आज की बात आपके साथ - विजय निगम


प्रिय साथियो।  
💐राम-राम💐 
💐 नमस्ते।💐


आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का 
दिनांक   03 जनवरी 2020  शुक्रवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।


  आज की बात आपके साथ  अंक मे है 


A कुछ रोचक समाचार 
B आज के दिन जन्मे प्रसिद्ध प्रथम शिक्षिका एवम समाज सुधारिका सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले का जीवन परिचय  लेख. ।
Cआज के दिन की ऐतिहासिक महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
  💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
                    
              💐 (A) कुछ रोचक समाचार 💐
💐(A/1)इस उम्र में आते ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह देंगे विराट कोहली जाने आप भी !💐
💐(A/2)  दो दिवसीय दौरे पर बंगलूरू पहुंचे पीएम मोदी, किसान सम्मान निधि की तीसरी किस्त करेंगे जारी💐
💐(A/3)खाना खाया, पैर दबाए और फिर कर दिया गुरु के परिवार का खात्मा, कबूला जुर्म, बताई ये बड़ी वजह💐
💐(A/4)राजस्थान के कोटा में 8 और बच्चों ने तोड़ा दम, दिसंबर में कुल 100 की मौत।💐
💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂#💐🎂💐🎂💐
            💐 (A) कुछ रोचक समाचार 💐
💐 (A/1) इस उम्र में आते ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह देंगे विराट कोहली जाने आप भी !
तो इस उम्र में संन्यास ले लेंगे भारतीय कप्तान विराट कोहली💐
भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेले गए पहले वनडे मैच के बाद विराट कोहली के एक ट्वीट ने भारतीय क्रिकेट फैंस के दिलों में खलबली मचा दी थी।विराट कोहली ने पहले वनडे मैच के बाद ट्वीट किया था कि उनके पास अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के लिए कुछ ही साल बचे हैं और मैं क्रिकेट को पूरा इंजॉय करना चाहता हूं।इसी ट्वीट के बाद भारतीय क्रिकेट फैंस ने विराट कोहली जी के पूछना शुरू कर दिया कि कहीं आप सन्यास की बात तो नहीं कर रहे एक क्रिकेट फैन ने तो यह तक लिख दिया था कि मैं आपके बिना क्रिकेट की कल्पना भी नहीं कर सकता।इसी संदर्भ में विराट कोहली के बचपन के कोच राजकुमार शर्मा का एक बड़ा बयान सामने आया है राजकुमार शर्मा का कहना है कि विराट कोहली के रन ओं की भूख इतनी जल्दी समाप्त नहीं होने वाली है मैं लगभग 40 साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते रहेंगे।
 राजकुमार शर्मा एवं विराट कोहली के बचपन की कुछ यादें है और विराट कोहली के सन्यास की खबरों के बीच उन्होंने इस संदर्भ में बयान दिया था कि विराट कोहली के रनों की भूख इतनी जल्दी समाप्त नहीं होने वाली है वह लगभग 10 साल तक तो और भारतीय क्रिकेट में अपना योगदान देते रहेंगे।
# 💐#🎂#💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂#💐#💐 
 💐(A/2)  दो दिवसीय दौरे पर बंगलूरू पहुंचे पीएम मोदी, किसान सम्मान निधि की तीसरी किस्त करेंगे जारी💐
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय कर्नाटक दौरे पर बंगलूरू पहुंचे।तुमकुर में श्री सिद्धगंगा मठ जाएंगे पीएम मोदी।
किसान सम्मान निधि की तीसरी किस्त जारी करेंगे पीएम मोदी।
डीआरडीओ युवा वैज्ञानिक लैबोरेटरी का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी।
                      💐   विस्तार।  💐
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को दो दिवसीय कर्नाटक दौरे पर बंगलूरू पहुंच गए हैं। इस दौरान पीएम मोदी बंगलूरू और तुमकुर में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। उनका तुमकुर में श्री सिद्धगंगा मठ जाने का भी कार्यक्रम है।इसकेअलावा पीएम मोदी एक रैली में कृषि कर्मण पुरस्कार भी वितरित करें।इसदौरेपर वह
 तुमकुर में श्री सिद्धगंगा मठ जाएंगे,जहां वह श्री शिव
-कुमार स्वामीजी ₹के एक स्मारक संग्रहालय कीआधार
शिला रखने केक्रम में एक पट्टिका का अनावरण करेंगे।
 साथ ही इस यात्रा के दौरान प्रार्थना में शामिल होने के साथ-साथ इस मठ में पौधारोपण भी करेंगे। किसान 
सम्मान निधि योजना की तीसरी किस्त आज होगीजारी
