आज की बात आपके साथ - विजय निगम


💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐@💐🎂💐
  💐प्रिय साथियो। 💐 
  💐राम-राम ,💐
  💐 नमस्ते।💐


आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 23 दिसंबर 2019  सोमवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂#💐🎂💐#


आज की बात आपके साथ अंक मे है 


A कुछ रोचक समाचार 
B आज के दिन जन्मे चौधरी चरण सिंह.का जीवन परिचय  लेख.
C आज के दिन की महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाए।
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज का दिवस का नाम ।
💐🎂#🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂#
                A कुछ रोचक समाचार


💐A/1नागरिकता कानून पर रामलीला मैदान में गरजे PM मोदी, जानें भाषण की 20 बड़ी बाते💐
💐A/2 स्नातक हैं तो जल्द करें आवेदन, लोक सभा सचिवालय में सहायक के पद खाली💐
💐A/3 विवादों में गूगल के को-फाउंडर, पत्नी ने दर्ज कराया मुकदमा💐
💐 A/4  रोमांचक मुकाबले में भारत ने विंडीज को हराया, कैरेबियाई टीम के खिलाफ जीती लगातार 10वीं सीरिज💐
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂
                       रोचक समाचार
💐(A/1)नागरिकता कानून पर रामलीला मैदान में गरजे PM मोदी, जानें भाषण की 20 बड़ी बाते💐


