स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास समन्वय स्थापित करें - कलेक्टर श्री मिश्र

      उज्जैन। कलेक्टर शशांक मिश्र ने शुक्रवार को प्रात: सिंहस्थ मेला कार्यालय के सभाकक्ष में स्वास्थ्य विभाग में चल रहे विभिन्न कार्यक्रमों एवं योजनाओं की समीक्षा कर निर्देश दिये कि स्वास्थ्य तथा महिला बाल विकास के अधिकारी कर्मचारी समन्वय स्थापित कर गर्भवती माताओं का शत-प्रतिशत पंजीयन कराया जाना सुनिश्चित करे। जिन तहसीलों में गर्भवती माताओं का पंजीयन कम है, वहां लक्ष्य पूरा करने के निर्देश सम्बन्धित अधिकारियों को दिये। उक्त कार्य 15 दिन के अन्दर पूर्ण किया जाये। जो स्वास्थ्यकर्मी समय पर प्रगति नहीं ला रहे हैं, उनका वेतन रोके जाने के निर्देश कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिये।


      बैठक में कलेक्टर ने राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अन्तर्गत मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना, मुख्यमंत्री बाल श्रवण उपचार योजना की समीक्षा के दौरान प्रगति न होने पर सम्बन्धित शासकीय सेवक का वेतन काटने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने बैठक में मातृ मृत्यु दर की तहसीलवार समीक्षा की। बैठक में प्रभारी डीपीएम सुश्री परविंदर बग्गा ने पॉवर पाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से मातृ मृत्यु दर आदि की विस्तृत जानकारी तहसीलवार दी। कलेक्टर ने सम्बन्धित ब्लॉक मेडिकल आफिसरों एवं सेन्टर प्रभारियों को निर्देश दिये हैं कि स्वास्थ्य विभाग में चल रहे विभिन्न कार्यक्रमों एवं योजनाओं का क्रियान्वयन समय-सीमा में किया जाना सुनिश्चित करें। जो अधिकारी-कर्मचारी समय पर अपने कार्यों की प्रगति नहीं ला रहे हैं, उनका वेतन रोका जाये।


      बैठक के अन्त में प्रसव पूर्व निदान तकनीक अधिनियम के अन्तर्गत समीक्षा की। बैठक में नवीन सोनोग्राफी सेन्टरों के नवीन आवेदन प्राप्त होने पर पंजीकरण, सोनोग्राफी सेन्टरों के समयावधि समाप्त होने पर उनके नवीनीकरण कर पंजीयन जारी करने तथा नवीन मशीन एवं चिकित्सकों के परिवर्तन किये जाने से संशोधन कर पंजीयन जारी करने आदि बिन्दुओं पर विस्तार से चर्चा कर कलेक्टर ने सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.महावीर खंडेलवाल, सिविल सर्जन डॉ.आरपी परमार, पीसी एण्ड पीएनडीटी के नोडल अधिकारी डॉ.ए.अग्रवाल, सदस्य डॉ.एसएन बिलवार, डॉ.सुनीता परमार, समाजसेवी श्री यशवंत अग्निहोत्री, एडीपीओ सुश्री सोनी कौशिक आदि उपस्थित थे।


Comments