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की तीसरी किस्त को आज ही जारी किया जाएगा। पीएम मोदी कर्नाटक से इस योजना की तीसरी किस्त जारी करेंगे। इस योजना से देश भर के छह करोड़ किसानों को लाभ होगा। लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार ने इस योजना की शुरुआत की थी, जिसके जरिए किसानों को छह हजार रुपये सालाना की मदद मिलेगी। प्रधान
मंत्री मोदी आज लगभग 12 हजार करोड़ रुपये की धनराशि को जारी करेंगे।कृषि कर्मण पुरस्कार वितरित करेंगे पीएम मोदी
पीएम मोदी तुमकुर में एक सार्वजनिक सभा में कृषि कर्मण पुरस्कार वितरित करेंगे। प्रधानमंत्री प्रगतिशील किसानों के लिए कृषि मंत्री के कृषि कर्मण पुरस्कार भी देंगे।
डीआरडीओ युवा वैज्ञानिक लेबोरेटरी का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी
रक्षा क्षेत्र में स्वदेशी अनुसंधान क्षमताओं को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने कर्नाटक दौरे के दौरान पांच डीआरडीओ युवा वैज्ञानिक लेबोरेटरी का उद्घाटन करेंगे। पीएम मोदी गुरुवार को पांच डीआरडीओ युवा वैज्ञानिक प्रयोगशालाएं राष्ट्र को समर्पित करेंगे।
💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
 💐 (A/3)खाना खाया, पैर दबाए और फिर कर दिया गुरु के परिवार का खात्मा, कबूला जुर्म, बताई ये बड़ी वजह
          💐  -हत्यारोपी गिरफ्तार -💐 
मशहूर गायक अजय पाठक की मंडली का सबसे खास शिष्य था हिमांशु। एक तरह से वो अजय का पीए था। हर काम में आलराउंडर, स्मार्ट पर्सनेल्टी, फेसबुक और सोशल मीडिया में भी सक्रिय था। मंडली के साथ गाने बजाने और कार चलाने में भी एक्सपर्ट हो गया था। रात को गुरुजी (अजय) के घर ही सोया था। उनके पैर भी दबाए और इस दौरान उसने वारदात को अंजाम दे दिया। बुधवार को पूरे शामली शहर में इसी घटना की चर्चा थी। करीब दो ढाई साल पूर्व भजन मंडली से जुड़ने पर हिमांशु ने अजय पाठक का भरोसा जीत लिया था। मंडली में गाने बजाने में सहयोग के अलावा वो ड्राइविंग भी करता है। अजय पाठक के परिवार में आना जाना भी था। अक्सर रात को उनके घर रुक जाता था।पुलिस के अनुसार घटना वाली रात भी हिमांशु अजय पाठक के घर ही रुका। खाना खाया और अजय पाठक के पैर भी दबाए। रात को ही उसने पूरे परिवार का खात्मा कर दिया।
मशहूर गायक मर्डर केस: पुलिस के हाथ लगे ये अहम सबूत, ऐसे किया था पूरे परिवार का खात्मा
शामलीः मशहूर गायक सहित चार की हत्या मामले में आरोपी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा
आखिर शिष्य क्यों बना कातिल, चार हत्याओं के पीछे छिपा बड़ा राज, मशहूर गायक थे अजय पाठक
देश में था नए साल का जश्न, हत्यारोपी कार सहित जला रहा था मासूम का शव, चार हत्याओं की खौफनाक कहा पुलिस के सामने भोला बनता रहा हत्यारोपी हत्यारोपी हिमांशु पुलिस गिरफ्त में आने के बाद खुद को भोला साबित करता दिखाई दिया। मीडिया के सामने पेश करने पर वह बोला कि मैंने तो गुरुजी से अपने रुपये मांगे थे, उन्हें बताया था कि कर्जा है। बैंक वाले परेशान कर रहे हैं। रात भी उनसे अपने रुपये मांगे लेकिन उन्होंने भला बुरा कहा और रुपये नहीं दिए ।आरोपी हिमांशु ने अफसोस जाहिर कर कहा कि उसके रुपये नहीं दिए और डांट दिया, अपशब्द कहे। उसने बहुत अपमानित महसूस किया। उसके बाद कमरे से नीचे आ गया। उसे पता नहीं क्या हुआ। उसे अब खुद भरोसा नहीं हो रहा है कि उसने ये क्या कर दिया है। पूछने पर बताया कि उसने घर में ही रखी तलवार और चाकू उठाकर पाठक परिवार पर वार किया।एसपी के अनुसार आरोपी हिमांशु ने अजय की कार को मकान के बाहर लगाकर पहली मंजिल से भागवत और वसुंधरा का शव नीचे घसीटते हुए उतारा। भागवत का शव कार की डिक्की में डाल दिया लेकिन वसुंधरा का शव भारी होने की वजह से वह उठा नहीं सका। तब तक दिन निकल चुका था और काफी रोशनी हो गई थी। गली में आवाजाही देख उसने वसुंधरा का शव वापस कमरे में रख दिया और उस पर रजाई डाल दी। कमरे को बाहर से ताला लगा दिया।
इसके बाद वह फिर से अजय और स्नेहा के कमरे में गया और उनके शवों पर कंबल डाल दिया। सभी के मोबाइल फोन अपने साथ ले गया। हिमांशु ने हड़बड़ी में मकान की तलाशी भी ली। स्नेहा की अलमारी में ताला नहीं था, अलमारी खोलकर उसने हर बैग निकाल लिया और कमरा बाहर से बंद कर चला गया
 💐🎂💐@#🎂💐🎂@#💐🎂@#@#💐