जो इस देश की मिट्टी के मुसलमान हैं, जिनके पुरखे मां भारती की ही संतान थे, उन पर नागरिकता कानून और NRC दोनों का ही कोई लेना-देना नहीं है।. ये एक्ट उन लोगों पर लागू होगा जो बरसों से भारत में ही रह रहे हैं।. किसी नए शरणार्थी को फायदा नहीं मिलेगा.।
CAA पर लोगों को भ्रमित कर रहे हैं कुछ राजनीतिक दलमुस्लिम देशों में मुझे समर्थन मिलने से तिलमिला गई है कांग्रेस ।दिल्ली के रामलीला मैदान से प्रधानमंत्री मोदी ने नागरिकता संशोधन कानून पर न केवल केंद्र सरकार का स्टैंड साफ किया बल्कि विपक्षी पार्टियों पर अल्पसंख्यकों के बीच झूठ फैलाने का आरोप भी लगाया।.  उन्होंने कहा कि मैं जानना चाहता हूं कांग्रेस और उसके साथियों से, उसकी तरह देश को बांटने की राजनीति करने वाले दलों से, कि आप क्यों देश की जनता से झूठ बोल रहे हैं, उन्हें भड़का रहे हैं. मैं उनसे जानना चाहता हूं, क्या जब हमने दिल्ली की सैकड़ों कॉलोनियों को वैध करने का काम किया तो किसी से पूछा क्या कि आपका धर्म है, आपकी आस्था किस तरफ है, आप किस पार्टी के समर्थक हैं।.
पीएम मोदी ने आगे कहा कि इस बिल के पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं, लोगों को भ्रमित कर रहे हैं, भावनाओं को भड़का रहे हैं।.
CAA पर PM मोदी के भाषण की 20 बड़ी बातें-
1. नागरिकता संशोधन बिल के पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं, लोगों को भ्रमित कर रहे हैं, भावनाओं को भड़का रहे हैं. ये लोग अपने स्वार्थ के लिए, अपनी राजनीति के लिए किस हद तक जा रहे हैं, ये आपने पिछले हफ्ते भी देखा है. जो बयान दिए गए, झूठे वीडियो, उकसाने वाली बातें कहीं, उच्च स्तर पर बैठे लोगों ने सोशल मीडिया में डालकर भ्रम और आग फैलाने का गुनाह किया है.
2. क्या जब हमने दिल्ली की सैकड़ों कॉलोनियों को वैध करने का काम किया, तो किसी से पूछा क्या कि आपका कौन सा धर्म है? आपकी आस्था क्या है? आप किस पार्टी के समर्थक हैं? हमने उज्ज्वला योजना के तहत जब 8 करोड़ से ज्यादा गरीब परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन दिये, तो क्या किसी का धर्म या जाति पूछी थी? मैं कांग्रेस और उसके साथियों से जानना चाहता हूं कि आप क्यों देश की जनता से झूठ बोल रहे हो, क्यों उन्हें भड़का रहे हो?
NRC-मुस्लिम डिटेंशन सेंटर, पीएम मोदी ने कहा- ये झूठ है..झूठ है..झूठ है..
3. आज जो लोग कागज-कागज, सर्टिफिकेट-सर्टिफिकेट के नाम पर मुस्लिमों को भ्रमित कर रहे हैं, उन्हें ये याद रखना चाहिए कि हमने गरीबों की भलाई के लिए, योजनाओं के लाभार्थी चुनते समय कभी कागजों की बंदिशें नहीं लगाईं. स्कूल बसों पर हमले हुए, ट्रेनों पर हमले हुए, मोटर साइकिलों, गाड़ियों, साइकिलों, छोटी-छोटी दुकानों को जलाया गया है, भारत के ईमानदार टैक्सपेयर के पैसे से बनी सरकारी संपत्ति को खाक कर दिया गया है. इसके बाद इनके इरादे कैसे हैं? ये देश अब जान चुका है.
4. मैं इन लोगों से कहना चाहता हूं कि मोदी को देश की जनता ने बैठाया, ये अगर आपको पसंद नहीं है, तो आप मोदी को गाली दो, विरोध करो, मोदी का पुतला जलाओ. लेकिन देश की संपत्ति मत जलाओ, गरीब का रिक्शा मत जलाओ, गरीब की झोपड़ी मत जलाओ. पुलिस वालों को अपनी ड्यूटी निभाते हुए हिंसा का शिकार होना पड़ रहा है. जिन पुलिसवालों पर ये लोग पत्थर बरसा रहे हैं, उन्हें जख्मी करके आपको क्या मिलेगा? आज़ादी के बाद 33 हजार से ज्यादा पुलिसवालों ने शांति के लिए, आपकी सुरक्षा के लिए शहादत दी है.
CAA पर पीएम मोदी की विपक्ष को खुली चुनौती- मेरे किसी भी काम में भेदभाव खोजकर दिखाएं
5. जब कोई संकट या मुश्किल आती है तो ये पुलिस न धर्म पूछती है न जाति, न ठंड देखती है न बारिश और आपकी मदद के लिए आकर खड़ी हो जाती है. ये लोग उपदेश दे रहे हैं, लेकिन शांति के लिए एक शब्द बोलने के लिए तैयार नहीं हैं. इसका मतलब है कि हिंसा को, पुलिस पर हो रहे हमलों को आपकी मौन सहमति है. ये देश देख रहा है.
6. झूठ बेचने वाले, अफवाह फैलाने वाले इन लोगों को पहचानने की जरूरत है. ये 2 तरह के लोग हैं. एक वो लोग जिनकी राजनीति दशकों तक वोटबैंक पर ही टिकी रही है. दूसरे वो लोग जिनको इस राजनीति का लाभ मिला है. वोट बैंक की राजनीति करने वाले और खुद को भारत का भाग्य विधाता मानने वाले, आज जब देश की जनता द्वारा नकार दिए गए हैं, तो इन्होंने अपना पुराना हथियार निकाल लिया है- बांटों, भेद करो और राजनीतिक उल्लू सीधा करो.
7. नागरिकता संशोधन कानून भारत के किसी नागरिक के लिए, चाहे वो हिंदू हो या मुसलमान, के लिए है ही नहीं. ये संसद में बोला गया है. इस कानून का देश के अंदर रह रहे 130 करोड़ लोगों से कोई वास्ता नहीं है. कांग्रेस और उसके साथी, शहरों में रहने वाले कुछ पढ़े-लिखे अर्बन नक्सल, ये अफवाह फैला रहे हैं कि सारे मुसलमानों को डिटेंशन सेंटर में भेज दिया जाएगा. अपनी शिक्षा की कुछ तो कद्र करिए. एक बार पढ़ तो लीजिए नागरिकता संशोधन एक्ट है क्या?
CAA से नहीं मिलेगा किसी नए शरणार्थी को फायदा: पीएम मोदी
8. जो इस देश की मिट्टी के मुसलमान हैं, जिनके पुरखे मां भारती की ही संतान थे, उन पर नागरिकता कानून और NRC दोनों का ही कोई लेना-देना नहीं है. ये एक्ट उन लोगों पर लागू होगा जो बरसों से भारत में ही रह रहे हैं. किसी नए शरणार्थी को इस कानून का फायदा नहीं मिलेगा. पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक प्रताड़ना की वजह से आए लोगों को सुरक्षा देने के लिए ये कानून है.
