 49 शतक के साथ, सचिन के नाम 100अंतरराष्‍ट्रीय शतक बनाने काभी रिकॉर्ड दर्ज है उन्‍होंने16 मार्च,2012  को एशिया कप के चौथे वनडे के दौरान बांग्लादेश के खिलाफ अपने100वां शतक लगाया था।भारत के लिए खेलना सचिन तेंदुलकर का सपना सच होने जैसाथा। 21 साल व 5 विश्‍व कप खेलने के बाद सचिन के योगदान से सन 2011में भारत ने विश्‍व कप पर कब्‍जा जमाया।वनडे डबल सेंचुरी: वन डे क्रिकेटमें पहला दोहरा शतक सचिन तेंदुलकर ने ही लगया.क्रिकेट के इसफॉर्मेट कोइसके लिए 39 साल तक इंतजारकरना
पड़ा. सचिन ने फरवरी 2010 में ग्वालियर में दक्षिण अफ्रीका केखिलाफ नाबाद 200 रन बनाए थे.सचिन ने वनडे क्रिकेटमेपाकि
स्तान के सईद अनवरऔर जिम्बाब्वे के चार्ल्स कॉन्वेंट्री के 194 रनों के रिकॉर्ड को भी तोड़ा था।
टेस्ट क्रिकेट में बनाए सर्वाधिक रन: सचिन तेंदुलकर टेस्ट मैचों में सबसे ज्‍यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं. उन्होंने 1989 में पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला मैच खेला और 200 टेस्ट मैचों में 15921 रन बनाएं.
वनडे क्रिकेट में बनाए सर्वाधिक रन: मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने अपने एकदिवसीय करियर के 463 मैचों मे 18426 रन बनाए हैं.
सचिन ने 11 दिसंबर 1988 में अपने पहले प्रथम श्रेणी मैच में मुंबई की ओर से गुजरात के ख़िलाफ़ नाबाद 100 रन बनाए थे. इसी के साथ वह इस उपलब्धि को हासिल करने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय बन गए.
सचिन तेंदुलकर भारत के पहले और एकमात्र ऐसे क्रिकेटर हैं जिन्होंने अपने पहले रणजी, दिलीप और ईरानी ट्रॉफी मैच में शतक लगाया था.
आईपीएल के इस दौर में, आपको जानकर हैरान होगी कि 1995 में सचिन दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट खिलाड़ी बने. उन्‍होंने वर्ल्डटेल द्वारा 31.5 करोड़ रुपये के पांच साल के अनुबंध पर हस्ताक्षर कर इतिहास भी बनाया.
सितंबर 2010 में सचिन तेंदुलकर को भारतीय वायु सेना में ग्रुप कैप्टन का मानद पद मिला था. यह खिताब पाने वाले सचिन पहले खिलाड़ी हैं।.
💐🎂💐🎂💐🎂💐💐💐💐💐🎂
 💐(C)आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ 💐
1982 -15 वर्षों के इजरायली आधिपत्य के बाद सिनाई प्राय:द्वीप क्षेत्र मिस्र को वापस।
 1998 - क्लोन भेड़ डोली द्वारा एक स्वस्थ मेमने बॉनी का जन्म। 
2002 - अर्जेन्टीना में बैंक अनिश्चित काल के लिए बंद। 
2003 - तमिल विद्रोहियों का मानवीय मसलों पर होने वाली 17वें दौर (थाइलैंड) की वार्ता में भाग लेने से इन्कार।
2006 - नेपाल में संसद बहाल। 
2007 - हमास ने इस्रायल पर हमला करके युद्ध विराम को तोड़ा। 
2008 - नेपाल में नई सरकार का गठन करने जा रहे माओवादी नेता पुष्पकमल दहल उर्फ प्रचण्ड ने भारत व नेपाल के मध्य 1950 में हुई संधि को समाप्त करने की घोषणा की। 
💐🎂💐🎂💐🎂🌸💐🎂💐🎂💐
 💐(D)आज के दिन जन्मे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व 💐
1945 - लैरी टेस्लर - अमेरिका के एक कम्प्यूटर वैज्ञानिक थे।
 1973 - प्रमोद सावंत - भारतीय राजनीतिज्ञ और गोवा के मुख्यमंत्री। 1973 - सचिन तेंदुलकर - भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी। 
1956 - तीजनबाई - छत्तीसगढ़ राज्य की पहली महिला कलाकार और 'पण्डवानी' की 'कापालिक शैली' की गायिका। 1940 - अज़ीज़ क़ुरैशी, भोपाल) मिजोरम के पूर्व राज्यपाल थे। 
1929 - शम्मी - भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री हैं। 
1928 - राजकुमार (दक्षिण भारतीय अभिनेता), प्रसिद्ध कन्नड़ अभिनेता 1908 - वायलेट अल्वा - भारतीय अधिवक्ता, पत्रकार और राजनीतिज्ञ थीं। 1888 - विष्णु राम मेधी - भारतीय राजनीतिज्ञ, स्वतंत्रता सेनानी और असम के दूसरे मुख्यमंत्री थे।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐
  💐(E)आज के दिन निधन हुवे     
        महत्वपूर्ण  व्यक्तित्व💐
1934 में भारतीय न्यायाधीश एवं राज
नेता सी. शंकरन नायर का  निधन।
1944 में हिन्दी के समाचार पत्र ‘दैनिक आज’केसंस्थापकऔर प्रसिद्धक्रान्तिकारी
शिवप्रसाद गुप्त का  निधन।
1960 मेंप्रसिद्ध लेखक और सार्वजनिक कार्यकर्ता अन्ना साहब भोपटकर का  निधन।
1972 में भारत के प्रसिद्ध चित्रकार जामिनी रॉय का  निधन।
1974 में हिन्दी कवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ का  निधन।
2009 में एक यशस्वी लेखक, कवि तथा ओजस्वी वक्ता महात्मा रामचन्द्र वीर का  निधन।
2011 में आध्यात्मिक गुरु सत्य साईं बाबा का  निधन।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂🎂💐💐
🌸(F) आज के दिन महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव
1 मानव एकता दिवस।
2.अज़ीज़ क़ुरैशी, भोपाल) मिजोरम के पूर्व राज्यपाल थे का जयंती दिवस।
3.शम्मी -भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री हैं का जन्मदिन ।
4.राजकुमार (दक्षिण भारतीय अभिनेता), प्रसिद्ध कन्नड़ अभिनेता का जयंति दिवस
5अन्ना साहब भोपटकर का पुण्यतिथि दिवस।
6 भारत के प्रसिद्ध चित्रकार जामिनी रॉय का का पुण्य तिथि दिवस।
7 हिन्दी कवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ का  पुण्य तिथि दिवस।
🌻💐🌹🌲🌱🌸🌸🌲🌹💐💐🌻 
आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