चीन में सामने आया एक और खतरनाक वायरस

पहले कोरोना और अब हंता वायरस : चीन में सामने आया एक और वायरस


तेज बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द, पेट में दर्द, उल्टी, डायरिया जैसे लक्षण हंता के संक्रमण का इशारा करते हैं


      कोरोनावायरस के खौफ के बीच एक और वायरस हंटावायरस से संक्रमण का मामला सामने आया है। चीन के ग्लोबल टाइम्स ने ट्वीट करके बताया कि युनान प्रांत में हंटावायरस की वजह से एक शख्स की मौत हो गई। शख्स सोमवार को शैंगडॉन्ग प्रांत से युनान आया था।


      अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (सीडीसी) के मुताबिक, यह ऐसे समूह का वायरस जो खासतौर पर चीजों को कुतरने वाले जीवों (रोडेंट्स) से फैलता है जैसे चूहे और गिलहरी।


      अमेरिका में इस वायरस को न्यू वर्ल्ड हंता वायरस और यूरोव व एशिया में ओल्ड वर्ल्ड हंता वायरस के नाम से जाना जाता है। यह हंता वायरस पल्मोनरी सिंड्रोम नाम की बीमारी की वजह है। हंता वायरस के कई प्रकार हैं जो रोडेंट्स की अलग-अलग प्रजातियों से फैलते हैं। वायरस के वाहक चूहे के यूरिन, मल और लार के संपर्क में आने पर इंसान संक्रमित हो जाते हैं।



      सीडीसी के मुताबिक, यह वायरस तीन तरह से फैलता है-



  • अगर वायरस का वाहक चूहा किसी इंसान को काट ले, हालांकि ऐसे मामले कम ही सामने आते हैं।

  • किसी जगह या चीज पर मौजूद चूहे का मल-मूत्र या लार के संपर्क में इंसान आता है और अपने नाक-मुंह को छूता है।

  • अगर इंसान ऐसी चीज खाता है जिस पर चूहे का मल-मूत्र या लार मौजूद हो।


      हंता वायरस हवा के जरिए नहीं फैलता फिर भी कोरोना वायरस के मुकाबले ज्यादा खतरनाक है। अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल के मुताबिक, हंता वायरस भी जानलेवा है।


      विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, दुनियाभर में कोरोना वायरस के कारण मौत का ग्लोबल रेट सटीक तरह से पता लगने में कुछ वक्त लग सकता है।


      फिलहाल इसे 3-4% के बीच माना जा रहा है। वहीं, फरवरी में जारी रिपोर्ट के मुताबिक नए कोरोनावायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित चीन में यह दर 3.8% थी जो अब 4% पार कर चुकी है। वहीं, अमेरिका में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस का डेथ रेट 1.2% है। यानी कि कोरोना वायरस के इन्फेक्शन होने पर बचने के चांस काफी ज्यादा होते हैं।


वैज्ञानिकों ने अब तक हंतावायरस के 5 स्ट्रेन खोजे हैं, इनमें से सबसे ज्यादा खतरनाक अराराक्वॉरा वायरस है जिसका इन्फेक्शन होने पर डेथ रेट 54% पाया गया है। वहीं, एक दूसरा स्ट्रेन सिन नॉम्ब्रे वायरस है जिसके केस में डेथ रेट 40% है। तीसरा स्ट्रेन हंतान वायरस होता है। इसका डेथ रेट 5-10% के बीच है। इन तीनों में से किसी से इन्फेक्शन होने पर मौत का खतरा कोरोना की तुलना में कहीं ज्यादा हो सकता है।


Comments