9. कुछ लोग CAA को गरीबों के खिलाफ बता रहे हैं, कह रहे हैं कि जो लोग आएंगे वो यहां के गरीबों का हक छीन लेंगे. अरे झूठ फैलाने से पहले गरीबों पर तो दया करो भाई. पाकिस्तान से जो शरणार्थी आए हैं उनमें से अधिकतर दलित परिवार से हैं. वहां आज भी दलितों के साथ दुर्व्यवहार होता है. वहां बेटियों के साथ अत्याचार होता है, जबरन शादी करके उन्हें धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया जाता है.
10. ये इसलिए किया जाता है क्योंकि उनकी आस्था, पूजा पद्धति अलग है. ऐसे शोषण के कारण ही वो भारत आए और देश के अलग-अलग कोनो में रह रहे हैं. दलित राजनीति करने का दावा करने वालों से भी मैं पूछना चाहता हूं कि आप इतने वर्षों से चुप क्यों थे? आपको इन दलितों की तकलीफ कभी क्यों नहीं दिखाई दी. आज जब इन दलितों के जीवन की सबसे बड़ी चिंता दूर करने का काम मोदी सरकार कर रही है तो आपके पेट में चूहे क्यों दौड़ रहे हैं?
11. रिफ्यूजी का जीवन क्या होता है? बिना कसूर के अपने घरों से निकाल देने का दर्द क्या होता है? ये दिल्ली से बेहतर कौन समझ सकता है. यहां का कोई कोना ऐसा नहीं है, जहां बंटवारे के बाद किसी रिफ्यूजी का और बंटवारे से अल्पसंख्यक बने भारतीय का आंसू ना गिरा हो. सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट, किसी की नागरिकता छीनने के लिए नहीं बल्कि नागरिकता देने के लिए है.
12. महात्मा गांधी ने कहा था कि पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू और सिख साथियों को जब लगे कि उन्हें भारत आना चाहिए तो उनका स्वागत है. ये रियायत तब की भारत की सरकार के वादे के मुताबिक है, जो बंटवारे के कारण उस समय अल्पसंख्यक बने करोड़ों भारतीयों के साथ आज से 70 साल पहले किया गया था. मनमोहन सिंह जी ने संसद में खड़े होकर कहा था कि हमें बांग्लादेश से आए उन लोगों को नागरिकता देनी चाहिए जिनका अपनी आस्था की वजह से वहां पर उत्पीड़न हो रहा है, जो वहां से भाग कर भारत आ रहे हैं.
13. आज ममता दीदी, कोलकाता से सीधे संयुक्त राष्ट्र पहुंच गई हैं, लेकिन कुछ साल पहले तक यही ममता दीदी संसद में खड़े होकर गुहार लगा रही थीं कि बांग्लादेश से आने वाले घुसपैठियों को रोका जाए, वहां से आए पीड़ित शरणार्थियों की मदद की जाए. आज जिस वामपंथ को भारत की जनता नकार चुकी है, जो अब समाप्ति पर है, उसी के दिग्गज नेता प्रकाश करात ने भी धार्मिक उत्पीड़न की वजह से बांग्लादेश से आने वालों को मदद की बात कही थी.
CAA: नुकसान की भरपाई में जुटी पुलिस, मुजफ्फरनगर में 80 दुकानें सीज
14. आज जब इन्हीं लोगों के राजनीतिक दल, धार्मिक उत्पीड़न की वजह से भारत आए शरणार्थियों को नागरिकता देने से मना कर रहे हैं, तो इनका असली चेहरा भी देश के लोगों के सामने आ रहा है. उस समय की हमदर्दी सिर्फ बहाना था, देश की जनता के साथ बोला गया सफ़ेद झूठ था.
15. आज जो पार्टियां यहां शोर मचा रही हैं, वो 2004 में कहां थीं जब वहां की सरकार ने कहा कि राज्य से बाहर के निवासी से शादी करने पर जम्मू-कश्मीर की बेटियों की वहां की नागरिकता खत्म हो जाएगी. क्या वो भेदभाव भारत के संविधान की स्पिरिट के अनुसार था?
16. नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वालों के हाथ में जब ईंट-पत्थर देखता हूं तो मुझे और 130 करोड़ देशवासियों को बहुत तकलीफ होती है, लेकिन जब उन्हीं में से कुछ के हाथ में तिरंगा देखता हूं, तो सुकून भी होता है. मुझे पूरा विश्वास है कि एक बार जब हाथ में तिरंगा आ जाता है तो वो फिर कभी हिंसा का, अलगाव का, बांटने की राजनीति का समर्थन नहीं कर सकता.
17. मुझे पूरा विश्वास है कि हाथ में थमा यह तिरंगा इन लोगों को हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ, हथियार उठाने वालों के खिलाफ, आतंकवादी हमले करने वालों के खिलाफ भी आवाज उठाने के लिये प्रेरित करेगा. मुझे पूरा विश्वास है कि हाथ में थमा यह तिरंगा इन लोगों को पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवाद के खिलाफ भी आवाज उठाने के लिए प्रेरित करेगा. यही कसौटी है. तिरंगा उठाना हमारा अधिकार है लेकिन हाथों में आया तिरंगा जिम्मेदारियां भी लेकर आता है.
18. कांग्रेस और उसके सहयोगी आज इस बात से भी तिलमिलाए हुए हैं कि आखिर क्यों मोदी को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और खासकर मुस्लिम बहुल देशों में इतना समर्थन मिलता है. क्यों वो देश मोदी को इतना पसंद करते हैं? आज जो इस्लामिक वर्ल्ड है, हमारे जो गल्फ के देश हैं, उनके साथ भारत के संबंध मौजूदा दौर में सबसे बेहतरीन हैं. फिलिस्तीन हो, ईरान हो, सऊदी अरब हो, यूएई हो, या फिर जॉर्डन, तमाम देशों के साथ भारत के रिश्ते आज एक नई ऊंचाई को छू रहे हैं.
19. अफगानिस्तान हो या फिलिस्तीन, सऊदी अरब हो या यूएई, मालदीव हो या बहरीन - इन सब देशों ने भारत को अपना सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया है, भारत की संस्कृति के साथ अपने रिश्ते को और प्रगाढ़ करने की कोशिश की है.
20. आप आश्वस्त रहिए, इन लोगों की साजिशों के बावजूद आपका ये सेवक देश के लिए, देश की एकता के लिए, शांति और सद्भाव के लिए, मुझसे जो भी बन सकेगा, मैं कभी पीछे नहीं हटूंगा. ये लोग तो मेरे साथ आज से नहीं दो दशकों से इसी तरह का व्यवहार कर रहे हैं, अपने इसी पैटर्न पर चल रहे हैं.
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐0💐🎂💐🎂💐