  💐(A/4)राजस्थान के कोटा में 8 और बच्चों ने तोड़ा दम, दिसंबर में कुल 100 की मौत।💐


राजस्थान के कोटा अस्पताल में बच्चों की मौत का सिलसिला जारी है। राजस्थान के कोटा जिले के जेके लोन अस्पताल में दिसंबर के अंतिम दो दिन में कम से कम 8 और शिशुओं की मौत हो गई। इसके साथ ही इस महीने अस्पताल में मरने वाले शिशुओं की संख्या 100 हो गई है। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी।
पिछले 23-24 दिसंबर को 48 घंटे के भीतर अस्पताल में 10 शिशुओं की मौत को लेकर काफी हंगामा हुआ था। हालांकि, अस्पताल के अधिकारियों ने कहा था कि यहां 2018 में 1,005 शिशुओं की मौत हुई थी और 2019 में उससे कम मौतें हुई हैं।
अस्पताल के अधीक्षक के अनुसार अधिकतर शिशुओं की मौत मुख्यत: जन्म के समय कम वजन के कारण हुई।
मंगलवार को लॉकेट चटर्जी, कांता कर्दम और जसकौर मीणा समेत भाजपा सांसदों के एक संसदीय दल ने अस्पताल का दौरा कर उसकी हालत पर चिंता जतायी थी। दल ने कहा कि एक ही बेड पर दो-तीन बच्चे थे और अस्पताल में पर्याप्त नर्सें भी नहीं हैं। इससे पहले राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने राज्य की कांग्रेस सरकार को नोटिस जारी किया था।
आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने कहा था, "अस्पताल परिसर के भीतर सुअर घूमते पाए गए।" राजस्थान सरकार की एक समिति ने कहा कि शिशुओं का सही इलाज किया जा रहा है।
💐🎂@💐🎂💐🎂💐#🎂💐🎂💐🎂💐
   
 💐(B)आज के दिन।भारत की प्रथममहिलाशिक्षिका,
      समाज सुधारिका एवं मराठी कवयित्री जन्मी 
   सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले  का जीवन परिचय💐


  सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले (3 जनवरी 1831 – 10 मार्च 1897) भारत की प्रथम महिला शिक्षिका, समाज सुधारिका एवं मराठी कवयित्री थीं। उन्होंने अपने पति ज्योतिराव गोविंदराव फुले के साथ मिलकर स्त्री अधिकारों एवं शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए। वे प्रथम महिला शिक्षिका थीं। उन्हें आधुनिक मराठी काव्य का अग्रदूत माना जाता है। 1852 में उन्होंने बालिकाओं के लिए एक विद्यालय की स्थापना की।
               💐  जीवन   परिचय।  💐
सावित्रीबाई फुले का जन्म 3 जनवरी 1831 को हुआ था। इनके पिता का नाम खन्दोजी नेवसे और माता का नाम लक्ष्मी था। सावित्रीबाई फुले का विवाह 1840 में ज्योतिबा फुले से हुआ था।
सावित्रीबाई फुले भारत के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रिंसिपल और पहले किसान स्कूल की संस्थापक थीं। महात्मा ज्योतिबा को महाराष्ट्र और भारत में सामाजिक सुधार आंदोलन में एक सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति के रूप में माना जाता है। उनको महिलाओं और दलित जातियों को शिक्षित करने के प्रयासों के लिए जाना जाता है। ज्योतिराव, जो बाद में ज्योतिबा के नाम से जाने गए सावित्रीबाई के संरक्षक, गुरु और समर्थक थे। सावित्रीबाई ने अपने जीवन को एक मिशन की तरह से जीया जिसका उद्देश्य था विधवा विवाह करवाना, छुआछूत मिटाना, महिलाओं की मुक्ति और दलित महिलाओं को शिक्षित बनाना। वे एक कवियत्री भी थीं उन्हें मराठी की आदिकवियत्री के रूप में भी जाना जाता था।
'              💐    सामाजिक मुश्किलें।   💐
वे स्कूल जाती थीं, तो विरोधी लोग पत्थर मारते थे। उन पर गंदगी फेंक देते थे। आज से 160 साल पहले बालिकाओं के लिये जब स्कूल खोलना पाप का काम माना जाता था कितनी सामाजिक मुश्किलों से खोला गया होगा
सावित्रीबाई पूरे देश की महानायिका हैं। हर बिरादरी और धर्म के लिये उन्होंने काम किया। जब सावित्रीबाई कन्याओं को पढ़ाने के लिए जाती थीं तो रास्ते में लोग उन पर गंदगी, कीचड़, गोबर, विष्ठा तक फैंका करते थे। सावित्रीबाई एक साड़ी अपने थैले में लेकर चलती थीं और स्कूल पहुँच कर गंदी कर दी गई साड़ी बदल लेती थीं। अपने पथ पर चलते रहने की प्रेरणा बहुत अच्छे से देती हैं।
               💐    विद्यालय की स्थापना।  💐
1848 में पुणे में अपने पति के साथ मिलकर विभिन्न जातियों की नौ छात्राओं के साथ उन्होंने एक विद्यालय की स्थापना की। एक वर्ष में सावित्रीबाई और महात्मा फुले पाँच नये विद्यालय खोलने में सफल हुए। तत्कालीन सरकार ने इन्हे सम्मानित भी किया। एक महिला प्रिंसिपल के लिये सन् 1848 में बालिका विद्यालय चलाना कितना मुश्किल रहा होगा, इसकी कल्पना शायद आज भी नहीं की जा सकती। लड़कियों की शिक्षा पर उस समय सामाजिक पाबंदी थी। सावित्रीबाई फुले उस दौर में न सिर्फ खुद पढ़ीं, बल्कि दूसरी लड़कियों के पढ़ने का भी बंदोबस्त किया, वह भी पुणे जैसे शहर में।
                   💐      निधन।  💐
10 मार्च 1897 को प्लेग के कारण सावित्रीबाई फुले का निधन हो गया। प्लेग महामारी में सावित्रीबाई प्लेग के मरीज़ों की सेवा करती थीं। एक प्लेग के छूत से प्रभावित बच्चे की सेवा करने के कारण इनको भी छूत लग गया। और इसी कारण से उनकी मृत्यु हुई।
       💐सावित्रीबाई फुले पर प्रकाशित साहित्य💐
क्रांतिज्योती सावित्रीबाई फुले (लेखिका : शैलजा मोलक)
क्रांतिज्योती सावित्रीबाई फुले (लेखक : ना.ग. पवार)
क्रांतिज्योती सावित्रीबाई फुले (लेखक : नागेश सुरवसे)
क्रांतिज्योती सावित्रीबाई फुले (विद्याविकास) (लेखक : ज्ञानेश्वर धानोरकर)
त्या होत्या म्हणून (लेखिका : डॉ. विजया वाड)
व्हय मी सावित्रीबाई फुले' हे नाटक (एकपात्री प्रयोगकर्ती आद्य अभिनेत्री : सुषमा देशपांडे) (अन्य सादरकर्त्या - डॉ. वैशाली झगडे)
साध्वी सावित्रीबाई फुले (लेखिका : फुलवंता झोडगे)
सावित्रीबाई फुले (लेखक : अभय सदावर्ते)
सावित्रीबाई फुले (लेखिका : निशा डंके)
सावित्रीबाई फुले (लेखक : डी.बी. पाटील )
सावित्रीबाई फुले - श्रध्दा (लेखक : मोहम्मद शाकीर)
सावित्रीबाई फुले (लेखिका : प्रतिमा इंगोले )
सावित्रीबाई फुले (लेखक : जी.ए. उगले)
सावित्रीबाई फुले (लेखिका : मंगला गोखले)
सावित्रीबाई फुले : अष्टपैलू व्यक्तिमत्त्व (लेखक : ना.ग. पवार)
हाँ मैं सावित्रीबाई फुले' (हिंदी), (प्रकाशक : अझिम प्रेमजी विद्यापीठ)
ज्ञान ज्योती माई सावित्री फुले (लेखिका : विजया इंगोले)
ज्ञानज्योती सावित्रीबाई फुले (लेखिका उषा पोळ-खंदारे)
Savitribai - Journey of a Trailblazer (Publisher : Azim Premji University)
Shayera.Savitri Bai Phule (in urdu)Author Dr.Nasreen Ramzan Sayyed
               💐   गूगल डूडल 💐
3 जनवरी 2017 को उनके 186 वे जन्मदिवस पर गूगलने उनका गूगल डूडल प्रसिद्ध कर उन्हें अभिवादन किया है।
💐🎂💐@🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐💐


 💐(C)आज के दिन की महत्वपूर्ण ऐतिहासिक 
                          घटनाए।💐
1833 - ब्रिटेन ने दक्षिण अटलांटिक के फ़ॉकलैंड द्वीप पर कब्जा जमाया।
1894 - रवीन्द्र नाथ टैगोर ने 'शांति निकेतन' में 'पौष मेला' का उद्घाटन किया।
1901 - 'शांति निकेतन' में ब्रह्मचर्य आश्रम खुला।
1911 - अमेरिका में डाक बचत बैंक का उद्घाटन हुआ।
1929 - महात्मा गांधी लॉर्ड इरविन से मिले।
1943 - टेलीविजन पर पहली बार गुमशुदा लोगों के बारे में सूचना का प्रसारण किया गया।
1956 - फ्रांस में 'एफिल टॉवर' के ऊपरी हिस्से में आग लगने से नुकसान।
1957 - अमेरिका के पेनसिल्वेनिया में पहली बार बिजली घड़ी प्रदर्शित की गयी।
1959 - अलास्का को अमेरिका का 49वां राज्य घोषित किया गया।
1968 - देश के पहले मौसम विज्ञान रॉकेट 'मेनका' का प्रक्षेपण।
1974 - बर्मा (अब म्यांमार) में संविधान को अंगीकार किया गया।
1991 - इजरायल ने 23 साल बाद सोवियत संघ में वाणिज्य दूतावास को दोबारा खोला।
ब्रिटेन से इराकी दूतावास के अाठ अधिकारियों को निष्कासित किया गया।
1993 - अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज बुश एवं रूस के राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन द्वारा 'स्टार्ट द्वितीय' संधि पर हस्ताक्षर किया गया।
अमरीका और रूस ने अपने परमाणु हथियारों की संख्या को आधा करने पर सहमति जतायी।
1995 - हरियाणा के डबवाली में एक स्कूल में लगी भीषण आग में 360 लोगों की मौत।
1998 - अल्जीरियाई इस्लामी विद्रोह में 412 लोगों की हत्या।
2000 - कलकत्ता का नाम आधिकारिक रूप से कोलकाता रखा गया।
2002 - काठमाण्डू में दक्षेस विदेश मंत्रियों की बैठक में पाकिस्तान बेनकाब, भारत ने आतंकवादियों व अपराधियों के ख़िलाफ़ सबूत सार्वजनिक किए।
2004 - 12वें सार्क सम्मेलन में भाग लेने प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी इस्लामाबाद पहुँचे।
मिस्र की विमानन कंपनी फ्लैश एयरलाइंस के बोइंग 737 विमान 604 के दुर्घटनाग्रस्त होने से उसमें सवार सभी 148 लोग मारे गये।
2005 - यूएसए ने तमिलनाडु में सुनामी पीड़ितों को साफ़ पेयजल उपलब्ध कराने के लिए 6.2 करोड़ रुपये की सहायता की घोषणा की।
2007 - चीन की मारग्रेट चान ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक पद की कमान सम्भाली।
2008 - बिजली उपकरण बनाने वाली 'इंडो एशियन फ्युजगीयर लिमिटेड' ने उत्तराखण्ड में हरिद्वार में 40 करोड़ रुपये के निवेश से नया अत्याधुनिक विचारगियर संयंत्र खोलने की घोषणा की।
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 15 सदस्यीय टीम में लीबिया, वियतनाम, क्रोएशिया, कोस्टारिका और बुर्किनाफासो का पांच नये अस्थायी सदस्यों के रूप में चयन किया गया।
2009 - राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सभा में विश्वास मत हासिल किया।
2013 - इराक के मुसय्यिब क्षेत्र में एक आत्मघाती बम विस्फोट में शिया समुदाय के 27 लोगों की मौत हो गयी और 60 घायल हो गये।
2015 - नाइजीरिया के पूवोत्तर शहर बागा में आतंकवादी संगठन बोको हराम का हमला, लगभग 2000 लोगों की मौत।
💐🎂💐#🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐


   💐(D)आज के दिन जन्मे महत्वपूर्ण  व्यक्तित्व💐


1981 - नरेश अय्यर भारतीय पार्श्वगायक
1977 - गुल पनाग - मॉडल, बॉलीवुड अभिनेत्री
1954 - बागेश्री चक्रधर - आकाशवाणी व दूरदर्शन की स्वर-परीक्षित एवं मान्यता-प्राप्त कलाकार हैं।
1941 - संजय खान - बॉलीवुड अभिनेता।
1938 - जसवंत सिंह - प्रसिद्ध भारतीय राजनेता।
1927 - जानकी बल्लभ पटनायक - ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री।
1915 - चेतन आनंद, प्रसिद्ध फ़िल्म निर्माता-निर्देशक
1903 - जयपाल सिंह - भारतीय हॉकी के प्रसिद्ध खिलाड़ियों में से एक
1836 - मुंशी नवल किशोर - एशिया की सबसे पुरानी प्रिंटिंग प्रेस के संस्थापक का उत्तर प्रदेश के अलीगढ़।
1831 - सावित्रीबाई फुले, सामाजिक कार्यकर्त्ता, भारत में पहली महिला शिक्षक, और मराठी भाषा में पहली महिला कवयित्री
💐🎂💐@🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
    
💐(E)आज के दिन निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व💐
क  
2002 - सतीश धवन - भारत के प्रसिद्ध रॉकेट वैज्ञानिक।
2005- जे. एन. दीक्षित, भारतीय सरकारी अधिकारी।
2013 - एम. एस. गोपालकृष्णन - भारत के प्रसिद्ध वायलिन वादक।
1979- परशुराम चतुर्वेदी, विद्वान् शोधकर्मी समीक्षक
1972- मोहन राकेश लेखक व नाटककार
1871 - कुरिआकोसी इलिआस चावारा - केरल के सीरियन कैथॉलिक संत तथा समाज सुधारक।
💐0💐🎂@💐🎂💐🎂@₹#💐🎂💐🎂💐
       💐  (F) आज के  दिवस के नाम 💐
     1,अमेरिकन पोस्ट आफिस स्थापना दिवस
     2.स्व.मोहन राकेश पुण्य तिथि
     3.सीरियन कैथोलिक संत पुण्यतिथि
     4 सावित्रीबाई फुले जयंती
💐0💐🎂@💐🎂💐🎂@₹#💐🎂💐🎂💐
    आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
।🌹जय चित्रांश।🌹
💜जय महाकाल,बोले सो निहाल💜🇹🇯।जय हिंद जय भारत🇹🇯


 🙏 निवेदक🙏


  🌹 चित्रांश : विजय निगम🌹


Comments