💐(A/2)   स्नातक हैं तो जल्द करें आवेदन, लोक सभा सचिवालय में सहायक के पद खाली💐


Lok Sabha Recruitment 2019 : लोक सभा सचिवालय ने संसदीय रिपोर्टर के पदों साथ ही सहायक के विभिन्न पदों  के लिए भी भर्तियां होने जा रही हैं। इच्छुक उम्मीदवार जो इस पद पर नौकरी पाना चाहते हैं। वे उम्मीदवार 13 जनवरी 2020 या उससे पहले निर्धारित प्रारूप के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं। बता दें कि आवेदन ऑनलाइन माध्यम से किए जाएंगे। 
महत्वपूर्ण तिथियां :
आवेदन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि : 13 जनवरी 2020
पदों का विवरण :
पद का नाम :                पदों की संख्या :
क्यूरेटोरियल असिस्टेंट          01
संरक्षण सहायक                 01
तकनीकी सहायक               01
शैक्षणिक योग्यता : 
उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक व परास्नातक होना अनिवार्य है। 
                    💐  आयु सीमा : 💐 
इन पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों की अधिकतम आयु 27 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। 
                  💐 आवेदन प्रक्रिया :💐
इच्छुक उम्मीदवार Lok Sabha की आधिकारिक वेबसाइट जाएं और नोटिफिकेशन डाउनलोड करें। दिए गए दिशा -निर्देशों के अनुसार आवेदन प्रक्रिया को अंतिम तिथि 13 जनवरी 2020 तक पूरा करें।
                  💐   चयन प्रक्रिया :💐
उम्मीदवार का चयन एप्टीट्यूड टेस्ट और पर्सनल इंटरव्यू के आधार पर होगा
💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂


💐(A/3) विवादों में गूगल के को-फाउंडर, पत्नी ने दर्ज कराया मुकदमा💐


सुंदर पिचाई के लिए गूगल और एल्फाबेट के सीईओ बनने का मार्ग प्रशस्त करने वाले करने वाले गूगल के सह-संस्थापक लैरी पेज और सर्गी ब्रेन के अलावा तीसरे सह-संस्थापक स्कॉट हसन आजकल सुर्खियों में हैं. उनके खिलाफ उनकी ही पत्नी ने शिकायत दर्ज कराई है.
रअसल, गूगल के तीसरे सह-संस्थापक स्कॉट हसन लगभग भुलाए जा चुके हैं. हसन की पत्नी ने उन पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं.
न्यूज एजेंसी आईएनएस ने विदेशी मीडिया के हवाले से बताया है कि हसन पर आरोप है कि दोनों के बीच चल रही तलाक की कार्यवाही के बीच हसन ने अपने रोबोटिक स्टार्टअप को जानबूझकर एक 'फायर सेल' (जहां भारी छूट पर चीजों की ब्रिकी की जाती है) में बेच दिया है
फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक, डेलावेयर में दर्ज एक शिकायत में एलिसन हुआन ने कहा है कि उनके पति जो प्रौद्योगिकी कंपनी के सीईओ हैं, ने कंपनी की मूल संपत्ति को चार लाख डॉलर के 'न बेचे जाने योग्य' मूल्य पर डेनमार्क स्थित कंपनी ब्लू ओशन को बेच दिया है.
शिकायत में यह भी कहा गया है कि कंपनी की मूल पोर्टफोलियो, कुल संपत्ति और इसकी लाइसेंसिंग क्षमता को ध्यान में रखते हुए इसे और अधिक कीमत में बेचा जाना चाहिए था.
रिपोर्ट के मुताबिक इस कंपनी में एलिसन ने भी पैसे लगाए थे और इसके चलते कंपनी के एक हिस्सेदार के रूप में वह हसन पर मुकदमा करने के योग्य 
स्कॉट हसन की शादी साल 2001 में हुई थी और साल 2015 में कैलीफोर्निया में इनके बीच तलाक की कार्यवाही शुरू हुई जिसे अब तक सुलझाया नहीं जा सका है।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐
   💐 (A/4)  रोमांचक मुकाबले में भारत ने विंडीज को हराया, कैरेबियाई टीम के खिलाफ जीती लगातार 10वीं सीरिज💐
विराट कोहली (85) की कप्तानी पारी की बदौलत भारत ने तीसरे और निर्णायक मुकाबले में वेस्टइंडीज को चार विकेट से हराकर तीन मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली। वेस्टइंडीज के खिलाफ भारत की यह लगातार दसवीं द्विपक्षीय सीरीज जीत है। 
रविवार को कटक के बाराबती स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में वेस्टइंडीज ने भारत के सामने जीत के लिए 316 रन का लक्ष्य रखा था। जवाब में भारत ने आठ गेंदें शेष रहते ही लक्ष्य हासिल कर लिया। भारत की तरफ से तरफ से विराट के अलावा केएल राहुल (77), रोहित शर्मा ने 63 रन की अर्धशतकीय पारी खेली। वहीं, रविंद्र जडेजा (39) शार्दुल ठाकुर 17 रन बनाकर नाबाद लौटे। विंडीज की तरफ से कीमो पॉल ने तीन, जबकि अल्जारी जोसेफ, जेसन होल्डर और शेल्डन कॉट्रेल ने एक-एक विकेट अपने नाम किए।
ईससे पहले इस निर्णायक मुकाबले में भारत ने टॉस जीता और वेस्टइंडीज को पहले बल्लेबाजी करने के लिए आमंत्रित किया। पहले बल्लेबाजी करते हुए वेस्टइंडीज ने निर्धारित 50 ओवर्स में पांच विकेट के नुकसान पर 315 रन बनाए। विंडीज की तरफ से किरोन पोलार्ड (74* रन, 51 गेंदें, 3 चौके और 7 छक्के) और निकोलस पूरन 89 रन की जबरदस्त पारियां खेली। दोनों बल्लेबाजों के बीच 135 रन की बेहतरीन साझेदारी हुई। इसके अलावा शाई होप (42), रोस्टन चेज (38) और शिमरोन हेटमायर ने 37 रन बनाए। वहीं, भारत की तरफ से नवदीप सैनी ने दो, जबकि शमी, जडेजा और शार्दुल ठाकुर ने एक-एक विकेट चटकाए।
इस मुकाबले में शानदार पारी खएलने के लिए भारतीय कप्तान विराट कोहली को मैन ऑफ द मैच चुना गया। वहीं, टीम इंडिया के हिटमैन रोहित शर्मा को मैन ऑफ द सीरीज से नावाजा गया। रोहित ने इस पूरी सीरीज में एक शतक (159), और एक अर्धशतक के साथ 258 रन बनाए।
विंडीज के 315 रन के जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया को रोहित शर्मा और केएल राहुल की सलामी जोड़ी ने बेहतरीन शुरुआत दिलाई। दोनों बल्लेबाजों ने मिलकर भारत के स्कोर को 100 के पार पहुंचाया। मगर 21.2 ओवरों में भारत को हिचमैन रोहित के रूप में पहला झटका लगा। जेसन होल्डर ने रोहित को शाई होप के हाथों कैच आउट कराकर अपनी टीम को पहली सफलता दिलाई। रोहित ने 63 गेंदों में आठ चौके और एक छक्के की मदद से 63 रन की अर्धशतकीय पारी खेली। पहले विकेट के लिए राहुल और रोहित के बीच 122 रन की साझेदारी हुई।
रोहित के आउट होने के बाद केएल राहुल ने कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाया, लेकिन 29.5 ओवर्स में अल्जारी जोसेफ ने राहुल को शाई होप के हाथों कैच आउट कराकर भारत को दूसरा झटका दिया। राहुल 89 गेंदों में आठ चौके और एक छक्के की मदद से 77 रन की शानदार पारी खेली। दूसरे विकेट के लिए विराट और राहुल के बीच 45 रन की साझेदारी हुई। इसके कुछ ही देर बाद कीमो पॉल ने श्रेयस अय्यर (7) को जोसेफ के हाथों कैच आउट कराकर भारत को तीसरा झटका दिया।
35वें ओवर की आखिरी गेंद पर कीमो पॉल ने अपनी टीम को सफलता दिलाई। पॉल ने विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत (7) को आउट किया। अय्यर के आउट होने के बाद बल्लेबाजी करने आए केदार जाधव (9) को शेल्डन कॉट्रेल ने बोल्ड कर दिया। इसके साथ ही भारत की आधी टीम पवेलियन लौट गई। यहां से टीम इंडिया की जीत का पूरा दारोमदार विराट और जडेजा ने मिलकर टीम इंडिया की पारी को संभाला, लेकिन 46.1 ओवर में भारत को विराट कोहली के रूप में सबसे बड़ा झटका लगा। वह अपने 44वें वन-डे अंतररराष्ट्रीय शतक से चूक गए। उन्हें कीमो पॉल ने अपना शिकार बनाया। 51 गेंदों में फिफ्टी पूरी करने वाले कोहली ने 81 गेंदों में नौ चौके की मदद से 85 रन की शानदार पारी खेली।टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी कैरिबियाई टीम को 15वें ओवर में पहला झटका लगा। इस ओवर की आखिरी गेंद पर रवींद्र जडेजा ने भारतीय टीम को पहली सफलता दिलाई। उन्होंने लुईस को नवदीप सैनी के हाथों कैच कराकर पवेलियन का रास्ता दिखाया। लुइस 50 गेंदों में 21 रन बनाकर आउट हुए। वेस्टइंडीज का दूसरा विकेट शाई होप के रूप में गिरा। तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने 19.2 ओवर्स में होप को बोल्ड किया। होप 50 गेंदों में पाच चौके की मदद से 42 रन बनाए। 
होप के आउट होने के बाद बल्लेबाजी करने आए शिमरोन हेटमायर ने चेज के साथ मिलकर पारी को ऐगे बढ़ाया, लेकिन 30वें ओवर की दूरी गेंद पर नवदीप सैनी ने उन्हें कुलदीप यादव के हाथों कैच आउट कराकर चलता किया। हेटमायर 33 गेंदों में दो चौके और दो छक्के की मदद से 37 रन बनाए। तीसरे विकेट के लिए हेयमायर और चेज के बीच 62 रनों की साझेदारी हुई। 
31.3 में अपना पहला अंतरराष्ट्रीय वन-डे मैच खेल रहे नवदीप सैनी ने यॉर्कर डालकर रोस्टन चेज को क्लीन बोल्ड कर वेस्टइंडीज को चौथा झटका दिया। चेज 48 गेंदों में तीन चौके की मदद से 38 रन बनाए। यहां से पूरन और पोलार्ड ने मिलकर विंडीज की पारी को संभाला और स्कोर 250 के पार पहुंचाया।
मगर 47.5 ओवर में वेस्टइंडीज को निकोलस पूरन के रूप में बड़ा झटका लगा। वह अपने शतक से चूक गए। शार्दुल ठाकुर ने उन्हें जडेजा के हाथों कैच आउट कराकर पवेलियन भेजा। वह 64 गेंदों में 10 चौके और तीन छक्के की मदद से 89 रन की बेहतरीन पारी खेली। पांचवें विकेट के लिए पोलार्ड और पूरन के बीच 135 रन की शतकीय साझेदारी हुई।
गेंदबाजी में चोटिल दीपक चाहर की जगह दिल्ली के तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को वन-डे पदार्पण का मौका मिला है। वह वेस्टइंडीज के खिलाफ अपना वन-डे डेब्यू कर रहे हैं। मैच से पहले दीपक चाहर चोटिल होकर बाहर हो गए थे। उनकी जगह नवदीप सैनी को टीम शामिल किया गया था।
भारतीय टीम की निगाह इस प्रतिद्वंद्वी पर लगातार दसवीं द्विपक्षीय सीरीज जीतने पर है। उधर वेस्टइंडीज टीम इस प्रयास में होगी कि भारत से 13 साल बाद कोई द्विपक्षीय सीरीज जीत सके। मार्च में ऑस्ट्रेलिया से द्विपक्षीय सीरीज हारी भारतीय टीम ने पिछले 15 साल में लगातार दो द्विपक्षीय सीरीज नहीं गंवाई है। 
चेन्नई में खेले गए पहले वन-डे मैच में वेस्टइंडीज ने आठ विकेट से शानदार जीत दर्ज की थी लेकिन भारत ने विशाखानपट्टनम में दूसरा मैच उसी अंदाज में जीतकर वापसी की। कप्तान विराट कोहली खाता नहीं खोल सके, लेकिन शीर्षक्रम के सभी बल्लेबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया और चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने हैट्रिक लगाई। भारत ने दूसरा मैच 107 रन से जीता।
टॉस जीतकर भारत की गेंदबाजी
भारत बनाम वेस्टइंडीज -
भारत ने इस निर्णायक मुकाबले में टॉस जीता है और वेस्टइंडीज को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया है। दोनों टीमों के लिए यह 'करो या मरो का' मुकाबला है। तीन मैचों की सीरीज में दोनों टीमें 1-1 मैच जीत चुकी हैं। पहला मैच जहां वेस्टइंडीज ने जीता था तो वहीं दूसरे मुकाबले में टीम इंडिया ने बाजी मारी थी। इस लिहाज से सीरीज 1-1 से बराबर हो गई थी। 
भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, श्रेयस अय्यर, ऋषभ पंत, केदार जाधव, रवींद्र जडेजा, युजवेंद्र चहल, नवदीप सैनी, मोहम्मद शमी और शार्दुल ठाकुर।
वेस्टइंडीज: कीरोन पोलार्ड (कप्तान), एविन लुईस, शाई होप, खैरी पियरे, रोस्टन चेस, अल्जारी जोसेफ, शेल्डन कॉट्रेल, निकोलस पूरन, शिमरान हेटमेयर, जेसन होल्डर, कीमो पॉल।
💐🎂💐🎂💐🎂💐@🎂💐🎂💐🎂💐🎂


  💐 (B) आज के दिन जन्मे भूतपूर्व भारत के पांचवे प्रधान मंत्री  श्री चौधरी चरणसिंह  का जीवन परिचय💐
     चौधरी चरण सिंह (23 दिसम्बर 1902 - 29 मई 1987) भारत के पांचवें प्रधानमन्त्री थे। उन्होंने यह पद 28 जुलाई 1979से 14 जनवरी 1980 तक सम्भाला। चौधरी चरण सिंह ने अपना सम्पूर्ण जीवन भारतीयता और ग्रामीण परिवेश की मर्यादा में जिया।
 चौधरी चरण सिंहभारत के पाँचवें प्रधानमंत्री
कार्यकाल:-28 जुलाई 1979 – 14 जनवरी 1980
पूर्ववर्ती:-मोरारजी देसाई
परवर्ती:-इन्दिरा गाँधी
जन्म;-23 दिसम्बर 1902
जन्म स्थान:-नूरपुर, ब्रिटिश भारत
मृत्यु;-29 मई 1987
राष्ट्रियता:-भारतीय
राजनैतिक दल:-जनता पार्टी
जीवन संगी:-गायत्री देवी
संतान:-अजीत सिंह (पुत्र)
जयंत चौधरी (पौत्र)
Religion;-हिन्दू
                        💐   जीवनी   💐  
चरण सिंह का जन्म एक जाट परिवार मे हुआ था। स्वाधीनता के समय उन्होंने राजनीति में प्रवेश किया। इस दौरान उन्होंने बरेली कि जेल से दो डायरी रूपी किताब भी लिखी। स्वतन्त्रता के पश्चात् वह राम मनोहर लोहिया के ग्रामीण सुधार आन्दोलन में लग गए।
बाबूगढ़ छावनी के निकट नूरपुर गांव, तहसील हापुड़, जनपद गाजियाबाद, कमिश्नरी मेरठ में काली मिट्टी के अनगढ़ और फूस के छप्पर वाली मढ़ैया में 23 दिसम्बर,1902 को आपका जन्म हुआ। चौधरी चरण सिंह के पिता चौधरी मीर सिंह ने अपने नैतिक मूल्यों को विरासत में चरण सिंह को सौंपा था। चरण सिंह के जन्म के 6 वर्ष बाद चौधरी मीर सिंह सपरिवार नूरपुर से जानी खुर्द के पास भूपगढी आकर बस गये थे। यहीं के परिवेश में चौधरी चरण सिंह के नन्हें ह्दय में गांव-गरीब-किसान के शोषण के खिलाफ संघर्ष का बीजारोपण हुआ। आगरा विश्वविद्यालय से कानून की शिक्षा लेकर 1928 में चौधरी चरण सिंह ने ईमानदारी, साफगोई और कर्तव्यनिष्ठा पूर्वक गाजियाबाद में वकालत प्रारम्भ की। वकालत जैसे व्यावसायिक पेशे में भी चौधरी चरण सिंह उन्हीं मुकद्मों को स्वीकार करते थे जिनमें मुवक्किल का पक्ष न्यायपूर्ण होता था। कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन 1929 में पूर्ण स्वराज्य उद्घोष से प्रभावित होकर युवा चरण सिंह ने गाजियाबाद में कांग्रेस कमेटी का गठन किया। 1930 में महात्मा गाँधी द्वारा सविनय अवज्ञा आन्दोलन के तहत् नमक कानून तोडने का आह्वान किया गया। गाँधी जी ने ''डांडी मार्च'' किया। आजादी के दीवाने चरण सिंह ने गाजियाबाद की सीमा पर बहने वाली हिण्डन नदी पर नमक बनाया। परिणामस्वरूप चरण सिंह को 6 माह की सजा हुई। जेल से वापसी के बाद चरण सिंह ने महात्मा गाँधी के नेतृत्व में स्वयं को पूरी तरह से स्वतन्त्रता संग्राम में समर्पित कर दिया। 1940 के व्यक्तिगत सत्याग्रह में भी चरण सिंह गिरफतार हुए फिर अक्टूबर 1941 में मुक्त किये गये। सारे देश में इस समय असंतोष व्याप्त था। महात्मा गाँधी ने करो या मरो का आह्वान किया। अंग्रेजों भारत छोड़ों की आवाज सारे भारत में गूंजने लगी। 9 अगस्त 1942 को अगस्त क्रांति के माहौल में युवक चरण सिंह ने भूमिगत होकर गाजियाबाद, हापुड़, मेरठ, मवाना, सरथना, बुलन्दशहर के गाँवों में गुप्त क्रांतिकारी संगठन तैयार किया। मेरठ कमिश्नरी में युवक चरण सिंह ने क्रांतिकारी साथियों के साथ मिलकर ब्रितानिया हुकूमत को बार-बार चुनौती दी। मेरठ प्रशासन ने चरण सिंह को देखते ही गोली मारने का आदेश दे रखा था। एक तरफ पुलिस चरण सिंह की टोह लेती थी वहीं दूसरी तरफ युवक चरण सिंह जनता के बीच सभायें करके निकल जाता था। आखिरकार पुलिस ने एक दिन चरण सिंह को गिरफतार कर ही लिया। राजबन्दी के रूप में डेढ़ वर्ष की सजा हुई। जेल में ही चौधरी चरण सिंह की लिखित पुस्तक ''शिष्टाचार'', भारतीय संस्कृति और समाज के शिष्टाचार के नियमों का एक बहुमूल्य दस्तावेज है।
                   💐    राजनीति. 💐
उनकी विरासत कई जगह बंटी. आज जितनी भी जनता दल परिवार की पार्टियाँ हैं, उड़ीसा में बीजू जनता दल हो या बिहार में राष्ट्रीय जनता दल हो या जनता दल यूनाएटेड ले लीजिए या ओमप्रकाश चौटाला का लोक दल , अजीत सिंह का ऱाष्ट्रीय लोक दल हो या मुलायम सिंह की समाजवादी पार्टी हो, ये सब चरण सिंह की विरासत हैं.[1] 
                💐   राजनीतिक जीवन💐
कांग्रेस के लौहर अधिवेशन में पूर्ण स्वराज का प्रस्ताव पारित हुआ था, जिससे प्रभावित होकर युवा चौधरी चरण सिंह राजनीति में सक्रिय हो गए। उन्होंने गाजियाबाद में कांग्रेस कमेटी का गठन किया। 1930 में जब महात्मा गांधी ने सविनय अवज्ञा आंदोलन का आह्वान किया तो उन्होंने हिंडन नदी पर नमक बनाकर उनका साथ दिया। जिसके लिए उन्हें जेल भी जाना पड़ा।
वो किसानों के नेता माने जाते रहे हैं। उनके द्वारा तैयार किया गया जमींदारी उन्मूलन विधेयक राज्य के कल्याणकारी सिद्धांत पर आधारित था। एक जुलाई 1952 को यूपी में उनके बदौलत जमींदारी प्रथा का उन्मूलन हुआ और गरीबों को अधिकार मिला। उन्होंने लेखापाल के पद का सृजन भी किया। किसानों के हित में उन्होंने 1954 में उत्तर प्रदेश भूमि संरक्षण कानून को पारित कराया। वो 3 अप्रैल 1967 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। 17 अप्रैल 1968 को उन्होंने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया। मध्यावधि चुनाव में उन्होंने अच्छी सफलता मिली और दुबारा 17 फ़रवरी 1970 के वे मुख्यमंत्री बने। उसके बाद वो केन्द्र सरकार में गृहमंत्री बने तो उन्होंने मंडल और अल्पसंख्यक आयोग की स्थापना की। 1979 में वित्त मंत्री और उपप्रधानमंत्री के रूप में राष्ट्रीय कृषि व ग्रामीण विकास बैंक [नाबार्ड] की स्थापना की।28 जुलाई 1979 को चौधरी चरण सिंह समाजवादी पार्टियों तथा कांग्रेस (यू) के सहयोग से प्रधानमंत्री बने।
💐🎂💐@🎂💐🎂@💐🎂💐🎂@💐🎂#


💐(C)आज के दिन की महत्वपूर्ण
                            ऐतिहासिक घटनाए।💐


1572 - धर्मविज्ञानी जोहान सिल्वेन को उनके विधर्मी एंटीट्रिनिटेरियन मान्यताओं के लिए हीडलबर्ग में निष्पादित किया गया ।
1598 - Arauco युद्ध : चिली के राज्यपाल मार्टिन गार्सिया ओनेज़ द लोयोला में मार दिया जाता Curalaba की लड़ाई से Mapuches के नेतृत्व में Pelantaru ।
1688 - गौरवशाली क्रांति के हिस्से के रूप में , इंग्लैंड के राजा जेम्स द्वितीय ने अपने भतीजे, ऑरेंज के विलियम और उनकी बेटी मैरी के पक्ष में अपदस्थ किए जाने के बाद इंग्लैंड से पेरिस, फ्रांस के लिए उड़ान भरी ।
1783 - जॉर्ज वॉशिंगटन कमांडर-इन-चीफ के रूप में इस्तीफा की कॉनटिनेंटल सेना पर मैरीलैंड राज्य सभा में अन्नापोलिस, मेरीलैंड ।
1793 - सवेने की लड़ाई : फ्रांसीसी क्रांति के दौरान वेंडी में युद्ध में शाही वामपंथी क्रांतिकारियों की निर्णायक हार ।
1815 - उपन्यास एम्मा द्वारा जेन ऑस्टेन पहले प्रकाशित हुआ है।
1876 - कॉन्स्टेंटिनोपल सम्मेलन का पहला दिन जिसके परिणामस्वरूप बाल्कन में राजनीतिक सुधारों के लिए समझौता हुआ ।
1893 - एंगलबर्ट हम्पेरिनडेक द्वारा ओपेरा हेसेल और ग्रेटेल का प्रदर्शन किया गया।
1913 - फेडरल रिजर्व सिस्टम का निर्माण राष्ट्रपति वुड्रो विल्सन द्वारा फेडरल रिजर्व अधिनियम में किया गया ।
1914 - प्रथम विश्व युद्ध : ऑस्ट्रेलियाई और न्यूजीलैंड की सेना मिस्र के काहिरा में पहुंची ।
1916 - प्रथम विश्व युद्ध: मगध युद्ध : मित्र देशों की सेना सिनाई प्रायद्वीप में तुर्की की सेनाओं को पराजित करती है ।
1919 - यूनाइटेड किंगडम में सेक्स डिसक्वालिफिकेशन (निष्कासन) अधिनियम 1919 कानून बन गया।
1936 - कोलम्बिया पर हस्ताक्षर हो जाता है ब्यूनस आयर्स कॉपीराइट संधि ।
1941 - द्वितीय विश्व युद्ध: 15 दिनों की लड़ाई के बाद , इम्पीरियल जापानी सेना ने वेक आइलैंड पर कब्जा कर लिया ।
1947 - बेल लेबोरेटरीज में पहली बार ट्रांजिस्टर का प्रदर्शन किया गया ।
1948 - सुदूर पूर्व के लिए अंतर्राष्ट्रीय सैन्य न्यायाधिकरण द्वारा युद्ध अपराधों के दोषी सात जापानी सैन्य और राजनीतिक नेताओं को जापान के टोक्यो के सुगामो जेल में मित्र देशों के कब्जे वाले अधिकारियों द्वारा मार दिया गया ।
1954 - जे। हार्टवेल हैरिसन और जोसेफ मरे द्वारा पहला सफल किडनी प्रत्यारोपण किया गया ।
1968 - यूएसएस  पुएब्लो के 82 नाविकों को उत्तर कोरिया में ग्यारह महीने के इंटर्नशिप के बाद रिहा किया गया ।
1970 - उत्तरी टॉवर के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में मैनहट्टन , न्यू यॉर्क, न्यू यॉर्क 1,368 फीट (417 मीटर) पर पहुंच गया था है, यह दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बना रही है।
1970 - कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य आधिकारिक तौर पर एकदलीय राज्य बन गया ।
1972 - मनागुआ की निकारागुआन राजधानी में 6.5 तीव्रता का भूकंप 10,000 से अधिक लोगों की मौत।
1972 - एंडीज उड़ान आपदा के 16 बचे लोगों को 73 दिनों के बाद बचाया गया, कथित तौर पर नरभक्षण से बचे।
1979 - सोवियत-अफ़गान युद्ध : सोवियत संघ की सेनाओं ने अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल पर कब्जा कर लिया ।
1984 - एक इंजन में आग लगने के बाद, एअरोफ़्लोत फ़्लाइट 3519 ने क्रास्नोयार्स्क अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर एक आपातकालीन लैंडिंग करने का प्रयास किया , लेकिन दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें 111 लोगों में से 110 की मौत हो गई। [2]
1986 - मल्लाह , द्वारा चलाया डिक रुटान और जियाना येगर , पर भूमि एडवर्ड्स एयर फोर्स बेस में कैलिफोर्निया के बिना दुनिया भर में बिना रुके उड़ान भरने के लिए पहला विमान बनने हवाई या जमीन ईंधन भरने।
1990 - स्लोवेनिया का इतिहास : जनमत संग्रह में , स्लोवेनिया के 88.5% मतदाताओं ने यूगोस्लाविया से आजादी के लिए अपना मत दिया ।
2002 - एक अमेरिकी एमक्यू -1 प्रीडेटर को एक इराकी मिग -25 ने ड्रोन और पारंपरिक विमान के बीच पहले मुकाबले में मार गिराया ।
2003 - पेट्रो चाइना चोंडोंगबी प्राकृतिक गैस क्षेत्र विस्फोट, गुओकियाओ, काई काउंटी , चोंगकिंग , चीन, कम से कम 234 मारे गए।
2007 - नेपाल राज्य को समाप्त करने के लिए एक समझौता किया गया और प्रधान मंत्री बनने के साथ संघीय गणराज्य बनने वाला देश ।
2015 - इस्तांबुल के सबिहा गोकेन हवाई अड्डे पर बम विस्फोट , एक हवाई अड्डा क्लीनर की मौत। कुर्दिस्तान स्वतंत्रता हाक हमले चार दिन बाद के लिए जिम्मेदारी
💐🎂💐🎂💐🎂💐@💐0💐🎂@💐🎂@
 
   💐( D)आज के दिन जन्मे महत्वपूर्ण व्यक्क्तित्व💐


1902 चौधरी चरण सिंह - भारत के सातवें प्रधानमन्त्री
1922- मिचेलाइन ऑस्टेर्मायर, फ्रेंच एथलीट और संगीतकार (मृ. 2001)
1954 - ब्रायन टीचर - अमेरिकी टेनिस खिलाड़ी एवं 19543 ऑस्ट्रेलियाई ओपन पुरुष एकल विजेता


1977 डॉ रमाकान्त राय
💐🎂💐🎂💐🎂💐@💐🎂💐🎂@💐🎂


💐(E)आज के दिन निधन हुवे
                             महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व💐
2000 - .आज के दिन भारतीय प्रसिद्द  अभिनेत्री नूरजहाँ का जन्म हुआ।
2000 meS
2004 - पामुलापति वेंकट नरसिंह राव - भारत के दसवें प्रधानमंत्री। का निधन हुआ।
😊💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
       💐 (F) आज का दिवस का नाम💐


        💐  चौधरी चरण सिंह का जन्मदिवस/
                      💐 किसान.दिवस💐


💐🎂💐🎂💐@💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂
   आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      आज जन्म लिये  सभी  व्यक्तियोंको आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई।  बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
💐।जय चित्रांश।💐
💐जय महाकाल,बोले सो निहाल💐
💐।जय हिंद जय भारत💐


  💐निवेदक;-💐


   💐चित्रांश ;-विजय निगम।💐
  💐दिनांक;-  23 दिसंबर 2019💐
💐  वार;-        सोमवार💐


💐@🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐


Popular posts
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
“कॉमेडी मेरे लिए एक नया क्षेत्र है” : मनोज बाजपेयी
Image
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image
‘‘एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता’’, यह कहना है एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ की तन्वी डोगरा का
Image